iKamai-Kamai Tips In Hindi

Mustard Oil Extraction Business

Mustard oil extraction से हमारा आशय सरसों के बीज से तेल निकालने की प्रक्रिया से है | सरसों के बीज से तेल निकालने की प्रक्रिया प्राचीन काल से चली आ रही है | Mustard Oil Extraction Business कृषि पर आधारित एक बेहद प्रचलित बिज़नेस है, सरसों के तेल का उपयोग लोगों द्वारा खाने पीने की वस्तुएं बनाने एवं दीये इत्यादि जलाने हेतु भी किया जाता है | प्राचीनकाल में ग्रामीण इलाकों में कृषि उत्पादों जैसे तिलहन, सरसों, मूंगफली, सोयाबीन इत्यादि से oil extraction परम्परागत रूप से स्थापित कोल्हू मशीन के माध्यम से किया जाता था | जिसमे एक मवेशी जैसे बैल के कंधे पर एक लकड़ी का फट्टा रखकर और उस फट्टे को कोल्हू मशीन से जोड़कर बैल को गोल गोल घुमाया जाता था | यही कारण है की इंडिया में कोल्हू के बैल नामक मुहावरा काफी प्रसिद्ध है | वर्तमान में कच्ची घानी कोल्हू मशीन का उपयोग Mustard oil extraction में किया जा सकता है किन्तु अब इन्हें बैल द्वारा नहीं अपितु बिजली द्वारा चालित किया जा सकता है | Mustard Oil Extraction Business Kya Hai: भारत में उत्पादित किये जाने वाले कृषि उत्पादों में ऐसे बहुत से उत्पाद हैं जिनका उपयोग तेल निकालने हेतु किया जाता है

NSIC Training and Technical Service Centers

वर्तमान में पूरे भारतवर्ष में NSIC के सात Training Centers  यानिकी Technical Centers हैं, जो भारत में सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योगों से जुड़े उद्यमियों को Skill Development की Training से लेकर विभिन्न प्रकार की तकनिकी सहायता एवं Testing facility उचित दामों में उपलब्ध कराते हैं | चूँकि हम अपने इस ब्लॉग के माध्यम से अब तक अपने पढने वालों को सैकड़ों की संख्या में Manufacturing और Service sector से जुड़े हुए बिज़नेस आइडियाज दे चुके हैं और हम विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण केन्द्रों जैसे खादी ग्राम उद्योग प्रशिक्षण केन्द्रों एवं पोल्ट्री फार्मिंग प्रशिक्षण केन्द्रों के बारे में भी लिख चुके हैं | लेकिन इसके बावजूद कुछ आदरणीय पाठक गणों ने कमेंट फॉर्म के माध्यम से हमें और प्रशिक्षण केन्द्रों की जानकारी देने की गुज़ारिश की है | इसी बात के मद्देनज़र आज हम अपनी इस पोस्ट के माध्यम से National Small Industries Corporation (NSIC) के भारत में उपलब्ध Training Cum Technical Centers के बारे में वार्तालाप करेंगे | NSIC technical cum Training Center Okhla Delhi: भारत की राजधानी दिल्ली के ओखला में स्थित यह NSIC Technical Service center ISO 9001-2008 से प्रमाणित भारत सरकार का उपक्रम है | NSIC सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योगों को प्रोत्साहित, सहायता एवं बढ़ावा देने

NSIC FAQ On Skill Development and Common Facilities Services In Hindi.

NSIC यानिकी National Small Industries Corporation Limited की स्थापना एक सरकारी एजेंसी के रूप में सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योगों को प्रोत्साहित करने हेतु 1955 में हुई थी | वर्तमान में राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों में शुमार सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय के अंतर्गत आता है, यह उपक्रम ISO 9001-2008 से प्रमाणित है | NSIC पूरे देश भर में सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योगों से जुड़े उद्यमियों को Common Facilities Services के अंतर्गत तकनिकी मदद और Skill Development program के अंतर्गत Skill Development Training भी मुहैया कराता है | इसके अलावा National Small Industries Corporation Limited अपने बेरोजगार से स्वरोजगार कार्यक्रम के अंतर्गत ऐसे व्यक्तियों जो उद्यमी बनने की इच्छा रखते हैं को भी NSIC Incubation Centers के माध्यम से स्वरोजगार अर्थात Self Employment की ट्रेनिंग भी देता है | आज हम NSIC FAQ On Skill Development and Common Facilities Services In Hindi नामक इस पोस्ट के माध्यम से NSIC से सम्बंधित कुछ सवाल जवाबो (FAQ) पर वार्तालाप करेंगे और जानने की कोशिश करेंगे की इस उपक्रम द्वारा स्थापित सूक्ष्म, लघु, मध्यम उद्योगों को एवं उद्यमी बनने की चाह रखने वाले व्यक्तियों को किस प्रकार की मदद दी जाती है | NSIC FAQ on Skill Development

Hawai Chappals Manufacturing Business.

Hawai Chappals Manufacturing business से तात्पर्य Rubber sheet का इस्तेमाल करके चप्पलों का निर्माण करने से है | यद्यपि शहरों में जहाँ चप्पलों का उपयोग सिर्फ घरों में पहनने हेतु किया जाता है वहीँ ग्रामीण इलाकों में लोग चप्पलें पहनकर एक दुसरे के घर, खेतों खलिहानों में, जंगलों में विभिन्न दैनिक कार्यों को निपटाने के लिए जाते हैं | यदि Hawai Chappals की हम बात करें तो इनकी उत्पति पैरों को जमीन पर रहने वाले विभिन्न प्रकार के कंकड़, पत्थर, कांटे, कीड़े मकोड़े इत्यादि से बचाने हेतु हुई थी | किन्तु वर्तमान जीवनशैली में Hawai Chappals लोगों की आधारभूत आवश्यकता में शुमार हैं | आज हम अपनी इस पोस्ट के माध्यम से Hawai Chappals Manufacturing business के बारे में जानने की कोशिश करेंगे | Hawai Chappals Manufacturing Business Kya Hai: Hawai Chappals मनुष्य द्वारा अपने पैरों को कीट पतंगों, कंकड़ पत्थर, कांटो से सुरक्षित रखने हेतु पहनी जाती हैं | लेकिन वर्तमान में जैसे मनुष्य जीवन के लिए कपड़े महत्वपूर्ण हैं वैसे ही Chappals भी महत्वपूर्ण होते जा रहे हैं | Hawai Chappals rubber sheet से निर्मित पैरों में पहनी जाने वाली एक वस्तु है जिसका उपयोग पैरों को सुरक्षित रखने के अलावा फैशन के मुताबिक भी किया जाता

Ice Cream Cone Manufacturing Business

Ice Cream Cone Manufacturing business आइसक्रीम उद्योग पर आधारित बिज़नेस इसलिए है क्योंकि इसका उपयोग आइसक्रीम बनाने वाले या बेचने वाले उद्यमियों द्वारा अपनी आइसक्रीम को ग्राहकों को बेचते वक्त किया जाता है | यह वस्तु इंडिया में मुख्य रूप से गर्मियों में जब आइस क्रीम की बिक्री अधिक मात्रा में होती है बहुत बड़े पैमाने पर उपयोग में लायी जाती है | Ice Cream cone नामक इस वस्तु के बाहर से Texture design की जाती है और इसकी मदद से Ice Cream को बिना कटोरी चम्मच के आराम से खाया जा  सकता है | यद्यपि बाज़ार में आइसक्रीम भिन्न भिन्न Verities में उपलब्ध होती हैं इसलिए इन्हें ग्राहकों को बेचने के तरीके भी अलग अलग होते हैं | बहुत सारी आइसक्रीम को कटोरी में खाया जाता है तो किसी को कप में इसके अलावा ब्रिक्स, कैंडीज, स्लाइस में भी आइसक्रीम उपलब्ध हैं | लोगों की जीवनशैली में हो रहे दिनोदिन परिवर्तनों के कारण आइसक्रीम का उपयोग क्षेत्र भी बढ़ा है | आयोजन चाहे किसी प्रकार का हो चाहे व्यवसायिक हो या पारिवारिक आइसक्रीम को Menu का हिस्सा अवश्य बनाया जाता है | आइसक्रीम को सर्व करने का जो सबसे प्रचलित एवं सुरक्षित तरीका है वह है Ice Cream