Bakery Business Bread Making Process in Hindi.

Bakery Business Bread Making Process in Hindi.

Bakery business  प्राचीनकाल से चला आ रहा है | इसलिए यह खाद्य प्रसंस्करण के अंतर्गत होने वाली एक पारम्परिक गतिविधि है | हालाँकि India में Bread का उत्पादन आटोमेटिक मशीनों के माध्यम से भी होता है, इसके बावजूद लोग Bakery से उत्पादित ताजा बने हुए Bread या Bakery के अन्य उत्पाद को भी तबज्जो देते हैं | Bakery से उत्पादित होने वाले उत्पादों की लिस्ट में अभी तीन उत्पाद Bread, Biscuits और Cake ऐसे उत्पाद हैं, जो सामान्य जनता में काफी प्रचलित हैं इसलिए इनका उपयोग भी अधिक होता है | Bakery business  स्टार्ट करने के लिए भी जो सबसे पहला स्टेप करना होता है | वह अन्य बिज़नेस को करने की तरह Business Plan होता है | एक अच्छे बिज़नेस प्लान के माध्यम से ही निवेशकों और अन्य व्यवसायिक लोगो को बिज़नेस की तरफ आकर्षित किया जा सकता है | Bakery के उत्पादों का उत्पाद कृषि उत्पादित फसलों इत्यादि से किया जाता है | इसलिए Bakery business खाद्य प्रसंस्करण (Food Processing) के अंतर्गत आता है |

Bakery Business Kya hai :

सामान्यतया Bakery का अर्थ उस स्थान से लगाया जाता है | जहाँ Bread, Cake, cookies, Pastries इत्यादि का निर्माण किया जाता है | और इनका निर्माण करके इनको बेच कर कमाई करना Bakery business कहलाता है | चूँकि Bakery से जुड़े उत्पादों को सेक (Bake) के तैयार किया जाता है, और लोग अक्सर चाय, काफी के साथ इनको खाना पसंद करते हैं | इसलिए वर्तमान समय में कुछ Bakery चाय, काफी भी अपने ग्राहकों को बेचती हैं |

Business Scope in Bakery in  hindi:

Bakery business से जुड़े हुए दोनों क्षेत्रो में से यदि हम सिर्फ संगठित क्षेत्र की बात करें, तो पिछले वित्त वर्ष में इसके व्यापार की क्षमता को 17000 करोड़ रूपये आँका गया है | असंगठित क्षेत्र (Unorganized sector) जहाँ  Bakery के उत्पादों का उत्पादन किया जाता है इसमें सम्मिलित नहीं है | इसके अलावा Market experts  द्वारा ऐसे आसार लगाये जा रहे हैं की आने वाले तीन चार सालों में यह  Industry 12-15% growth rate के साथ आगे बढ़ सकती है | यदि ये आंकड़े सच साबित हुए तो India में Bakery Industry खाद्य प्रसंस्करण गतिविधि से तैयार होने वाले उद्योगों में तीसरे नंबर पर होगी |  Bakery से उत्पादित उत्पाद Bread, Cake, cookies, Pastries इत्यादि सामान्यतः सामान्य उपभोग की वस्तुएं हैं | और इनका उपयोग समाज के हर वर्ग द्वारा किया जाता है | Bread को double Roti भी कहा जाता है जहाँ इसका उपयोग नाश्ते में अण्डों और दूध के साथ किया जाता है | वही भारतवर्ष में Birth day सेलिब्रेट करना एक फैशन बन चूका है | और बिना Cake cutting के कोई Birth day बनाया ही नहीं जाता | दूसरी तरफ cookies का उपयोग लोग चाय काफी के साथ बहुतायत मात्रा में करने लगे हैं | इसलिए यह स्पष्ट है की Bakery से उत्पादित हर एक प्रोडक्ट किसी न किसी रूप में मार्किट में अपनी शाख जमाये हुए है | लेकिन इनमें से जो मुख्य उत्पाद समाज के हर वर्ग और बहुतायत मात्रा में उपयोग होने वाला है उसका नाम है Bread | Bread का उपयोग होटलों, ढाबों, घरों, हॉस्पिटलों इत्यादि में बड़े पैमाने पर किया जाता है | क्योकि इसको बहुत सारे तरीको से खाने में उपयोग में लाया जाता है | लेकिन India में Bread Aamlet नाश्ते में बेहद प्रसिद्द है |

Raw Materials to Bread Making in Hindi:

Bakery business में Bread Making अर्थात डबल रोटी बनाने के लिए विभिन्न प्रकार का कच्चा माल (Raw Material) चाहिए होता है | जो भारतीय बाज़ारों में आसानी से उपलब्ध है | Bread Making हेतु आवश्यक Raw material की लिस्ट निम्नवत है |

  • गेहूं का आटा, मैदा
  • साधारण नमक
  • चीनी
  • पानी

 YEAST                          

  • Baker’s Yeast
  • Bran
  • Lactic Acid

Oils and Vitamins

  • Condensed Milk
  • खाद्य मिल्क पाउडर
  • वनस्पति तेल
  • रीफाईन्ड खाद्य तेल
  • मक्खन
  • घी
  • लिक्विड ग्लूकोस
  • स्टार्च
  • शकरकंदी का आटा
  • मूंगफली का आटा
  • विटामिन
  • ग्लिसरीन
  • लाइम वाटर

Quality Improver:

  • Calcium Phosphate
  • Calcium carbonate
  • Vinegar
  • Sodium dilacerate
  • Sodium pyrophosphate

Machinery and equipments for bread making in Hindi:

Bakery business में Bread Making के लिए अलग लग तरह की उपकरणों एवं मशीनरी की आवश्यकता होती है | जिनमे मुख्य उपकरणों एवं मशीनों की लिस्ट निम्नवत है |

  • आटा सानने वाली मशीन (Dough Kneading Machine)
  • ब्रेड को विभाजित करने वाली मशीन (Bread Slicing Machine)
  • क्रीम मिक्स करने वाली मशीन (Cream Mixing Machine)
  • सेकने हेतु ओवन (Oven for baking)
  • खमीर बनाने वाला टैंक (Fermentation Tank )
  • सांचा (Mould Box)

Formula to mixing ingredients:

यहाँ पर हम पांच किलो आटे या मैदे को केंद्र बिंदु मानकर जानने की कोशिश करेंगे की पांच किलो Flour में अन्य Ingredients कितनी कितनी मात्रा में मिलाने चाहिए |

Ingredients Quantity in Gms (मात्रा ग्राम में )
आटा मैदा (Flour) 5000 Gram
Sugar (चीनी) 200 Gram
Salt (नमक) 75 Gram
Vegetable Oil (वनस्पति तेल) 75 Gram
ड्राई यीस्ट 40 Gram
विटामिन 20 Gram
क्वालिटी इम्प्रूवर 17 Gram

 

Manufacturing process of bread in Hindi:

Bread-making-process

मशीनों एवं उपकरणों की मदद से बहुत ही उच्च गुणवत्ता वाले Bread का निर्माण किया जा सकता है | सबसे पहले Bread Making Process में Raw Materials को आवश्यकतानुसार मात्रा के अनुसार आटा सानने वाली मशीन में डाल दिया जाता है | इसमें सभी पदार्थो को एक साथ मिलाकर लोई तैयार की जाती है | तत्पश्चात इस लोई में विटामिन्स और क्वालिटी इम्प्रोवर मिलाकर इसे Fermentation tank में fermentation के लिए छोड़ देते हैं |  और जब Fermentation प्रक्रिया पूर्ण हो जाती है, उसके बाद इसको मोल्ड मशीन के माध्यम से Bread का आकार देकर, इन्हें ओवन में सेकने (Baking) हेतु डाल दिया जाता है | Bread को सेकने के पश्चात Bread Slicing मशीन की मदद से इनकी स्लाइस तैयार की जाती हैं |

Problems in Bakery business in Hindi:

Bakery business में जो सबसे बड़ी problem आती है | वह होती है Raw Materials के Price में उतार चढ़ाव आना | यह जरुरी नहीं की हर समय इसके Raw Materials के Price बढ़ते ही हैं | अपितु कम भी होते हैं लेकिन जैसे ही उद्यमी इन कम हुई कीमतों के आधार पर अपनी Business strategy तैयार करने की कोशिश करता है | वैसे ही गेहूं के दाम बढ़ जाते हैं, और बढे हुए दामों के हिसाब से चलने की कोशिश करता है वैसे ही दाम घट जाते हैं | Price में यह उतर चढ़ाव बहुत बार देखने को मिल जाता है |

स्वास्थ्य और सुरक्षा के जिन नियमों का अनुसरण Bakery Industry में बड़े उद्योगों द्वारा किया जाता है | उन नियमों का अनुसरण छोटे उद्योगों द्वारा नहीं किया जाता, या फिर उनके लिए यह सब करना बेहद मुश्किल होता है | क्योकि स्वचालित यंत्रों की कीमत अधिक होने के कारण छोटे उद्योग उन्हें खरीदने में समर्थ नहीं हो पाते | जिसके कारण कार्यरत मजदूरो एवं कर्मचारियों को सारे काम manually ही करने पड़ते हैं | जिसके कारण फर्श पर तेल इत्यादि बिखर सकते हैं और इनसे फिसलन के कारण कोई व्यक्ति काम करते वक़्त गिर सकता है | इसके अलावा हाथों से 50, 70 किलो का अनाज मशीनों में डालने से मशीन के पार्ट्स खरब होने का खतरा बना रहता है | चूँकि Bakery Industry में आटे का उपयोग बहुतायत मात्रा में होता है, और आटे की प्रवृत्ति थोड़ी सी हवा में भी उड़ जाने की होती है | यही कारण है की मशीनों एवं फर्श पर आटे से गन्दगी हो जाती है | और इस dust से लोगों को सांस लेने में समस्या आ सकती है |

हालांकि उपर्युक्त परेशानियों के बावजूद Bakery business  को India में उद्यमियों द्वारा home based business के रूप में चुना भी जा रहा है, और किया भी जा रहा है | Bakery business को सफलतापूर्वक चलाने के लिए उद्यमी को उपर्युक्त परेशानियों से निपटने के लिए इन difficulties का पुनार्वलोकन करके इनसे निबटने की योजना बनाना बेहद जरुरी है |

 

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By deepak patel

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*