Bakri ki bimariyan goat diseases

Bakri ki bimariyan goat diseases

कोई भी व्यक्ति जो Goat Farming Project शुरू करने की सोच रहा हो | उसके लिए जरुरी हो जाता है की, उसे Bakri ki bimari अर्थात Goat Diseases की भी जानकारी हो | ताकि समय आने पर वह उस स्थिति को संभालकर, कम से कम नुकसान के लिए उत्तरदायी हो | और जो लोग पहले से बकरी पालन व्यवसाय से जुड़े हुए हैं | उनके लिए भी जरुरी है, की उन्हें Goat Diseases अर्थात Bakri ki bimariyon की, और उस स्थिति से निपटने की जानकारी हो  | इन्ही सब बातों को ध्यान में रखते हुए आज हम Bakri ki bimari और इस स्थिति से कैसे निपटा जाय विषय पर Hindi में बात करेंगे |

 

Bakri ki bimari PPR Disease

Goat diseases अर्थात Bakri ki bimari में यह PPR बीमारी सबसे खतरनाक एवं प्राणघातक बीमारी है |  यह disease (Bimari) सबसे पहले 1942 में पश्चिमी अफ्रीका में देखने को मिली थी | लेकिन आज यह बीमारी पूरे विश्व में फैल चुकी है | और इस बीमारी से लगभग हर देश की Bakriyan (Goat) ग्रसित हो सकती हैं | यह बीमारी किसी भी उम्र की Bakri को हो सकती है | इस PPR बीमारी के बारे में कहा जाता है की जिन बकरियों को यह बीमारी हो जाती है | उसका बच पाना बेहद मुश्किल होता है | अर्थात इस बीमारी में मृत्यु दर काफी उच्च 90% तक रहती है | माना 100 बकरियों को यह Bimari लग गई, तो माना ये जाता है की इस बीमारी से 90 बकरियों का मरना तो तय है | प्रत्येक वर्ष विश्व में इस बीमारी से सैकड़ो हज़ारो बकरियां मृत्यु की शय्या पर लेटने को मजबूर हो जाती हैं | जिससे न सिर्फ Bakri Palan करने वाले व्यक्ति का नुक्सान होता है | बल्कि राष्ट्र की आर्थिक स्थिति पर भी इसका बेहद गहरा असर पड़ता है | Bakri की यह Bimari एक वायरल है, और संक्रामक भी | और इसके कीटाणु सामान्यतः हवा से, खाने से, पानी पीने से बकरी के शरीर के अंदर प्रविष्ट कर जाते हैं |
Bakri-ki-bimari-PPR disease

 

 Symptoms of PPR Disease in Goat Hindi

  • Bakriके शरीर का तापमान बढ़ता जाता है | और Bakri को बुखार आ सकता है |
  • बकरी के नाक और आँख से लार सी टपकने लगती है| जो लगातार निकलती रहती है |
  • बकरी को दस्त और निमोनिया की शिकायत होने लगती है|
  • इस रोग disease के कारण Bakri अपनी आँखों को हमेशा बंद करके रखती है| या वह आँखे खोल पाने में असमर्थ हो जाती है |
  • बकरी के मुहं के अंदर छाले या जख्म होने लगते हैं|
  • बकरी के मुहं से बुरी तरह की बदबू आने लगती है|
  • इस Goat disease अर्थात Bakri ki Bimari के कारण अक्सर बकरियां चारा खाना बंद कर देती हैं|
  • .बकरियों के मलत्याग करते समय हो सकता है खून भी साथ में आये|

 

PPR Bakri ki Bimari ki RokTham :

हालांकि जैसे की मैं उपर्युक्त वाक्य में बता चूका हूँ | इस Bakri ki bimari से प्रभावित 90% बकरियों की मौत हो जाती है | नीचे हम इस Bimari के रोकथाम हेतु कुछ सुझाव दे रहे हैं | जिससे की यह बीमारी अन्य बकरियों को न लगे |

  • स्वस्थ बकरी को PPR जैसे रोगों से बचाने के लिए समय समय पर टिके लगवाते रहें|
  • अपने Goat Farm को हमेशा साफ़ और कीटाणु से मुक्त रखें|
  • इस रोग से पीड़ित Bakri को अन्य बकरियों के साथ न रखे| अलग से रख कर ही उसका उपचार करें |
  • नज़दीकी पशु चिकित्सालय केंद्र या पशु चिकित्सक से हमेशा संपर्क में रहें|
  • इस Bakri ki bimari (disease) से पीड़ित बकरी को चारा खिलानेया पानी पिलाने के लिए जिस बर्तन का इस्तेमाल किया जाता हो | यदि Bakri की मृत्यु हो जाती है तो बर्तनों को जमीन के अंदर गाड़ दें | जिससे यह सक्रामक Bimari अन्य किसी Bakri को न लगे |
  • इस बीमारी से पीड़ित बकरी को किसी को बेचने या इधर उधर भेजने की कोशिश न करें|
  • यदि कोई बकरी गंभीर रूप से इस Bimari अर्थात रोग की चपेट में आ चुकी है| तो उसका एकमात्र उपाय है, की आप उस बकरी को मार डालें | ताकि यह रोग अन्य बकरियों में न फैलने पाय |

Ilaj :

अपने नज़दीकी पशु चिकित्सक से सलाह लेकर इस Bimari से पीड़ित बकरियों को एंटीबायोटिक एंड एंटी सीरम दवाएं दीजिये | इन दवाओं में PPR के कीटाणुओं को नष्ट करने का सामर्थ्य होता है |

 

Bakri me Anthrax disease Bimari:

Anthrax को Hindi में गिल्टी रोग भी कहा जाता है | यह रोग सिर्फ बकरियों न लगकर अन्य घरेलु पशुओं को भी लग सकता है | इस रोग के होने का कारण Bacillus Anthracis नामक एक जीवाणु होता है | यह जीवाणु बकरियों के शरीर के अंदर हवा, पानी, खाना, सांस, घाव इत्यादि के माध्यम से प्रविष्ट कर सकता है | वैसे तो इस Bakri ki bimari के लक्षण एक से पांच दिन में दिखाई देने लगते हैं | लेकिन बहुत बार बिना लक्षण दिखे भी Bakri की मौत हो सकती है |

Anthrax Bimari ke Symptoms Hindi Me

  • इस बीमारी से ग्रसित Bakri के नाक, मुहं और मलद्वार से खून निकलने लगता है|
  • इस Bimari से ग्रसित बकरी एकदम से खाना खाना बंद कर देती है|
  • बकरियां जुगाली करना अर्थात मुहं से उगार काटना बंद कर देती हैं|
  • बकरियों के शरीर के तापमान में बहुत अधिक तेजीहो जाती है | सामान्यतः एक स्वस्थ बकरी के शरीर का तापमान 101 से लेकर 103 फार्नेहाइट होता है | जबकि इस बीमारी के दौरान Bakri के शरीर का तापमान 144 फार्नेहाइट तक चला जाता है | जो बेहद खतरनाक है |
  • सांस लेने और छोड़ने में बकरियों को बहुत कष्ट होता है|
  • इस Bakri ki bimari के जीवाणु लगभग 35 या 40 साल तक जिन्दा रह सकते हैं| और इनसे मनुष्य और अन्य पशु भी प्रभावित हो सकते हैं |

Upchaar

बकरियों को पशुचिकित्सक की सलाह से एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करवाएं |

एक बार हर एक Bakri को Anthrax Rog की रोकथाम हेतु टीका अवश्य लगाएं |

 

Bakri me Pneumonia ki Bimari

बकरियों में निमोनिया की बीमारी अनेक कारणों जैसे वायरस,जीवाणु, परजीवी इत्यादि कारणों से हो सकती है |

बकरियों में होने वाला निमोनिया का रोग एक प्राणघातक रोग है | इस Rog के जीवाणु, कीटाणु, परजीवी खाने के, पीने के, सांस लेने के माध्यम से फैलते हैं |

 

Bakri Me Pneumonia ke Symptoms

  • निमोनिया से Bakri के फेफड़ों में सूजन आ जाती है|
  • इस Bakri ki bimari में भी बकरियों के शरीर का तापमान 144 से 148 फार्नेहाइट चला जाता है|
  • बकरियों के सांस लेने की गति तेज हो जाती है|
  • नाक से कोई तरल पदार्थ बाहर निकलने लगता है| और बकरियों को खांसी भी हो जाती है |
  • जीभ में सूजन देखने को मिलती है| और बकरियां अपनी जीभ को हमेशा बहार को लटकाए रहते हैं |
  • इस Bimari में बकरियां खाने के प्रति उदासीन रवैया अपनाती हैं| अर्थात खाने में उनकी कोई विशेष रूचि नहीं होती |
  • इस बीमारी में भी जुगाली करना अर्थात उगार काटना बंद हो जाता है|
  • इस bakri ki bimari मेंबकरियों को हमेशा नींद सी आई रहती है | और वे धीरे धीरे बहुत कमज़ोर हो जाती हैं |

Upchaar:

किसी पशु चिकित्सक से राय परामर्श लेकर बकरियों को दवाओं का सेवन करवाएं |

Foot and Mouth Rog

जैसा की Hindi में Foot को पैर और Mouth को मुहं कहते हैं | इसलिए हम इस bakri ki bimari को पैरो और मुहं का रोग भी कह सकते हैं | यह बीमारी सिर्फ बकरियों को न होकर अन्य घरेलु पशु जैसे गाय, भैंस, भेड़ को भी अपना शिकार बनाती है | इस बीमारी से अन्य पशु की तुलना में गाय अधिक प्रभावित होती है | अर्थात गायों में यह रोग अधिक देखने को मिलता है | इस रोग का कारण Picorna नामक एक वायरस है | इस bakri ki bimari की निम्न लक्षणों से पहचान की जा सकती है |

Foot and Mouth Rog Symptoms

  • इस बीमारी से ग्रसित Bakri को बुखार आने लगता है|
  • बकरी या गाय या अन्य पशु के मुहं में, जीभ में, होठो पर या जबड़ो में छाले दिखाई देते हैं|
  • और खाते समय ये छाले फूट जाते हैं| जिस कारण छाले वाला स्थान में लाल रंग का घाव नज़र आने लगता है |
  • इस Bakri ki bimari के दौरान पशु के मुहँ से लगातार लार निकलती रहती है|
  • घाव से बहुत गन्दी बदबू आने लगती है|
  • घाव में तरह तरह के कीड़े उत्पन्न हो जाते हैं|

 

Saavdhaniya Roktham

  • इस Bakri ki bimari से पीड़ित Bakri को अन्य Bakriyon से अलग रखें|
  • पीड़ित पशु या bakri को किसी साफ़ सुथरी सूखी जगह पर रखें|
  • पशु के घाव को दिन में तीन बार किसी उपयुक्त लोशन का उपयोग करके साफ़ करें|
  • घाव को उपयुक्त लोशन से साफ़ करने के बाद उसमे एंटीबायोटिक पाउडर का इस्तेमाल किया जा सकता है|
  • पीड़ित पशु को ऐसा खाना दें जिसे वह आसानी से निगल सके|
  • जैसे ही आपको लगता है आपके bakri या पशु को कोई रोग है| तुरंत नज़दीकी पशु चिकित्सक से संपर्क करें |
  • समय समय पर टीकाकरण बहुत जरुरी है|
  • हर छ महीने में एक बार अपने पशु को इस Bakri ki bimari से बचाने वाला टीका अवश्य लगाएं|

 

Bakri ki Enterotoxemia Bimari.

यह Bakri ki Bimari अधिकतर बकरियों को दानेदार खाना खिलाने के कारण होती है | क्योकि दानेदार खाना बकरियों के पेट में विषैले जीवाणु को उत्पन्न करने में सहायता प्रदान करता है | और यह रोग पेट में विषैले जीवाणु उत्पन्न होने के कारण ही होता है |

Bimari Ke Lakshan

  • इस Bakri ki bimari से पीड़ित बकरी के पेट में बहुत तेज का दर्द उठता है| और उसकी मृत्यु एकदम से हो सकती है |
  • बकरी के शरीर का तापमान 105 तक जा सकता है| और पेट में तेज दर्द होने के कारण bakri जोर जोर से चिल्ला सकती है |
  • बकरी को दस्त होने की शिकायत हो सकती है|
  • पीड़ित बकरी अपने सिर को किसी ठोस वस्तु से भिड़ाने की कोशिश कर सकती है|
  • मुहं से लगातार लार का निकलना भी इस Bakri ki bimari के लक्षण हो सकते हैं|
  • इस रोग से पीड़ित बकरी 4 से 26 घंटो में मर सकती है|
  • इस Bakri ki bimari से पीड़ित bakri कराह या अजीब अजीब सी आवाजें कर सकती हैं|

Upchaar :

हालांकि इस रोग से निबटने या निजात पाने का कोई प्रभावी इलाज है नहीं | फिर भी आप अपने नज़दीकी पशु चिकित्सक से राय परामर्श करके कुछ एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग कर सकते हैं |

 

Bakri me Worm Infestation bimari :

सामान्यतः कीड़े बकरियों के लिए बहुत ही खतरनाक परजीवी हैं | इन परजीवी कीड़ों की पूरी प्रजाति को  Gastrointestinal Trichostrongyles कहते हैं | बकरियां इन परजीवी कीड़ों के संपर्क में तब आती हैं | जब वो चरना शुरू करती हैं | चरने के दौरान कीड़े का बच्चा Bakri के मुहं में चले जाता है | और बकरी के पेट को अपने रहने का स्थान बना देता है | वही पेट के अंदर ही यह कीड़ा बच्चे को जन्म देता है | और धीरे धीरे इन कीड़ों की संख्या पेट के अंदर बढ़ती जाती है | पेट के अंदर ही ये परजीवी कीड़े बकरी का खून चूसते रहते हैं | इस प्रकार का एक मादा कीड़ा एक दिन में 5 से 10 हज़ार अंडे देता है | और ये अंडे बकरी के मल करते समय मलद्वार से बाहर आ जाते हैं | उसके बाद गर्मी में या मिटटी में ये अंडे कीड़े के रूप में परिवर्तित हो जाते हैं | जो किसी और Bakri के पेट में भी चरने के दौरान जा सकते हैं |

 

Barber Pole warm Infestation bimari ke Symptoms

  • बकरियों को डायरिया अर्थात दस्त लग जाते हैं |
  • इस Bakri ki bimari के कारणबकरियों के शरीर में भारी मात्रा में पानी की कमी हो जाती है |
  • बकरी बेहद सुस्त सी नज़र आती है |
  • बकरी को देख के ऐसा लगता है की वह बहुत उदास, और उसके शरीर में कोई ऊर्जा ही नहीं है |
  • लगातार बकरी के वजन में कमी आने लगती है |
  • बकरियों में खून की मात्रा कम होने लगती है |

Upchaar :

Barber Worm Infestation के दौरान आप बकरियों को अपने नज़दीकी पशुचिकित्सक की सलाह से निम्न दवाएं दे सकते हैं |

.Fenbendazole BZD

.Morantel/Nicotinic

यह भी पढ़ें :

Bakri ko Bimariyon Se door rakhne ke kuch extra tips

    • अपने Goat Farming में प्रयोग में लाये जाने वाले उपकरणों की सफाई किसी कीटाणुनाशक दवा का उपयोग करके करें | इस कीटाणुनाशक दवा की सलाह अपने नज़दीकी पशु चिकित्सक से अवश्य लें |
    • Bakri के मल मूत्र इत्यादि को नियमित तौर पर बकरियों के रहने के स्थान से दूर रखें |
    • बकरियों को उनकी उम्र के हिसाब से अलग अलग उनके रहने की व्यवस्था करें |
    • बकरियों को हमेशा पौष्टिक आहार दें | सड़ा, गला, बासी खाना देने से बचें |
  • जो बकरियां आपने अभी अभी खरीदी हैं | और जो बकरिया आपके गोआट फार्म में पहले से उपलब्ध हैं | उनके रहने की व्यवस्था अलग अलग करें |
  • नई बकरियाँ खरीदने से पहले यह अवश्य चेक कर लें की कही वो किसी बीमारी से ग्रसित तो नहीं हैं |
  • यदि कोई Bakri किसी bakri ki bimari के कारण अस्वस्थ है | तो उसको अन्य बकरियों से अलग ही रखें, और अच्छे ढंग से उसका इलाज कराएं |
  • बीमारियों से बचाने के लिए अपने नज़दीकी पशु चिकित्सक की सलाह पर समय समय पर अपनी बकरियों का टीकाकरण कराते रहें |
  • ठण्ड और बरसात के मौसम में बकरियों का विशेष ध्यान रखें | याद रहे बकरियों को ठण्ड और बरसात पसंद नहीं होती |
  • यदि किसी bakri ki bimari के कारणवश आपकी कोई बकरी मर जाती है | तो ध्यान रहे उस bakri के शरीर कोया तो जला के खत्म कर दें | या फिर मिटटी के अंदर बहुत गहराई में दबा दें | ताकि और किसी bakri को वह रोग न हो |

 

Comments

  1. By sushant tiwari

    Reply

  2. By Parkash

    Reply

  3. By Dharu

    Reply

  4. Reply

  5. By PAWAN

    Reply

  6. By surendra singh

    Reply

  7. Reply

  8. By anil pathekar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*