स्वास्थ्य एवं फिटनेस

स्वास्थ्य एवं फिटनेस

Surgical Gloves Manufacturing Business

Surgical Gloves या Examination Gloves को Medical Gloves भी कहा जाता है | इस प्रकार के ये Gloves चिकित्सा सुरक्षा के सहायक उपकरण होते हैं जो किसी हॉस्पिटल को स्वच्छ रखने में मदद करते हैं और Surgical Gloves का उपयोग करके संक्रामक रोगों का फैलने का खतरा कम होता है | इसके अलावा ये डॉक्टर एवं अन्य सहायक कर्मचारियों को संक्रमण इत्यादि से बचाते हैं | Surgical gloves का निर्माण कच्चे माल के तौर पर Natural Latex rubber को उपयोग में लाकर किया जाता है | इस प्रकार के Gloves को अधिकांशतः Surgery करने के दौरान उपयोग में लाया जाता है शायद इसलिए ही इन्हें Surgical Gloves कहते हैं | इनका आकार बेहद सटीक रखना पड़ता है, Health professional यानिकी डॉक्टर और आम जनता के बीच बढती latex allergy की दर ने उद्यमियों को Non Latex जैसे विनायल या nitrile rubber से Surgical Gloves बनाना शुरू किया | लेकिन अब भी विनायल या nitrile rubber से निर्मित Gloves Surgery procedure में Latex rubber से निर्मित Surgical Gloves को Replace करने में नाकामयाब रहे हैं | इसका मुख्य कारण इनकी गुणवत्ता और कीमत है | Surgical Gloves Manufacturing Business Kya Hai: Surgical Gloves Surgical procedure में डॉक्टर या अन्य Medical

Disposable Syringes Manufacturing Business

Disposable syringes से हमारा तात्पर्य डॉक्टर द्वारा मरीज के शरीर में दवाई को प्रवेश कराने के उपयोग में लायी जाने वाली सुई से है | इस बिज़नेस को करने का सबसे बड़ा फायदा यह है की disposable syringes की replacement demand बहुत उच्च होती है | इसलिए वर्ष के किसी भी महीने में हॉस्पिटल एवं अन्य चिकत्सकीय संस्थानों में इनकी असाधारण मांग हमेशा बनी रहती है | संक्रमण से होने वाले रोगों से बचने के लिए किसी एक मरीज पर एक ही सिरंजी का उपयोग किया जाता है | इसके अलावा पूरी दुनिया में एड्स के खतरे को देखते हुए Disposable syringes के दुबारा उपयोग को लगभग तिरस्कृत कर दिया गया है, यही कारण है की इसे एक बार उपयोग में लाकर फ़ेंक दिया जाता है इसलिए बाज़ार में इसकी हमेशा बहुत बड़े पैमाने पर मांग बनी रहती है | Disposable Syringes Manufacturing Business Kya Hai: Disposable Syringes का निर्माण कच्चे माल के तौर पर प्लास्टिक का उपयोग करके किया जाता है इनका उपयोग करके इलाज या शोध करने की प्रक्रिया को इलाज/शोध करने का अंत: पेशीय तरीका कहा जा सकता है |  Disposable Syringes को मुख्यतः प्लास्टिक उद्योग में अपनाई जाने वाली बहुप्रचलित manufacturing विधि इंजेक्शन मौल्डिंग विधि

Gym business ya fitness center kaise start kare

Gym business यानिकी Fitness Center समय के साथ साथ Popular होता जा रहा है | इसकी लोकप्रियता का एक कारण जहाँ युवाओं के अंत:करण में उठती बॉडी बिल्डिंग की इच्छा है वहीँ कुछ लोग फिल्मों में दिखाए जाने वाले अभिनेताओं/अभिनेत्रियों के Six Packs एवं सुन्दरता से प्रेरित होकर भी gym या Fitness center का रास्ता अपनाते हैं | इसके अलावा सच्चाई तो यह भी है की वर्तमान में अपने स्वास्थ्य एवं फिटनेस के प्रति सजग एवं जागरूक लोगों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है |  यही कारण है की Gym/Fitness sector में भी Talwalkar’s Gym, Fitness First, Gold’s gym, Fitness One, Ozone Fitness And Spa इत्यादि कंपनिया सफलतापूर्वक Business कर अपनी कमाई कर रहे हैं | India में वर्ष 2015 में Gym/Fitness sector की मार्किट 4500 करोड़ रूपये की थी जिसकी वार्षिक ग्रोथ 16-18% तक अनुमानित है, अनुमान यह भी लगाये जा रहे हैं की 2017-18 में यह Market 7000 करोड़ की हो जाएगी | Gym Business संगठित और असंगठित दोनों तरह के क्षेत्रों में किया जाता है |  यद्यपि इस बिज़नेस को कोई भी व्यक्ति कर सकता है लेकिन वह व्यक्ति जिसका झुकाव Physical fitness की तरफ अधिक है, इस  business में अधिक रूचि दिखायेगा | लोगों का

Rashtriya Swasthya Bima Yojana

इस Rashtriya Swasthya Bima Yojana को सरकार द्वारा 1 October, 2007 से शुरू किया गया है, हालाँकि इस योजना को 2008 से क्रियान्वयन में लाया गया | श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की वेबसाइट पर इस योजना  को आम आदमी बीमा योजना का नाम दिया गया है | यह योजना BPL Family से जुड़े असंगठित क्षेत्रों में कार्यरत कर्मचारियों हेतु शुरू की गई है | एक आंकड़े के मुताबिक India में 93% work force असंगठित क्षेत्रों से जुड़ी हुई है | इसलिए भारत सरकार ने विभिन्न वर्गों के लिए अलग अलग सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की शुरुआत की थी , लेकिन इन योजनाओं से मिलने वाला Coverage बहुत ही कम निर्धारित किया गया था | India में आज भी अधिकांश जनता सामाजिक सुरक्षा कवरेज से विहीन है, और उस वक्त भी थी जब सरकार ने Rashtriya Swasthya Bima Yojana के बिल को संसद के पटल पर रखा था | असंगठित क्षेत्र से जुड़े कर्मचारियों में बीमारी की वजह से असुरक्षा की भावना पैदा होती है, क्योंकि हॉस्पिटल के खर्चे के लिए उनके पास पैसे नहीं रहते हैं | इसलिए Medical Facility बढ़ जाने के कारण भी ऐसे लोग पैसे के अभाव में हॉस्पिटल जाने से कतराते हैं, और यदि कोई व्यक्ति

फार्मेसी बिज़नेस या मेडिकल स्टोर कैसे खोलें |

इंडिया में Pharmacy Business अर्थात Medical Shop किफायती और सदाबहार business है | क्योकि देश की अर्थव्यवस्था में ऊंच नीच का इस business पर कुछ ज्यादा प्रभाव पड़ता नहीं है | वह इसलिए की दवाई या Medicine का सीधा लेना देना मनुष्य के स्वास्थ से होता है | आदमी भले ही अपनी अन्य आवश्यकताओं में समय के अनुरूप कटौती कर सकता है | किन्तु मेडिकल के मामले में नहीं | यही कारण है की Medical Shop business में मंदी के दिनों में भी Kamai करने के सारे अवसर उपलब्ध रहते हैं | चूँकि Pharmacy business में अधिक खर्चा ना आने के कारण और India के हर क्षेत्र में दवाइयों की मांग अधिक होने के कारण युवाओं में यह business अधिक प्रचलित है | इसलिए आज हम बात करेंगे की यदि इंडिया में किसी व्यक्ति को Pharmacy business करना हो तो, उसे क्या क्या और किस प्रकार की गतिविधियाँ (Steps) करने पड़ेंगे | Pharmacy Business Ka Registration: इंडिया में Pharmacy business या अपनी Medical Shop खोलने के लिए business registration दूसरा सबसे महत्वपूर्ण स्टेप है | इस बिज़नेस के Registration Process को निम्न चार भागों में विभाजित किया जा सकता है | Hospital Pharmacy: Hospital Pharmacy से हमारा आशय उस Medical