लाइसेंस एवं पंजीकरण

लाइसेंस एवं पंजीकरण

Online EPF Registration Process For Employer in Hindi

Employer के लिए Online EPF Registration की यह प्रक्रिया दिसम्बर 2015 से शुरू है | वर्तमान में नई स्थापना अर्थात नई कंपनियों को EPFO में Register कराने हेतु EPFO ने इस प्रक्रिया को बेहद आसान बना दिया है | अब यदि नई स्थापित हुई कंपनी चाहे तो EPFO में पंजीकरण के लिए Online आवेदन कर सकती हैं | इस Online registration को शुरू करने के पीछे EPFO का उद्देश्य अधिक से अधिक नियोक्ताओं के माध्यम से अधिक से अधिक कर्मचारियों को Employee Provident Fund का लाभ देने से है | जहाँ पहले कंपनियों द्वारा इस काम को कराने के लिए किसी Third Party की सर्विस ली जाती थी अब कंपनियां चाहे तो यह काम Human Resource Department से भी आसानी से करा सकती हैं | चूँकि Employee Provident Fund कर्मचारियों के कल्याण से जुड़ी हुई एक सामाजिक सुरक्षा स्कीम है इसलिए EPFO ने इससे जुड़ने की प्रक्रिया को बेहद आसान बना दिया है और 1/12/2015 से इस Registration को Online कर दिया है, ताकि अधिक से अधिक नियोक्ता इस स्कीम से जुड़कर अधिक से अधिक कर्मचारियों को इस सामजिक सुरक्षा स्कीम का हिस्सा बना सकें |   Kaun Kaun se Employer EPF Code ke liye Online Apply Kar Sakte

Taxpayer Identification Number की जानकारी |

TIN यानिकी Taxpayer Identification Number को हम वर्तमान कर प्रणाली में कर चुकता करने वाले व्यक्ति/इकाई की पहचान करने वाला नंबर भी कह सकते हैं | जहाँ TAN Number भारतीय आयकर विभाग द्वारा जारी किया जाता है वही TIN अर्थात TAX Identification Number वाणिज्यिक कर विभाग द्वारा जारी किया जाता है | सामान्य तौर पर यदि हम कहें तो TIN Value Added tax (VAT) के लिए उपयोग में लाया जाता है अर्थात ऐसे उद्यमी जिन्होंने किसी बिज़नेस में नया नया प्रवेश किया है तो वे अपने सगे सम्बन्धियों या ऐसे उद्यमियों से जो पहले से बिज़नेस कर रहे होते हैं से  TIN अर्थात TAX Identification Number के बारे में सुनते आये होंगे | यही कारण है की नए नए उद्यमियों या फिर अपने अंतर्मन में उद्यमी बनने की चाह पाले हुए व्यक्तियों को Taxpayer Identification Number (TIN) के बारे में जानने की  उत्सुकता रहती है की आखिर TIN है क्या? और किस प्रकार का बिज़नेस करने वाले उद्यमियों को  इसकी आवश्यकता होती है और हाँ यदि कोई व्यक्ति इसके लिए आवेदन (Apply) करना चाहे तो कैसे कर सकता है ? इत्यादि इत्यादि | आज इस पोस्ट के माध्यम से इन्हीं सब सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे |

BIS Information And Certification

BIS यानिकी Bureau of Indian Standards को हिन्दी में भारतीय मानक ब्यूरो कहा जाता है | इसका मुख्य काम उत्पादों के उत्पादन हेतु मानक निर्धारित करना है ताकि ग्राहकों को गुणवत्तायुक्त उत्पाद बाज़ार में मिल सकें | किसी भी उत्पाद की Manufacturing करने से पहले उद्यमी को इस बात का निरीक्षण जरुर करना चाहिए की क्या भारतीय मानक ब्यूरो ने उस उत्पाद विशेष के लिए कोई मानक निर्धारित किये हैं यदि हाँ तो उद्यमी को चाहिए की वह BIS द्वारा उस उत्पाद हेतु जारी किये जाने वाले प्रमाण पत्र अर्थात Certification के लिए आवेदन करे | जिसके तत्पश्चात उद्यमी के उत्पाद को   BIS द्वारा मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला में मानकों के आधार पर निरक्षित कर लिया जाता है, और सभी मानकों पर खरा उतरने के बाद उद्यमी को BIS License जारी किया जाता है | ताकि उद्यमी अपने उत्पाद पर ISI Mark या BIS द्वारा निर्धारित अन्य Marks का मुद्रण कर सके | Bureau of Indian Standards (BIS) की उत्पति: ये कहानी उन दिनों की है जब भारतवर्ष में ब्रिटिश साम्राज्य के समापन के कुछ ही वर्ष बाकी थे अर्थात उस समय देश के सामने जो सबसे बड़ी चुनौती खड़ी थी वह थी देश में औद्योगिक इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार करने की

FSSAI License के लिए Online कैसे Apply करें |

FSSAI ने Food Licensing and Registration System (FLRS) नामक एक ऑनलाइन एप्लीकेशन की शुरुआत की है ताकि खाद्य सामग्रियों से जुड़े उद्यमी FSSAI License के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकें | इस Food Licensing and Registration System का उपयोग FSSAI के पांच Regional offices जो की उत्तरी क्षेत्र के लिए नई दिल्ली में, पूर्वी क्षेत्र के लिए कोलकाता में, उत्तर पूर्वी क्षेत्रो के लिए गुवाहटी में, पश्चिमी क्षेत्रों के लिए मुंबई में एवं दक्षिणी क्षेत्रों के लिए केरल और चेन्नई में है द्वारा Food Business Operators (FBO) को लाइसेंस एवं पंजीकरण जारी करने के लिए किया जाता है |  FLRS खाद्य से जुड़े उद्यमियों को उनकी बिज़नेस लोकेशन और खाद्य सम्बन्धी जिस प्रकार की प्रक्रिया उद्यमी द्वारा की जाती है उनके आधार पर Eligibility Check करने का विकल्प प्रदान करता है | इसके अलावा Food Licensing and Registration System उद्यमियों को ऑटोमेटिक अलर्ट भी SMS या Email के माध्यम से भेजता है | ताकि उद्यमी अपना Registration एवं License समय रहते Renew करवा सके | FSSAI License के लिए Apply करने से पहले FSSAI द्वारा उद्यमी के परिसर की पहचान करके Eligibility Check की जाती है की उद्यमी किस श्रेणी के अंतर्गत FSSAI License के लिए Apply करेगा |

FSSAI Information In Hindi.

FSSAI यानिकी Food Safety and Standards Authority of India भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के अंतर्गत एक स्वायत्त संगठन है | भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण की स्थापना Food Safety and Standards Act 2006 के अंतर्गत सुरक्षा एवं विनयमन की दृष्टी से की गई है | इसलिए कहा जा सकता है की विनियमन एवं पर्यवेक्षण के माध्यम से FSSAI लोगों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं उसे बेहतर बनाने का काम करती है | कहने का आशय यह है की  Food Safety and Standards Authority of India खाद्य पदार्थो/सामग्री का उत्पादन करने वाली इकाइयों पर नियंत्रण एवं निगरानी रखती है | इसलिए जब किसी उद्यमी द्वारा इस प्रकार का कोई बिज़नेस किया जाता है तो उसे FSSAI से लाइसेंस लेना अति आवश्यक है | Food Safety and Standards act 2006 का उद्देश्य खाद्य सुरक्षा एवं मानकों की दृष्टि से आवश्यक सभी मामलों के लिए किसी एक संगठन की स्थापना करने का था | FSSAI की स्थापना: जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की FSS ACT 2006 का मुख्य लक्ष्य विभिन्न स्तरों, विभागों के खाद्य सुरक्षा एवं मानकों के कार्य को किसी एक संगठन का निर्माण करके उसको पूर्ण रूप से सौंप देने का था