Cricket Bat Manufacturing Business Ki Jankari

Cricket Bat Manufacturing Business Ki Jankari

Cricket Bat Manufacturing business India में बहुत पहले से कुछ उद्यमियों द्वारा सफलतापूर्वक किया जा रहा है | लेकिन चूँकि यह बिज़नेस भी Low Investment के साथ कहीं से भी शुरू किया जा सकता है, और आये दिनों युवाओं में बढती क्रिकेट की लोकप्रियता को देखते हुए Cricket Bat Manufacturing business के बारे में बात करना जरुरी हो जाता है |  Cricket से वर्तमान में शायद ही कोई युवा अनभिज्ञ होगा, उसका कारण है Cricket खेल की पहुँच और बढ़ी हुई लोकप्रियता, हमें यह बताने की जरुरत नहीं है की क्रिकेट नामक यह खेल भारत के कोने कोने में फैला हुआ है | चाहे ग्रामीण भारत का युवा हो या फिर शहरी युवा हर कोई क्रिकेट को भली भाँती जानता है, और खेलता भी है | हालांकि क्रिकेट खेलने में बहुत सारे products जैसे सिर को बाल से बचाने के लिए Helmet, हाथों में Gloves, thigh guards, arm guards, chest guards, Cricket Balls, Cricket stumps इत्यादि का इस्तेमाल किया जाता है | लेकिन क्रिकेट खेलने के उपयोग में जो सबसे अहम् भूमिका रहती है वह है क्रिकेट Bat और Ball की, क्योकि अन्य वस्तुओं के अभाव में आप उनका कोई न कोई विकल्प ढूंढ लेंगे, लेकिन Cricket Bat एवं Ball तो चाहिए ही चाहिए होगा |  तो आइये आगे हम जानने की कोशिश करेंगे की यदि कोई उद्यमी क्रिकेट बैट बनाने का काम अर्थात Cricket Bat Manufacturing business start करके कमाई करना चाहता है तो उसे यह बिज़नेस करने के लिए क्या क्या आवश्यकताएं हो सकती हैं |

Cricket manufacturing business

Cricket Bat Manufacturing Business Kya Hai:

Cricket India में ही नहीं अपितु विश्व के बहुत सारे देशों में एक बेहद चर्चित एवं लोकप्रिय खेल है | इस खेल में क्रिकेट बल्ले की मदद से क्रिकेट बॉल को मारने की कोशिश की जाती है बाल यानिकी गेंद क्रिकेट बैट के संपर्क में आने से अपना रुख दूसरी तरफ कर लेती है हो सकता है की वह हवा में दूर चली जाय हो सकता है की वो जमीन पर रेंगती Boundary के बाहर चली जाय | यह सब उस खिलाडी पर निर्भर करता है जो बेटिंग कर रहा होता है | चूँकि Cricket Bat लकड़ी से निर्मित होता है इसलिए एक समयकाल के बाद या तो वह टूट सकता है या फिर ख़राब हो सकता है इस स्थिति में हमेशा नए Cricket Bat की आवश्यकता होती है |  Cricket Bat Manufacturing Business से हमारा आशय कमाई करने की उस प्रक्रिया से है, जब कोई उद्यमी उपर्युक्त आवश्यकता को ध्यान में रखकर क्रिकेट बैट का निर्माण करके उन्हें बेचकर अपनी कमाई कर रहा होता है |

Market Potential in Cricket Bat Making Business:

यदि आप युवा हैं तो शायद आपको बताने की जरुरत नहीं है की क्रिकेट हमारे देश में कितना लोकप्रिय खेल है | और जब खेल लोकप्रिय है तो ऐसा तो संभव नहीं है की बिना बल्ले के खेला जाय | यद्यपि शहरों में तो युवाओं, बच्चों एवं क्रिकेट प्रेमियों द्वारा सम्पूर्ण Cricket kit खरीदी जाती है | लेकिन ग्रामीण इलाकों के बच्चे, युवा नियमित क्रिकेट खेलते समय कम से कम गेंद एवं क्रिकेट के बल्ले से ही काम चला लेते हैं हाँ किसी टूर्नामेंट या फिर बड़े मैच में उन्हें भी सम्पूर्ण Cricket kit की आवश्यकता होती है | क्रिकेट के प्रति बच्चो और किशोरों की ऐसी दीवानगी होती है की आज यदि क्रिकेट बैट टूट गया या खराब हो गया तो कल उन्हें नया क्रिकेट बैट चाहिए ही चाहिए | क्रिकेट खेलने में बच्चों और युवाओं को बेहतर आनंद की अनुभूति होती है जिसे वे बैट टूट जाने या खराब हो जाने के कारण खोना नहीं चाहते | पहले जमाना दूसरा था जब माता पिता भी बच्चों या किशोरों को खेल करने के लिए डांटते थे, आज के माता पिता मदद करते हैं क्योंकि उन्हें पता है क्रिकेट में भी एक चमकते कैरियर की आस लगाई जा सकती है | यही कारण है की India में Cricket Bat Manufacturing business के लिए Indian Market तो तैयार है ही है, साथ में उद्यमी अपने उत्पाद को बाहर देशों की ओर Export भी कर सकता है |

Required Machinery and raw Materials To Start:

Cricket Bat Manufacturing business में Raw Materials के रूप में बहुत प्रकार की लकड़ियां  जैसे आम की लकड़ी, सेब की लकड़ी, Cane की लकड़ी, willow clefts (कश्मीर में पाया जाने वाला एक पेड़), इत्यादि चाहिए होती हैं, जिनकी लिस्ट हम निम्नवत अलग से प्रसारित करेंगे | यद्यपि English Willow cleft से बनने वाले Cricket bats अन्य लकड़ियों की तुलना में अधिक गुणवत्तायुक्त होते हैं | लेकिन अन्य लकड़ी की तुलना में यह लकड़ी महंगी पड़ती है जिससे Cricket bat की कीमत भी उच्च हो जाती है, और इस प्रकार के Cricket bat की पहुँच Professional Cricketers तक ही सिमित हो जाती है | Cricket Bat Manufacturing business start करने में उपयोग में आने वाली मशीनरी की लिस्ट निम्नवत है |

  • Cricket Bat Band Saw Machine
  • Cricket Bat processing machine,
  • Cricket Bat finishing machine
  • Wood working lathe
  • Some other tools and equipment

Raw Material की List इस प्रकार है |

  • willow clefts (विलो एक प्रकार का पेड़ जो कश्मीर में पाया जाता है )
  • cane
  • apple wood (सेब के पेड़ की लकड़ी )
  • mango (आम के पेड़ की लकड़ी )
  • Salix Purpurea (एक प्रकार का English willow )
  • Twine (रस्सी)
  • synthetic glue (सिंथेटिक गोंद)
  • rubber grip (रबर ग्रिप )
  • Duco paint,
  • Terry cloth,
  • hydrogen peroxide
  • Nylon strap
  • Polythene sheets.

Cricket Bat Manufacturing Process:

Cricket bat manufacturing business start कर रहे उद्यमी को चाहिए की वह इस प्रक्रिया को पूर्ण रूप से समझने के लिए या तो कहीं से प्रशिक्षण ले या फिर किसी वर्तमान उद्यमी जो पहले से ही इस बिज़नेस में संलिप्त हों, उनसे  मिलकर इस प्रोसेस को समझें | उत्तर प्रदेश के मेरठ  एवं पंजाब में Cricket bat manufacturing business किया जाता है, इसलिए  भावी उद्यमी को इस बिज़नेस से जुड़े उद्यमी भी वहीँ मिल सकते हैं | क्रिकेट बैट बनाने की इस क्रिया को निम्न चार भागों में विभाजित किया जा सकता है |

लकड़ी को काटने और आकार देने की प्रक्रिया:

Cricket bat manufacturing process में सबसे पहले उपलब्ध कच्चे माल अर्थात लकड़ी को बल्ले की Shape में काटकर उसको बल्ले का आकार दे दिया जाता है | Plain cricket bat बनाने के लिए ऐसी लकड़ी का चुनाव किया जाता है, जिसमे कोई निशान न हों | चमड़े का कागज़ प्रकार का आवरण चढ़े हुए Cricket bats बनाने के लिए निशान लगी हुई लकड़ी का भी उपयोग कर सकते हैं, क्योंकि वह दिखने में बदसूरत नहीं लगता है | Cricket bat के प्रकार के अनुसार लकड़ी का चुनाव करके उसको बल्ले का आकार दे दिया जाता है |

हैंडल फिट करना :

Cane एक प्रकार की लकड़ी होती है जिसका उपयोग सिर्फ Cricket bats के Handle को बनाने में किया जाता है | Cane Handle बनाकर उसे क्रिकेट के बल्ले पर बने हुए खांचे में सिंथेटिक गोंद का इस्तेमाल करके फिट कर दिया जाता है |

लकड़ी को सख्त करने हेतु दबाना :

अगर हम सामान्य लकड़ी से क्रिकेट खेलेंगे तो क्रिकेट खेलने में उपयोग होने वाली गेंद उतनी दूर नहीं जा पायेगी, जितनी क्रिकेट के बल्ले से इसका कारण क्रिकेट के बल्ले की मजबूती है | कमजोर लकड़ी के बल्ले से क्रिकेट खेलने पर बल्ले पर गेंद के निशान साफ़ दिखाई देते हैं | और जब गेंद ऐसे बल्ले से टकराती है तो उसे गति नहीं मिल पाती | इसी समस्या को दूर करने के लिए क्रिकेट के बल्ले को मशीन में दबाया जाता है | ताकि वह सख्त एवं कड़क हो सके |

कवर करना :

मशीन में दबाने के बावजूद भी कुछ Plain Cricket bats को हाइड्रोजन पेरोक्साइड एवं तरल अमोनिया के साथ ब्लीच्ड किया जाता है | और जिन्हें ब्लीच्ड नहीं किया जाता ऐसे बल्लों को अलसी का तेल लगाया जाता है, ताकि लकड़ी को मजबूती प्रदान हो सके | इसके अलावा दाग, धब्बों, निशान वाली लकड़ी से निर्मित Cricket Bats में Poplin Cloth का कवर करके Duco Paint कर दिया जाता है | ताकि दाग, धब्बे, निशान को छिपाया जा सके | कुछ बल्लों को पतली सी रस्सी में लपेटकर चर्मपत्र चिपका दिया जाता है और बाद में इन्हें सूखा दिया जाता है | Cricket bats handle पर पतली सी रस्सी लपेटकर चिपका दिया जाता है उसके बाद उसमे रबर ग्रिप चढ़ा दी जाती है | Cricket Bat Manufacturing business  में बल्ले बन जाने के बाद बल्ले के दोनों तरफ स्टीकर लगा दिए जाते हैं | फिर इन्हें Market में बेचकर कमाई की जाती है |

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*