Effective Budget Plan Kaise Banaye.

Effective Budget Plan Kaise Banaye.

उद्यमी चाहे नया हो या अनुभवी उसे अपने बिज़नेस के लिए एक effective budget  plan की आवश्यकता पड़ती ही है | बजट की महत्वता किसी भी बिज़नेस के लिए इसलिए बढ़ जाती है, क्योकि एक effective  budget plan  उद्यमी को उसके business को चलाने में अनुमानित खर्चे का और Kamai का ब्यौरा मुहैया कराने के साथ साथ पूर्व निर्धारित वित्तीय लक्ष्यों को वास्तविक आंकड़ो से तुलना करने में भी मदद करता है | महत्वपूर्ण बात यह है की एक effective budget plan उद्यमी के लिए एक पैमाने की तरह काम करता है, जो समय समय पर उद्यमी को उसके business की performance के बारे में पता करने में मदद करता है | एक effective budget plan की रूपरेखा इस तरीके से तैयार की जानी चाहिए की वह उद्यमी के लिए सबसे सहज अर्थात आरामदायक हो | बजट तैयार करने के लिए पेन्सिल पेपर , computer spreadsheet या किसी accounting software को उपयोग में लाया जा सकता है | तो आइये जानते हैं की एक effective budget plan को कैसे draft करें |

effective-budget-plan-kaise-banaye

  1. Apne Business ki Kamai Ka Pata kare:

एक effective budget plan करने के लिए यदि उद्यमी का चालू बिज़नेस है तो सबसे पहले उद्यमी को चाहिए की वह अपने बिज़नेस से होने वाली Kamai का पता करे | क्योकि खर्च किये जाने वाले बजट का प्रावधान हमेशा Kamai से कम ही किया जाना चाहिए | Kamai का पता लगाने के लिए विभिन्न Income sources जैसे प्रति घंटे हुई कमाई, उत्पाद को बेचकर हुई कमाई, Investment से होने वाली कमाई, ब्याज से होने वाली कमाई इत्यादि का विश्लेषण कर पता लगाया जा सकता है |

  1. Industry Standards ko Check kare:

हालांकि यह सत्य है की सारे business एक जैसे नहीं होते लेकिन यह भी सत्य है की अधिकतर बिज़नेस में कोई न कोई समानता अवश्य होती है | इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह अन्य बिज़नेस जो मार्किट में पहले से चल रहे हैं, उनके बारे में Information एकत्र करे | Information पाने के लिए यदि किसी पुस्तकालय का दरवाजा खटखटाना पड़े तो खटखटाए, किसी वर्तमान उद्यमी से मिलना पड़े तो मिले, कोई ऑनलाइन ब्लॉग पढना पढ़े तो पढ़े | लेकिन पता लगाने की कोशिश करे की लगभग कितना प्रतिशत वित्त कौन कौन से cost grouping में रखना पड़ता है | छोटे बिज़नेस अत्यंत परिवर्तनशील होते हैं, इसलिए इनमे छोटे छोटे बदलावों का भी बड़े बिज़नेस की तुलना में अधिक और जल्दी से प्रभाव पड़ सकता है |

  1. Apne Computer me ek Spreadsheet banaiye:

    spreadsheet-for-effective-budget-plan

अब यदि उद्यमी को cost grouping का idea हो चूका हो तो उसको अपने कंप्यूटर में एक spreadsheet तैयार करनी चाहिए और उस spreadsheet में अलग अलग Grouping करके fixed cost या variable cost के लिए budget allocate करना होगा | Budget allocate करने से पहले यदि Service provider को contact करके उसकी quotation मंगाई जाय तो उद्यमी के लिए यह स्टेप थोड़ा सरल हो जाता है |

  1. Fixed cost ka nirdharan Kijiye:

जैसा हम  उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की Fixed cost यानिकी स्थिर लागत वह लागत होती है, जिनमे महीने महीने में बदलाव नहीं आता है | इसके लिए उद्यमी चाहिए तो अपनी पिछले वर्ष की budget report का सहारा ले सकता है जिससे उसे पता लगाने में आसानी रहेगी की ऐसे कौन कौन से Bills हैं, जिनमे महीने के आधार पर परिवर्तन नहीं हो रहे हैं | Fixed cost में किराया, Utilities expenses, वेतन, सरकारी और बैंकों की फीस, Accounting Service, Legal Service , Insurance में आने वाले खर्चे को शामिल किया जा सकता है |

  1. Effective business budget ke liye variable cost ko add kare:

जिन वस्तुओं का उपयोग महीने में कम या अधिक मात्रा में होता है उनकी कीमत भी मात्रा या उपयोग के अनुसार परिवर्तित या अंतरित हो सकती है | इसलिए effective budgeting करते समय ऐसे खर्चों को Variable cost में शामिल किया जाना जरुरी है | budget में Variable cost का निर्धारण करते वक्त उद्यमी को अपने बिज़नेस के द्वारा महीने में की गई Kamai का विश्लेषण अवश्य करना चाहिए | क्योकि यदि profit उद्यमी के अनुमान से अधिक हुआ है तो अपने बिज़नेस के फायदे के लिए उद्यमी चाहे तो Variable cost को बढ़ा सकता है | Variable expenses में कच्चे माल का खर्चा, ठेकेदारी पर ली जाने वाली मजदूरी, Commissions,विज्ञापनों पर आने वाला खर्चा, अन्य विपणन का खर्चा, परिवहन, Travel & events, Printing services पर आने वाले खर्चे को शामिल किया जा सकता है |

  1. One time cost ka prediction Kijiye:

One time cost से आशय मशीनरी और उपकरणों से है, जैसे यदि उद्यमी को लगता है की उसके प्रोडक्ट की मांग बढ़ रही है और इस साल उसको एक नई Machine की आवश्यकता हो सकती है तो इसके खर्चे को उद्यमी एक effective budget plan करने के लिए One time cost की श्रेणी में सम्मिलित कर सकता है | इसके अलावा उद्यमी को इस बात का ध्यान भी रखना पड़ेगा की कुछ खर्चे ऐसे भी होते हैं जो अचानक से आ सकते हैं, जैसे यदि कोई Laptop crashed हो जाए तो उद्यमी को नए लैपटॉप को खरीदने की आवश्यकता पड़ सकती है | One time cost का prediction करते वक्त मशीनरी एवं उपकरणों पर आने वाला खर्चा जैसे कंप्यूटर खरीदने में आने वाला खर्चा, फर्नीचर खरीदने में आने वाला खर्चा का ध्यान रखना बेहद जरुरी है |

  1. Kamai aur kharcho ka total :

उपर्युक्त दिए गए 6 steps एक effective budget plan के तत्व हैं अब इन तत्वों को बजट की एक स्पष्ट तस्वीर बनाने के लिए प्रत्येक Kamai के resource और खर्चे को एक साथ रख दिया जाता है | जिससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है, की एक effective budget plan में होने वाला खर्चा उसकी Kamai से कम रहे |

 

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. Reply

  2. Reply

  3. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*