Employee Pension Scheme Description in Hindi

Employee Pension Scheme Description in Hindi

EPS Kya Hai

बहुत कम EPF अंशधारक जानते हैं | की EPF के अन्दर ही EPS (Employee Pension Scheme) की व्यवस्था की गई है | अधिकतर EPF अंशधारक अपना EPS (Employee Pension Scheme ) के तहत जमा हुआ पैसा EPF निकालते समय ही निकाल लेते हैं | लेकिन हाल ही में सरकार ने इस EPS (Employee Pension Scheme ) को थोडा और व्यावहारिक बनाने के लिए इस स्कीम के तहत दी जाने वाली कम से कम पेंशन राशि को बढ़ा दिया है | अब EPS (Employee Pension Scheme ) के तहत EPF अंशधारको को कम से कम 1000 रूपये प्रति माह की दर से पेंशन मिलेगी | जो इससे पहले सिर्फ 500 रूपये थी | आज हम EPS (Employee Pension Scheme) पर विस्तृत तौर पर वार्तालाप करेंगे |

EPS (Employee Pension Scheme)के तहत Pension किन- किन को मिलेगी

सभी संगठित क्षेत्रो से जुड़े हुए लोग यदि उनकी EPF में सहभागिता अर्थात यदि वे हर महीने अपने वेतन से EPF में contribute करते हैं तो यह EPS (Employee Pension Scheme ) उन लोगो के लिए है | भारतवर्ष में लगभग 5.5 करोड़ से भी अधिक EPF अंशधारक हैं जो इस Scheme का लाभ उठाने के लिए योग्य हैं |

EPF अंशधारक की EPS (Employee Pension Scheme) के तहत कितनी राशि कटती है

हालाँकि EPF में कर्मचारी की Basic Salary का 12% जमा होता है | और इतनी ही राशि नियोक्ता अर्थात Employer को भी कर्मचारी अर्थात Employee के EPF खाते में जमा करानी पड़ती है | नियोक्ता द्वारा जमा किया गया 12% में से 8.33 % EPS (Employee Pension Scheme) में जमा हो जाता है | जो अधिक से अधिक 1250 रूपये हो सकता है |

Employee (कर्मचारी) Employer (नियोक्ता)
EPF (Employee Provident Fund) 12% of Basic Salary 3.67% of Basic Salary
EPS (Employee Pension Scheme) 0 8.33% of Basic Salary
EDLIS (Employee Deposit Linked Insurance 0 0.5%
EPF Administrative Charges 0 1.1%
Administrative charges on EDLIS 0 0.01%

 

EPS (Employee Pension Scheme)के तहत पेंशन पाने की समय सीमा

यदि किसी EPF अंशधारक को काम करते हुए और EPF भरते हुए 9.5 साल से अधिक हो गए हैं | तो उस कर्मचारी को 58 साल के बाद Pension मिलेगी | और यदि कर्मचारी काम पर नहीं है अर्थात बेरोजगार है तो वह इस Scheme का लाभ 50 वर्षो के बाद भी ले सकता है | कोई भी EPF अंशधारक 50 साल पूरा कर लेने के बाद ही Employee Pension Scheme Certificate लेने के लिए अधिकृत होगा | और इसी प्रमाण पत्र के आधार पर अंशधारक को Pension दी जाएगी |
EPS (Employee Pension Scheme) के तहत पेंशन पाने के लिए न्यूनतम समय सीमा 9.5 साल तय की गई है | यदि किसी EPF अंशधारक को EPF भरते हुए 9.5 साल से कम होते हैं | तो वह Pension पाने के लिए अयोग्य माना जायेगा जबकि EPS के तहत जमा हुआ पैसा EPF अंशधारक को लौटा दिया जायेगा |

EPS (Employee Pension Scheme)ke tahat Pension kaise Milegi |

  • यदि किसी EPF अंशधारक की उम्र 58 साल हो गई हो और उसने कम से कम 10 वर्षो तक EPF भरा हो तो उस व्यक्ति को EPFO द्वारा मासिक पेंशन दी जाएगी | अगर व्यक्ति शारीरिक रूप से स्वस्थ है, और चाहता है की मैं 58 साल के बाद भी काम करूँ तो वह यह कर सकता है और साथ में Pension भी ले सकता है, लेकिन आगे के लिए उसका EPS के लिए Contribution मान्य नहीं होगा |
  • यदि किसी अंशधारक ने 9.5 साल तक EPS भरा हुआ है और अब उसकी उम्र 50 साल हो गई है | लेकिन अभी उसके पास कोई काम धंधा नहीं है अर्थात बेरोजगार है तो वह व्यक्ति भी EPS (Employee Pension Scheme) के तहत Pension पाने के लिए अधिकृत हो जायेगा |
  • यदि किसी EPF अंशधारक की काम करने के दौरान ही मृत्यु हो जाती है तो इस Scheme के तहत पेंशन उसके पति/पत्नी को दी जाएगी | यदि EPF अंशधारक की पति/पत्नी नहीं है तो Pension नामांकित व्यक्ति को दी जाएगी | यदि को नामांकित व्यक्ति नहीं है तो Pension मृतक के पिता को दी जाएगी, और पिता की मृत्यु के बाद माता को दी जाएगी | इसमें मृतक को कम से कम 1 महिना EPF भरते हुए होना चाहिए |
  • यदि EPF अंशधारक को काम करते करते कोई स्थायी विकलांगता हो जाती है, जिससे वह कोई भी काम करने में असमर्थ हो जाता है तो वह Pension पाने के लिए अधिकृत होगा |

EPS (Employee Pension Scheme)के लिए दावा कैसे करें |

यदि आपकी उम्र 58 साल हो गई है और आपने अपने बैंक का सारा विवरण EPFO को पहले से दिया हुआ है | तो आपके खाते में हर महीने EPFO की तरफ से EPS के अंतर्गत आपकी Pension आ जाएगी | लेकिन यदि आप 50 साल की उम्र में बेरोजगार हो गए हैं और Pension पाना चाहते हैं तो आपको Form 10 D भरके EPFO में जमा कराना पड़ेगा |
और यदि आपको काम किये हुए और EPF भरते हुए 9.5 साल से कम हुए हैं | तब आप  इस Scheme के तहत दिए जाने वाले पेंशन प्रमाण पत्र के लिए अयोग्य माने जायेंगे और आप अपना EPS (Employee Pension Scheme)  के अंतर्गत जमा हुई राशि को Form 10-C भरकर निकाल सकते हैं |
यह भी पढ़ें UAN Introduction and description In Hindi

EPS (Employee Pension Scheme) ke Features |

  • EPS की जमा राशि पर कोई ब्याज देय नहीं होता | अर्थात EPS Contribution पर किसी प्रकार का ब्याज सदस्य को नहीं दिया जायेगा |
  • छह महीने से कम काम करने वाले कर्मचारी इस योजना के लिए अयोग्य माने जायेंगे | और छह महीने से ज्यादा और एक साल से कम काम करने वाले कर्मचारियों का कार्यकाल 1 साल माना जायेगा | उदाहरणार्थ : यदि किसी व्यक्ति को काम करते हुए और EPS भरते हुए 10 साल 5 महीने हो गए हों और उसने नौकरी छोड़ दी हो तो इस स्कीम के अंतर्गत उसका कार्यकाल 10 वर्षो का ही माना जायेगा | इसके विपरीत यदि किसी व्यक्ति ने 10 साल 7 महीने काम किया हो तो उसका कार्यकाल 11 वर्ष माना जायेगा |
  • पेंसनार्थी को पेंसन जिन्दगी भर मिलेगी पेंसनार्थी की मृत्यु के बाद यह पेंशन उसके पति/पत्नी और दो बच्चो जिनकी उम्र 25 साल से कम हो को मिलेगी |
  • वो कर्मचारी जिन्हें काम करते और EPF भरते कम से कम 5 साल हो गए हों वही लोग 58 साल के बाद, यदि कर्मचारी बेरोजगार है तो 50 साल के बाद पेंशन पाने के लिए अधिकृत होगा |
  • कोई भी कर्मचारी एक से अधिक Pension पाने के लिए अधिकृत नहीं होगा |
  • जो भी कर्मचारी EPF का सदस्य है वह स्वत ही EPS का भी सदस्य बन जाता है |
  • सेवानिवृत्ति से तीन महीने पहले पेंशन के लिए दावा करना होगा |

EPS (Employee Pension Scheme) me Pension Ki Calculation |

इस स्कीम के तहत पेंशन की गणना कर्मचारी के सेवानिवृत्ति के अंतिम एक साल अर्थात 12 महीनो की औसत वेतन से निकाला जायेगा | पेंशन की गणना निम्न सूत्र के हिसाब से की जाती है | पेंशन = पेंशन प्राप्त करने योग्य वेतन * (गुणा) काम किये हुए वर्ष/70.

उदाहरणार्थ: माना A की पेंशन प्राप्त करने योग्य वेतन 8000 है | और A ने 15 वर्ष तक EPS जमा किया है | अब जो A को पेंशन मिलेगी वो इस प्रकार होगी लेकिन ध्यान रहे यह गणना नवम्बर 1995 के बाद लागू है |

पेंसन = 8000*15/70

Pension = 1714.286

यह भी पढ़ें :-

EPS (Employee Pension Scheme)के फायदे अर्थात लाभ :

  • कोई भी कर्मचारी जिसने कम से कम 9.5 वर्षो तक काम किया हो और EPF भरा हो इस स्कीम का लाभ उठा सकता है |
  • पेंशन 58 साल की उम्र में चाहे व्यक्ति काम पर हो या बेरोजगार हो दोनों स्तिथि में पेंशन दी जाएगी |
  • यदि व्यक्ति बेरोजगार हो तो 58 साल से पहले 50 साल के बाद भी व्यक्ति पेंशन का लाभ उठा सकता है लेकिन इसके लिए पेंशन की दर कुछ कम होगी |
  • किसी कर्मचारी जो EPF का सदस्य है के स्थायी विकलांगता पर भी पेंशन दी जाएगी | और पेंशन की मात्रा बढती जाएगी |
  • पेंसिनार्थी अपनी मृत्यु होने के बाद किसे पेंशन मिले इसके लिए किसी भी व्यक्ति को नामांकित कर सकता है |
The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By TARUN

    Reply

  2. Reply

  3. By हरीश चन्द्र पांडेय

    Reply

    • By Pradeep sahu

  4. By अरथात

    Reply

  5. By umed singh

    Reply

  6. By Ajay Singh

    Reply

  7. By Ranjeet

    Reply

  8. By Pradeep sahu

    Reply

  9. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*