Finance Facilitation Center Scheme by NSIC

Finance Facilitation Center Scheme by NSIC

Finance Facilitation Center Scheme की शुरुआत भारत सरकार ने राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड (National Small Industries Corporation) की देखरेख में की है, इस Scheme का लक्ष्य लघु उद्योग से जुड़े कारोबारियों को अपने business सम्बंधी आवश्यकताओं के लिए आसानी से ऋण उपलब्ध कराना है | इस Scheme के अंतर्गत राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड ने 33 से अधिक बैंकों के साथ Memorandum of understanding (MOU) हस्ताक्षरित किया हुआ है | Finance Facilitation Center Scheme के अंतर्गत बनने वाले Centers Micro, Small and Medium Enterprises को उनके Business की वित्त सम्बंधी आवश्यकता को Loan के माध्यम से पूरा करने के लिए उद्यमी को Form submit करने की Guidance से लेकर, Form को कहाँ Submit करें, इत्यादि पर पूरा सहयोग प्रदान करेंगे | और इसके साथ साथ कुछ अन्य सहयोग जैसे कौन से बैंक से कम ब्याज दर पर Loan देने में सक्षम हैं, समय समय पर बैंको द्वारा लघु उद्योगों के लिए चलाई जाने वाली Schemes की जानकारी, वित्तीय संस्थानों से जल्दी Loan दिलाने के लिए संपर्क इत्यादि भी Finance Facilitation Center द्वारा दी जाएगी |

finance-facilitation-center-by-nsic-for-msme

Finance Facilitation center kya hai:

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं Finance Facilitation Center MSME को आसानी से Loan उपलब्ध कराने की मंशा से शुरू की गई एक Scheme है | और या यूँ कहें की FFC माइक्रो, लघु, मध्यम उद्योगों को आसानी से Loan दिलाने के लक्ष्य को रखते हुए राष्ट्रीय लघु उद्योग विकास बैंक (NSIC) द्वारा जारी किया गया एक Online/offline platform है | इस Platform के माध्यम से MSME  को वित्तीय मदद NSIC और बैंको के Web Linkage के माध्यम से कराई जाएगी |

Finance Facilitation Center se loan Lene hetu Guidelines:

  • इस Scheme के तहत वित्तीय सहूलियत प्राप्त करने के लिए businessman को उसका 12 digit का उद्योग आधार नंबर देना होगा |
  • कारोबारी को Validate आधार नंबर पर Click करके उद्योग आधार details को Verify करना होगा | यदि उद्योग आधार नंबर Validate नहीं होता है, तो कारोबारी को चाहिए की वह उद्योग आधार की वेबसाइट पर जाकर पंजीकरण कराये, और साथ में अपने उद्योग को MSME Data Bank बैंक में भी रजिस्टर कराना पड़ेगा |
  • Read: How to register a laghu udyog in India in Hindi
  • आवेदन करते समय आवेदक द्वारा प्रस्तावित ऋण प्रकार को चुनना आवश्यक है |
  • आवेदक द्वारा फण्ड आधारित ऋण सुविधा को दर्ज कराना आवश्यक है |
  • आवेदक द्वारा गैर फण्ड आधारित सुविधा को दर्ज कराना भी आवश्यक है |
  • Finance Facilitation Center के अंतर्गत Loan के लिए आवेदन करते समय आवेदक द्वारा अपने उद्योग का पिछले दो वर्षो का वित्तीय इतिहास की जानकारी और चालू वर्ष हेतु वित्तीय प्रक्षेपण देना भी आवश्यक है |
  • आवेदक द्वारा परियोजना की कीमत को भी declare करना होगा |
  • आवेदक द्वारा मीन्स Means of Finance जैसे शेयर कैपिटल,Term Loan, Debenture Capital , Incentive Source इत्यादि की जानकारी देना भी आवश्यक है |
  • Finance Facilitation Center के अंतर्गत आवेदक को चाहिए की वह Loan के लिए वित्तीय संस्थान या बैंक का चुनाव सिर्फ उनमे से ही करे, जिसके साथ राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम लिमिटेड ने Memorandum of Understanding (MOU) हस्ताक्षरित किया हुआ हो |

Required document to avail financial facilitation

यदि आवेदनकर्ता Loan के लिए Online apply कर रहा हो, तो निम्नलिखित दस्तावेजों की Soft copy की आवश्यकता होगी |

 

  • पैन कार्ड की कॉपी/ पासपोर्ट/ आधार कार्ड / वोटर ईद कार्ड|
  • पिछले तीन साल का Income tax Return की कॉपी |
  • पिछले एक साल की बैंक स्टेटमेंट |
  • पिछले साल के Audit किये हुए खतों की details और चालू वर्ष के Provisional खातों की details |
  • उद्योग का Sales Tax, Vat returns की डिटेल्स |

Finance Facilitation Center पर और अधिक जानकारी और Apply करने के लिए इस Official Website पर विजिट करें |

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By mahesh

    Reply

  2. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*