तालाबों के लिए उपयुक्त मछलियों की प्रजाति |

तालाबों के लिए उपयुक्त मछलियों की प्रजाति |

India  में  Fish Pond में Fish Farming करने के लिए अधिकतर तौर पर मिश्रित मछली पालन प्रणाली (composite fish culture System) को अपनाया जाता है | जैसा की नाम से ही स्पष्ट इस System के अंतर्गत 2 या दो से अधिक मछली की नस्ल का पालन एक Fish Pond में आसानी से किया जा सकता है |  वैसे वर्तमान में इस System के अंतर्गत India में Fish Farming करने के लिए चीनी मछलियों को और Indian मछलियों को एक साथ तालाब में रखा जाता है | इंडिया में बहुत बड़े पैमाने पर मिश्रित मछली पालन प्रणाली के अंतर्गत इंडियन कार्प जैसे Catla, Rohu और Mrigal को और चीनी कार्प Silver Carp, Grass Carp एवं Common Carp को उद्यमियों द्वारा अपने Fish Farming का हिस्सा बनाया जाता है |

Catla Fish (कतला मछली ):

Catla Fish भारत की सबसे तेजी से बढ़ती हुई मछलियों की प्रजाति में से एक प्रजाति है | और इसका वितरण व्यापक रूप से भारत के अलावा नेपाल, पाकिस्तान, बर्मा और बांग्लादेश में किया जाता है | इस मछली की आदत पानी के उपरी सतह पर रहने की होती है, जहाँ ये Catla मछलियां पानी में तैरते हुए सूक्ष्म जीवों का शिकार अपने भोजन के लिए करती हैं |

Catla-Fish

Catla-Fish

Catla प्रजाति की वयस्क मछलियाँ अधिकतर पलवक का ही भोजन करती हैं | लेकिन कभी कभी पानी में सड़ने गलने वाले मैक्रो वनस्पति,पादप पलवक और छोटे छोटे घोंघों को भी अपने भोजन के प्रयोग में लाती हैं | ये मछलियाँ अपनी उम्र के दूसरे साल में परिपक्व होती हैं | और इस प्रकार की मछलियों में इनके बॉडी के भार के अनुसार प्रति किलो 70000 से अधिक अंडे देने की क्षमता होती है |  वर्षा ऋतु में इस प्रकार की मछलियां प्राकृतिक रूप से अभिजनन करती हैं | या किसी नर मछली के संपर्क में आने के बाद भी ये अभिजनन करती हैं | Catla प्रजाति की मछलियां Fish Pond में अभिजनन नहीं करती | हालाँकि मछली के बीज को तालाबों में आसानी से पाला जा सकता है | मिश्रित मछली पालन प्रणाली में इस प्रकार की मछलियों का भार 1 साल में एक किलो होता है |

Rohu Fish (रोहू मछली):

Rohu Fish की प्रजाति India, नेपाल, बांग्लादेश, पाकिस्तान और बर्मा की नदियों में प्राकृतिक रूप से निवासित होने वाली प्रजाति है | और वर्तमान में Rohu Fish की यह प्रजाति विश्व के अनेक देशों जैसे श्री लंका, जापान, मॉरिशस, मलेशिया, फिलीपींस थाईलैंड इत्यादि में फैल चुकी है | साधरणतया Rohu Fish जलीय पारिस्थितिकी तंत्र में स्तम्भ क्षेत्र में निवासित होती हैं | और पौंधों और वेजिटेबल के कतरों से अपना पेट भरती हैं |

Rohu-Fish

Rohu-Fish

Catla Fish के जैसे ही Rohu Fish भी नदियों में अभिजनन करती हैं, या फिर नर मछली से सम्बन्ध स्थापित करके | इन मछलियों में अभिजनन की क्षमता अपनी उम्र के दूसरे वर्ष में आती है | और Catla Fish की तरह Rohu Fish भी Fish Pond में प्रजनन नहीं कर सकती | Rohu Fish  में एक अभिजनन Season के दौरान 2 लाख से 3 लाख के बीच अंडे देने की क्षमता होती है | लेकिन यह निर्भर करता है, मछली के आकार पर | Rohu Fish अप्रैल से सितम्बर महीनो के बीच अंडे देती हैं | नदियों से मछली का बीज लेके, रोहु मछली का पालन Fish Pond में आराम से किया जा सकता है | Fish Pond में इन Rohu मछलियों को पालने पर इनका वजन एक साल में लगभग 900 ग्राम होता है |

Mrigal Fish (मृगल मछली):

Mrigal Fish की प्रजाति भी भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान, वर्मा इत्यादि की नदियों पाई जाती है | इस प्रजाति की मछलियों का मुख्य भोजन हरी शैवाल, डायटम, सड़ी गली  सब्जी , कीचड़ इत्यादि है | चूँकि Mrigal Fish नीचले सतह पर पाई जाने वाली जीवाणुओ का सेवन करती हैं | इसलिए एक ही Fish Pond में Rohu Fish और Catla Fish के साथ साथ इनका पालन करना उपयुक्त माना जाता है |

Mrigal-Fish

Mrigal-Fish

Mrigal Fish एक या दो साल में परिपक्व होती हैं, यह निर्भर करता है, उस स्थान की कृषि जलवायु की परिस्तिथियों पर | Mrigal Fish में 12 लाख से 15 लाख तक अंडे देने की क्षमता होती है | इनके अंडे देने का मौसम दक्षिण पश्चिम मानसून की अवधि के साथ जुड़ा हुआ है | यह भी कतला और रोहु की तरह तालाब में अभिजनन नहीं कर सकती | इस प्रजाति की मछलियों में एक अभिजनन मौसम में दो बार अभिजनन करने का अनुमान लगाया जा रहा है | Fish Pond में Mrigal Fish को पालने से एक साल में इनका वजन 1 किलो हो जाता है |

Silver Carp Fish (सिल्वर कार्प मछली):

Silver Carp Fish साधरणतया दक्षिणी मध्य चीन और सोवियत संघ के खाबरोवस्क बेसिन में पाई जाती हैं | जहाँ से इनका प्रतिरोपण भारत-प्रशांत क्षेत्र में होकर भारत में भी हुआ | प्राम्भिक रूप से यह प्रजाति सतह निवासी (यानिकी पानी में उपरी तरफ) और प्राणी मंद पलवक को अपने भोजन के रूप में प्रयोग करने वाली प्रजाति है | लेकिन धीरे धीरे यह पादप पलवक को भी खाने लगती हैं | Silver Carp Fish को Fish Pond में पालने पर खली, चावल के भूसे का मिश्रण इत्यादि खाने के तौर पर दिया जा सकता है |

Silver-Carp-fish

Silver-Carp-fish

यह Silver carp Fish भी अन्य मछलियों की तरह Fish Pond में अंडे नहीं देती | हालांकि हयपोपिसशन सिस्टम के माध्यम से यह वर्षा ऋतु में ऐसा कर सकती है | इनमे अंडे देने की क्षमता मछलियों के आकार पर निर्भर करती है | लेकिन Silver carp fish प्रजाति की एक मछली 1.5 लाख से 3 लाख तक अंडे देने की क्षमता रखती है | India में इन मछलियों को वयस्क होने में चीन के मुकाबले कम समय लगता है | जहाँ चीन में ये मछलियां 2 से 6 वर्षों में वयस्क होती हैं, वही India में ये 1.5 से 2 वर्षों में ही वयस्क हो जाती हैं | इस प्रजाति की नर मछली मादा मछली के मुकाबले जल्दी वयस्क होती है | मिश्रित मछली पालन प्रणाली में Silver Carp Fish का भार एक वर्ष में 1.5 किलो तक हो जाता है |

Grass Carp Fish (ग्रास कार्प मछली):

Grass carp Fish की प्रजाति भी उत्तरी -दक्षिणी चीन और सोवियत संघ के खाबरोवस्क बेसिन में पायी जाने वाली प्रजाति है | Grass Carp Fish प्रजाति की मछलियाँ, जैविक नियंत्रण में जलीय खरपतवारो की उपयुक्तता के कारण, इस प्रजाति का पुरे विश्व में व्यापक रूप से प्रत्यारोपण किया गया है | प्रारम्भिक दिनों में Grass Carp Fish भी पलवग जीवो को अपने खाने हेतु शिकार बनाती है | और फिर धीरे धीरे मक्रोफिट्स को खाना शुरू करती है | इस प्रजाति की मछलियां अधिक भोजन करने वाली होती हैं | इसलिए इनको सब्जी या अन्य खाद्य सामग्री जैसे घास, पत्ते इत्यादि भी खाने के तौर पर दिए जा सकते हैं |

Grass-Carp-Fish

Grass-Carp-Fish

India में Grass Carp Fish प्रजाति की मछली को वयस्क होने में लगभग 2 साल का समय लगता है | इस प्रजाति की 4.5 किलो से 7 किलो के बीच की मछलियां, एक अभिजनन में लगभग 4 लाख से 6 लाख के बीच अंडे देती है | हालांकि इस प्रजाति की मछली का भार एक साल में कितना होगा | यह सब मछली के खान पान पर निर्भर करता है लेकिन एक अनुकूलतम वातावरण में एक साल में Grass Carp Fish का भार 5 किलो तक हो जाता है |

Common Carp Fish (कॉमन कार्प मछली):

Common Carp Fish की प्रजाति एशिया के एक शीतोष्ण क्षेत्र मुख्य रूप से चीन में पाई जाती है | लेकिन अब Common Carp Fish भी दुनिया भर में अधिकतर तौर पायी जाने वाली मछली की प्रजातियों में से एक है | यह मछली निचली सतहों पर पाई जाने वाली एक सर्वाहारी मछली है | लेकिन मुख्य रूप से Common Carp Fish सड़ी गली वनस्पति इत्यादि को खाकर अपना पेट भरती है | यह अपने खाने के लिए लगातार निचले स्तर पर ही विचरण करती है | इस मछली की इसी आदत के कारण इसको अन्य मछलियों के साथ पालने में कोई दिक्कत नहीं आती |

Common-Carp-fish

Common-Carp-fish

वैसे Common Carp Fish ग्रास कार्प द्वारा उत्पादित मल मूत्र भी खाती है | इसका वजन  कितना होगा, यह सब भण्डारण के घनत्व और अनुपूरक खाने पर निर्भर करता है | उष्णकटिबंधी वातावरण में Common Carp Fish दो साल में दो बार अंडे देती है | जिनका समयकाल जनवरी  से मार्च और जुलाई, अगस्त होता है | उष्ण कटिबंधीय क्षेत्रों में यह मछली एक साल में वयस्क हो जाती है | और मिश्रित मछली पालन प्रणाली में common Carp Fish का वजन एक साल में 1 किलो होता है |

 

 

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By bablu kumar bharti

    Reply

  2. By Ranvijay Singh

    Reply

  3. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*