Noodles Manufacturing Business

Noodles Manufacturing Business

Noodles Manufacturing Business start करने के लिए विभिन्न प्रकार की मशीनरी की आवश्यकता होती है यही कारण है की इस प्रकार के बिज़नेस को शुरू करने में 55 लाख से एक करोड़ तक का खर्चा संभावित है | यदि हम वर्तमान बाज़ार की बात करें तो हमें लगभग तीन प्रकार के Noodles Market में मिलते हैं | इनमे एक तो Chowmein प्रकार के Noodles होते हैं जो लम्बाई और मोटाई की दृष्टि से अन्य दो Noodles की तुलना में लम्बे और मोटे होते हैं | दूसरे प्रकार के Noodles में Maggi Types Noodles आती हैं ये चौकौर टिकिया की पैकेजिंग में Market में आती हैं | इसके अलावा तीसरे प्रकार की Noodles में सेवइयों को रखा जा सकता है ये उपर्युक्त दोनों प्रकार की Noodles के मुकाबले पतली और सीधे लम्बी होती हैं | और जहाँ Chowmein और Maggi को नमकीन अर्थात नमक मिर्च, मसाले डालकर तैयार किया जाता है वहीँ सेवइयों को दूध और चीनी मिलाकर तैयार किया जाता है, इसलिए इनका स्वाद खाने में मीठा होता है |

Noodles-Making-business

Noodles Manufacturing Business Kya Hai:

वैसे यदि हम Noodles की बात करें तो यह एक Extruded Product है, जिसे Extrusion Process के माध्यम से साबूदाने के आटे या मैदे से तैयार किया जाता है | वर्तमान में Patanjali का गेहूं के आटे से निर्मित Noodles भी Market में उपलब्ध है | Market में उपलब्ध विभिन्न प्रकार के Noodles की मोटाई o.22 mm से o.40 mm तक होती है, वैसे तो इस उत्पाद को लोगों द्वारा कभी भी अर्थात ब्रेक फ़ास्ट, लंच, डिनर इत्यादि में उपयोग में लाया जाता है लेकिन सामान्यतया Noodles का Use लोग Breakfast में अधिक करते हैं, क्योकि यह Ready to eats item होती है और लोगों को सुबह सुबह अपने काम धंधे पर जाने की जल्दबाजी होने के कारण उनकी जीवनशैली से मेल खाती है | Noodles को हम गेहूं के आटे, साबूदाने के आटे या फिर मैदे से निर्मित धागे के आकार की पतली एवं लम्बी खाद्य वस्तु की संज्ञा भी दे सकते हैं | इसके अलावा उपर्युक्त तीनों प्रकार के Noodles में से किसी एक प्रकार के Noodles की Manufacturing कर उसे मार्किट में बेचकर अपनी कमाई करने की प्रक्रिया को Noodles Manufacturing Business कहा जा सकता है |

Market Potential in Noodles Making:

यह बात तो हम पहले ही बता चुके हैं की Noodles एक Ready to eat खाद्य पदार्थ है जिसका अभिप्राय है की इसे बहुत कम समय देकर यहाँ तक की पांच मिनट में भी आसानी से तैयार किया जा सकता है | इस बिज़नेस के Market Potential के दुसरे दृष्टिकोण पर हम यदि वार्तालाप करेंगे तो हम पाएंगे की इस भागदौड़ भरी जिंदगी  में जब लोगों के पास अपनी महत्वकाक्षाओ, इच्छाओं, लक्ष्यों की पूर्ति करने के चलते खाने के लिए समय निकालना भी मुश्किल नज़र आता है ऐसे में India में Ready to eat Food Items को हाथों हाथ लिया जा रहा है, और इनकी मांग बढती जा रही है | Noodles को अलग अलग राष्ट्रों, राज्यों में अलग अलग विधि से खाने के उपयोग में लाया जाता है जहाँ India और चीन  में सेवइयों का प्रचलन प्राचीनकाल से रहा है, वही राष्ट्र के लोगों के स्वाद के अनुरूप इनको बनाने का तरीका दो राष्ट्रों में भिन्न भिन्न तरीके का है | India में सेवइयों को दूध और चीनी के साथ तो Chowmein Noodles को विभिन्न प्रकार की सब्जियों के साथ बनाया जाता है जहाँ तक Maggi Types Noodles का सवाल है इन्हें लोग गरम पानी में डालकर मसाले को मिलाकर 5 मिनट में तैयार कर लेते हैं | यदि Noodles consumption के मामले में हम भारत की तुलना अन्य विकसित देशों से करें तो हम पाएंगे की भारत में प्रति व्यक्ति Noodles consumption की क्षमता कम है | जो की यह इंगित करता है की जैसे जैसे लोगों की जीवनशैली में बेहतरी की ओर परिवर्तन आते हैं तो उनका रुझान Ready to eat food items की तरफ अधिक हो जाता है | इसके अलावा औद्योगिक संस्थानों में होने वाली वृद्धि एवं कामकाजी लोगों की संख्या में होने वाली वृद्धि भी Noodles Manufacturing Business start कर रहे उद्यमी के लिए एक अच्छा संकेत हो सकता है |

Required Raw Material and Machinery to Start Noodles Making Business:

Noodles चाहे किसी भी प्रकार के हों इनमे लगने वाली Raw Material में कोई अंतर नहीं आता है हाँ इतना जरुर है की मशीनरी में उत्पाद के आधार पर थोडा बहुत अंतर हो सकता है | जहाँ Noodles Manufacturing के लिए Noodles बनाने वाली मशीन की आवश्यकता होती है, वहीँ Maggi types Noodles बनाने हेतु Drying Chamber एवं Mixer की भी आवश्यकता होती है | Noodles Manufacturing Business में काम आने वाली मशीनरी की लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |

  • Powder mixer Machine with motor complete (पाउडर मिक्सर मशीन)
  • Dough mixer
  • Noodles making machine with different size die-heads (विभिन्न प्रकार की डाई के साथ नूडल्स बनाने वाली मशीन)
  • Wooden trays (लकड़ियों की ट्रे)
  • Plastic Buckets (प्लास्टिक बाल्टी)
  • Aluminium/Galvanised iron water tape pipe line fittings
  • Water boiler-fuel heated

Noodles Manufacturing Business में प्रयुक्त होने वाला मुख्य Raw Material मैदा ही होता है लेकिन साबूदाने के आटे एवं साधारण गेहूं के आटे को Raw Material के रूप में प्रयुक्त करके भी Noodles Making संभव है | आटे में मिलाने के लिए अन्य Raw material जैसे मक्के के स्टार्च, अरारोट, नमक, Sodium Bicarbonate  सुगन्धित पदार्थ, खाद्य रंग इत्यादि की भी आवश्यकता होती है | Noodles Manufacturing Business खाद्य से जुड़ा हुआ बिज़नेस है इसलिए FSSAI से License लेने के साथ साथ BSI द्वारा निर्धारित IS :1485:1976 मानको के आधार पर इसका उत्पादन किया जाना चाहिए |

Manufacturing Process of Noodles in Hindi:

Noodles Making process में सर्वप्रथम सूखे आटे अर्थात मैदे के साथ मक्के का स्टार्च, सोडियम बाईकार्बोनेट, एवं खाद्य रंग को मिला दिया जाता है | उसके बाद dough अर्थात लोई बनाने की प्रक्रिया शुरू की जाती है | Noodle Manufacturing process में dough बनाने के लिए उबले हुए पानी का इस्तेमाल किया जाता है, इस प्रक्रिया को करते वक्त जब स्टार्च के किसी भाग में सरेस लग जाता है, तब इस मिश्रण को 12-15 मिनट तक Dough Mixer की सहायता से अच्छी तरह मिला दिया जाता है | यह प्रक्रिया पूर्ण हो जाने के बाद फेंटे गए dough को Noodles Making Machine की ओर अग्रसित किया जाता है | जहाँ मशीन में लगी डाई की मदद से लोई को इच्छित आकार एवं लम्बाई में Adjust किया जा सकता है | और इसमें उपयुक्त डाई का चुनाव करके Cutting Blade एवं डाई के सतह की दूरी को भी एडजस्ट किया जा सकता है | उसके बाद Machine में लगी Cutting Blade adjust की गई Thickness एवं लम्बाई के अनुरूप Noodles cutting शुरू कर देती है, इस प्रक्रिया को करते वक्त Noodles में 33% तक की नमी विद्यमान रहती है | कटे हुए Noodles मशीन से सीधे लकड़ी की ट्रे में गिरते हैं लकड़ी की ट्रे में इनमे 29.5% तक की नमी विद्यमान रहती है | उसके बाद Noodles manufacturing process में Noodles में उपलब्ध नमी को और कम करने के लिए इनको Heat treatment दिया जाता है, और इनमे उपलब्ध नमी को 10% तक लाया जाता है | और अंत में इन्हें पैकेजिंग करके मार्किट में बेचकर अपनी कमाई की जाती है |

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*