Printing Business Ki Jankari Hindi Me.

Printing Business Ki Jankari Hindi Me.

India में Printing business दिनोदिन प्रगति की राह पर अग्रसित है | इसका मुख्य कारण विभिन्न Products की पैकेजिंग, लेबलिंग एवं प्रिंट मीडिया का बढ़ता उपयोग है | इसके अलावा किसी वस्तु विशेष को Customize करने की इच्छा रखना, और हर वस्तु में कुछ न कुछ अंकित करवाना भी इस बिज़नेस के लिए हमेशा एक अच्छे अवसर के रूप में सामने आता है | एक आंकड़ें के मुताबिक Print Volume के मामले में इंडिया विश्व में 2018 तक पांचवें नंबर पर होगा, जबकि अभी वर्तमान में इसका स्थान दसवें नंबर पर है | इस आंकड़े से अंदाज़ा लगाया जा सकता है, की आने वाले समय में Printing business में वर्तमान से और अधिक संभावनाओं का जन्म होने वाला है |  आंकड़ा यह भी बताता है की वर्तमान में इंडिया में Printing business का व्यापार लगभग 54 हज़ार करोड़ रूपये है, जो आने वाले एक वर्ष में अर्थात 2017 तक 78 हज़ार करोड़ रूपये पर पहुँच सकता है | इसलिए इसमें कोई दो राय नहीं की आने वाले समय में Printing business में अपार संभावनाएं है, अगर व्यक्ति चाहे तो इस business को कोई Shop rent पर लेके या फिर अपने Home से भी आसानी से Start कर सकता है |

Printing Business Kya hai:

Hindi में Printing का अर्थ छपाई या मुद्रण से लगाया जाता है, जिसका मतलब है की किसी वस्तु, पेपर इत्यादि में छपाई की प्रक्रिया प्रिंटिंग कहलाती है | यह छपाई किसी भी वस्तु, पेपर, कार्डबोर्ड बॉक्स, कपड़ो इत्यादि में हो सकती है | Printing business से हमारा आशय ग्राहक के इच्छानुसार या बताये गए किसी डिजाईन, Text, रेखाचित्र, फोटो इत्यादि को किसी वस्तु पर छापकर उसके बदले ग्राहक से पैसे लेकर अपनी Kamai करने से है | Printing business के अनेकों रूप जैसे   Xerox/Paper printing, Textile printing, wallpaper printing, cardboard box printing, flex printing इत्यादि हो सकते हैं | लेकिन इस बिज़नेस के सभी रूपों का उद्देश्य छपाई अर्थात मुद्रण करना ही होता है |

Printing-business-work-cycle

Printing-business-work-cycle

Printing business kaise Start Kare :

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं, Printing Business एक ऐसा बिज़नेस है, जिसे यदि व्यक्ति चाहे तो अपने Home से भी Start कर सकता है | लेकिन इससे पहले उद्यमी को चाहिए की इस बिज़नस के प्रति वह राष्ट्रीय/राज्यीय एवम स्थानीय नियमों पर एक नज़र डाले, वैसे तो Small Scale पर Printing business करने के लिए उद्यमी को किसी प्रकार की लाइसेंस के आवश्यकता नहीं होती, फिर भी एक बार उद्यमी को सम्बंधित विभाग से इस बारे में अवश्य पता करना चाहिए |

  1. Research on Demand within Area:

चूँकि हम पहले ही बता चुके हैं, की इस Printing business के बहुत सारे स्वरूप हो सकते हैं, इसलिए उद्यमी को चाहिए की सबसे पहले वह अपने एरिया में यह रिसर्च करे की लोग किस प्रकार की प्रिंटिंग उससे करवा सकते हैं | उदाहरणार्थ :यदि उस एरिया के लोग उद्यमी को लगता है की कपड़ों में प्रिंटिंग करवाएंगे, तो उद्यमी को Screen Printers की आवश्यकता हो सकती है | इसके अलावा यदि उद्यमी को लगता है की बहुत Large scale में डॉक्यूमेंट पर प्रिंटिंग होगी, तो Offset Printing मशीन का use प्रभावी हो सकता है | इसके अलावा विनायल Sign बोर्ड इत्यादि में बड़े Inkjet प्रिंटर से भी Printing सम्भव है |
उपर्युक्त उदहारण से स्पष्ट है, की उद्यमी को सबसे पहले उस एरिया में स्थापित लोगों की मांग का विश्लेषण करना चाहिए जिससे उद्यमी निर्णय ले सके की उसके बिज़नेस के लिए कौन कौन सी मशीनें उपयुक्त रहेंगी |

  1. Check for license :

उसके बाद उद्यमी को चाहिए की जिस Area में वह Printing business start करने जा रहा है, उस एरिया में वह नगर निगम, नगर पालिका, महानगरपालिका,  ग्राम पंचायत, विकास खंड  इत्यादि के ऑफिस में जाकर यह पता लगाए की क्या इस बिज़नेस के लिए उस एरिया में किसी प्रकार के कोई लाइसेंस की जरुरत तो नहीं है | वैसे सामन्यतया इंडिया में इस प्रकार का बिज़नेस small scale पर करने के लिए किसी प्रकार के लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होती है | उस Particular एरिया में यदि लाइसेंस की आवश्यकता है, तो उद्यमी को चाहिए की वह सम्बंधित विभाग से License लेकर ही अपना business start करे |

  1. Register your business name:

यदि उद्यमी चाहता है, की उसके Printing business का नाम भविष्य में किसी अन्य व्यक्ति या कंपनी द्वारा उपयोग में न लाया जाय तो उद्यमी इस नाम को सुरक्षित करने हेतु अपने बिज़नेस के नाम को Registrar of companies में विभिन्न बिज़नेस Entities में से किसी एक का चयन कर register करवा सकता है | यह प्रक्रिया (Process) उद्यमी चाहे तो ऑनलाइन भी कर सकता है, या फिर Registrar of companies के ऑफिस में जाकर भी इस प्रक्रिया (Process) को अंजाम तक पहुँचाया जा सकता है |

  1. Rent a shop or start from your home:

यह सब प्रक्रिया पूर्ण होने के बाद उद्यमी को printing business start करने के लिए चाहिए की वह या तो अपने home में ही इतनी जगह खाली करवा के रखे, जिसमे उसकी मशीन, कंप्यूटर इत्यादि को आसानी से operate किया जा सके, या फिर कोई एक shop किसी नजदीकी Market में अपने बिज़नेस के लिए रेंट पर ले, जहां से वह इस business को आसानी से चला सके |

  1. Purchase Computers and Machinery:

इस printing business को start करने हेतु अगला step कंप्यूटर, उपकरण एवम मशीनरी की खरीदारी करने का है | उद्यमी को चाहिए की वह अपनी आवश्यकतानुसार विभिन्न विक्रेताओं से मशीनरी एवम उपकरणों की Quotation मंगवाए | और एक दिन समय निकाल कर सबका विश्लेषण कर अपने मशीनरी एवम उपकरणों हेतु विक्रेता का चुनाव करके, अपने printing business हेतु मशीनरी एवं उपकरण ख़रीदे |

  1. Printing business ki Marketing kijiye:

अब Last step लेकिन Printing business को success बनाने हेतु Marketing का है | उद्यमी अपने बिज़नेस को अधिक लोगों तक पहुँचाने और अधिक ग्राहक पाने के लिए विभिन्न मार्केटिंग के तरीकों को आजमा सकता है | Printing business की Marketing करते वक्त कभी भी या अधिकतर तौर पर उद्यमी को अपने Targeted customers से यह सुनना पड़ सकता है, की हमारे पास पहले से ही Printing Vendor है | और आप चौथे Printer हैं, जो काम के बारे में मेरे से पूछ रहे हैं | लेकिन फिर भी उद्यमी को चाहिए की वह कम से कम अपना Business card तो अपने targeted customers को अवश्य पकड़ाए | इसके अलावा उस ख़ास एरिया में उद्यमी को अपने Competitors का पता होना भी जरुरी है | जिससे उद्यमी इन सब बातों को ध्यान में रखकर अपने Printing business की Marketing Strategy बना सके |

 

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By jitendra singh jadoun

    Reply

  2. By vinod kumar sharma

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*