Rashtriya Swasthya Bima Yojana

Rashtriya Swasthya Bima Yojana

इस Rashtriya Swasthya Bima Yojana को सरकार द्वारा 1 October, 2007 से शुरू किया गया है, हालाँकि इस योजना को 2008 से क्रियान्वयन में लाया गया | श्रम एवं रोजगार मंत्रालय की वेबसाइट पर इस योजना  को आम आदमी बीमा योजना का नाम दिया गया है | यह योजना BPL Family से जुड़े असंगठित क्षेत्रों में कार्यरत कर्मचारियों हेतु शुरू की गई है | एक आंकड़े के मुताबिक India में 93% work force असंगठित क्षेत्रों से जुड़ी हुई है | इसलिए भारत सरकार ने विभिन्न वर्गों के लिए अलग अलग सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की शुरुआत की थी , लेकिन इन योजनाओं से मिलने वाला Coverage बहुत ही कम निर्धारित किया गया था | India में आज भी अधिकांश जनता सामाजिक सुरक्षा कवरेज से विहीन है, और उस वक्त भी थी जब सरकार ने Rashtriya Swasthya Bima Yojana के बिल को संसद के पटल पर रखा था | असंगठित क्षेत्र से जुड़े कर्मचारियों में बीमारी की वजह से असुरक्षा की भावना पैदा होती है, क्योंकि हॉस्पिटल के खर्चे के लिए उनके पास पैसे नहीं रहते हैं | इसलिए Medical Facility बढ़ जाने के कारण भी ऐसे लोग पैसे के अभाव में हॉस्पिटल जाने से कतराते हैं, और यदि कोई व्यक्ति हॉस्पिटल में चले भी जाता है तो उसे अपनी जिंदगी भर की सम्पूर्ण कमाई हॉस्पिटल के खर्चे के तौर पर देनी पड़ती है जिससे व्यक्ति में और गरीबी आ जाती है | इसी बात के मद्देनज़र सरकार ने स्वास्थ्य बीमा योजना का रास्ता निकाला | एक अन्य आंकड़े के मुताबिक 31 जुलाई 2011 तक यह योजना तक़रीबन 22 राज्यों में क्रियान्वित हो चुकी थी | इन 22 राज्यों के लगभग 1 करोड़ 74 लाख BPL Family को इस Rashtriya Swasthya Bima Yojana के तहत कवर कर लिया गया था |
rashtriya-swasthya-bima-yojana

Features of Rashtriya Swasthya Bima Yojana

Rashtriya Swasthya Bima Yojana के प्रमुख Features निम्नवत हैं |

  • कुल प्रीमियम का 75% केंद्र सरकार द्वारा वहन किया जायेगा जो वार्षिक तौर पर 750 रूपये पर आधारित होगा अर्थात केंद्र सरकार द्वारा दिया जाने वाला प्रीमियम 565 रूपये प्रति परिवार से अधिक नहीं होगा |
  • प्रीमियम में 25% तक की हिस्सेदारी राज्य सरकार की होगी |
  • लाभार्थी को प्रति वर्ष 30 रूपये Registration/renewal शुल्क देना होगा |
  • इस Rashtriya Swasthya Bima Yojana को क्रियान्वित करने का खर्चा उठाना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी |
  • लाभार्थियों को पहचान पत्र के तौर पर एक Smart Card issue किया जायेगा |
  • इस योजना के तहत दिया जाने वाले बीमे का Premium का भुगतान केंद्र और राज्य सरकार द्वारा 75:25 के आधार पर अदा किया जायेगा | जबकि पूर्वोत्तर एवं जम्मू कश्मीर राज्य के लिए यह अनुपात 90:10 का होगा |
  • Smart Card का पूरा खर्चा केंद्र सरकार द्वारा वहन किया जायेगा |

Rashtriya Swasthya Bima Yojana ke tahat Eligibility:

इस Scheme के तहत निम्न लोगों को लाभ लेने के लिए योग्य माना जायेगा |

  • असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे BPL Family से जुड़े कर्मचारी एवं उनके परिवार के अधिक से अधिक पांच सदस्य इस योजना के तहत लाभ पाने के योग्य होंगे |
  • लाभार्थी की पहचान कराना राज्य सरकार द्वारा नियुक्त की गई Implementing agency की जिम्मेदारी होगी |

यह भी पढ़ें -:

Scheme Se hone wale labh:

चूँकि Scheme का नाम ही Rashtriya Swasthya Bima Yojana  है इसलिए सबसे बड़ा लाभ तो इस Scheme का यही है की व्यक्ति इसमें स्वास्थ्य बीमा पाने के योग्य हो जाता है | और इस बीमा योजना को राज्य सरकारों द्वारा लोगों की आवश्यकता और भौगौलिक आधार पर तय किया जायेगा जिसमे कम से कम निम्नलिखित लाभ सम्मिलित होने चाहिए |

  • असंगठित क्षेत्र से जुड़े मजदूरों का परिवार एक वर्ष में 30000 रूपये स्वास्थ्य बीमा पाने के लिए योग्य माना जायेगा |
  • सभी Covered बीमारियों पर Cashless Facility दी जाएगी |
  • कुछ चीजों को छोड़कर सामान्य बीमारी में भी Hospitalization खर्चों को कवर करने का प्रावधान |
  • पहले से मौजूद बीमारी को भी कवर करने का प्रावधान |
  • वास्तविक परिवहन का खर्चा जो अधिक से अधिक 100 रूपये प्रत्येक विजिट पर और कुल 1000 रूपये से अधिक नहीं होना चाहिए |
  • Rashtriya Swasthya Bima Yojana के अंतर्गत मातृत्व लाभ सहित सभी सामान्य बीमारियों के लिए अस्पताल में भर्ती रहने के दौरान सभी खर्चों का वहन |

Rashtriya Swasthya Bima Yojana से 2011 तक 22 राज्यों के लगभग 1 करोड़ 74 लाख BPL परिवार जुड़ चुके थे | और सरकार का लक्ष्य 2012-13 तक सभी गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवारों को इस योजना के अन्दर कवर किये जाने का प्रस्ताव रखा गया था, जिसमे हर परिवार को रूपये 30000 तक का वार्षिक स्वास्थ्य बीमा देने का प्रावधान था |

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*