Rural Postal Life Insurance Scheme RPLI in Hindi.

Rural Postal Life Insurance Scheme RPLI in Hindi.

Rural Postal life insurance Schemes (RPLI) की शुरुआत 24/03/1995 से भारत सरकार ने मल्होत्रा कमेटी की सिफारिश के बाद की थी | वर्ष 1993 में मल्होत्रा कमेटी ने अपने शोध में पाया की कुल बीमे लायक जनसँख्या में से, केवल 22% लोगो का ही बीमा है | और यह आंकड़ा शहरो के मुकाबले ग्रामीण भारत में बहुत ही कमजोर था | कमेटी ने अपनी रिसर्च में पाया की ग्रामीण इलाको में नियुक्त पोस्टमॉस्टर लोगों की नज़र में विश्वसनीय और लोगो के साथ दोस्ताना रखने वाला व्यक्ति है | और भारतीय डाक का नेटवर्क शहरों से लेकर ग्रामीण भारत तक पूरा फैला हुआ है | बस इसी बात को मद्देनज़र रखते हुए भारत सरकार ने मल्होत्रा कमेटी की सिफारिश मानकर Rural Postal life insurance schemes (RPLI) की शुरुआत की |

RPLI Kya Hai:

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं RPLI का फुल फॉर्म Rural Postal life insurance और यह केंद्र सरकार द्वारा पोस्ट ऑफिस के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रो के लिए शुरू की गई एक Insurance Schemes का एक समूह है | RPLI के अंतर्गत भिन्न भिन्न प्रकार की Insurance Schemes को सम्मिलित किया गया है | जिनका वर्णन हम नीचे करेंगे |

Rural-postal-life-insurance-schemes

Rural Postal life insurance Scheme ke labh (benefits):

Rural postal life insurance scheme के अंतर्गत सरकार द्वारा Policy holders के लिए विभिन्न प्रकार के लाभों का प्रावधान किया गया है | जो निम्न हैं |

  • rural postal life insurance scheme के Policy holders किसी भी बैंक से लोन लेते वक्त अपनी पालिसी को जमानत के तौर पर रख सकते हैं | लेकिन यह तब होगा जब अक्षय निधि (endowment)  Policy holder को लगातार तीन साल या 36 महीने और पूरे जीवन का बीमा कराने वाले (Whole life assurance) Policy holder को 4 साल अर्थात 48 महीने Premium भरते हो गए हों |   I
  • rural postal insurance policy किसी भी बैंक से लोन लेते समय जमानत के तौर पर गिरवी रखी जा सकती है |
  • यदि किसी व्यक्ति द्वारा Premium न भरने के कारण उसकी Policy Lapes हो गई हो, तो एक साथ सारा प्रीमियम अमाउंट चुकता करके उस पालिसी को पुनर्जीवित किया जा सकता है |
  • यदि कोई Policy धारक अपनी पालिसी की विशेषताओं या लाभ से संतुष्ट नहीं है | तो वहrural postal life insurance scheme के अंतर्गत अन्य पालिसी में अपनी पालिसी को परिवर्तित कर सकता है |
  • Policy लेते वक़्त पालिसी होल्डर ने जो नामांकित व्यक्ति का नाम दिया है | यदि पालिसी होल्डर चाहे तो समय के साथ इसमें बदलाव करवा सकता है |
  • यदि किसी Policy holder का policy का बोंड जल गया हो, खो गया हो या फट गया हो, तो उसको डुप्लीकेट पालिसी बांड मिल सकता है |

Insurance Schemes under RPLI in hindi:

Rural postal life insurance (RPLI) के तहत भारत सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार की Schemes का प्रावधान किया गया है | इनमे से कुछ Schemes पूर्ण रूप से Life insurance Schemes हैं | और कुछ अक्षय निधि स्कीम (Endowment Schemes) है | कोई भी व्यक्ति एक या एक से ज्यादा Scheme का लाभ ले सकता है | और जरुरत पड़ने पर अपनी स्कीम को अन्य स्कीम में परिवर्तित भी कर सकता है | इन Schemes के जो मुख्य मुख्य बिंदु हैं | उनका वर्णन हम नीचे कर रहे हैं |

  1. Gram Santosh (Endowment Scheme):

यह एक अक्षय निधि बीमा योजना है | ग्राम संतोष बीमा योजना के तहत परिपक्वता (Maturity) की आयु पर बीमाधारक को कुल सुनिश्चित राशि (Sum Insured) और उपार्जित बोनस देय होगा | यदि किसी बीमाधारक की बीमे की परिपक्वता से पहले मृत्यु हो जाती है | तो कुल बीमा की सुनिश्चित राशि  और उपार्जित बोनस नामांकित व्यक्ति को देय होगा | Gram Santosh Scheme के मुख्य बिंदु निम्न हैं |

  • बीमा कवर : बीमा कवर तभी से शुरू हो जायेगा जब से आपकी पहली क़िस्त स्वीकृत कर ली जाएगी |
  • प्रवेश करने की कम से कम उम्र: 19 साल
  • प्रवेश करने की अधिक से अधिक उम्र : 45 साल
  • कम से कम सुनिश्चित राशि : 10000 रूपये
  • अधिक से अधिक सुनश्चित राशि : 5 लाख रूपये
  • लोन के लिए योग्यता : वह व्यक्ति जिसने 48 महीनो तक लगातार प्रीमियम जमा किया हो | अपनी Policy को लोन लेने के लिए जमानत के तौर पर गिरवी रखने का पात्र होगा |
  • पालिसी सरेंडर की समय सीमा : 36 महीने अर्थात 3 साल तक लगातार Premium भरने के बाद |
  • अन्य पालिसी में कन्वर्ज़न : ग्राम सुरक्षा में convert कर सकते हैं |
  • मेडिकल जांच : यदि पालिसी होल्डर की उम्र 35 साल से कम, और Sum Insured 25000 या 25000 से कम है | तो किसी प्रकार की कोई मेडिकल जांच की आवश्यकता नहीं है |
  • प्रीमियम : अलग अलग सुनिश्चित राशि (Sum Insured) के हिसाब से प्रीमियम राशि भी अलग अलग होगी |
  1. Gram Suraksha (whole life insurance)

इस scheme के तहत Policy holder की मृत्यु के बाद नामांकित व्यक्ति को सुनिश्चित राशि और उपार्जित बोनस दिया जायेगा |

  • बीमा कवर : बीमा कवर तभी से शुरू हो जायेगा, जब से व्यक्ति की पहली क़िस्त स्वीकृत कर ली जाएगी |
  • प्रवेश करने की कम से कम उम्र: 19 वर्ष
  • प्रवेश करने की अधिक से अधिक उम्र : 45वर्ष
  • कम से कम सुनिश्चित राशि : 10000 रूपये
  • अधिक से अधिक सुनश्चित राशि : 5 लाख
  • लोन के लिए योग्यता : वह व्यक्ति जिसने 4 सालों तक लगातार प्रीमियम जमा किया हो | अपनी पालिसी को लोन लेने के लिए जमानत के रूप में गिरवी रखने का पात्र होगा |
  • पालिसी सरेंडर की समय सीमा : 36 महीने अर्थात 3 साल तक लगातार प्रीमियम भरने के बाद |
  • अन्य पालिसी में Conversion : Endowenment policy में एक साल तक प्रीमियम भरने के बाद, और पालिसी होल्डर 57 साल की उम्र से पहले  परिवर्तित कर सकते हैं
  • प्रीमियम : अलग अलग सुनिश्चित राशि के हिसाब से प्रीमियम राशि भी अलग अलग होगी |
  1. Gram Suvidha (Whole life assurance)

 

इस पालिसी के तहत भी Policy holder की मृत्यु के बाद नामांकित व्यक्ति को सुनिश्चित राशि और उपार्जित बोनस दिया जायेगा |

  • बीमा कवर : बीमा कवर तभी से शुरू हो जायेगा, जब से बीमाधारक की पहली क़िस्त स्वीकृत कर ली जाएगी |
  • प्रवेश करने की कम से कम उम्र : 19 साल
  • प्रवेश करने की अधिक से अधिक उम्र : 45 साल
  • कम से कम सुनिश्चित राशि (Sum Insured) : 10000 रूपये
  • अधिक से अधिक सुनश्चित राशि : 5 लाख
  • लोन के लिए योग्यता : वह व्यक्ति जिसने 48 महीनो तक लगातार प्रीमियम जमा किया हो | अपनी Policy को लोन लेने के लिए जमानती रूप में गिरवी रख सकता है |
  • पालिसी सरेंडर की समय सीमा : 36 महीने अर्थात 3 साल तक लगातार प्रीमियम भरने के बाद |
  • अन्य पालिसी में कन्वर्ज़न : Endowment policy में 5 साल तक प्रीमियम भरने के बाद, और पालिसी होल्डर की 55 साल की उम्र से पहले परिवर्तित कर सकते हैं |
  • प्रीमियम : अलग अलग सुनिश्चित राशि के हिसाब से प्रीमियम राशि भी अलग अलग होगी |

 

  1. Gram Sumangal (Money Back Scheme)

Gram Sumangal एक Money Back Insurance scheme है | यह Scheme उन लोगो के लिए अच्छी है, जिन्हे हर पांच साल में या 8 साल में पैसो की आवश्यकता पड़ सकती है | इस Scheme के अंतर्गत दो तरह की पालिसी दी जाएँगी | एक Policy जिसका Maturity  का समय 15 वर्ष, और दूसरी Policy का Maturity Period 20 वर्ष निर्धारित किया गया है | Money Back का समय अन्तराल निम्नलिखित तय किया गया है |
यदि Policy Holder ने 15 सालो के लिए पालिसी ली हो, तो उसे 6, 9 और 12 साल के अंतराल पर कुल सुनिश्चित राशि का 20% 20% कैलकुलेट करके दिया जायेगा | और शेष  40% policy की परिपक्वता (Maturity) पर देय होगा |
यदि Policy holder ने 20 सालो के लिए पालिसी ली हो, तो उसे 8, 12, और 16 साल के अंतराल पर कुल सुनश्चित राशि (Sum Insured) का 20% 20% करके दिया जायेगा | और शेष 40% Maturity पर |

  • बीमा कवर : बीमा कवर तभी से शुरू हो जायेगा, जब से पोस्ट ऑफिस द्वारा पहली क़िस्त स्वीकृत कर ली जाएगी |
  • प्रवेश करने की कम से कम उम्र: 19 वर्ष
  • प्रवेश करने की अधिक से अधिक उम्र : 45 वर्ष
  • कम से कम सुनिश्चित राशि : 10000 रूपये
  • अधिक से अधिक सुनश्चित राशि : 5 लाख रूपये
  • प्रीमियम : अलग अलग सुनिश्चित राशि के हिसाब से प्रीमियम राशि भी अलग अलग होगी |
  1. Gram Priya (Money Back Scheme)

यह Scheme भी Money Back Scheme है | जिसमे कोई भी इच्छुक व्यक्ति 10 सालों के लिए Policy ले सकता है | और इस पालिसी के अंतर्गत 4, 7 साल में कुल सुनिश्चित अमाउंट का 20% करके Money back किया जायेगा | और बाकि का 60% Policy की परिपक्वता (Maturity) पर |

  • बीमा कवर : बीमा कवर तभी से शुरू हो जायेगा, जब से आपकी पहली क़िस्त स्वीकृत कर ली जाएगी |
  • प्रवेश करने की कम से कम उम्र: 19 साल
  • प्रवेश करने की अधिक से अधिक उम्र : 45 साल
  • कम से कम सुनिश्चित राशि : 10000 रूपये
  • अधिक से अधिक सुनश्चित राशि : 5 लाख रूपये |
  • प्रीमियम : अलग अलग सुनिश्चित राशि (Sum insured) के हिसाब से प्रीमियम राशि भी अलग अलग होगी |

Other Guidelines of RPLI:

  • निजी क्षेत्र (Private Sector) के कर्मचारी भी इस Scheme के तहत Insurance Policy ले सकते हैं |
    केवल ग्रामीण इलाको (Rural Areas) में निवासित लोग ही इस स्कीम के तहत Insurance Policy ले सकते हैं | शहरी (Urban Areas) में निवासित लोग इस Scheme के अंतर्गत Insurance Policy नहीं ले सकते |
  • Rural Postal Life Insurance scheme के अंतर्गत insurance policy लेने के लिए इच्छुक व्यक्ति को अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस में जाकर फॉर्म भरना होगा |
  • Insurance holder को एक पालिसी बुक दी जाएगी जिसमे प्रीमियम भरते समय प्रीमियम का विवरण उस बुक में भरा जायेगा | पालिसी धारक चाहे तो चेक से पेमेंट कर सकता है |
  • RPLI scheme के तहत ली गई, Insurance policy को बैंक से लोन लेते समय जमानत के तौर पर गिरवी रखा जा सकता है |
The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By vikas

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*