Sabun Banane Ka Gharelu Tarika

Sabun Banane Ka Gharelu Tarika

Laghu Udyog की इस श्रेणी में आज हम आपको Sabun Banane का तरीका बताने जा रहे हैं | यह तरीका है, Sabun Banane Ka Tarika | इस पोस्ट को पढ़कर आप घर बैठे Sabun Banane ka tarika सीख सकते हैं | और घर बैठे अपनी Kamai कर सकते हैं |

Sabun Ka Upyog

साबुन एक ऐसी वस्तु है । जिसका उपयोग इस धरती पर हर एक मनुष्य करता है । इसलिए यदि आप इस व्यवपार में अपनी किस्मत और हाथ आजमाना चाहते हैं । तो आपके लिए निम्न बातों की जानकारी होना जरुरी है | साबुन घर की रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाली वस्तुओ में से एक मुख्य वस्तु है । इसलिए साबुन के व्यापार में जोखिम थोड़ा कम हो जाता है ।

Sabun Banane ke Vyapar Me Sambhawnaye

चूंकि साबुन का उपयोग हर घर में हर व्यक्ति द्वारा किया जाता है | इसलिए इस व्यापार में असीमित सम्भावनाये हैं | Sabun Banane Ka व्यापर शुरू करने के लिए आपको बहुत अधिक निवेश की भी जरुरत नहीं पड़ती है । सबसे अच्छी बात इस व्यापार की यह है की इसको आप अपने घर से भी संचलित कर सकते है । अपना उत्पादन बाजार में उतारने से पहले अपने पड़ोसियों को अपना उत्पादन प्रयोग करने को कह सकते हैं । और साबुन कैसा है, की प्रतिक्रिया ले सकते हैं । ताकि आप अपने उत्पादन को बाजार में लाने से पहले ग्राहकों के हिसाब से उसमे सुधार कर सको । साबुन चाहे कोई सा भी हो चाहे वह कपड़े धोने वाला हो, या फिर शरीर धोने वाला, इसका प्रयोग हर व्यक्ति अपने दैनिक जीवन में अवश्य करता है । इसलिए साबुन का व्यापार एक ऐसा व्यापार है । जिसमे कभी मंदी आने के कोई आसार नहीं होते । 
इसलिए इस व्यापार में निरंतर कमाने के आसार अधिक हो जाते हैं । इसके अलावा आपके परिवार में यदि कोई ऐसा व्यक्ति है । जो कोई काम नहीं करते हैं, आप खुद यह काम करके उनको भी इस काम में लगा सकते हैं । कभी अपने किसी नज़दीकी जनरल स्टोर में चले जाइये । और उनसे जानने की कोशिश कीजिये । की आपके यहाँ साबुन कितना बिक जाता है । आशा करता हूँ उनका उत्तर पाकर आप इस व्यापार की क्षमता और संभावनाओ के बारे में और नहीं पूछेंगे । 

Sabun Ke Prkar

बाजार में अभी भी आपको भिन्न भिन्न प्रकार के जैसे कपडे धोने वाला साबुन, नहाने वाला साबुन, खुशबूदार साबुन, एन्टीसिपाटिक साबुन, डिटर्जेंट पाउडर मिल जायेंगे । चूंकि प्रतिदिन इनका इस्तेमाल हर मनुष्य के द्वारा किया जाता है । इसलिए आपको छोटी से लेकर बड़ी दुकान में तक, साबुन का मिलना स्वभाविक है । अलग अलग तरह के साबुनों में अलग अलग केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है । 

Hamara Post Likhne Ka uddeshy

हमारा उद्देश्य अर्थात ध्येय यहाँ पर आप लोगो को छोटे पैमाने पर कपडे धोने का साबुन बनाने की क्रिया से अवगत कराना है । इस दुनिया में साबुन बनाने के भिन्न भिन्न अर्थात अनेको तरीके हो सकते हैं । लेकिन इनमे से दो तरीके साबुन बनाने के लिए सर्वाधिक तौर पर प्रयोग में लाये जाते हैं । 

गरम वाला तरीका और ठन्डे वाला तरीका ।

Sabun Banane ke liye Jaruri Samgri

जहाँ Sabun Banane ke गरम वाले Tarike में केमिकल को गरम करना पड़ता । वही ठन्डे करने वाले तरीके में केमिकल को गरम नहीं करना पड़ता । 

आज हम आपको यहाँ पर ठंडा करने के तरीके से साबुन बनाना सिखाएंगे । तो आइये जानते हैं की ठन्डे तरीके से कपडे धोने का साबुन बनाने के लिए हमें क्या क्या सामग्री चाहिए होती है । 

नायलॉन शीट, दास्ताने, मास्क, लोहे का या प्लास्टिक का मिक्सर,एक तराजू, एक साँचा, हाइड्रोमीटर (नमी मापने के लिए),प्लास्टिक की बाल्टी। ताड की गरी का तेल,कास्टिक सोडा मोती,सोडा पाउडर,सोडियम सलफेट, इत्र, पानी, रंग इत्यादि |

Sabun Banane Ki Vidhi:

कास्टिक सोडा को प्रयोग में लाने से पहले 24 या 48 घंटे पहले तैयार होने के लिए छोड़ दें |  

आइये जानते हैं कास्टिक सोडा को तैयार करने की विधि । 

Sabun-Banane-Ka-tarika

Sabun-Banane-Ka-tarika

Step 1:  सबसे पहले कास्टिक सोडा में पानी मिलाना होता है । और पानी का अनुपात 1:2 होना चाहिए । अर्थात यदि आपके पास 2 लीटर कास्टिक सोडा है । तो पानी की मात्रा 4 लीटर होनी चाहिए । और पानी में कास्टिक सोडा को हिला कर मिला दें । और उसके बाद उसको उसी अवस्था में 24 से 48 घंटे के लिए छोड़ दें । 

Savdhani

इस कास्टिक सोडा बर्तन को बच्चो और घरेलु जानवरो की पहुँच से दूर रखें । क्योकि कास्टिक सोडा में एक संक्षारक क्षार निकलता है । जो नुकसानदेह हो सकता है । 24-48 घंटे के बाद यह दृव्य ठंडा हो जायेगा । तब आपको हाइड्रोमीटर का प्रयोग करना है । साधारणतः हाइड्रोमीटर का प्रयोग बैटरी के अंदर पानी चेक करने के लिए भी किया जाता है । 

हाइड्रोमीटर में कास्टिक सोडा की माप 12.50-12.75 तक होनी चाहिए । आप चाहे तो हाइड्रोमीटर को पानी के साथ और कास्टिक सोडा मोती, के साथ अलग अलग माप सकते हैं ।  

Step 2 : उसके बाद सोडा पाउडर को भी खमीर बनने के लिए आपको लगभग 24 से 48 घंटे पहले ही तैयार  करना पड़ेगा । इसमें भी पानी की मात्रा 1:2 में ही होगी । और इसको भी आपको पानी के साथ अच्छी तरह मिला के छोड़ देना है । जब 24-48 घंटे बाद यह ठंडा हो जाय । फिर हाइड्रोमीटर से इसकी आर्द्रता मापे । आर्द्रता 12.00-12.25 के बीच होनी चाहिए । 

Step 3 : तीसरा स्टेप यह है कि आपको सोडियम सल्फेट को तभी पानी में घुलाना है जब आप साबुन बनाने जा रहे हों । और हाइड्रोमीटर से मापते समय इसकी आर्द्रता 12.75 तक होनी चाहिए । 

Sabun Banane ke liye Samgri ki Matra

माना की आपने ताड़ की गरी का तेल लिया है 3 लीटर, और कास्टिक सोडा 1.5 लीटर, सोडा पाउडर 1.2 लीटर, सोडियम सलफेट 0.6 लीटर, इत्र अपने हिसाब से, रंग, रंग के हिसाब से |

Step 4 : जिस बर्तन में आप इन सबको मिक्स करने वाले हैं । उस बर्तन में सर्वप्रथम ताड की गरी का तेल डाल दें । उसके बाद कास्टिक सोडा भी उस बर्तन में डाल दें । और लगातार किसी लकड़ी या किसी अन्य वस्तु से हिलाते रहें ।

Step 5 : उसके बाद सोडा पाउडर डाल दें फिर हिलाते रहें । और उसके बाद सोडियम सलफेट और इत्र डालें । यदि आप चाहते हैं की आपके द्वारा बनाये गए साबुनों का रंग अलग अलग हो ।  आप अपनी इच्छा के अनुसार इस मिश्रण में रंग डाल सकते हैं ।
Step 6 : अब अपने साँचे को नायलॉन की शीट से कवर करें । या यह क्रिया आप पहले भी कर सकते हैं । और इस मिश्रण को साँचे में उड़ेल दें । और इस मिश्रण को अपने मनमुताबिक या एक अच्छी शेप देने के लिए साँचे में फैलाएं ।

Step 7 : और उसके बाद 4-5 घंटे के लिए छोड़ दें । अब नायलॉन की शीट को साँचे से बाहर निकालें । और देखें अब आपका साबुन तैयार है अब इसको अपनी मनमुताबिक पैकिंग के अनुसार काटें । और बाजार में बेचकर पैसे कमाएं । 

यह भी पढ़ें |

वाशिंग पाउडर बनाने की विधि |

खादी ग्रामोद्योग प्रशिक्षण केंद्र |

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. By Anil Kumar saini

    Reply

  2. By anuragminz

    Reply

    • By shahnawaz khan

  3. By Anil Saini

    Reply

  4. By Pramod Kumar Sharma

    Reply

  5. By deenu saifi

    Reply

  6. By santosh chavhan

    Reply

  7. By TRINKAL KUMAR

    Reply

  8. By Narinder yadav

    Reply

  9. By aftab alam

    Reply

  10. By J.N.Singh Netam

    Reply

  11. By Narendra gupta

    Reply

  12. By abhay pratap singh

    Reply

  13. Reply

  14. By salman patel

    Reply

  15. By rakesh kumar

    Reply

  16. By Arun Kumar Sahu

    Reply

  17. By Mukesh meena

    Reply

  18. Reply

  19. By Upendra

    Reply

  20. By Amit kr

    Reply

  21. By Vishnu

    Reply

  22. By mohit

    Reply

  23. By jeet da

    Reply

  24. By hemraj sen

    Reply

  25. Reply

  26. By Shiv mahan singh

    Reply

  27. By शिव महान सिंह

    Reply

  28. By Sudhir Kumar Saini

    Reply

    • By deepak

    • By deepak

  29. Reply

  30. By DEEPAK

    Reply

  31. By jitendra

    Reply

  32. Reply

  33. By jitendra kotwal

    Reply

  34. By prakash

    Reply

  35. By jitendra kotwal

    Reply

  36. Reply

  37. Reply

  38. By sonu sharma

    Reply

    • By Deepak kumar

  39. By jaideep tomar

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*