Shoe Manufacturing Business Kaise Start Kare

Shoe Manufacturing Business Kaise Start Kare

Shoe manufacturing business से आशय जूते बनाने वाली Factory से है | जूतों का निर्माण दस्तकारों शिल्पकारों या फिर मशीनरी की मदद से किया जा सकता है | यही कारण है की Shoes manufacturing business को Small Scale पर low investment के साथ शुरू करके बड़े स्तर तक फैलाया जा सकता है |वर्तमान में India में इस बिज़नेस में संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्रों से उत्पादन किया जाता है, संगठित क्षेत्रों में Bata, Shreeleathers, Khadim, Flex इत्यादि बड़े नाम सम्मिलित हैं इसलिए यह तो निश्चित है की इस बिज़नेस में प्रतिस्पर्धा देखने को तो मिलेगी ही मिलेगी, लेकिन भारत की जनसँख्या को देखते हुए इस बिज़नेस में प्रवेश करने वाले उद्यमी के लिए अभी भी अवसर विद्यमान हैं | यही कारण है की आज हम अपनी इस पोस्ट के माध्यम से Shoe manufacturing business start करने के बारे में जानने की कोशिश करेंगे |

  1. Apne business ke liye product select kijiye:

आदमी और महिलाओं के Footwear में बड़ा अंतर होता है और बच्चों और बड़ों के Footwear में भी size का फर्क होने के अलावा designing में भी अंतर होता है इनमे भी Shoe category में जूते, चप्पल, सेंडिल इत्यादि प्रमुख products हैं | इसलिए Shoe manufacturing business start करने वाले उद्यमी को चाहिए की वह सबसे पहले Product का चयन करे | और यह भी तय करे की क्या वह महिला, आदमी, बच्चों में से किसी एक श्रेणी को ध्यान में रखकर यह बिज़नेस करना चाहता है या सभी को | क्योंकि हो सकता है अलग अलग श्रेणी के लिए अलग अलग उपकरणों की आवश्यकता पड़े, इसलिए उद्यमी जब यह तय कर लेगा तभी वह आगे के लिए अपना Business Plan बना पाने में समर्थ होगा |

  1. Shoe manufacturing ke liye business plan banaye:

यदि उद्यमी ने उपर्युक्त सभी पहलुओं का विश्लेषण करके कोई निर्णय ले लिया है, तो अब अगला step Shoe manufacturing ke liye Business Plan बनाने का है | बिज़नेस प्लान का मुख्य प्रकरण इस बात पर निर्भर करता है की उद्यमी एक निश्चित समय बीत जाने पर अपने business को कहाँ देखना चाहता है | इसमें उस लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु सभी क्रियाओं का Step by Step विवरण उल्लेखित होना बेहद जरुरी है | Business Plan में उल्लेखित लक्ष्य व्यवहारिक और मेहनत करके पाए जाने वाले लक्ष्य होने चाहिए ताकि ये बीच में उद्यमी को विचलित न कर पायें | उदहारण के तौर पर किसी नई कंपनी के लिए एक दिन में 20000 shoes बेच पाना अव्यवहारिक है | इसलिए उद्यमी को यह ध्यान रखना चाहिए की लक्ष्य ऐसा हो जिसे पाया जा सके |

  1. Brand ko define Kijiye:

Brand ko define करने के बहुत सारे तरीके होते हैं, इसमें उद्यमी को अपने ग्राहक को अन्य चालित कंपनियों से कुछ हटकर देना पड़ता है, ताकि उद्यमी द्वारा उत्पादित shoe को उसके ग्राहक बिना कंपनी का नाम जाने भी पहचान सकें | उदाहरणार्थ: यदि कोई ऐसी कंपनी है जो अपने सभी प्रकार के जूतों के आगे एक जालीदार कपड़े का टुकड़ा लगाती है ताकि पैर की अँगुलियों तक हवा पहुँच सके तो ऐसी कंपनी के जूते को उसके ग्राहक बिना कंपनी का नाम पढ़े भी पहचान लेंगे | इसलिए shoe manufacturing business start करने वाले उद्यमी को चाहिए की वह अपने ग्राहकों को कुछ हटकर Product दे ताकि उसके Brand को जल्दी से ख्याति मिल सके |

  1. Select a Location for shoe manufacturing business:

बिज़नेस लोकेशन का selection करते वक्त उद्यमी को बहुत सारी बातों का ध्यान रखना पड़ता है, लेकिन इस shoe manufacturing business करने वाले उद्यमी को यह ध्यान रखना भी बेहद जरुरी है की उसको business संबंधी बहुत सारी प्रक्रियाएं जैसे storage, sales and marketing room, Production, clerical task इत्यादि करने के लिए भी जगह चाहिए होती है | इसलिए उद्यमी को इस बात का बेहद ध्यान रखना चाहिए की कहीं उसके द्वारा select की गई जमीन उसके business को अच्छे ढंग से क्रियान्वित करने के लिए कम तो नहीं पड़ेगी |

  1. License and business name registration:

उपर्युक्त सभी Steps करने के बाद उद्यमी को चाहिए की वह जिस Area में shoe manufacturing business start करने वाला है वहां पर business संबंधी Local rule check करे | इसके लिए वह नगर निगम, ग्राम पंचायत, जिला उद्योग केंद्र इत्यादि के कार्यालयों का भ्रमण करके License सम्बन्धी जानकारी ले सकता है |  जहाँ तक कंपनी रजिस्ट्रेशन  का सवाल है, उद्यमी विभिन्न बिज़नेस Entities  में किसी एक entities का चयन करके उसके अंतर्गत अपने बिज़नेस का पंजीकरण करवा सकता है | व्यवसायिक रूप से shoe manufacturing करने के लिए registration इसलिए अनिवार्य हो जाता है, क्योकि बिना Registration के कोई भी shoe wholesaler उद्यमी के जूते बेचने को तैयार नहीं होगा |  इसके अलावा उद्यमी को Tax registration करवाना भी बेहद जरुरी है |

  1. Furnish your office:

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं उद्यमी को shoe manufacturing business की प्रक्रियाओं को सफलतापूर्वक अंजाम देने के लिए Production Room, Storage room, Sales and Marketing room, clerical room इत्यादि की आवश्यकता होती है | अब समय है Sales and Marketing cum Visitor room एवं clerical room को Furnish करने का | इसमें उद्यमी को कुछ computer, printer, Chairs, Sofa इत्यादि चाहिए हो सकते हैं, इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह इन सब Assets को खरीदकर अपनी कार्यशाला को Furnish करे |

  1. Hire Manpower:

shoe manufacturing business के लिए उद्यमी को भिन्न भिन्न Skills से भरपूर भिन्न भिन्न व्यक्तियों की जरुरत पड़ सकती है | इसमें मुख्य रूप से Production staff जो production के साथ साथ designing का भी काम देख सके और sales and Marketing team चाहिए होती है | Human Resource संबंधी काम उद्यमी खुद ही संभाल सकता है, और Accountancy के लिए कोई Part Time accountant नियुक्त कर सकता है | Starting में यदि उद्यमी उत्पादित माल को इधर उधर भेजने के लिए Vehicle न खरीद पाए तो वह यह Transport का काम किराये पर लेके कर सकता है अन्यथा उसे ड्राईवर और एक Helper की भी आवश्यकता हो सकती है |  इसके अलावा यदि उद्यमी बिना मशीनों का shoe manufacturing business start  करना चाहता है, तो वह शिल्पकारों को अपने कर्मचारी के रूप में नियुक्त कर सकता है हालाँकि इसमें कुछ उपकरणों की आवश्यकता अवश्य पड़ सकती है |

  1. Purchase Machinery and Raw Materials:

यदि उद्यमी मशीनों के माध्यम से उत्पादन करना चाहता है तो उसको मशीनरी, उपकरण एवं Raw Material खरीदने की आवश्यकता पड़ेगी, और यदि शिल्पकारों के माध्यम से यह बिज़नेस करना चाहता है तो उसे Raw Materials के अलावा कुछ उपकरणों की जरुरत होगी |

  1. Business ki Marketing Kare:

Sales बढाने और Product/Brand को लोगों के बीच पहचान दिलाने के लिए Business ki Marketing बेहद जरुरी होती है | उद्यमी विभिन्न मार्केटिंग के तरीको  का प्रयोग करके अपनी shoe manufacturing business की sales को बढाकर Kamai कर सकता है |

 

The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Comments

  1. Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*