Start up India Introduction in Hindi

Start up India Introduction in Hindi

दोस्तों जैसा की आप सबको विदित है की हमारी इस वेबसाइट का उदेश्य Kamai के विषय पर विचार करना और आप लोगो को Kamai के साधनों से अवगत कराना और आपको Kamai करने के लिए प्रोत्साहित करना है | तो दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं | भारत सरकार द्वारा हाल ही में शुरू की गई एक नई शुरुआत की | अर्थात एक नई योजना की | इस नई शुरुआत का नाम है | Start up India Stand Up India अर्थात जैसा की नाम से ही स्पष्ट है | यह शुरुआत भारतवर्ष में रोज़गार और उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार द्वारा संचालित की गई है |

Start up India Stand up India Kya Hai :

Start-up-India-

जैसा की मैं  उपर्युक्त वाक्य में स्पष्ट कर चूका हूँ | की Start up India Stand Up India भारत सरकार द्वारा संचालित एक शुरुआत है | जिसका लक्ष्य भारतवर्ष में उद्यमिता और रोज़गार को बढ़ावा देना है | सीधे और सरल शब्दों में कहूं तो इस शुरुआत की शुरुआत होने के बाद आप और मुझ जैसे साधारण आदमी भी अपना व्यापार कर सकते हैं | अर्थात अपनी कंपनी खोल सकते हैं | क्योकि Start up India Stand up India के अंतर्गत भारत सरकार ने उद्यमिता और रोज़गार को बढ़ावा देने की दिशा में अपनी कंपनी स्टार्ट करने के नियमो में अच्छी खासी ढील दी हुई है |

Start Up India Stand Up India ki Ghoshna Kab aur Kisne ki:

Start Up India Stand Up India की घोषणा भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 15 अगस्त 2015 को लाल किले से की थी |

Start up India Stand up India ki Shuruaat Kab aur kaha hui

Start up India Stand up India की शुरुआत देश के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेत्रत्व में देश के वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा बहुत सारे प्रभावशाली व्यक्तियों की उपस्थिति में 16 जनवरी 2016 को दिल्ली के विज्ञान भवन में की गई |

Start up India Stand up India ke Pramukh Bindu:

स्टार्ट अप इंडिया स्टैंड अप इंडिया के प्रमुख बिंदु निम्नवत हैं |

  1. एकल खिड़की सिस्टम : इस योजना के अंतर्गत उद्यमियों को उनके व्यापार सम्बन्धी सारी मंजूरी एक स्थान पर अर्थात एकल खिड़की द्वारा उपलब्ध कराई जायेगी | हों सकता है की उद्यमियों को सारी मंजूरी एक मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से उपलब्ध कराइ जाय |
  2. स्व प्रमाणिक Compliance : अगर सही और सरल शब्दों में कहूँ तो उद्यमियों को सबसे अधिक चिंता इसी बात की रहती है | की अगर कही epf, contract Labor, Payment of Gratuity, water and air pollution की प्रमाणिकता में अटक गए | तो पता नहीं फिर क्या क्या करना पड़ेगा | लेकिन Start up India Stand up India के अंतर्गत आने वाली कंपनियों को इस चिंता से अगले तीन सालो तक निजात मिल जाएगी | क्योकि सरकार ने Start up India के अंतर्गत आने वाली कंपनियों को स्व प्रमाणिकता की इजाजत दे दी है | और अगले तीन सालो तक आपकी कंपनी के Compliance को निरक्षण करने के लिए Labor Department से कोई निरीक्षक भी नहीं आएगा |
  3. आपके अविष्कार विचार का संरक्षण (Patent Protection) Start up India के अंतर्गत आप अपने अविष्कार या विचार को संरक्षित अर्थात सुरक्षित रखने के लिए 80% तक कम फीस देकर अपने अविष्कार या विचार का पंजीकरण करवा सकते हैं |
  4. उद्यमियों को वित्त सम्बन्धी सहायता : Start up India के अंतर्गत एक कोष बनाया जायेगा | जिसका उद्देश्य उद्यमियों को पूँजी सम्बन्धी सहायता प्रदान करना होगा | जिसमे प्रत्येक वर्ष लगभग 2500 करोड़ और चार वर्षो में 10000 करोड़ रूपये आवंटित किये जायेंगे |
  5. व्यापार बंद करना अर्थात कंपनी को बंद करना होगा आसान : उद्यमियों की चिंता का एक मुख्य कारण यह भी होता है | उन्होंने अगर कोई कंपनी शुरू कर दी | और काम अगर चला नहीं, तो उनको उनकी इस हार का जिंदगी भर सामना करना पड़ता है | Start up India के अंतर्गत भारत सरकार ने bankruptcy code के नियमो में कुछ तबदीली कर इस प्रक्रिया को तीव्र गति देने की कोशिश की है | अब जिन उद्यमियों का व्यापार नहीं चल रहा है | वह 90 दिनों के अन्दर अन्दर अपने इस व्यवपार से आसानी से बहार निकल सकते है | और आगे और किसी क्षेत्र में कोशिश कर सकते है |
  6. क्रेडिट गारंटी फण्ड : इस फण्ड की रचना नए विचारो वाले उद्यमियों को अपने सपने साकार करने के तौर पर की गई है | अर्थात वो उद्यमी, लोग जिनके पास अपना व्यापार सम्बन्धी विचार, लगन, आत्मविश्वास सब कुछ है | लेकिन पूँजी न होने के कारण वो लोग अपने व्यापार सम्बन्धी विचार को मूर्त रूप नहीं दे पा रहे हैं | क्रेडिट गारंटी फण्ड के अंतर्गत ऐसे लोगो की सहायता की जाएगी | जिसमे सरकार हर साल 500 करोड़ रूपये अगले चार सालो के लिए आवंटित करेगी |
  7. टैक्स में छूट : स्टार्ट अप इंडिया के अंतर्गत 1 अप्रैल 2016 के बाद स्थापित कंपनियों को अगले तीन वर्षो तक आयकर में छूट देने का प्रावधान है | इसके अलावा कैपिटल गेन्स टैक्स में छूट, फेयर मार्किट वैल्यू (FMV) टैक्स में भी छूट का प्रावधान है |
  8. स्टार्ट अप उत्सव : स्टार्ट अप उत्सव का मुख्य लक्ष्य नवीनीकरण को बढ़ावा देना | और उद्यमियों को एक सहयोग मंच प्रदान करना होगा |
  9. Atal Innovation Mission (AIM): अटल इनोवेसन मिशन का मुख्य उद्देश्य नवीनीकरण को बढ़ावा और नवीनीकरण करने वाले उद्यमी को लोगो के बीच प्रमोट कराना होगा | ताकि अधिक से अधिक लोग उस व्यक्ति से प्रेरणा ले सके |
  10. नवीनीकरण की तरफ विद्यार्थियों का ध्यान आकर्षित करना : लगभग पांच लाख स्कूलों में नवीनीकरण सम्बन्धी कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे | जिससे अधिक से अधिक विद्यार्थी नवीनीकरण की तरफ अपना ध्यान लगाने में सक्षम हों |

कौन कौन सी और किस प्रकार की कंपनिया स्टार्ट अप इंडिया के तहत आ सकती हैं?

Start Up India के अंतर्गत पात्रता के लिए निम्न शर्ते लागू होती हैं |

  1. कंपनी Private Limited होनी चाहिए | और कम्पनीज एक्ट के तहत उसका पंजीकरण होना चाहिए | या पंजीकृत पार्टनरशिप फर्म हों अथवा पंजीकृत LLP (Limited Liability partnership) हो |
  2. कंपनी को स्थापित हुए पांच साल से ज्यादा का समय न हुआ हो |
  3. Start Up कंपनी नवीनीकरण, की दिशा में काम कर रही हो | और Start up में अधिक से अधिक तकनिकी का उपयोग किया जा रहा हो | और कंपनी अपने भविष्य के लक्ष्यों के प्रति आश्वस्त हो |
  4. Start up कंपनी के पास अपने उत्पाद या सेवा का व्यवसायीकरण करने के लिए एक स्पष्ट लक्ष्य निर्धारित हो |
  5. Start Up कंपनी किसी ऐसे उत्पाद और सेवा देने से सम्बंधित न हों | जिसका व्यवसायीकरण न किया जा सके |
  6. Start up कंपनी किसी दुसरे के बिज़नेस मॉडल से प्रेरित न हो | अर्थात कोई ऐसा उत्पाद या सेवा जो पहले से ही किसी और कंपनी द्वारा प्रदान की जा रही है |
  7. Start up कंपनी को अपने उत्पाद या सेवा की नवीनीकरण की प्रकृति के लिए DIPP द्वारा स्थापित Inter Ministerial Board से एक प्रमाण पत्र प्राप्त करना होगा |
The following two tabs change content below.
मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


*