पर्यटक मित्र बनने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम |

पर्यटक मित्र बनने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम |

Paryatak Mitra नामक यह Program भारत सरकार के टूरिज्म मंत्रालय ने इच्छुक प्रशिक्षणार्थियों के बीच उपयुक्त पर्यटन विशेषताओं एवं ज्ञान को विकसित करने हेतु इस प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत की है, ताकि इच्छुक प्रशिक्षणार्थी Paryatak Mitra के तौर पर कार्य कर सकें | इस कार्यक्रम को क्रियान्वित करने की जिम्मेदारी Indian Institute of Travel management (IITM) को दी गई है | वर्तमान में चूँकि गर्मी का सीजन शुरू हो चूका है और सर्दी के मौसम की तुलना में गर्मियों में टूरिज्म सेक्टर में तेजी देखने को मिलती है | ऐसे में जहाँ शिक्षण संस्थानों, में गर्मियों का अवकाश रहता है तो लोग अपने पूरे परिवार सहित भ्रमण का प्लान करते हैं | जहाँ तक अपने देश भारतवर्ष की बात है यहाँ भी गर्मियों में समय बिताने के लिए अनेकों ऐसी जगह हैं जिन स्थानों का देशी एवं विदेशी टूरिस्ट खूब लुत्फ़ उठाते हैं |

Parytak-Mitra-Training-Program

हालांकि अधिकतर लोग गर्मियों में पर्वतीय अर्थात पहाड़ी क्षेत्रों में समय बिताना इसलिए पसंद करते हैं क्योंकि शहरों के मुकाबले वहां का तापमान ठंडा एवं वातावरण में शांति का एहसास होता है | इसके अलावा कुछ लोग ऐतिहासिक स्मारकों को देखने के उत्सुक तो कोई ऐसे शहरों की ओर रुख करते हैं जहाँ समुद्र के किनारे Beach की उपलब्धता हो | पर्यटक जब किसी नए शहर या देश में जाते हैं तो उन्हें कोई व्यक्ति ऐसा चाहिए होता है जो उस शहर एवं उस शहर में उपलब्ध सभी Tourist Places की अच्छी जानकारी रखता हो सामान्य तौर पर ऐसे व्यक्ति को Travel Guide कहा जाता है | देशी विदेशी लोगों की इसी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार के टूरिज्म मंत्रालय ने Indian Institute of Travel management (IITM) के साथ मिलकर इस Training Program की शुरुआत की है ताकि प्रशिक्षण देकर देश में Paryatak Mitra बनाये जा सकें |

Training Ke Liye Eligibility:

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत योग्य लोगों में ऐसे विद्यार्थी जो कॉलेज में अध्यन कर रहे हैं NCS, NSS में Enrolled Students भी सम्मिलित हैं | जहाँ तक उम्र की बात है Paryatak Mitra Program के अंतर्गत प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए इच्छुक प्रशिक्षणार्थी की उम्र कम से कम 18 एवं अधिक से अधिक 28 वर्ष होनी चाहिए | उम्र की गणना आवेदन करने के लिए अंतिम तिथि के आधार पर की जाएगी | यदि विद्यार्थी अध्यन जारी रखने के दौरान प्रशिक्षण के लिए आवेदन करता है तो एप्लीकेशन फॉर्म के साथ साथ उसे कॉलेज के प्रिंसिपल से जारी No Objection Certificate भी जमा कराना होगा | नेशनल मिशन योजना के तहत चयनित जगह पर शुरुआत में तीन चार Batches जिसमे हर Batch में लगभग 30 प्रशिक्षणार्थी हिस्सा ले सकते हैं | जिन्हें तीर्थयात्रा कायाकल्प एवं आध्यात्मिक वृद्धि पर प्रशिक्षण दिया जायेगा | इस कार्यक्रम में प्रशिक्षण पहले आओ पहले लो (First Come First Serve) आधार पर दिया जायेगा |

Course detail, Training Duration and Certification:

Paryatak Mitra नामक इस Training Program के अंतर्गत दिया जाने वाला प्रशिक्षण निम्नलिखित प्रसंगों पर आधारित होगा |

भारतीय समाज और संस्कृति नामक विषयवस्तु के अंतर्गत निम्न प्रसंगों को Training Program के अंतर्गत कवर किया जायेगा |

  • भारत के प्रमुख स्मारक |
  • दिल्ली के स्मारक |
  • भारत का इतिहास |
  • भारतीय कला, संस्कृति एवं परम्पराएँ |
  • भारत की मूर्तियाँ, नृत्य एवं संगीत |
  • यात्रा कार्यक्रमों की रुपरेखा या प्रारूप तैयार करना |
  • स्मारकों पर क्या करना चाहिए और क्या नहीं |

पर्यटन यात्रा एवं आतिथ्य उद्योग के अवलोकन विषय पर विभिन्न प्रसंगों को Training Program के अंतर्गत कवर किया जायेगा |

  • ट्रेवल एवं टूरिज्म बिज़नेस की प्रारम्भिक जानकारी |
  • भारतीय रेल, विमानन उद्योग, परिवहन एवं फ्रंटियर औपचारिकताओं पर जानकारी |
  • खेल पर्यटन की जानकारी |

प्रबंधकीय और व्यवहार कौशल विषय पर निम्न प्रसंगों को Training Program के अंतर्गत कवर किया जायेगा |

  • इमरजेंसी को हैंडल करना |
  • व्यक्तिगत व्यवहार, समूह व्यवहार |
  • शिष्टाचार |
  • प्रस्तुतिकरण एवं सार्वजनिक बोलचाल |

स्वच्छ भारत अभियान विषयवस्तु के अंतर्गत निम्न प्रसंगों को शामिल किया जाएगा |

  • राष्ट्रीय गौरव |
  • Gender संवेदीकरण |
  • जिम्मेदार पर्यटन |

इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत Training की अवधि 10 कार्यदिवस तय किये गए हैं | प्रत्येक कार्यदिवस में 8 घंटे ट्रेनिंग दिए जाने का प्रावधान है | यह 8 घंटे लंच एवं अन्य Refreshment time को मिलाकर है | प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान प्रशिक्षणार्थी की पुरे कार्यक्रम में कम से कम 90% उपस्थिति अनिवार्य है | जिनको बाद में लिखित परीक्षा एवं दिए गए प्रसंग पर प्रस्तुतिकरण देने के लिए योग्य माना जायेगा | सभी सफल प्रशिक्षणार्थियों को Indian Institute of travel Management द्वारा प्रमाण पत्र जारी किया जायेगा, और 1000 रूपये प्रोत्साहन राशि या वजीफा के रूप में भी दिया जायेगा | इसके अलावा Paryatak Mitra नामक इस Training Program की परीक्षा में पास हुए प्रशिक्षणार्थियों की कांटेक्ट डिटेल्स IITM, राज्य सरकार के टूरिज्म विभाग से साझा करेगा ताकि जरुरत पड़ने पर राज्य का टूरिज्म विभाग प्रशिक्षित व्यक्तियों को रोजगार उपलब्ध करा सके |

Comments

  1. By Saurabh kumar

    Reply

  2. By Raghav prajapat

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*