कृषि एवं फार्मिंग

कृषि एवं फार्मिंग

बकरी की बीमारियों का आयुर्वेदिक ईलाज – Ayurvedic Treatment of Goat Diseases.

बकरी की बीमारियों का आयुर्वेदिक ईलाज करने हेतु उपयोग में लायी जाने वाली आयुर्वेदिक दवाइयों के बारे में जानने से पहले हम अपने आदरणीय पाठक गणों को यह बता देना चाहते हैं की इस लेख से पहले भी हम बकरी पालन व्यवसाय से जुड़े विभिन्न विषयों पर बात कर चुके हैं |और जहाँ तक बकरियों के स्वास्थ्य से जुड़े हुए विषयों का सवाल है इनमे हम बकरी की बीमारियाँ, लक्षणों के आधार पर बकरी के बीमारियों की पहचान इत्यादि लेख लिख चुके हैं, और इन लेखों के कमेंट बॉक्स में अनेक पाठक गणों ने हमसे बकरी के बीमारियों का आयुर्वेदिक ईलाज में उपयोग में लायी जाने वाली दवाइयों के बारे में जानने की इच्छा व्यक्त की है | यही कारण है की कृषि एवं फार्मिंग श्रेणी में आज हम यह जानने की कोशिश करेंगे की बकरियों की कुछ सामान्य बीमारियों में कौन कौन सी आयुर्वेदिक दवाइयां उपयोग में लायी

मधुमक्खी पालन- How to Start BeeKeeping Business Hindi.

मधुमक्खी पालन को अंग्रेजी में Beekeeping Business कहा जाता है, यद्यपि भारतवर्ष के ग्रामीण इलाकों में आपने अक्सर देखा होगा की घर में स्थित किसी छेद में मधुमक्खियाँ अपना छत्ता बना देती हैं चूँकि इस क्रिया में मधुमक्खियाँ अपने छत्ते के लिए खुद उपयुक्त स्थान का चयन करती हैं इसलिए इसे मधुमक्खी पालन या BeeKeeping business नहीं कहा जा सकता, क्योंकि इस एक छत्ते से अगर मनुष्य चाहे तब भी इतने शहद का उत्पादन नहीं कर सकता की इतनी कमाई हो जाय की वह अपनी गुज़र बसर कर सके | लेकिन इन सबके बावजूद मधुमक्खी पालन यानिकी BeeKeeping भारतवर्ष में हमेशा से ही अर्थात प्राचीनकाल से ही शहद एकत्रित करने का एक साधन रहा है, इसलिए इस बिज़नेस को एक पारम्परिक व्यवसाय भी कहा जा सकता है | समय व्यतीत होने के साथ साथ राष्ट्रीय एवं अंतराष्ट्रीय बाजारों में इसकी उपयोगिता के कारण शहद काफी लोकप्रिय होता गया, बस

Aloe Vera Farming Business – How to start in India.

Aloe Vera farming यानिकी एलोवेरा की खेती वर्तमान में बेहद प्रचलित होती जा रही है क्योंकि एलोवेरा नामक इस कृषि उत्पाद का उत्पादन करके कुछ किसानों द्वारा अपनी अच्छी खासी कमाई की जा रही है | इस उत्पाद के उत्पादन में होने वाली कमाई का मुख्य कारण इस उत्पाद की अलग अलग उपयोगिताएं हैं अर्थात जहाँ एक तरफ एलोवेरा जिसे हिंदी में घृत कुमारी कहा जाता है का उपयोग इसमें औषधीय गुणों के चलते स्वास्थ्य सम्बन्धी उत्पाद बनाने के तौर पर किया जाता है वहीँ इसका उपयोग कॉस्मेटिक एवं ब्यूटी प्रोडक्ट्स बनाने के लिए भी किया जाता है | यही कारण है की वर्तमान में Aloe Vera farming business कर रहे किसान या उद्यमी अपनी अच्छी खासी कमाई कर पाने में सक्षम हैं | लोगों की अपने स्वास्थ्य की ओर बढती चेतना के कारण कहें, या दूषित हवा में सांस लेने एवं दूषित पानी पीने के कारण लोगों का

रजनीगंधा की खेती – Tuberose Farming In Hindi.

क्या आपने रजनीगंधा की खेती के बारे में सुना है, जी हाँ यदि आपको पहचानने में तकलीफ का अनुभव हो रहा है तो आपको बता दें हम उसी रजनीगंधा की बात कर रहे हैं जिसे अंग्रेजी में Tuberose कहा जाता है, और इसकी खेती अर्थात उत्पादन करने की प्रक्रिया को Tuberose Farming या Rajanigandha Farming कहा जाता है | अक्सर आपने अपने जीवन में काफी बार बहुत सारे लोगों के मुहं से फूलों की खेती के बारे में चर्चाएँ सुनी होंगी जिसमे व्यक्ति फूलों की खेती को बेहद लाभदायक बिज़नेस बताते नहीं थकता है, जी बिलकुल फूलों की खेती की यदि हम बात करें तो यह होती ही लाभदायक है | लेकिन इस बिज़नेस को लाभदायक बनाने में उगाने अर्थात खेती किये जाने वाले फूल के चयन करने की प्रक्रिया का अहम् योगदान होता है | अर्थात उद्यमी को इस बात का ध्यान रखना पड़ता है की किस प्रकार

Mushroom Farming Business – मशरुम की खेती का व्यवसाय |

जहाँ इंडिया में पहले Mushroom farming या अन्य खेती सम्बन्धी कार्य करना अशिक्षा की पहचान होती थी अर्थात जो लोग खेती करते थे उन्हें अशिक्षित समझ लिया जाता था, और सच्चाई भी यही थी की अधिकतर अशिक्षित लोग ही इस तरह के कार्यों को करने में संलिप्त थे | लेकिन बदलते समय ने कृषि में भी पढ़े लिखे अर्थात शिक्षित लोगों के लिए अवसर पैदा किये हैं और वर्तमान में बहुत सारे नौजवान भी डेयरी फार्मिंग, पोल्ट्री फार्मिंग, गोट फार्मिंग, फिश फार्मिंग एवं जैविक खेती के कार्यों में संलिप्त हैं और अपना व्यापार सफलतापूर्वक चला भी रहे हैं | आज हम अपने कृषि एवं फार्मिंग नामक इस श्रेणी में एक ऐसे फार्मिंग बिज़नेस की बात करने वाले हैं जो बीतते वक्त के साथ युवाओं में बेहद प्रचलित होता जा रहा है | क्योंकि पिछले दिनों  Mushroom farming की बदौलत उत्तराखंड की 26 साल की दिव्या रावत काफी सुर्ख़ियों में