खाद्य एवं पेय

खाद्य एवं पेय

Poha Manufacturing Business की जानकारी |

Poha Manufacturing business पर वार्तालाप करने से पहले हम यह जान लेते हैं की पोहा को चिवड़ा भी कहा जाता है | इसलिए अपने इस लेख में हम चिवड़ा/पोहा बनाने के काम के विभिन्न बिन्दुओं जैसे पोहा बनाने का काम अर्थात बिज़नेस क्या होता है, लोगों द्वारा पोहा को कब और कैसे उपयोग किया जाता है इत्यादि पर प्रकाश डालने की कोशिश करेंगे, Poha Manufacturing business में उपयोग होने वाले कच्चे माल की यदि हम बात करें तो धान इस बिज़नेस में प्रयुक्त होने वाला मुख्य कच्चा माल अर्थात Raw Material है | भारत जैसे विशालकाय देश में हर प्रकार के खान पान में प्रयुक्त होने वाली वस्तुओं की डिमांड बनी रहती है जहाँ तक पोहा की बात है यह मुख्य रूप से नाश्ते अर्थात ब्रेकफास्ट में उपयोग में लाया जाने वाला पदार्थ होता है, क्योंकि यह खाने में स्वास्थ्यकर एवं पाचन करने में आसान होता है | इसके अलावा यह अन्य भोजन के मुकाबले बनाने में भी आसान होता है जिससे इसे कम समय में भी तैयार किया जा सकता है | Poha Manufacturing Business Kya hai: पोहा धान से निर्मित एक ऐसा उत्पाद है जिसके बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ होते हैं चूँकि यह ग्लूटेन से मुक्त होता

Banana Chips Manufacturing Business

Banana Chips यानिकी केले के चिप्स हों या फिर कोई अन्य प्रकार के चिप्स ये स्नैक्स के बहुत प्रचलित किस्म हैं इनका उपयोग आर्थिक रूप से विभाजित हर वर्ग एवं हर उम्र के लोगों द्वारा किया जाता है | यद्यपि यह बात बिलकुल सत्य है की Banana Chips यानिकी केले के चिप्स से Potato Chips आलू के चिप्स अधिक प्रचलन में हैं और अधिक मात्रा में बिकते एवं उपभोग किये जाते हैं | इसके बावजूद भी Banana Chips किसी विशेष श्रेणी द्वारा बाज़ार में पूछे जाते हैं और लोग इन्हें खाना भी पसंद करते हैं | दूसरी सबसे मार्किट के लिहाज से सबसे बड़ी बात यह है की केले के चिप्स में आलू के चिप्स के मुकाबले कम प्रतिस्पर्धा देखने को मिल सकती है | क्योंकि केले के चिप्स का मार्किट साइज़ छोटा होने के कारण बड़ी ब्रांडेड कंपनियां जो आलू के चिप्स का निर्माण करती हैं वे Banana Chips की ओर ध्यान नहीं दे पा रही | इस प्रकार के बिज़नेस में बाज़ार में किसी भी ब्रांड ने अपना प्रभुत्व स्थापित नहीं किया है और अच्छी गुणवत्ता के लिए किसी प्रकार का कोई प्रतिस्पर्धी मूल्य निर्धारित नहीं है, यही कारण है की Banana Chips Manufacturing business  नए उद्यमियों

Sunflower Oil Making Business

Sunflower oil यानिकी सूरजमुखी के तेल को जहाँ खाद्य पदार्थ के रूप में उपयोग में लाया जाता है | इसके अलावा इसके बहुत सारे औद्योगिक उपयोग भी हैं एक आकंडे के मुताबिक पूरे विश्व में Sunflower Oil का उपयोग 2017 में 190 लाख  टन तक आँका गया है | इसका उत्पादन सूरजमुखी के बीजों को कच्चे माल के तौर पर उपयोग में लाकर किया जाता है | इसलिए यदि उद्यमी किसी ऐसे क्षेत्र में निवासित है जहाँ सूरजमुखी के फूलों का उत्पादन किया जाता है तो उद्यमी का यह Sunflower Oil Making business करना लाभकारी सिद्ध हो सकता है | क्योंकि उस क्षेत्र में सूरजमुखी से उत्पादित बीज कच्चे माल के तौर पर उद्यमी को आसानी से एवं कम कीमत पर प्राप्त हो सकते हैं | दूसरा यदि उद्यमी ऐसे पलायन से प्रभावित क्षेत्र में रहता है तो वहां उपलब्ध जमीन उसे आसानी से Lease या किराये पर मिल सकती है | उस किराये की जमीन पर अपने Sunflower Oil Making business के लिए कच्चे माल का प्रबंध उद्यमी स्वयं भी कर सकता है | Sunflower Oil Making Business Kya Hai: Sunflower oil Making Business से हमारा आशय सूरजमुखी के फूलों के बीजो से तेल निकालने के काम से

Soya Milk Making Business

Soya Milk Making business पर वार्तालाप करने से पहले सोया के दूध से समबन्धित कुछ जरुरी जानकारी पर वार्तालाप कर लेते हैं | Soya Milk यानिकी सोयाबीन से निर्मित दूध सोयाबीन से बनने वाले विभिन्न उत्पादों जैसे सोयाबीन के तेल, सोया Nuggets, सोया पनीर इत्यादि में से एक प्रमुख उत्पाद है | Soya Milk और इससे समबन्धित उत्पाद दिनोदिन इसलिए प्रचलित होते जा रहे हैं क्योंकि इनमे उचित मात्रा में पोषक तत्वों के विद्यमान होने के साथ साथ  इन उत्पादों में औषधीय गुण भी विद्यमान रहते हैं | Soya Milk में उचित मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है  तथा  Fat एवं कार्बोहायड्रेट बेहद ही  कम मात्रा में पाया जाता है इसके अलावा सोयाबीन से निर्मित दूध कोलेस्ट्रोल फ्री दूध होता है | सोयाबीन से निर्मित दूध को बच्चों का पौष्टिक आहार माना जाता है इसके अलावा वयस्क लोग एवं गर्भवती महिलाओं एवं ऐसी महिलाएं जिनके छोटे बच्चे हैं सोयाबीन को सब्जी के रूप में ग्रहण करती हैं | क्योंकि यह पोषण युक्त होने के साथ साथ पाचन करने में भी आसान होता है | ऐसे लोग जो डायबिटीज़ से ग्रसित एवं जिनको गाय भैंस का दूध पचता नहीं है उनके लिए Soya Milk एक अच्छा विकल्प है | Soya

Ginger and Garlic Paste Making Business

Ginger and garlic paste making business से अभिप्राय अदरक और लहसुन का मिश्रण पेस्ट के रूप में बनाकर उसे बाज़ार में बेचकर अपनी कमाई करने से है | Ginger and garlic paste को मुख्यतः विभिन्न प्रकार के खाने में मसाले के तौर पर उपयोग में लाया जाता है | इसके अलावा गैस्ट्रिक इत्यादि के लिए बनने वाली अनेक प्रकार की दवाइयां बनाने में भी अदरक लहसुन पेस्ट का इस्तेमाल किया जाता है | मसाले के तौर पर इस Ginger and garlic paste को टमाटर से बनने वाले केचप और सॉस, सलाद, चटनी, आचार, सब्जी, दाल, meat मछली इत्यादि बनाने में भी उपयोग किया जाता है | Ginger and garlic paste making business kya hai: अदरक एवं लहसुन भारत की कृषि फसलों में एक मुख्य फसल है जिसका उत्पादन भारत के लगभग हर राज्य में किया जाता है, लेकिन बड़े पैमाने पर अदरक एवं लहसुन का उत्पादन भारत के कुछ राज्यों जैसे गुजरात, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, उड़ीसा, केरल, हरियाणा, मध्य प्रदेश एवं हिमांचल प्रदेश में किया जाता है | अदरक एवं लहसुन में बहुत सारे औषधीय गुण होने के कारण लोगों द्वारा इनका उपयोग लगभग हर प्रकार के खाने में एवं दवाई बनाने वाली कंपनियों द्वारा विभिन्न प्रकार की औषधि