अच्छी कमाई वाले कृषि बिजनेस। Profitable Agriculture Business Ideas (2023).

Agriculture Business का अर्थ कृषि सम्बंधित व्यापारों से है। और ऐसा भी देखा गया है की जब कोई भी व्यक्ति जो खुद का कोई ऐसा बिजनेस शुरू करना चाहता है, जिन्हें तुलनात्मक रूप से कम पैसे खर्च करके शुरू किया जा सकता है । तो उन व्यापारों की लिस्ट में कृषि से जुड़े व्यापार आते ही आते हैं। हमारा देश भारत एक कृषि प्रधान देश है, इसलिए ग्रामीण अर्थव्यवस्था की रीढ़ ही कृषि से सम्बंधित कामकाज हैं।

यही कारण है की वर्तमान में केंद्र एवं राज्य सरकारों की कोशिश कृषि से जुड़े व्यापारों को बढ़ावा देना है। वह इसलिए ताकि ग्रामीण भारत की अर्थव्यवस्था को भी मजबूत बनाया जा सके। और रोजगार पाने के लिए जो ग्रामीण भारत से शहरों की तरफ पलायन होता है, उसे कुछ कम किया जा सके। यदि आपको अभी भी हमारी बातें समझ में नहीं आई, तो हम आपको और अधिक सरल शब्दों में समझा देते हैं।

चूँकि ग्रामीण भारत में अधिकतर लोग कृषि कार्य करके ही अपनी आजीविका चलाते हैं, अब यदि कोई उद्यमी उसी इलाके में कुछ कृषि से सम्बंधित व्यापार करता है, तो उसे काम करने के लिए श्रमिकों की आवश्यकता तो होगी ही। इसलिए जो लोग पहले रोजगार की तलाश में शहरों की तरफ पलायन करते थे, वे गांवों में काम मिलने के कारण गाँव में ही रुकना पसंद करेंगे। इसलिए चाहे केंद्र सरकार हो, या राज्य सरकार की कोशिश यही रहती है की ग्रामीण भारत में Agriculture Business को प्रोत्साहित किया जाए।

Agriculture business ideas in hindi

इसके लिए सरकारें समय समय पर अनेकों सब्सिडी योजनाएँ शुरू करती हैं, ताकि ग्रामीण भारत में रह रहा युवा स्वरोजगार की ओर आकर्षित हो। इसलिए यदि आप खुद का कोई बिजनेस शुरू करना सोच रहे हैं, और आपकी पृष्ठभूमि ग्रामीण भारत से है, तो आप यहाँ पर दिए जा रहे कृषि से जुड़े बिजनेस की लिस्ट से किसी बिजनेस का चुनाव करके उस पर आगे बढ़ने का विचार कर सकते हैं। लेकिन इस तरहे के व्यापार शुरू करने से पहले आपको उस विशेष एरिया में कच्चे माल की उपलब्धता, सरकार द्वारा संचालित सब्सिडी योजनाएँ इत्यादि पर भी विचार अवश्य करना चाहिए।

लेख की विषय वस्तु दिखाएँ

कृषि व्यवसाय क्या हैं (What are Agriculture Businesses in Hindi):

Agriculture Business Kya hote hain : ये वे बिजनेस होते हैं, जो कृषि और फार्मिंग गतिविधियों से जुड़े हुए होते हैं। आम तौर पर कृषि वस्तुओं जैसे पशुधन और खेती से सम्बंधित प्रबंधन, उत्पादन और विपणन कृषि व्यवसायों में शामिल होते हैं। कहने का आशय यह है की जब किसी व्यक्ति या किसान द्वारा पशुधन और खेती से सम्बंधित उत्पादन, प्रबंधन, विपणन और बिक्री जैसी गतिविधियाँ की जाती है, तो उसके द्वारा किये गए कार्य को ही कृषि से जुड़ा बिजनेस कहते हैं।

और सरल भाषा में यदि हम कृषि व्यवसायों को समझने की कोशिश करें, तो बकरी पालन, डेयरी फार्मिंग, पोल्ट्री फार्मिंग, मछली पालन, अनाजों की खेती इत्यादि सभी कृषि व्यवसायों के अच्छे उदाहरण हैं।

कृषि व्यवसाय शुरू करने के फायदे

Agriculture Business Karne ke Fayde : कृषि से जुड़े बिजनेस शुरू करने के कई फायदे हो सकते हैं, इनमें से कुछ प्रमुख फायदों की लिस्ट इस प्रकार से है।

1. प्रोजेक्ट लागत का कम होना

कुछ कृषि व्यवसाय ऐसे हैं जिन्हें बेहद कम निवेश के साथ भी शुरू किया जा सकता है। लेकिन इसमें शर्त यह है की शुरू करने वाले उद्यमी या किसान के पास पहले से ही स्वयं की जमीन होनी चाहिए। जैसे यदि उद्यमी डेयरी फार्मिंग करना चाहता है तो वह 10 पशु से नहीं, बल्कि शुरूआती दौर में 2 पशु से भी शुरू कर सकता है। ताकि प्रोजेक्ट लागत बेहद कम हो। इस तरह के व्यवसायों में केवल डेयरी फार्मिंग ही नहीं, बल्कि बकरी पालन, मुर्गी पालन, मशरुम फार्मिंग इत्यादि कई अन्य बिजनेस भी शामिल हैं।    

2. सरकारी योजनाओं का लाभ ले सकते हैं

सरकार द्वारा कृषि व्यवसायों को शुरू करने के लिए विभिन्न प्रसिद्ध सरकारी संस्थानों में प्रशिक्षण भी दिया जाता है। ताकि वे लोग जो खुद का Agriculture Business शुरू करना चाहते हैं, वे उस विशेष क्षेत्र में प्रशिक्षण प्राप्त करके अपने व्यवसाय को सुचारू ढंग से चलाने में सक्षम हो सकें। मार्केटिंग प्रशिक्षण के प्रमुख अवयवों में से एक है। कहने का आशय यह है की कृषि व्यवसायों को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार द्वारा केवल प्रशिक्षण कार्यक्रम ही नहीं चलाये जाते, बल्कि अनेकों ऋण योजनाएँ, मार्केटिंग योजनाएँ इत्यादि भी चलायी गई हैं।    

3. नाबार्ड इत्यादि से सब्सिडी लोन ले सकते हैं

नाबार्ड की कई योजनाएँ जैसे डेयरी उद्यमिता एवं विकास योजना, कृषि क्लीनिक और कृषि व्यवसाय केंद्र योजना (एसीएबीसी), राष्ट्रीय पशुधन मिशन – उद्यमिता विकास और रोजगार सृजन (एनएलएम-ईडीईजी) इत्यादि योजनाएँ शुरू हैं। जिन योजनाओं के तहत कृषि से सम्बंधित विभिन्न व्यवसायिक गतिविधियाँ करने के लिए सब्सिडी ऋण मुहैया कराये जाते हैं। ताकि किसान एवं उद्यमी कृषि से जुड़े बिजनेस शुरू करने में दिलचस्पी दिखाएँ।   

4. ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में सहायक

आम तौर पर कृषि व्यवसाय ग्रामीण क्षेत्रों से सम्बंधित होते हैं, वह इसलिए क्योंकि ग्रामीण भारत में लोगों की आजीविका कृषि कार्यों पर ही निर्भर होती है। यही कारण है की बड़े उद्यमी भी यदि कृषि से सम्बंधित व्यवसायिक गतिविधियाँ करना चाहते हैं, तो वे ऐसे एरिया का ही चयन करते हैं। जहाँ उन्हें कच्चा माल पर्याप्त मात्रा में उचित दामों में मिल सके। इसलिए वे ग्रामीण भारत में ही अपना कारखाना लगाते हैं, जिससे वहाँ की अर्थव्यवस्था मजबूत होती है।   

5. शहरों की तरफ होने वाले पलायन को रोकने में मददगार

यदि आप अपने गाँव में कोई कृषि से सम्बंधित व्यवसायिक गतिविधि के जरिये कोई बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो आप केवल खुद का ही पलायन नहीं रोक रहे हैं। बल्कि उन लोगों को भी शहर की तरफ पलायन होने से रोक रहे हैं, जो काम की तलाश में शहरों की तरफ निकल पड़ते हैं। क्योंकि यदि आप गाँव में Agriculture Business शुरू करते हैं, तो आपको गाँव के लोगों को काम पर रखने की भी आवश्यकता होगी। जिससे वे शहरों की तरफ पलायन नहीं करेंगे, क्योंकि उन्हें गाँव में ही काम मिल चुका होगा।

कृषि से जुड़े लाभकारी बिजनेस आईडिया

Profitable Agriculture Business Ideas in Hindi : आम तौर पर ऐसे लोग जो बेहद कम निवेश के साथ खुद का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, और यह भी चाहते हैं की वे अपना व्यापार अपने गाँव से ही शुरू करेंगे। ऐसे लोगों की पहली पसंद कृषि से जुड़े बिजनेस ही होते हैं। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए हम यहाँ पर कुछ बेहद लाभकारी कृषि व्यवसायों की लिस्ट दे रहे हैं।

1. एग्रीकल्चर कंसल्टेंसी सर्विस (Agriculture Consultancy Business)

जानकार लोग इस Agriculture Business को नाममात्र निवेश के साथ आसानी से शुरू कर सकते हैं। इसमें कोई दो राय नहीं की इस पृथ्वी पर पैदा होने वाले सभी खाद्य पदार्थ कृषि की ही देन है, और खाद्य सम्बन्धी आवश्यकता मनुष्य की कभी भी पूरी होने वाली नहीं है, अर्थात उसे मरते दम तक भोजन की आवश्यकता होती ही होती है।

केवल भोजन ही नहीं बल्कि पहनावे, रहन सहन इत्यादि में भी कृषि उत्पादों का अहम् योगदान है। अब जैसे जैसे लोगों की आवश्यकताएं बदल रही हैं वैसे वैसे कृषि करने के तरीके भी बदल रहे हैं, वर्तमान में कृषि करने के लिए भी आधुनिक उपकरण उपयोग में लाये जाने लगे हैं।

उपकरणों के अलावा खाद, कीटनाशक, फसलों के लिए उपयुक्त मिटटी, वर्षा पानी इत्यादि की जानकारी होना किसान के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। लेकिन दुर्भाग्यवश अभी हमारे देश में किसान आधुनिक नहीं हुआ है, कई ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ आज भी परम्परागत कृषि की जाती है। ऐसे में यदि आपको कृषि एवं कृषि उपकरणों, खाद, मिटटी इत्यादि की सही जानकारी है, तो आप खुद का एग्रीकल्चर कंसल्टेंसी बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

इस व्यवसाय में आपके मुख्य ग्राहक के तौर पर किसान रहने वाले हैं, जो अपनी उपज को बढ़ाने एवं सुरक्षित करने के लिए हमेशा प्रयासरत रहते हैं। इस Agriculture Business में आपको किसानों को किस मिटटी में कौन सी फसल होगी, खाद, पानी, कौन सा कीटनाशक इस्तेमाल में लायें कौन सा नहीं, आधुनिक उपकरणों इत्यादि के बारे में सलाह देनी होती है।       

2. गुलाब की खेती (Roase Farming Business)

गुलाब के फूलों का इस्तेमाल केवल गुलदस्ते बनाने के लिए नहीं किया जाता है, बल्कि मनुष्य की बदलती जीवनशैली में फूलों का महत्व चाहे गुलाब के फूल हों, या कोई अन्य बहुत अधिक बढ़ गया है। गुलाब के फूलों का इस्तेमाल गुलाब जल, गुलाब का तेल, गुलकंद बनाने के लिए तो किया ही जाता है, इसके अलावा शादी समारोहों में डेकोरेशन के तौर पर भी इनका इस्तेमाल किया जाता है। और यह तो हम सब जानते हैं की पूजा पाठ और सामाजिक समारोहों और उपहार के तौर पर भी गुलाब के फूलों को दिया जाता है।

इसलिए यदि आप खुद का कोई कृषि से जुड़ा बिजनेस शुरू करने की सोच रहे हैं तो गुलाब की खेती का व्यवसाय भी बेहद उपयुक्त हो सकता है। लेकिन ध्यान रहे इस तरह का यह व्यापार करने के लिए आपके पास खुद की खेती की जमीन होनी आवश्यक है।      

3. खाद बांटने की एजेंसी (Fertilizer Distribution Agency)

यह तो हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की किसानों को अपनी फसल के लिए खाद की आवश्यकता होती है। और किसानों को यह खाद उचित दरों पर प्राप्त हो सके इसके लिए इसके भण्डारण और वितरण का नियंत्रण सरकार ने अपने हाथों में लिया हुआ है। ऐसे में यदि आप खाद वितरण एजेंसी शुरू करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको सरकारी मानकों को मानते हुए इसके लिए आवेदन करना होगा।

यह कृषि व्यवसाय जोखिम रहित है अर्थात इसमें किसी प्रकार का जोखिम इसलिए नहीं है, क्योंकि जिस भी स्तर पर उद्यमी खाद वितरण एजेंसी प्राप्त करता है, उस निश्चित एरिया में किसी और को वह एजेंसी नहीं दी जाती है। इसलिए उस एरिया में स्थित सभी किसान वहीँ से खाद लेते हैं।     

4. भेड़ पालन (Sheep Farming)

हालांकि इसमें कोई दो राय नहीं की भेड़ पालन दुनिया में सदियों से किया जा रहा व्यवसाय है, इसलिए यह भी कृषि के परम्परागत व्यवसायों में शामिल है। भेड़ एक पालतू पशु है जो मनुष्य की मांस सम्बन्धी मांग को तो पूरा करता ही है, साथ में ऊन और दूध की माँग की भी पूर्ति करता है। भेड़ पालन भले ही सदियों से किया जा रहा हो, लेकिन वर्तमान में व्यवसायिक तौर पर इसके तरीके बदल गए हैं। और यह व्यवसाय भी उद्यमियों को अच्छा लाभ प्रदान कर रहा है।      

5. रेशम के कीड़ों का पालन

रेशम के कीट पालने की प्रक्रिया तकनिकी रूप से जटिल हो सकती है, इसलिए इस तरह का यह कृषि व्यवसाय शुरू करने से पहले इच्छुक उद्यमी को रेशम कीट पालन की अच्छी एवं उपयुक्त जानकारी होना आवश्यक है। यह जानकारी प्राप्त करने के लिए उद्यमी चाहे तो किसी कृषि विश्वविद्यालय इत्यादि से इसका प्रशिक्षण प्राप्त कर सकता है । या फिर ऐसे उद्यमी जो पहले से यह काम कर रहा हो, उसके साथ काम करके इसका अनुभव प्राप्त कर सकता है।

6. मोती की खेती (Pearl Farming Business)

यद्यपि उद्यमी चाहे तो इस व्यवसाय को किसी अन्य कृषि से जुड़े बिजनेस के साथ सह व्यवसाय के तौर पर भी शुरू कर सकता है। लेकिन इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए भी मोती पालना और उनसे मोती निकालने की अच्छी जानकारी होना अति आवश्यक है। एक आम किसान या उद्यमी के लिए मोती की खेती करना अत्यंत जटिल हो सकता है। इसलिए उचित व्यवहारिक जानकारी के बाद ही किसी व्यक्ति को इस बिजनेस को शुरू करने की हिमाकत करनी चाहिए।    

7. पौंधों की नर्सरी का काम

आजकल घरों की चारदीवारी में और घरों के अन्दर, ऑफिस के अन्दर एवं बाहर गमलों में छोटे छोटे पौंधे रखना एक फैशन सा हो गया है। आप किसी भी आलिशान बंगले, होटल, घर, ऑफिस में चले जाएँ आपको जगह जगह पर गमलों में छोटे छोटे पौंधे दिखाई देंगे। इसके अलावाघरों, ऑफिस इत्यादि के गार्डन में भी विभिन्न प्रकार के पौंधे दिखाई देते हैं। ऐसे में आप चाहें तो Agriculture Business के तौर पर पौंधो की नर्सरी का बिजनेस शुरू कर सकते हैं।     

8. सूअर पालन करना

भारत में भी अनेकों उद्यमी व्यवसायिक तौर पर सूअर पालन बिजनेस शुरू करके अच्छी कमाई कर रहे हैं। वह इसलिए क्योंकि यहाँ मीट प्रदान करने वाली सूअरों की अच्छी नस्ल को आसानी से पाला जा सकता है। वैश्विक स्तर पर सूअर के मीट की अच्छी माँग है । और चूँकि अन्य जानवरों की तुलना में सूअर बड़ी तीव्र गति से बढ़ते हैं, इसलिए ये बेहद कम समय में ही मीट के योग्य हो जाते हैं। इसलिए यह व्यवसाय भी कमाई का अच्छा स्रोत हो सकता है ।   

9. बतख पालन बिजनेस

बतख पालन बिजनेस शुरू करने से पहले उद्यमी को यह पता होना चाहिए की वह इस बिजनेस को अंडे उत्पादन करने के उद्देश्य से शुरू कर रहा है, या मांस उत्पादन करने के उद्देश्य से । वह इसलिए क्योंकि दुनियाँ में बतखों की अंडे देने वाली और मांस देने वाली अनेकों नस्लें पायी जाती हैं। जब उद्यमी को उसका उद्देश्य पता रहेगा, तभी वह नस्ल का चुनाव कर पाएगा। 

10. मधुमक्खी पालन (Bee Farming)

शहद से कई तरह की दवाइयाँ बनती हैं, तो वही लोग शहद का इस्तेमाल अनेकों छोटी बड़ी समस्याओं में होम रेमेडी के तौर पर भी करते हैं। इसके अलावा कई ऐसे खान पान की वस्तुएं भी हैं जिनमें शहद का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में यदि आप चाहें तो मधुमक्खी पालन बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं। मधुमक्खी भी डंक मारने वाली जीव है, इसलिए इस तरह का यह बिजनेस शुरू करने से पहले भी उचित प्रशिक्षण अवश्य लिया जाना चाहिए।

11. एलोवेरा फार्मिंग

एलोवेरा यानिकी घृतकुमारी का इस्तेमाल अनेकों प्रकार की दवाइयां एवं कॉस्मेटिक तथा ब्यूटी प्रोडक्ट बनाने में भी किया जाता है। यही कारण है की वर्तमान में एलोवेरा की माँग बड़ी तीव्र गति से बढ़ रही है। यदि आपके पास आपकी खुद की खेती की जमीन उपलब्ध है तो आप एलोवेरा फार्मिंग बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं।

वर्तमान में बहुत सारे किसान एवं उद्यमी इस तरह का Agriculture Business विभिन्न दवाई बनाने वाली कम्पनियों एवं कॉस्मेटिक और ब्यूटी प्रोडक्ट बनाने वाली कम्पनियों के साथ टाई अप करके अच्छी खासी कमाई कर रहे हैं।    

12. मशरुम फार्मिंग (Mushroom Farming Business)

बाज़ारों में मशरुम की जितनी अधिक माँग है सप्लाई उससे कहीं कम है। यही कारण है की इस तरह का यह व्यवसाय भी बेहद कम पैसों के साथ आसानी से शुरू किया जा सकता है।

हाँ इतना जरुर है की मशरुम जमीन पर उगने वाली फसल नहीं है, बल्कि यह एक फंफूंद होती है जो बंद कमरों में प्लास्टिक के बैगों में पराली इत्यादि भरकर आसानी से उगाई जा सकती है। मशरुम फार्मिंग बिजनेस शुरू करने से पहले इस बातका निर्णय अवश्य ले लें की आप मशरुम का कौन सा प्रकार उगाना चाहते हैं।     

13. मिटटी की जाँच करने वाली लैब का बिजनेस

जहाँ पहले पारम्परिक रूप से कृषि की जाती थी, अर्थात किसी विशेष सीजन में विशेष फसल ही किसान बोता था, अब भले ही चाहे वह फसल हो या न हो। वर्तमान में हो रहे जलवायु परिवर्तनों के कारण पारम्परिक कृषि पर गहरा आघात पहुँचा है।

इसलिए आज का किसान यह जानने को लालायित रहता है की उसे कौन सी खेत की मिटटी में कौन कौन सी फसलें अच्छी हो सकती है। इसका पता मिटटी की जाँच के बाद आसानी से लगाया जा सकता है। यह Agriculture Business आधुनिक कृषि को सपोर्ट करता है, इसलिए मिटटी की जाँच करने वाली लैब की सफलता की अधिक संभावनाएँ हैं।    

14. बकरी पालन (Goat Farming Business)

बकरी पालन तो मनुष्य सदियों से करता आ रहा है, लेकिन आधुनिक बकरी पालन पुरानी पद्यतियों को सपोर्ट नहीं करता है। जहाँ पहले बकरियों को किसी चारागाह में चराने ले जाया जाता था, वर्तमान में उद्यमी गोट फार्म के अन्दर ही बकरियों के खाने पीने रहने का उचित प्रबंध करके, उन्हें जल्दी से मांस योग्य बनाकर अच्छा ख़ासा लाभ कमा रहे हैं। यह व्यवसाय आम कृषि व्यापारों की लिस्ट में शामिल है। लेकिन वर्तमान में आधुनिक बकरी पालन पद्यति प्रचलित है।   

15. मुर्गी पालन (Poultry Farming Business)

आम तौर पर पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस उद्यमियों द्वारा अंडे या मांस या फिर दोनों उत्पादन करने के उद्देश्य से किया जाता है। इस तरह का यह बिजनेस भी आधुनिक रूप से करने के लिए उद्यमी को पक्षियों के रहन सहन, खान पान, बीमारियों, टीके इत्यादि का भी विशेष ध्यान रखना होता है। ताकि वे कम समय में ही अच्छा ग्रोथ कर सकें और उद्यमी उन्हें बेचकर पैसे कमा सके ।   

16. चिकन हैचरी (Chicken Hatchery Business)

यदि आप इस व्यवसाय के बारे में नहीं जानते हैं तो आपको बता दें की यह एक ऐसा बिजनेस है , जहाँ कृत्रिम रूप से अण्डों से चूजे बनाए जाते हैं। इसलिए चिकन हैचरी बिजनेस शुरू करने में तुलनात्मक तौर पर थोड़ा अधिक निवेश की आवश्यकता हो सकती है। इस व्यवसाय में उद्यमी के ग्राहक के तौर पर मुख्य रूप से पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय करने वाले उद्यमी होते हैं। क्योंकि उन्हें चूजे खरीदकर अपने फार्म में वयस्क मुर्गों में तब्दील करना होता है। इसलिए इसे B2B Agriculture Business भी कह सकते हैं।      

17. जैविक खेती

जैविक खेती जिसमें कृषि उपज को उगाने के लिए कीटनाशक इत्यादि का इस्तेमाल नहीं किया जाता है, केवल जैविक खाद का इस्तेमाल करके उपज को उगाया जाता है। आम खेती से उत्पादित उत्पादों की तुलना में जैविक खेती से उत्पादित उत्पादों की कीमत अधिक होती है । और चूँकि जैविक खेती से उत्पादित उत्पाद सेहत के लिए अधिक फायदेमंद होते हैं, इसलिए इनकी माँग भी शहरों में सबसे अधिक है। यह व्यवसाय आज के जमाने का व्यवसाय है ।

18. पोल्ट्री फीड बिजनेस

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की पोल्ट्री फार्मिंग व्यवसाय करने वाले उद्यमी पक्षियों की उचित ग्रोथ के लिए उन्हें पोषण से भरपूर खाना खिलाने के लिए प्रयासरत रहते हैं। इसलिए एक ऐसा क्षेत्र जहाँ पर पोल्ट्री फार्म्स की भरमार है उसके नज़दीक पोल्ट्री फीड बिजनेस शुरू करना लाभकारी हो सकता है।

इस कृषि से जुड़े बिजनेस में भी उद्यमी के मुख्य ग्राहक के तौर पर मुर्गी फार्म के मालिक ही रहने वाले हैं, इसलिए यह भी एक B2B बिजनेस है।   

19. मछली पालन का व्यापार

मछली पालन व्यापार भी ऐसे Agriculture Business की लिस्ट में शामिल है, जिन्हें शुरू करने के लिए सरकारें सब्सिडी ऋण प्रदान करती हैं। इसलिए कोई भी इच्छुक किसान जो खुद का कोई बिजनेस शुरू करना चाहता है वह मछली पालन शुरू कर सकता है। लेकिन उससे पहले उद्यमी को चाहिए की वह मछली पालन व्यवसाय की उचित प्रशिक्षण प्राप्त कर ले। कुछ राज्य सरकारें किसानों को इस तरह का प्रशिक्षण मुफ्त में भी मुहैया करा रही हैं।   

20. खरगोश पालन (Rabbit Farming)

हमारे देश की जलवायु विभिन्न नस्ल के खरगोश पालने के लिए उपयुक्त है, इसलिए आप चाहें तो खुद का खरगोश पालन बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं। खरगोशों का इस्तेमाल आम तौर मीट और घरेलु Pet के तौर पर किया जाता है । बाजार में इसके मीट की अच्छी मांग है और यह अन्य मीट की तुलना में महँगा भी है। चूँकि यह एक छोटा जानवर होता है, इसलिए इस व्यवसाय को बेहद कम जमीन में भी शुरू किया जा सकता है ।  

21. डेयरी फार्मिंग

पशुपालन तो लोग सदियों से करते आ रहे हैं, ग्रामीण भारत में आज भी हर घर के आँगन में कोई न कोई पशु जैसे गाय, भैंस, बैल, घोड़ा इत्यादि देखने को मिल जाते हैं। डेयरी फार्मिंग बिजनेस की यदि हम बात करें तो यह दुधारू जानवरों को पालने का आधुनिक तरीका है। इस तरह के Agriculture Business में उद्यमी गाय या भैंस जो की दूध देने वाले जानवरों की लिस्ट में प्रमुख हैं। को उनके लिए उपयुक्त आवास, खान पान की व्यवस्था करके पालता है। और फिर उनसे उत्पादित दूध को बेचकर पैसे कमाता है ।   

Agriculture Business पर सवाल जवाब

सबसे फायदेमंद कृषि व्यवसाय कौन सा है?

वर्तमान में एलोवेरा एवं अन्य औषधीय खेती से जुड़े उत्पादों की माँग बढती जा रही है। इसलिए ऐसी कोई भी खेती जो औषधीय जड़ी बूटियों के उत्पादन से जुड़ी हो फायदेमंद है।

क्या मैं इन व्यापारों को गाँव से भी शुरू कर सकता हूँ?

जी हाँ, जितने भी कृषि व्यापारों की लिस्ट हमने यहाँ पर दी हुई है, उन सबको गाँवों से भी आसानी से शुरू किया जा सकता है।

क्या Agriculture Business शुरू करने में सरकारें भी मदद करती हैं?

कई राज्यों की सरकारें मछली पालन, डेयरी फार्मिंग, खाद्य प्रसंस्करण या भौगौलिक पृष्ठभूमि के हिसाब से अनुकूलित कृषि व्यवसाय शुरू करने के लिए सब्सिडी ऋण एवं अन्य सहायता भी उपलब्ध कराती हैं।

मेरे पास पैसे नहीं हैं? मैं कृषि व्यवसाय कैसे शुरू करूँ?

ग्रामीण इलाकों से पलायन रोकने के लिए और रोजगार बढ़ाने के लिए केंद्र एवं राज्य सरकारों की ओर से अनेकों योजनाएँ शुरू की गई हैं। आप राज्य के कृषि विभाग, जिला उद्योग केंद्र और नाबार्ड से सब्सिडी ऋण योजनाओं की जानकारी ले सकते हैं।