iKamai-Kamai Tips In Hindi

Gel Pen Ink Manufacturing जैल पेन की स्याही बनाने के उद्योग की जानकारी.

Gel Pen Ink अन्य लिखने की स्याहियों जैसे Ball Point Pen , fountain pens इत्यादि में उपयोग में लायी जाने वाली स्याही से अलग होती है | कहने का तात्पर्य यह है की Ball Point pen में प्रयुक्त होने वाली स्याही Liquid अर्थात तरल स्वरूप में होती है जबकि Gel Pen Ink जैल स्वरूप में होती है | Gel Ink सामान्य स्याही की तुलना में थोड़ी गाढ़ी अर्थात मोटी एवं अपारदर्शी होती है | साधारण स्याही Pens से कभी ज्यादा निकलती है तो कभी कम लेकिन Gel Ink एक Balancing quantity में Refill से बाहर आती है | यही कारण है की Gel Pens एक साधारण Ball Point pens की तुलना में ज्यादा smooth होकर चलता है | यह इसलिए होता है क्योंकि Gel ink को विभिन्न dyes या पिगमेंट से तैयार किया जाता है | यद्यपि इस Gel Ink से लिखी जाने वाली लिखावट Rich एवं बोल्ड होती

Mutual fund Investment options म्यूच्यूअल फंडों में निवेश के विकल्प

Mutual fund Investment options की बात करें तो म्यूच्यूअल फंडों की विभिन्न योजनाओं में सामान्यतः निवेश करने के विभिन्न विकल्प होते हैं जिनका संक्षेप में वर्णन हम निम्नांकित तौर पर करेंगे | म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने वाले निवेशकों को इन्ही Mutual fund Investment options में से किसी एक का चुनाव करके उसमे निवेश करना होता है | म्यूच्यूअल फंडों में निवेश के विकल्पों को मुख्य रूप से तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है जिनका वर्णन हम निम्नवत करेंगे और इन तीन विकल्पों में से ही निवेशक को किसी एक विकल्प का चुनाव करके निवेश करना होता है | तो आइये जानते हैं उन तीन मुख्य निवेश विकल्पों के बारे में | Dividend Options (लाभांश का विकल्प): यदि किसी निवेशक द्वारा Mutual fund Investment options में इस विकल्प का चुनाव किया जाता है तो फण्ड मैनेजर म्यूच्यूअल फण्ड से होने वाली कमाई को निवेशकों के बीच लाभांश

Face wash Manufacturing Business – फेस वाश बनाने का काम.

आज लघु उद्योग की इस श्रेणी में हम Face wash Manufacturing Business पर वार्तलाप करने वाले हैं ब्यूटी एंड कॉस्मेटिक की उपश्रेणी में हम इससे भी पहले कई लेख लिख चुके हैं, और आगे भी लिखते रहने की हमारी कोशिश यथावत जारी रहेगी | हालांकि वर्तमान में ब्यूटी एवं कॉस्मेटिक में सैकड़ों आइटम मार्किट में उपलब्ध रहते हैं और जो बड़ी संख्या में बिकते भी हैं, इन्ही ब्यूटी एवं कॉस्मेटिक उत्पादों में से एक उत्पाद होता है फेस वाश यानिकी इसे साधारण तौर पर हम मुहं धोने की क्रीम या पदार्थ भी कह सकते हैं | जहाँ भारत में पहले अधिकतर लोगों का जीवन कृषि एवं फार्मिंग से जुड़े हुए कार्यों पर निर्भर रहता था इसलिए ऐसे कार्यों में शारीरिक मेहनत अधिक होने के चलते लोगों को सजने संवरने का कम ही समय मिला करता था, इसलिए लोग सौन्दर्य प्रसाधनों की तरफ कम ही आकर्षित होते थे | और

म्यूच्यूअल फंडों की कमियां Disadvantages of mutual funds in Hindi

जैसा की हर निवेश के कुछ लाभ होते हैं तो कुछ कमियां भी होती हैं ठीक इसी प्रकार म्यूच्यूअल फंडों की भी कुछ कमियां होती हैं जिनका उल्लेख आज हम हमारे इस लेख म्यूच्यूअल फंडों की कमियाँ नामक शीर्षक में करेंगे | ताकि कोई भी निवेशक म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश करने से पहले अर्थात म्यूच्यूअल फंडों को अपनी बचत सौपने से पहले इनका आकलन करके अर्थात इन पर विचार करके निर्णय ले सके | तो आइये जानते हैं म्यूच्यूअल फंडों की कमियों के बारे में जिनका उल्लेख निम्नलिखित है | जैसा की निवेशक जानते ही हैं की वर्तमान में कोई भी निवेश जोखिम रहित नहीं है इसलिए ठीक इसी प्रकार म्यूच्यूअल फण्ड भी जोखिम से अछूते नहीं हैं | क्योंकि अक्सर देखा गया है की म्यूच्यूअल फंडों की अधिकांश योजनायें शेयर बाजार से प्रभावित होती हैं | और यह सत्य है की शेयर बाजार में निश्चित तौर पर कुछ

Notebook Manufacturing Business की इनफार्मेशन

Notebook Manufacturing business की यदि हम बात करें तो यह फोटोकॉपी एवं बुक बाइंडिंग बिज़नेस जैसा ही बिज़नेस है, क्योंकि Notebook यानिकी सामान्य तौर पर कॉपी कही जाने वाली इस वस्तु का उपयोग विद्यार्थियों या अन्य व्यक्तियों द्वारा लिखने के उद्देश्य से किया जाता है | हालांकि इससे पहले हम स्टेशनरी से रिलेटेड बिज़नेस जैसे स्टेशनरी एवं बुक स्टोर कैसे खोलें, जैम क्लिप बनाने का काम, पेपर पिन बनाने का काम इत्यादि पर भी वार्तालाप कर चुके हैं | लेकिन क्योंकि नोटबुक एक ऐसी स्टेशनरी आइटम है जिसका उपयोग न सिर्फ स्कूलों, कॉलेजों एवं अन्य शैक्षणिक संस्थानों में किया जाता है, बल्कि Notebook का उपयोग इस कंप्यूटर युग में भी बड़े बड़े कार्यालयों में कर्मचारियों द्वारा अपने नोट्स लिखने के लिए भी किया जाता है | भारतवर्ष की बात करें तो जहाँ पहले माता पिता द्वारा केवल लड़कों को स्कूल भेजा जाता था वही वर्तमान में 14 वर्ष तक