Gur Ya Jaggery Making. गुड़ बनाने का घरेलू तरीका ।

Gur Ya Jaggery से शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति हो जो अनभिज्ञ हो, जी हाँ दोस्तों गुड़ का उपयोग मनुष्य सदियों से अपने खाने में करता आया है। आज भी इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की मिठाइयाँ एवं मीठे पकवान इत्यादि बनाने में किया जाता है। इसका इस्तेमाल हम ठीक उसी प्रकार करते हैं जिस प्रकार चीनी का। यानिकी गुड़ का इस्तेमाल भी मीठे पकवान, हलवा इत्यादि बनाने के लिए किया जाता है। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से Gur Ya Jaggery बनाने की प्रक्रिया के बारे में जानेंगे। लेकिन उससे पहले यह जान लेते हैं की यह गुड़ होता क्या है।

Gur Ya Jaggery क्या है

गुड सुनहरा भूरा रंग का या गहरा भूरा रंग का एक मीठा पदार्थ है जो अधिकतर गन्ने के जूस से बनाया जाता है । कही कही पर गुड का उत्पादन अन्य फलों के जूस जैसे अनार और पेड़ के रस जैसे ताड के पेड़ के रस से भी किया जाता है । लेकिन अधिकतर तौर पर या व्यवसायिक तौर पर इसका उत्पादन गन्ने के रस से ही किया जाता है ।

इस पदार्थ गुड में लगभग 90% तक कार्बोहायड्रेट पाया जाता है । इस पदार्थ का अधिकतर उपयोग एशियाई देशों जैसे चीन, भारत, जापान, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफ़्रीकी देशो जैसे नाइजीरिया, इथोपिया, दक्षिण अफ्रीका,अंगोला, तंजानिया, इत्यादि देशो में किया जाता है ।

Gur Ya Jaggery का उपयोग :

Gur का उपयोग आप किसी भी खाने में कर सकते हैं । जिस खाने को आप मीठा बनाना चाहते हैं । ग्रामीण इलाको में इसका उपयोग चाय के साथ और घर में अन्य मीठे पकवान जैसे खीर, हलुवा इत्यादि बनाते समय भी किया जाता है ।

Gur-Jaggery-produce-from-Sugarcane's-juice
Gur-Jaggery-produce-from-Sugarcane’s-juice

यदि आप किसी ऐसे क्षेत्र से रहने वाले हैं । जहाँ गन्ने की पैदावार अच्छी होती है । और आपको वहां पर गन्ना सही समय पर सही दामो में मिल जायेगा । तो आप गुड बनाने वाली फैक्ट्री का शुभारम्भ कर सकते हैं ।

और यदि आपके पास मशीनरी एवं अन्य उपकरण खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं । तो आप यह काम घर से भी कर सकते हैं । लेकिन इसके लिए आपको अपना उत्पाद बाजार में लाने से पहले  FSSAI (Food Safety and Standards Authority Of India) से अनुमोदन पत्र लेना होगा । और हमारी सलाह यह है । की हम आपको घर में गुड बनाने का तरीका बता रहे हैं । इसलिए सबसे पहले इस तरीके को आप अपने व्यक्तिगत स्तर पर अपनाएं । और जब आपको पूर्ण रूप से खुद पर विश्वास हो जाय । की आप यह काम कर सकते हैं । और तब आप आगे की सोच सकते हैं । और उसके बाद आर्थिक सहयोग की बात है । लघु उद्योगो को प्रोत्साहित करने के लिए भारत सरकार द्वारा चालित योजना का आप लाभ उठा सकते हैं ।

घरेलू तौर पर गुड़ बनाने का तरीका:

आपने सड़क के किनारे खड़े होकर बहुत बार गन्ने का जूस पिया होगा । जी हाँ दोस्तों सड़क किनारे गन्ने का जूस बेचने वाला जूस निकालने के लिए जिस मशीन का उपयोग करता है । वही मशीन आपको भी चाहिए ।

आजकल गन्ने का जूस निकालने वाली इलेक्ट्रॉनिक मशीनें भी बाजार में उपलब्ध हैं । लेकिन अगर आप यह कार्य सस्ते में शुरू करना चाहते हैं । तो जिस मशीन के चक्के को हमें हाथ से घुमाना पड़ता है । वह मशीन उचित रहेगी ।

बहरहाल विषय यह नहीं है । की हम कौन सी मशीन का उपयोग करके गन्ने का जूस निकाले । लेकिन प्रथम प्रक्रिया यही है की हम गन्ने का जूस निकालें । यदि आपने व्यक्तिगत तौर पर  प्रयोग हेतु Gur Ya Jaggery Banana सीखना है । तो मशीन का वह पाइप जिससे जूस निकलता है । उसके मुहाने पर एक छोटा सा पतीला रखे । और उसके ऊपर एक साफ सा कपड़ा रखें । ताकि जूस डायरेक्ट पतीले में न गिरके कपडे में गिरे और कपडे से छन के फिर पतीले में जाय । Gur (Jaggery) एक मौसमी उत्पाद है । जिसका उत्पादन दिसंबर से होकर मार्च तक चलता है । पानी को गाढ़ा बनाने के लिए । सुखलाई के पोधे के रस और अन्य पेड़ पोधों के रस का इस्तेमाल किया जाता है ।

उसके बाद एक पतीले में जूस को गरम किया जाता है । जूस को गरम करते समय पतीले में बन रहे झाग को निकालते रहें । इस क्रिया को चलने दें । और बाद में जूस में सुखलाई के पौधे का रस मिला दें । उसके बाद थोड़ी देर और पदार्थ को हिलाते रहें । उसके बाद ठंडा करने हेतु किसी चौड़ी परात में निकाल लें । थोड़ी देर ठंडा होने के बाद आप इसको अपने मन मुताबिक आकार में परिवर्तित कर सकते हैं । सुखलाई के पौंधे के रस की मात्रा कुछ इस प्रकार से मिलाएं । यदि आपने 100 कप जूस निकाला है । तो आपको 1 कप सुखलाई के पौधे का रस इसमें मिलाना पड़ेगा । सुखलाई के पौंधे का रस पानी को सूखा देता है ।

ध्यान दें : आप उपर्युक्त विधि का उपयोग, प्रयोग हेतु अपने घर में कर सकते हैं । लेकिन यदि आप बाज़ार हेतु Gur Ya Jaggery का उत्पादन करने जा रहे हैं । तो पहले इस क्षेत्र से जुड़े हुए लोगो से अवश्य राय परामर्श लें । और हो सके तो जहाँ  Gur (Jaggery) बनती हो उस लघु उद्योग/कुटीर उद्योग का भी भ्रमण अवश्य करके आयें ।

यह भी पढ़ें:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

8 thoughts on “Gur Ya Jaggery Making. गुड़ बनाने का घरेलू तरीका ।

  1. सर गुड़ बनाने के लिए क्या सुखलाई के पौधे के रस की जगह हम कुछ और मिला सकते हैं क्या??
    कृपया जानकारी अवश्य दें।
    धन्यवाद।

  2. Sir me gur ka udyog chalu karna chahata hu is k bare me adhik jankari kaise milegi. Jaise ki Govt. Scheme for loan and knowledge.

  3. aap mujhe laghu udyog chalu karne ke liye aur saari jankari dijiye mai laghu udyog chalu karna chahta hu jaise machis banane ke jaankari dijiye

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *