मुर्गी फार्म बिजनेस कैसे शुरू करें। How to start Poultry Farming in Hindi.

हालांकि जब भी Poultry Farming Business की बात आती है तो लोगों को लगता है की उन्हें इस तरह के कृषि आधारित बिजनेस को शुरू करने के लिए अधिक मेहनत एवं निवेश की आवश्यकता नहीं होगी । जो थोड़ा बहुत सच भी है लेकिन भले ही अन्य बिजनेस की तुलना में इस तरह का बिजनेस शुरू करने में निवेश थोड़ा कम लगता हो लेकिन मेहनत तो बहुत अधिक लगती है। उद्यमी चाहे तो इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करने से पहले सेंट्रल पोल्ट्री डेवलपमेंट आर्गेनाइजेशन से इसका प्रशिक्षण भी प्राप्त कर सकता है।

इसलिए यदि उद्यमी इस बिजनेस को सफलतापूर्वक स्थापित करके कमाई करना चाहता है तो उसे खुद का मुर्गी फार्म बिजनेस स्थापित करने के लिए अनेकों प्रक्रियाओं से होकर गुजरना पड़ सकता है। अर्थात उसे इस तरह का बिजनेस स्थापित करने के लिए अनेकों कदम उठाने की आवश्यकता हो सकती है जिनमें से कुछ प्रमुख क़दमों का संक्षिप्त वर्णन निम्नवत है।

1. योजना तैयार करना (Formulation of Business Plan for Poultry Farming):

Business चाहे कोई भी हो चाहे वह Poultry Farming हो या कोई अन्य Business  करने के लिए सर्वप्रथम उसकी Yojana तैयार की जाती है। जिसमे आपके business में लगने वाले पैसो, Business को शुरू करने के लिए जमीन, और business में प्रयोग में लाये जाने वाले उपकरणों का बेहद गहराई से विश्लेषण करना अनिवार्य होता है।

अपना मुर्गी फार्म बिजनेस शुरू करने से पहले आपको अपने Business के लिए लक्ष्य निर्धारित करने होते हैं। अपने खर्चो और Kamai का तुलनात्मक विश्लेषण करना होता है। अपने उत्पाद के लिए बाज़ार का बारीकी से मूल्यांकन करना होता है। इसके अलावा आपको अपनी Murgi Farm की Minimum Productivity अर्थात कम से कम उत्पादन क्षमता तय करनी होगी।

Poultry Farming Business kaise start kare
Murgi-Farm-Business in Hindi

2. वित्त की व्यवस्था (Capital Arrangement for Poultry Farming)

चूंकि आपने अपने मुर्गी फार्म व्यापार को शुरू करने के लिए योजना तैयार कर ली है। इसलिए अब आपको पता चल गया होगा की मुर्गी फार्म व्यापार शुरू करने में कितना खर्चा आ जायेगा । तो दूसरा स्टेप आपका अपने बिजनेस के लिए पैसो का प्रबंध करना होगा।

Capital-arrangement- for Murgi Farm Business
Capital-arrangement- for Murgi Farm Business

पोल्ट्री फार्मिंग के लिए बैंक लोन :

यदि आपके पास अपने बिजनेस के लिए वित्त है तब तो ठीक है लेकिन यदि नहीं है और आप बैंक लोन के बारे में सोच रहे हैं। तो अपना मुर्गी फार्म बिजनेस करने के लिए आपका चौथा कदम अपने मुर्गी फार्म व्यापार के लिए लोन के लिए आवेदन करना होना चाहिए ।

3.  जमीन का चुनाव करना (Land Selection for Poultry Farming)

तीसरा और सबसे महत्वपूर्ण कदम इस बिजनेस के लिए जमीन का चुनाव करना है । जमीन का चुनाव करते समय आपको Local Market में उपलब्ध Murgi Farms और ग्राहक दोनों का विश्लेषण करना होगा। यदि आप अपने शहर से दूर कही और मुर्गियां बेचना चाहते हैं तो परिवहन व्यवस्था को भी आपको ध्यान में रखना होगा। मुर्गी फार्म व्यापार के लिए उचित मात्रा में पीने के पानी का होना अति आवश्यक है। इसलिए आपको अपने Murgi Farm Business के लिए जमीन चयन करते समय इन सब बातों का ध्यान रखना होगा।

4. छप्पर एवं उपकरणों का प्रबंध करना

यदि आपके पास Bank Loan या आपके स्वयं के द्वारा वित्त की व्यवस्था हो गई हो । तो अब आपका पांचवा कदम अपने पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस के लिए, Shedding और equipments खरीदकर Murgi Farm स्थापित करने का होना चाहिए। Murgi Farm स्थापित करते वक़्त आपको Conventional chicken farm और Free Range Chicken Farm में से आप कौन सा चुनना चाहते हैं । का ध्यान रखना पड़ेगा ।

5. मुर्गियों का चयन ( Bird selection for Poultry Farming)

छठा कदम आपका मुर्गियों के चयन का होगा। मुर्गियों के चयन से आशय आप अपने मुर्गी फार्म से क्या उत्पाद करना चाहते हैं, अंडे या मीट। यदि अंडे उत्पादित करना चाहते हैं तो आपको Layer Murgi को अपने Poultry Farming Business का हिस्सा बनाना होगा और यदि आप मीट का उत्पाद करना चाहते हैं तो Broiler Murgiyo को ।  Broiler aur Layer Murgiyo के अपने अपने लाभ और नुकसान होते हैं, इसलिए चयन करने से पहले इनके बारे में जानकारी अवश्य लें।

वैसे यदि आप चाहें तो Broiler और layer दोनों को अपने मुर्गी फार्म बिजनेस का हिस्सा बना सकते हैं। लेकिन यदि आपने Bank Loan लेके अपना Murgi Farm शुरू किया है। तो बैंक को आपको अपने Project Formulation के तहत बताना होगा की आप किस प्रकार की मुर्गियों को अपने पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस का हिस्सा बनाने जा रहे हैं।

6. बिजनेस के लिए बाजार ढूंढना (Find A market for Poultry Farming):

चूंकि आपने अपने Poultry Farming business के लिए मुर्गियों का भी चयन कर लिया है अब अगला कदम, जब तक आपकी मुर्गिया Market Size की होती हैं। इन 35-45 दिनों में आपका कर्तव्य अपनी मुर्गियों या अन्डो को बेचने के लिए बाज़ार (Market)  ढूँढने का है। सबसे पहले अपने लोकल मार्केट को टारगेट कीजिये। क्योंकी यदि आपका उत्पाद लोकल मार्केट में ही बिक जाता है तो Transportation Cost कम हो जाती है।

और आप अपना प्रोडक्ट आसानी से सुरक्षित तौर पर ग्राहक के पास पहुंचा सकते हैं। सबसे पहले अपने आस पास बाजारों में मीट या अन्डो की खपत को जानना जरुरी है। जब आप अपने आस पास बाजारों में मीट या अन्डो की खपत को जान जायेंगे। उसके बाद आपको यह जानना जरुरी हो जाता है की लोग अधिकतर मीट या अंडे कहाँ से खरीदते हैं। मेरे ख्याल से मीट के लिए आप लोकल मीट शॉप और उपलब्ध होटलों को अपने भविष्य के ग्राहक के रूप में देख सकते हैं। और जैसा की हम सबको पता है, अंडे तो लोग किरयाना स्टोर से भी खरीदते हैं।

उसके बाद आपको अपने Murgi Farm की उत्पाद क्षमता का विश्लेषण करना होगा । क्या आपके Murgi Farm की उत्पादन क्षमता लोकल बाजारों से होने वाली मीट और अन्डो की खरीदारी, से अधिक है यदि हाँ तो फिर आपको अन्य शहरों में भी अपने Poultry Farming Business की Marketing करनी होगी ।

Find a Market for Your poultry farming business
Find a Market for Your Murgi Farm Business

7. अपने ग्राहक एवं उपभोक्ता को जानें (Know your customers and Consumers)

कोई भी Business करने के लिए एक Businessman/businesswomen को जरुरी हो जाता है। की वो अपने उत्पाद के ग्राहक (Customers) और उपभोक्ताओ (Consumers) को जाने पहचाने ।

ग्राहक एवं उपभोक्ता में अंतर (Difference Between Customers & consumers) :

एक ग्राहक (Customer) वह व्यक्ति होता है जो आपके उत्पाद को खरीदता है। और  (उपभोक्ता) consumers  वे सब होते हैं जो आपके उत्पाद का उपभोग कर रहे होते हैं। एक ग्राहक (customer)  एक उपभोक्ता (consumer)  भी हो सकता है। लेकिन हर कोई उपभोक्ता (Consumers) ग्राहक (Customer) नहीं हो सकता। उदाहरण  : माना एक A नाम के व्यक्ति ने उसके घर में कोई आयोजन हेतु आपसे 10 Murgiya खरीदी तो A आपका Customer हुआ। लेकिन घर जाकर उसने उन 10 Murgiyo के मीट को 100 लोगो में बांटा। तो वो सारे के सारे 100 लोग आपके उत्पाद के Consumers हुए ।

8. एकाउंटिंग एवं व्यापारिक गतिविधियों का रिकॉर्ड रखें

आप अपने Poultry Farming Business के लिए दो प्रकार के बहीखातों को Maintain कर सकते हैं।

कैश रसीद (Cash Receipt):

Cash receipt के माध्यम से आप नकद राशि देने वाले ग्राहकों का विवरण रख सकते हैं । इस Cash Receipt के हर पेज की तीन प्रतियाँ हों तो सही रहेगा। एक ग्राहक को देने के लिए, एक प्रति अपने प्रतिदिन के नकदी का हिसाब करने के लिए, और एक प्रति आपके Cash Receipt बुक में लगी रहे, तो भविष्य में आप कभी भी उसका विश्लेषण कर सकते हैं ।

Challan book for Monthly base payment:

माना की आपके पास कोई ऐसा ग्राहक है । जिसको आपको अपने उत्पाद की डिलीवरी महीने में तीन चार बार या इससे अधिक बार करवानी पड़ती है। और ग्राहक आपको महीने में एक साथ Payment करता है । तो इस स्तिथि में आपके पास Challan Book होना भी अनिवार्य है। और इस Challan Book की भी प्रत्येक प्रति की तीन प्रतियाँ हों, तो अच्छा रहेगा। एक प्रति ग्राहक को देने के लिए, एक प्रति ग्राहक की Receiving हेतु, और एक प्रति बुक में लगी रहने हेतु ।

बाकी operational Record के लिए आप एक Ordinary रजिस्टर मेन्टेन करवा सकते हैं। जिसमे मुर्गियों के लिए खरीदे जाने वाले Feed का विवरण । मुर्गियों को दाना देने का समय और मात्रा, पीने के पानी की मात्रा और समय, टीकाकरण की तारीख इत्यादि उल्लेखित की जा सकती हैं ।

9. स्थानीय नियमों का पालन करें (Run your poultry farming business under Local Laws):

यह तो निश्चित है की, यदि आप अपना Poultry Farming Business शुरू करेंगे। तो आपको जमीन ऐसी जगह पर लेनी होगी, जो लोकल/राज्य के नियम के मुताबिक मुर्गी फार्म व्यापार के लिए अनुकूल हो । अर्थात आस पास रहने वाले लोगो को आपके पोल्ट्री फार्मिंग बिजनेस से कोई आपत्ति न हो । इसके अलावा अपने Murgi farm के लिए Manpower रखते वक़्त, अपने Murgi farm में Murgiyo को बड़ा करते वक़्त, Murgiyo को Transport करते वक़्त भी आपको लोकल और राज्य के नियमों का ध्यान रखना होगा ।

यह भी पढ़ें:  

Leave a Comment