Plastic Containers Manufacturing Business

Plastic Containers Manufacturing Business

Plastic Containers का उपयोग वैसे तो विभिन्न तरल पदार्थों जैसे लुब्रिकेंट और ग्रीज़ इत्यादि की पैकेजिंग हेतु किया जाता है लेकिन इसका जो सर्वाधिक तौर पर उपयोग होता है वह खाद्य तेल की पैकेजिंग करने हेतु किया जाता है हालांकि इस बात से कतई इंकार नहीं किया जा सकता Plastic containers के आकार के आधार पर इनका उपयोग अनेक दैनिक जीवन में उपयोग होने वाली वस्तुओं के तौर पर किया जाता है लेकिन जब बात 15 लीटर के कंटेनर की आती है तो खाद्य तेलों को पैक करने में ही इसका बहुतायत तौर पर उपयोग किया जाता है | वर्तमान में यदि हम खाद्य तेलों के उपयोग होने की बात करें तो भारतवर्ष विश्व में एक बहुत बड़ा उपभोक्ता खाद्य तेलों का रहा है यहाँ के अधिकतर खान पान में खाद्य तेलों को उपयोग में लाया जाता रहा है | इसलिए इतनी बड़ी मांग को पूरा करने की जब भी बात आती है तो हमेशा खाद्य तेलों की पैकेजिंग एक मुद्दा रही है हालाँकि अभी वर्तमान में भी कुछ खाद्य तेलों की कंपनियां टिन के कंटेनरों का इस्तेमाल इनकी पैकेजिंग के लिए कर रही हैं |

Plastic-containers-manufacturing-business

Plastic Containers Manufacturing Business kya hai:

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में पहले भी बता चुके हैं की Plastic Containers से हमारा आशय प्लास्टिक के डिब्बों से हैं जिनका उपयोग हम घरों में पानी भरने के लिए भी करते हैं और साइज़ के आधार पर इन Plastic containers के अलग अलग उपयोग हैं | लेकिन जब बात 15 लीटर के प्लास्टिक डिब्बों की आती है तो हम अक्सर देखते हैं की जिन डिब्बों को हम घरों में पानी भरने हेत उपयोग में लाते हैं वे या तो खाद्य तेल के होते हैं या फिर अन्य किसी तरल पदार्थ जिसे औद्योगिक या घरेलू क्षेत्र में उपयोग में लाया गया हो | हालांकि Plastic Containers Manufacturing Business B2B बिज़नेस है इसलिए उद्यमी को अपनी फैक्ट्री द्वारा उत्पादित डिब्बे किसी उद्यमी को ही बेचने होते हैं | खाद्य तेल कंपनियों की इसी आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए जब किसी उद्यमी द्वारा Plastic containers बनाने का काम किया जाता है तो हम कह सकते हैं की वह उद्यमी Plastic containers Manufacturing business से जुड़ा हुआ उद्यमी है |

Market Potentials:

जहाँ कुछ साल पहले या कुछ स्थानों में अब भी खाद्य तेल को बिना पैक करके बेचा जा रहा था या टिन के ऐसे कंटेनर जिनको दुबारा उपयोग में भी लाया जा सके में पैक करके बेचा जा रहा था वर्तमान में खाद्य तेल के लोगों के मुताबिक जैसे 1 लीटर, 5 लीटर एवं 15 लीटर की पैकेजिंग विद्यमान है इसमें जहाँ 1 लीटर की पैकेजिंग के लिए बोतल तैयार करने में थोड़े कम मजबूत सामग्री का उपयोग किया गया होता है वही 5 एवं 15 लीटर की पैकेजिंग के लिए डिब्बों का निर्माण करने के लिए High-density polyethylene (HDPE) का उपयोग किया गया होता है | यदि किसी प्रकार का कोई आयोजन जैसे शादी, बर्थडे पार्टी, भंडारा या व्यक्ति अपने घर के लिए एक साथ खाद्य तेल खरीदना चाहता हो तब 15 लीटर का बाकी स्थितियों में 1, 5 लीटर ही लोगों द्वारा ख़रीदा जाता है | खान पान में हो रही लापरवाही या सुरक्षा की दृष्टि से सरकार ने खाद्य पदार्थो की पैकेजिंग के लिए अलग अलग मानक निर्धारित किये हैं जिनका अनुसरण करना हर खाद्य तेल उत्पादकर्ता के लिए जरुरी है | इसलिए वर्तमान में खुला खाद्य तेल यानिकी बिना पैक किया हुआ खाद्य तेल कम ही देखने को मिलता है इसलिए अब तेल उत्पादकर्ता की मज़बूरी है की वह न चाहते हुए भी अपने उत्पाद की पैकेजिंग के लिए Plastic Containers अवश्य खरीदेगा | यदि हम टिन या धातू से निर्मित कंटेनर की बात करें तो प्लास्टिक से निर्मित यह कंटेनर उन डिब्बो से बनाने मेंआसान एवं इधर उधर ले जाने में भी बेहद आसन होते हैं |

Required Machinery and Raw Materials:

जहाँ तक Plastic containers Manufacturing Business में लगने वाले कच्चे माल का सवाल है इसमें मुख्य रूप से उपयोग होने वाला Raw Material High-density polyethylene (HDPE)  के दाने हैं | और उपयुक्त मशीनरी की लिस्ट कुछ इस प्रकार से है |

  • 15 लीटर तक की क्षमता के साथ Extrusion Blow Molding Machine
  • मशीन के साथ कम्प्रेसर |
  • मशीन के साथ कुलिंग टावर |
  • स्क्रैप ग्राइंडर |
  • स्क्रीन प्रिंटिंग मशीन |
  • टेस्टिंग उपकरण एवं अन्य सामग्री |

Manufacturing Process of Plastic Containers:

इन Plastic Containers को extrusion blow molding प्रक्रिया के माध्यम से उत्पादित किया जाता है | सर्वप्रथम कच्चा माल HDPE को मशीन के हॉपर में डाला जाता है  उसके बाद ये दाने सिलेंडर में गर्मी होने के कारण पिघल जाते हैं | यह पिघला हुआ दृव्य्मान Accumulator में संचित होता है | उसके बाद यहाँ से उतना ही पिघला हुआ दृव्य्मान आगे को जाता है जितना निर्धारित किया गया हो इस द्रव्यमान को एक डाई द्वारा tube की उत्पति करने के लिए धक्का दिया जाता है इस क्रिया को Parison कहते हैं | उसके बाद tube को मोल्ड के अन्दर लिया जाता है और उसका एक सिरा बंद कर दिया जाता है Parison को मोल्ड के अन्दर हवा संचारित करके फुलाया जाता है यह कार्य एक Air Nozzle के माध्यम से किया जाता है | मोल्ड के कूलिंग चैनल के माध्यम से जब मोल्ड में ठंडा पानी संचारित होता है तो मोल्ड ठंडा हो जाता है |

सम्बंधित विषय:

प्लास्टिक इंडस्ट्री की कुछ महत्वपूर्ण जानकारी |

प्लास्टिक की कंघी बनाने के बिज़नेस की जानकारी |

प्लास्टिक की डिस्पोजेबल सिरंजी बनाने के बिज़नेस की जानकारी |

इसके बाद बने हुए Plastic Containers को मशीन द्वारा आटोमेटिक बाहर निकाल दिया जाता है | ऊपर एवं नीचे का सिरा हटाने के लिए Deflashing operation को अंजाम दिया जाता है | इसके ऊपर लगने वाले ढक्कन को बाहर से ख़रीदा जा सकता है क्योंकि इसको मोल्ड करने के लिए इंजेक्शन मौल्डिंग मशीन की आवश्यकता होती है |

Comments

  1. By Kashif

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: