PM Kisan Pension Yojana का श्रीगणेश नई सरकार के पहली ही कैबिनेट बैठक में कर लिया गया। जैसा की हम सबको विदित है की प्रधानमंत्री मोदी का दुसरे कार्यकाल का शपथ ग्रहण समारोह 30 मई 2019 को सम्पन्न हुआ। यानिकी मोदी जी ने दूसरी बार प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ तीस मई 2019 को ली। इसके अगले दिन ही 31 मई को कैबिनेट की पहली बैठक हुई। जिसमें किसान सम्मान निधि योजना का विस्तार एवं किसानों एवं छोटे दुकानदारों के लिए PM Kisan Pension Yojana की आधारशिला रख दी गई। कहने का आशय यह है की नई सरकार ने अपनी पहली कैबिनेट बैठक में ही प्रधानमंत्री किसान पेंशन योजना की घोषणा कर दी। इस योजना के तहत पात्र किसान साठ साल की उम्र के बाद 3000 रूपये प्रति महीने पेंशन पाने के प्रार्थी होंगे। इस योजना के तहत कवर हुए किसान या लाभार्थी की मृत्यु होने पर पेंशन का लाभ उसकी पत्नी को देने का प्रावधान भी किया गया है। PM Kisan Pension Yojana का जिक्र सर्वप्रथम सत्ता में आने वाली भारतीय जनता पार्टी के चुनावी घोषणापत्र में हुआ था। जिसकी घोषणा पहली ही कैबिनेट बैठक में कर दी गई।

PM-Kisan-Pension-Yojana

प्रधानमंत्री किसान पेंशन योजना क्या है (What is PM Kisan Pension Yojana):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्यों में भी स्पष्ट कर चुके हैं की PM Kisan Pension Yojana किसानों की सामाजिक सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है। जिसके तहत किसानों को साठ साल के पश्चात वृधावस्था पेंशन देने का प्रावधान किया गया है। लेकिन जहाँ तक पात्रता का सवाल है इस योजना के तहत केवल 18-40 वर्ष तक के किसान प्रीमियम अर्थात लाभ लेने के लिए पात्र हैं।  PM Kisan Pension Yojana का लाभ लेने के लिए किसानों को उम्र के आधार पर कुछ प्रीमियम भरना होगा। एक अधिकारिक जानकारी के मुताबिक यदि किसी किसान की उम्र 18 वर्ष है तो उसे इस योजना के तहत साठ सालों बाद पेंशन का लाभ लेने के लिए मासिक क़िस्त के तौर पर 55 रूपये भरने की आवश्यकता होगी और इतनी ही राशि केंद्र सरकार भी उस किसान के प्रीमियम के तौर पर भरेगी। यानिकी जितनी राशि प्रीमियम के तौर पर लाभार्थी भरेगा उतनी ही राशि उसके प्रीमियम के तौर पर सरकार भी भरेगी।

किसान पेंशन योजना की नियम शर्तें (Rules of PM Kisan Pension Yojana):  

प्रधानमंत्री किसान पेंशन योजना  के लिए अभी अधिकारिक तौर पर सारे दिशानिर्देश लिखित में जारी नहीं हुए हैं। लेकिन कुछ समाचार पत्रों एवं सम्बंधित मंत्रियों की प्रेस कांफ्रेंस में दी गई जानकारी के अनुसार कुछ मुख्य नियम एवं शर्तें निम्नवत हैं।

  • PM Kisan Pension Yojana सभी छोटे एवं सीमान्त किसानों के हितों को ध्यान में रखकर शुरू की गई है लेकिन इस योजना में भागीदारी स्वैच्छिक है। अर्थात यदि किसी छोटे सीमान्त किसान को साठ साल के बाद पेंशन की इच्छा होती है। तो वह अपनी उम्र के 18-40 वर्षों से प्रीमियम भरना शुरू कर सकता है।
  • इस योजना के तहत केवल 18-40 वर्ष तक के किसान प्रीमियम भरने के पात्र होंगे।
  • इस योजना के तहत लाभार्थी किसान अपनी उम्र के साठ साल बाद हर महीने 3000 रूपये पेंशन पाने के लिए पात्र होगा।
  • एक ऐसा किसान जिसकी उम्र 18 साल है उसे इस योजना के तहत 55 रूपये मासिक क़िस्त के तौर पर जमा करने होंगे और इतने ही पैसे भारत सरकार द्वारा उसके प्रीमियम के तौर पर भरे जायेंगे।
  • यदि पेंशन प्राप्त करने के दौरान लाभार्थी की मृत्यु हो जाती है तो इस स्थिति में जितनी पेंशन लाभार्थी को प्राप्त हो रही थी उसके 50% पेंशन पति/पत्नी को प्राप्त होगी। और ध्यान रहे इस स्थिति में पति/पत्नी इस धनराशि का लाभ तभी उठा सकते हैं जब उन्हें प्राथमिक लाभार्थी के तौर पर इसका लाभ नहीं मिल रहा हो।
  • PM Kisan Pension Yojana के तहत प्रीमियम का भुगतान करने के लिए किसान किसान सम्मान निधि के माध्यम से देने का विकल्प चुन सकता है।
  • पहले तीन वर्षों में प्रधानमंत्री किसान पेंशन योजना को पांच करोड़ किसानों तक पहुँचाने का लक्ष्य रखा गया है।

चूंकि PM Kisan Pension Yojana से सम्बंधित अधिकारिक दस्तावेज एवं लिखित दिशानिर्देश अभी जारी नहीं हुए हैं। इसलिए इस विषय पर उम्र के आधार पर प्रीमियम दरें एवं अन्य जानकारीयाँ अभी उपलब्ध नहीं हो पाई हैं। शीघ्र ही इस विषय पर हम और अधिक जानकारी देने का प्रयत्न अवश्य करेंगे।

यह भी पढ़ें:

One Response

  1. Avatar for Yogendra Singh Yogendra Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: