Postal Life Insurance के प्लान एवं फायदे

Postal Life insurance यानिकी PLI को 1 फरबरी 1884 जब भारतवर्ष में ब्रिटिश शासन था महारानी के सचिव के अनुमोदन पर पेश किया गया था | यह मूल रूप से राज्य बीमा, की एक योजना थी जिसका विचार तत्कालीन पोस्ट ऑफिस के महानिदेशक श्री ऍफ़. आर. हॉग द्वारा 1881 में रखा गया था और 1884 में इसे एक कल्याणकारी योजना के तौर पर पोस्टल कर्मचारियों के कल्याण हेतु जारी कर दिया गया | Postal Life Insurance (PLI) को सन 1888 में टेलीग्राफ विभाग के कर्मचारियों के लिए भी इसे जारी कर दिया गया | सन 1894 में इस योजना के अंतर्गत पोस्टल एवं टेलीग्राफ विभाग से जुड़ी महिला कर्मचारियों को भी बीमा कवर दिया गया, यह वह समय था जब कोई अन्य बीमा कंपनी महिला जीवन को बीमा में कवर नहीं करती थी | इस स्कीम को भारतवर्ष में सबसे पुराना जीवन बीमाकर्ता माना जा सकता है | Postal Life Insurance की शुरूआती दिनों की यदि हम बात करें तो हम पाएंगे की शुरुआत में इस योजना के अंतर्गत जीवन बीमा की अधिकतम सीमा केवल 4000 रूपये थी जो वर्तमान में इस योजना के अंतर्गत आने वाली सभी स्कीमों चाहे वह Endowment Insurance हो या Whole Life Insurance के लिए यह सीमा बढ़कर लगभग 10 लाख रूपये हो गई है |  समय व्यतीत होने के साथ ही इस स्कीम ने काफी प्रगति की है जहाँ शुरूआती दिनों अर्थात सन 1884 में इस योजना के साथ पालिसी की संख्या कुछ सैकड़ों में थी वही वर्तमान में Postal Life Insurance scheme के अंतर्गत 43 लाख से अधिक पालिसी विद्यमान हैं | क्योंकि अब इस योजना के अंतर्गत सिर्फ पोस्ट एवं टेलीग्राफ विभाग के कर्मचारी नहीं अपितु केंद्र और राज्य सरकारों, केंद्रीय और राज्य सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, विश्वविद्यालयों, सरकारी सहायता प्राप्त शैक्षिक संस्थानों, राष्ट्रीयकृत बैंक, स्थानीय निकाय आदि के कर्मचारी सम्मिलित हैं | इसके अलावा PLI ने रक्षा सेवाओं और पैरा-मिलिट्री बलों के अधिकारियों और कर्मचारियों को बीमा की सुविधा भी प्रदान की है । एकल बीमा पॉलिसियों के अलावा, Postal Life Insurance डाक विभाग के अतिरिक्त विभागीय कर्मचारी (ग्रामीण डाक सेवक) के लिए समूह बीमा योजना का प्रबंधन भी करता है | यह योजना 1938 के बीमा अधिनियम की धारा 118 (सी) के तहत बीमाकर्ता को छूट प्रदान करता है और इसे एलआईसी अधिनियम, 1956 की धारा 44 (डी) के तहत भी छूट दी गई है ।

postal life insurance scheme

Insurance Plans of Postal life insurance in Hindi:

Postal life insurance की बात करें तो यह मुख्य रूप से सात प्रकार के प्लान ऑफर करती है जिनका संक्षिप्त वर्णन हम निम्नवत करेंगे |

  1. Whole Life Assurance (Surksha):

PLI के इस प्लान को सुरक्षा के नाम से भी जाना जाता है यह एक ऐसा प्लान है जहाँ बीमाकर्ता की मृत्यु के बाद अर्जित किया हुआ बोनस एवं आश्वासित राशि assignee, नामित व्यक्ति या फिर क़ानूनी उत्तराधिकारी को दिया जाता है | इस प्लान में प्रवेश करने की कम से कम उम्र 19 वर्ष एवं अधिक से अधिक से उम्र 55 वर्ष है | और PLI के इस प्लान के अंतर्गत कम से कम सुनिश्चित बीमित राशि रूपये 20000 और अधिक से अधिक बीमित राशि 10 लाख रूपये है | इस तरह की यह पालिसी एक साल पूरा होने के बाद और बीमाकर्ता की उम्र 57 साल होने से पहले पहले Endowment Assurance Policy में कन्वर्ट अर्थात परिवर्तित की जा सकती है | इस प्लान के अंतर्गत ऋण सुविधा पालिसी को चार वर्ष पूर्ण हो जाने पर मिलेगी, और तीन वर्ष पूरा होने के बाद बीमाकर्ता पालिसी का समर्पण भी कर सकता है | यदि पांच साल से पहले पालिसी पर ऋण या पालिसी समर्पित की जाती है तो बीमाकर्ता को किसी प्रकार का कोई बोनस देय नहीं होगा | इसके बाद Postal Life Insurance के इस प्लान के अंतर्गत यदि बीमा पॉलिसी को ऋण के लिए उपयोग में लाया जाता है या फिर समर्पण किया जाता है तो कम बीमित राशि पर आनुपातिक बोनस अर्जित किया जा सकता है ।

  1. Endowment Assurance (Santosh):

Postal Life Insurance के इस प्लान को संतोष के नाम से भी जाना जाता है और इस प्लान के तहत बीमाकर्ता/प्रस्तावक को परिपक्वता के पूर्व-निर्धारित आयु प्राप्त होने तक बीमित रकम और अर्जित बोनस प्राप्त करने का एक आश्वासन दिया जाता है । बीमाकर्ता की अप्रत्याशित मृत्यु होने पर assignee, नामित व्यक्ति या क़ानूनी उत्तराधिकारी को बीमित राशि एवं अर्जित किया गया बोनस देय होगा | PLI के इस प्लान में भी प्रवेश करने की कम से कम आयु 19 वर्ष एवं अधिक से अधिक आयु 55 वर्ष है | कम से कम बीमित राशि रूपये बीस हज़ार एवं अधिक से अधिक बीमित राशि रूपये दस लाख है | पालिसी के तीन साल पूरे होने के बाद पालिसी लोन के योग्य हो जाती है और बीमाकर्ता इसको समर्पित भी कर सकता है | पांच साल पूरा होने से पहले यदि पालिसी पर लोन या पालिसी सरेंडर की जाती है तो इस स्थिति में बीमाकर्ता को किसी प्रकार का कोई बोनस नहीं मिलेगा |

  1. Convertible whole life insurance (Suvidha):

Postal Life Insurance के इस प्लान को सुविधा के नाम से भी जाना जाता है यद्यपि इस स्कीम की विशेषताओं की बात करें तो इसकी विशेषताएं Endowment Assurance जैसी ही हैं | पांच साल पूरे होने के बाद यह पालिसी Endowment Assurance में परिवर्तित की जा सकती है | बीमाकर्ता की उम्र परिवर्तन के समय 55 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए | यदि छह सालों तक बीमाकर्ता द्वारा परिवर्तन विकल्प का चयन नहीं किया जाता है तो पालिसी को Whole Life Assurance माना जायेगा | इस प्लान में ऋण सुविधा भी उपलब्ध है और तीन सालों के बाद पालिसी को सरेंडर भी किया जा सकता है | यदि पांच सालों से पहले पालिसी पर लोन लिया जाता है या पालिसी सरेंडर की जाती है तो बीमाकर्ता बोनस पाने का पात्र नहीं होगा |

  1. Anticipated Endowment Assurance (Sumangal):

Postal Life Insurance के इस प्लान को सुमंगल के नाम से भी जाना जाता है यह प्लान 5 लाख रुपये के अधिकतम बीमित रकम के साथ एक मनी बैक पॉलिसी है | ऐसे लोग जिन्हें समय समय पर रिटर्न की आवश्यकता होती है यह पालिसी उन लोगों के अनुकूल है | इस प्लान के अंतर्गत बीमाकर्ता को समय समय पर Survival Benefits मिलते रहते हैं | बीमाकर्ता की अप्रत्याशित मृत्यु की स्थिति में इस तरह के भुगतान को कंसीडर नहीं किया जाता है और Assignee, नामित व्यक्ति या क़ानूनी उत्तराधिकारी को अर्जित बोनस के साथ पूर्ण बीमा राशि देय होगी | Postal Life Insurance के इस प्लान के अंतर्गत दो तरह की पालिसी एक जो पन्द्रह सालों और दूसरी बीस सालों के लिए उपलब्ध हैं | पन्द्रह सालों की पालिसी लेने पर बीमाकर्ता को छह सालों के बाद कुल जमा राशि का 20%, नौ सालों के बाद फिर से 20%, बारह सालों के बाद फिर से 20% और पन्द्रह साल पूरे होने पर 40% एवं अर्जित किया गया बोनस देने का प्रावधान है | बीस सालों की पालिसी लेने पर आठ सालों के बाद 20% , बारह सालों के बाद 20%, 16 सालों के बाद 20% और बीस सालों के बाद 40% एवं अर्जित किये गए बोनस को देने का प्रावधान है |

  1. Joint Life Insurance (Yugal Surksha):

Postal Life Insurance का यह प्लान संयुक्त जीवन एन्डॉमेंट ऐश्योरेंस हैं जिसमे एक पति/पत्नी PLI पालिसी के लिए पात्र माने जायेंगे | केवल एक प्रीमियम के साथ पति पत्नी दोनों को लाइफ इंश्योरेंस कवरेज देने का प्रावधान है | बाकी सब विशेषताएं Endowment Policy जैसी ही हैं |

  1. शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए स्कीम:

Postal Life Insurance के अंतर्गत शारीरिक रूप से विकलांग लोगों के लिए अलग से स्कीम का प्रावधान किया गया है | हालांकि जहाँ तक बीमा की सीमा का सवाल है कोई भी प्लान लेने पर शारीरिक रूप से विकलांग व्यक्ति के लिए भी यह लिमिट उतनी ही है जितनी और के लिए | शारीरिक विकलांगता का बीमित व्यक्ति के जीवन पर असर का सही तरीके से पता लगाने के लिए इस स्कीम के तहत मेडिकल एग्जाम को अनिवार्य किया गया है | जहाँ तक प्रीमियम का सवाल है विकलांगता की प्रकृति एवं सीमा के आधार पर यह सामान्य या सामान्य से थोड़ा अधिक भी हो सकता है | पालिसी पूर्ण होने से पहले बीमाकर्ता की मृत्यु होने पर जो अमाउंट Assignee, नामित व्यक्ति या क़ानूनी उत्तराधिकारी को दिया जायेगा वह निम्न शर्तों पर देय होगा |

  • यदि बीमाकर्ता की मृत्यु पालिसी के एक साल पूरा होने से पहले होती है तो कुल बीमित राशि का केवल 35% और अर्जित बोनस देय होगा |
  • यदि बीमाकर्ता की मृत्यु पालिसी के दो साल पूरा होने से पहले और एक साल पूरा होने के बाद होती है तो इस स्थिति में Postal Life Insurance के अंतर्गत कुल बीमित राशि का 60% और अर्जित बोनस देय होगा |
  • यदि बीमाकर्ता की मृत्यु पालिसी के तीन साल पूरे होने से पहले और दो साल पूरे होने के बाद होती है तो इस स्थिति में कुल बीमित राशि का 90% और अर्जित बोनस देय होगा |
  • यदि बीमाकर्ता की मृत्यु पालिसी के तीन साल पूरे होने के बाद होती है तो इस स्थिति में कुल बीमित राशि एवं अर्जित बोनस देय होगा |
  1. PLI Children Policy:

समबन्धित विभाग द्वारा Postal Life Insurance एवं रूरल पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस के अंतर्गत 20 January 2006 को Children Policy भी जारी की गई | जिसकी कुछ मुख्य विशेषताएं इस प्रकार से हैं |

  • इस योजना की परिकल्पना PLI/RPLI धारकों के बच्चों को बीमा कवर प्रदान करने के लिए की गई है |
  • किसी भी परिवार में अधिकतम दो बच्चे बच्चों की पॉलिसी लेने के योग्य होंगे |
  • Postal Life Insurance की चिल्ड्रेन पालिसी के अंतर्गत पांच साल से लेकर बीस साल तक के बच्चे पात्र माने जायेंगे जिनकी अधिकतम बीमा राशि 1 लाख रूपये होगी, या फिर मुख्य बीमाधारक के समतुल्य होगी, जो भी कम राशि होगी उसी को बीमित राशि माना जायेगा |
  • मुख्य पालिसी धारक की आयु 44 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए |
  • मुख्य पॉलिसी धारक की मृत्यु पर बच्चों की पॉलिसी पर प्रीमियम का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होगी और संचित बोनस के साथ पूर्ण बीमा राशि बच्चों की पॉलिसी की अवधि के पूरा होने के बाद बच्चे को दी जाएगी। बच्चे / बच्चों की मृत्यु पर, अर्जित बोनस के साथ पूर्ण बीमा राशि मुख्य पॉलिसी धारक को देय होगी |
  • चिल्ड्रेन पालिसी की पेमेंट के लिए मुख्य पालिसी धारक जिम्मेदार होगा, बच्चों की इस पालिसी पर किसी प्रकार का कोई ऋण स्वीकृत नहीं होगा, हालांकि पॉलिसी में इसे भुगतान करने की सुविधा होगी, बशर्ते प्रीमियम को लगातार 5 वर्षों तक भुगतान किया जाए ।
  • बच्चे की कोई भी मेडिकल जांच जरूरी नहीं है, हालांकि पालिसी लेने के दिन बच्चे को स्वस्थ होना चाहिए और पालिसी की स्वीकृति की तारीख से जोखिम शुरू हो जाएगा ।
  • Postal Life Insurance के अंतर्गत इस पालिसी पर भी बोनस एंडोमेंट पॉलिसी के लिए निर्धारित दरों पर ही लागू होगा |

Postal Life Insurance के फायदे:

Postal Life Insurance की अधिकारिक वेबसाइट के अनुसार वर्तमान में जीवन बीमा के बाजार में PLI एक ऐसी स्कीम है जिसकी तुलना यदि बाज़ार में उपलब्ध अन्य बीमा उत्पादों से की जाए तो यह बहुत कम प्रीमियम में बहुत अधिक रिटर्न अर्थात बोनस देने वाली स्कीम है | उदाहरण के तौर पर PLI की Whole life insurance की पालिसी का प्रीमियम LIC की whole life insurance की पालिसी से 26% से 36% कम होता है, लेकिन यह पालिसी में प्रवेश करने की उम्र पर निर्भर करता है | ठीक इसी प्रकार PLI की Endowment Policy LIC की Endowment Policy से 6% तक सस्ती पड़ती है | Postal Life Insurance के अंतर्गत अर्जित किया गया बोनस भी LIC के मुकाबले 7% या इससे भी अधिक हो सकता है | PLI की अधिकारिक वेबसाइट के अनुसार निजी बीमा कंपनियां जो 2 से 3 साल पहले जीवन बीमा कारोबार शुरू कर चुकी हैं, अब तक बोनस घोषित नहीं कर पाए हैं, जबकि RPLI के अंतर्गत पहले साल से ही बोनस का भुगतान हो रहा है । इसके अलावा बीमाकर्ता को होने वाले कुछ मुख्य लाभ इस प्रकार से हैं |

  • बीमाकर्ता को नामांकन चेंज करने की सुविधा उपलब्ध है |
  • Endowment Insurance की स्थिति में तीन साल पूरा होने पर, Whole Life Insurance की स्थिति में 4 साल पूरे होने पर बीमाकर्ता पालिसी पर लोन के लिए भी अप्लाई कर सकता है |
  • ऋण लेने के लिए किसी वित्तीय संस्थान को पॉलिसी के असाइनमेंट की सुविधा |
  • लेप्स पालिसी के पुनरुद्धार की सुविधा उपलब्ध है |
  • यदि पालिसी को तीन साल से कम का समय हुआ हो तो 6 प्रीमियम का भुगतान न करने पर पालिसी लेप्स होगी, तीन साल से अधिक के समय के लिए यह सीमा 12 Unpaid Premium है |
  • Postal Life Insurance के अंतर्गत यदि ओरिजिनल पालिसी का बांड जल गया हो, फट गया हो, मुड़ गया हो या फिर खो गया हो तो उसके बदले डुप्लीकेट पालिसी बांड जारी करने की सुविधा भी उपलब्ध होती है |
  • नियमों के अनुरूप Whole life insurance को endowment Assurance में और एंडॉमेंट एश्योरेंस को अन्य एंडॉमेंट एश्योरेंस में रूपांतरित करने की सुविधा भी उपलब्ध है |

यह भी पढ़ें  

रूरल पोस्टल लाइफ इंश्योरेंस की जानकारी     

भारतीय डाक की फ्रैंचाइज़ी स्कीम की जानकारी

बीमा क्षेत्र में लघु उद्योग लगाकर कमाई करने का अवसर  

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *