प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) की सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी में |

प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) की सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी में |

प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY in Hindi) पर बात करने से पहले हमें इस Yojana को संचालित करने की जरुरत क्यों पड़ी, उसके बारे में जानना जरुरी है | आइये Pradhan Mantri Awas Yojana के बारे में हम एक कहानी के माध्यम से समझने की कोशिश करते हैं | अपने माँ बाप की इकलौती बेटी थी वह, पापा सेना से रिटायर्ड थे | घर में तीन लोग थे वो और उसके माँ बाप, कभी शादी की बाद आती थी, तो वह बोल उठती थी पापा मम्मी मैं आपको छोड़कर कहीं नहीं जाउंगी | लेकिन मां पापा को क्या पता था की यह तो अपने दिल में किसी और को ही स्थान दे चुकी है | बेटी की बढ़ती हुई उम्र को देखते हुए माँ बाप भी भला कब तक उसकी बात खेल खेल में लेते | तो एक बार पापा ने गंभीरता से अपनी लाड़ली को पूछ ही लिया | और वह भी घबरा गई, और बोल पड़ी हां में एक लड़के से प्यार करती हूँ और उसी से शादी करने वाली हूँ | पापा और मम्मी की ख़ुशी का ठिकाना नहीं था | उसने लड़के को माता पिता से मिलाया उनको अच्छा लगा | शादी से पहले लड़की ने लड़के के सामने शर्त रखी की मैं अपने माँ बाप के साथ ही रहूंगी और आप भी यही रहना | लड़का मान गया शादी हो गई | कुछ सालों बाद बुजुर्ग माँ बाप चल बसे, लेकिन जाते जाते अपनी जिंदगी भर की Kamai मकान अपनी बेटी के नाम कर गए | एक दिन पति आता है, और बोलता है लाड़ली मुझे अपना नया व्यापार शुरू करना है | बैंक में लोन के लिए अप्लाई किया था तो उन्होंने रिजेक्ट मार दिया कहते हैं आपके नाम की तो कोई प्रॉपर्टी है ही नहीं | लाड़ली बोली अरे आप भी खामखाह चिंता करते हैं, इसमें कौन सी बड़ी बात है ये जो घर है, ये मेरे नाम पर है मैं तुम्हारे नाम पर कर दूंगी, तो बन जायेगा न तुम्हारा काम? पति हाँ लेकिन ……………

प्रधान मंत्री आवास योजना

Pradhan-mantri-Awas-Yojana-

लाड़ली अरे लेकिन क्या ………….. और अगले ही दिन लाड़ली ने घर अपने पति के नाम कर दिया | और उसके बाद शुरू हुई लाड़ली की अंतहीन दर्दनाक कथा ……….. बात बात पर प्रताड़ित करना, छोटी से छोटी बात पर घर छोड़ के चले जाओ कहना, मानो अब उसके पति का फैशन बन चूका था | लाड से पली बढ़ी लाड़ली अब घुट घुट के जी रही थी |

ये तो दोस्तों एक काल्पनिक कहानी थी | लेकिन वास्तव में भी हमारे देश में औरतो के साथ यह सब होता है | और पता नहीं कितनी लाडलियो को बात बात पर घर से निकाले जाने की धमकी दी जाती है | कितना अच्छा होता, अगर वह घर किसी आदमी के नाम पर न होकर किसी औरत के नाम पर होता | महिला शशक्तिकरण को बढ़ावा देने हेतु, महिलाओ की स्तिथि सुधारने हेतु भारत सरकार द्वारा जारी Pradhan Mantri Awas Yojana में महिलाओ को प्राथमिकता दी गई है | तो आइये जानते हैं प्रधानमंत्री आवास योजना के बारे में |

प्रधान मंत्री आवास योजना की अवधारणा

घर अर्थात आवास के बिना मनुष्य की जिंदगी हमेशा इसी संघर्ष में गुज़र जाती है । की एक न एक दिन अपना भी घर होगा । लेकिन आजकल के समय में एक सामान्य आदमी के लिए शहरो में घर खरीदने का सपना चाँद को छूने जैसा हो गया है । भारत के शहरो में 20 मिलियन अर्थात 2 करोड़ से भी अधिक लोग झोपड़ी या फिर बिना घर के रहते हैं । और हर दस वर्षो में झोपड़ियो या सड़क पर रहने वाले लोगो की संख्या में लगभग 34% की वृद्धि होती है, जो बहुत डरावनी है । इसी बात के मद्देनज़र भारत सरकार ने Pradhan Mantri Awas Yojna की शुरुआत करी है । 

Pradhan Mantri Awas Yojana (PMAY) Kya hai:

अन्य योजनाओ की तरह यह भी भारत सरकार द्वारा संचालित एक Yojna है । जो विशेषकर शहर में झोपडी और बिना घर के रहने वाले लोगो के हितो हेतु संचालित की गई है । इस योजना का लक्ष्य 2022 तक सबको सस्ती दरों पर अपना आवास उपलब्ध कराना है ।

प्रधान मंत्री आवास योजना  (PMAY) की शुरुआत कब हुई ?

भारत सरकार ने इससे पहले Hosuing for All नामक योजना की शुरुआत इसी लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए करी थी | लेकिन बाद में इसके नाम में सुधार करके इस योजना को प्रधान मंत्री आवास योजना का नाम दिया गया | इस योजना की शुरुआत भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 25 जून 2015 को करी थी |

प्रधान मंत्री आवास योजना का लक्ष्य :

इस योजना का लक्ष्य 2015 से 2022 तक इन सात वर्षो में लगभग 2 करोड़ तक आवास बनाना | और उन आवासो को सस्ती दरों पर जरुरतमंदो को उपलब्ध कराने से है | इस योजना के अंतर्गत पूरे भारतवर्ष से हर राज्य से शहरों का चुनाव किया गया है | Pradhan Mantri Awas Yojana का लाभ आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग अर्थात (Economically Weaker Section) EWS और कम आय वाले वर्ग अर्थात Lower Income Group (LIG) को दिया जायेगा |

चूंकि प्रधानमंत्री आवास योजना में लगभग 2 करोड़ आवास बनाने के लिए समय सीमा 7 वर्ष 2015 से 2022 तक की तय की गई है | इसलिए इस योजना को सुचारू रूप से क्रियान्वित और अधिक से अधिक लोगो को इसका लाभ पहुँचाने के लिए यह योजना तीन चरणो में विभाजित की गई है | प्रत्येक चरण में इस योजना का लक्ष्य अलग अलग निर्धारित किया गया है |

पहला चरण : प्रधान मंत्री आवास योजना (PMAY) का पहला चरण 2015 से शुरू होकर मार्च 2017 तक चलेगा | इस चरण में लगभग 100 शहरो को विकसित बनाने की योजना है | अर्थात 2017 तक 100 शहरो में आवास की समस्या का निदान संभावित है |

दूसरा चरण : दूसरा चरण इस योजना का अप्रैल 2017 से शुरू होकर मार्च 2019 तक चलेगा | इस चरण में लगभग 200 से अधिक शहरो को विकसित और आवास की समस्या से निजात दिलाई जाएगी |

तीसरा चरण : यह चरण अप्रैल 2019 से 2022 तक चलेगा | और इस चरण के अंतर्गत जितने भी बचे हुए शहर होंगे उनको विकसित करके आवास की समस्या से निजात दिलाई जाएगी |

प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत किन किन लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी.

प्रधान मंत्री आवास योजना के अंतर्गत निम्न व्यक्तियों को प्राथमिकता दिए जाने का प्रावधान है |

  • महिलाएं (चाहे वो किसी भी जाति या धरम से सम्बन्ध रखती हों |   
  • आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग
  • अनुसूचित जाति
  • अनुसूचित जनजाति

उपर्युक्त वर्गो से सम्बंधित लाभार्थी को भारत सरकार द्वारा सब्सिडी प्रदान की जाएगी | जो एक लाख रूपये से 2.5 लाख रूपये तक दी जा सकती है |

प्रधान मंत्री आवास योजना के अंतर्गत लाभार्थी को दिए जाने वाले लाभ.

  1. आर्थिक रूप से कमजोर और निम्न आय वाले वर्गो को इस योजना के तहत भारत सरकार द्वारा लाभार्थियों को ब्याज दर पर लगभग 6.5 % तक की सब्सिडी अर्थात माली मदद प्रदान की जाएगी | यह सब्सिडी अधिक से अधिक 15 वर्षो के लिए दी जाएगी | और यह सब्सिडी केवल 6 लाख तक के लोन पर ही वैध होगी | उससे अधिक के लोन पर यह सब्सिडी लागू नहीं होगी |
  2. नए घर बनाने के अलावा यदि आप अपने घर में एक कमरा और बना रहे हैं, किचन बना रहे हैं या फिर टॉयलेट बना रहे हैं | तब भी 6.5 % सब्सिडी वैध होगी |
  3. विकलांगो/दिव्यांगों या बूढ़े लोगो को ग्राउंड फ्लोर देने के लिए प्रमुखता दी जाएगी | जिससे उनको ऊपर चढ़ना या उतरना न पड़े |
  4. प्रधान मंत्री आवास योजना के अंतर्गत बनाये जाने वाले आवास हर तकनिकी से परिपूर्ण होंगे | अर्थात इन आवासो को पर्यावरण के अनुकूल बनाया जायेगा |
  5. इस योजना के तहत घर की वयस्क महिला सदस्यों को प्रमुखता दी जाएगी | या पति पत्नी दोनों को संयुक्त खाते के अंतर्गत घर दोनों के नाम किया जायेगा | यदि उस घर में कोई वयस्क महिला नहीं है इस स्तिथि में घर पुरुष सदस्य के नाम से होगा |
  6. इस योजना के तहत आने वाले सभी लाभार्थियों को औसतन भारत सरकार की ओर से लगभग एक लाख रूपये की सहायता प्रदान की जाएगी |
  7. यदि कोई व्यक्ति जो आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की श्रेणी से हो | बैंक से लोन लेके नहीं अपने आप अपना घर बना रहा है | या फिर घर में कुछ कमरे और बनवा रहा है | तो सरकार उसको रूपये 1.5 लाख तक की अनुदान राशि देगी | इसमें शर्त यह है की बढ़ाया हुआ एरिया 30 स्क्वायर मीटर से कम न हो |
  8. इस योजना के तहत लगभग 35% आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग को फायदा देना सुनिश्चित किया गया है | जिससे सिर्फ उन्ही को घर मिल सके जिनके पास वास्तव में घर नहीं है |

प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत कैसे घर बनेंगे?

प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत बनने वाले आवासो का ढांचा सरकार ने पहले ही तैयार करके रखा है | इस योजना के तहत बनने वाले घरो अर्थात आवासो का फर्श का क्षेत्र लगभग 30 स्क्वायर मीटर यानिकि लगभग 322 स्क्वायर फ़ीट तक होगा | इस क्षेत्रफल और अन्य सेवाओ को कम या ज्यादा करने का निर्णय राज्य सरकार केंद्रीय मंत्रालय से राय परामर्श करके ले सकती है | Pradhan Mantri Awas Yojna के तहत बनने वाले घरो में बुनियादी सेवाएं जैसे साफ़ सफाई, सीवर लाइन, पानी,सड़क , बिजली आवश्यक रूप से होनी चाहिए | इस योजना के तहत बनने वाले घरो में तकनिकी का उपयोग करके इनको संरचनात्मक सुरक्षा जैसे भूकम्परोधी,बाढ़ झेलने की क्षमता,चक्रवात,भूस्खलन इत्यादि के हिसाब से सुरक्षित बनाया जायेगा |

Pradhan Mantri Awas Yojana Ke liye Online Apply Kaise Kare.

वर्तमान में Ministry of Housing and Urban Poverty Alleviation ने PMAY हेतु Online apply करने के लिए PMAYMIS नामक एक Online Portal की संरचना की है |

pradhan-mantri-awas-yojana-online-application-process

जिसमे Citizen Application नामक एक Menu रखा गया है | झुग्गी में निवासित व्यक्ति ‘’For Slum Dwellers’’ नामक Option का चयन करके आगे बढ़ सकता है | इसके अलावा Beneficiary Led Construction or enhancement, Affordable housing in Partnership, Credit Linked Subsidy के इच्छुक योग्य व्यक्ति ‘’Benefits Under other 3 components’’ का चुनाव करके प्रधान मंत्री आवास योजना हेतु Online apply कर सकते हैं | इस Official portal के माध्यम से Submit की गई Online application का Print out भी लिया जा सकता है | और PMAY हेतु दी गई Application के status को Track भी किया जा सकता है | Pradhan Mantri Awas Yojana के लिए Online apply हेतु यहाँ Click करें |

यह भी पढ़ें :

प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास योजना की जानकारी

इंदिरा आवास योजना की महत्वपूर्ण जानकारी

प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना की जानकारी

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना की जानकारी

Comments

  1. By SANJAY KUMAR BANSAL

    Reply

  2. By Ayush soni

    Reply

  3. By विवेक कुमार

    Reply

  4. By mukesh d.dhapa

    Reply

  5. By Raghuveer Kumar Das

    Reply

  6. By Shirsath vinod shivaji

    Reply

  7. By Rahul Gupta

    Reply

  8. By Pukharaj

    Reply

  9. By sumit phulwani

    Reply

  10. By rahul sahare

    Reply

  11. By Balram mujalde

    Reply

  12. By dharmendra singh

    Reply

  13. By VIJAY SAGATHIYA

    Reply

  14. By Sunil Gadriya

    Reply

  15. By Anjali

    Reply

  16. By Anjali

    Reply

    • By Gautam Kumar

  17. By Omprakash sahu

    Reply

  18. By Omprakash sahu

    Reply

  19. By jalamsinh

    Reply

  20. By Ashvin patel

    Reply

  21. By sunil

    Reply

  22. By savita

    Reply

  23. By DEEPESH KUMAR

    Reply

  24. By Kuldeep Sharma

    Reply

  25. By shamsher

    Reply

  26. By Ravi Kumar

    Reply

  27. By abhay kumar jain

    Reply

  28. By virendra kumar dewangan

    Reply

  29. By chandresh

    Reply

  30. By vivek v srivastava

    Reply

  31. By Sahila

    Reply

  32. Reply

  33. By NITIN DETHE

    Reply

  34. By pankaj

    Reply

  35. By Vidya Ganeshwani

    Reply

  36. By shyam singh

    Reply

  37. By Mausam Bano

    Reply

  38. Reply

  39. By MAHENDRA KUMAR SAHU

    Reply

  40. By pramila tiwari

    Reply

  41. By Nitin Jain

    Reply

  42. By jogender shukla

    Reply

  43. By Kiran Prajapati

    Reply

  44. By Amit Bansal

    Reply

  45. By Narsi patel

    Reply

  46. By surinder kumar 9814197210

    Reply

  47. By ajay kumar bais

    Reply

  48. By monu Singh chouhan

    Reply

  49. By deepak kaegwal

    Reply

  50. By kailash pande

    Reply

  51. Reply

  52. By rajesh kumar

    Reply

  53. By RUPESH

    Reply

  54. By rakes kumar

    Reply

  55. By Munib kumar

    Reply

  56. By arjun

    Reply

  57. By Tinku

    Reply

  58. By SAURABH

    Reply

  59. By Chanchal Harishbhai Prajapati

    Reply

  60. By rajesh gupta

    Reply

  61. By sarala prakash khairnar

    Reply

  62. By mohan swaroop

    Reply

  63. By ANAND SHARMA

    Reply

  64. By jyoti

    Reply

    • By Preeti

  65. Reply

  66. By Vaishnavi sonawane

    Reply

  67. By priya

    Reply

    • By sakshi

    • By prem csc

  68. By vikram singh

    Reply

  69. By Prem Tikhatri

    Reply

  70. By Dinesh Jain

    Reply

  71. By Neeraj shukla

    Reply

  72. Reply

  73. Reply

  74. By Ashish

    Reply

  75. By Ravi kashyp

    Reply

  76. By RAJENDRA GIRI GOSWAMI

    Reply

  77. By Israr Miyan

    Reply

  78. By sanjay Vishwakarma

    Reply

  79. By abhimanyu singh

    Reply

  80. By Nitin gupta

    Reply

  81. By abhimanyu singh

    Reply

  82. By VINOD KUMAR S/O VIJENDRA PAL SINGH

    Reply

  83. By premdas rathod

    Reply

  84. By Saba

    Reply

  85. By Ram narayan

    Reply

  86. By Ram narayan

    Reply

  87. By Nanbabu rawat

    Reply

  88. By kailash

    Reply

  89. By ANUGRAH KUMAR

    Reply

  90. By vikram verma

    Reply

  91. Reply

  92. By Rupesh

    Reply

  93. By Rupesh

    Reply

  94. By POONAM

    Reply

  95. By Ballabh Sharma

    Reply

  96. By Omprakash

    Reply

  97. By swarnalata

    Reply

  98. By swarnalata

    Reply

  99. By dipak mali

    Reply

  100. By kalpana

    Reply

  101. By Vinit Kumar

    Reply

  102. By RAJESH KUMAR

    Reply

    • By RAJESH KUMAR

  103. By santosh shankar jadhav

    Reply

  104. By RAJ

    Reply

  105. By shyam

    Reply

  106. By Ashok bishnoi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: