विदेश में जॉब कैसे मिलेगी। 2022 में ऐसे मिलेगी, विदेश में नौकरी।  

भारतीय युवाओं में विदेश में जॉब करने का जुनून सवार होता है। इसके पीछे कई कारण हैं की भारतीय लोग बाहर देशों में नौकरी करना पसंद करते हैं। लेकिन सबसे मुख्य कारण यह है की उन्हें वहाँ पर तुलनात्मक रूप से अधिक वेतन मिलता है। यही कारण है की भारतीय युवाओं में विदेश जाना एक सपने जैसा होता है।

भले ही विदेश जाना कई युवाओं का एक सपना हो, लेकिन सच्चाई यह है की हर कोई व्यक्ति जो विदेश में जॉब करने के लिए विदेश जाना चाहता है वह कई कारणों से नहीं जा पाता।

सबसे पहले तो वे लोग जो विदेश में जॉब पाने के लिए लालायित हैं उनके पास कोई एक ऐसा स्किल होना चाहिए, जिसके आधार पर वे बाहर देशों में नौकरी पा सकें। बिना किसी कौशल और अनुभव प्राप्त किये हुए व्यक्ति का जॉब के लिए विदेश जाना थोड़ा मुश्किल भरा हो सकता है। बाहर देशों में नौकरी करने से आप अपने कौशल में और विस्तार कर सकते हैं और एक अलग से वातावरण में काम करने का अनुभव प्राप्त करते हैं।

विदेश में जॉब करने के दौरान प्राप्त कौशल, अनुभव और ज्ञान आपके प्रोफेशनल जीवन को तो बेहतर बनाता ही है व्यक्तिगत जीवन को भी बेहतरीन बनाने का अवसर प्रदान करता है। इसलिए यदि आप भी अपने देश भारत की बजाय अन्य बाहरी देशों में जॉब करने की रूचि रखते हैं। तो आज हम हमारे इस लेख में आपको यही बताने वाले हैं की कैसे कोई इच्छुक व्यक्ति आसानी से विदेश में जॉब पाने के लिए आवेदन कर सकता है।

विदेश में जॉब कैसे पाएँ
लेख की विषय वस्तु दिखाएँ

विदेश में जॉब कैसे पाएँ

बाहर देशों में नौकरी पाना एक बेहद लम्बी और थका देने वाली प्रक्रिया हो सकती है। इसलिए यदि आप इस थका देने वाली प्रक्रिया के बारे में पहले ही जान जाएँ तो इससे आपको होने वाले तनाव को कुछ हद तक कम अवश्य किया जा सकता है।

इसके अलावा आप यह भी सुनिश्चित कर सकते हैं की विदेश में जॉब पाने के लिए जो भी प्रक्रिया निर्धारित हो उसे अच्छी तरह से पूर्ण किया जा सके। बाहर देशों में जॉब पाने के लिए आप निम्नलिखित कदम उठा सकते हैं।

किस प्रकार की जॉब चाहिए यह निर्धारित करें

नौकरी ढूँढने से पहले आपको अपनी शिक्षा, कौशल, अनुभव का आकलन करना चाहिए। और अपने अनुभव शिक्षा, कौशल को ही आधार मानकर अपने लिए कोई एक जॉब का चयन करना चाहिए। जैसे आप किस इंडस्ट्री और किस तरह के उद्योग में काम करना चाहते हैं? जिस उद्योग में आप काम करना चाहते हैं क्या उसके लिए आप पात्र तो हैं? कहीं ऐसा तो नहीं की उस विशेष जॉब के लिए आपको कुछ और अतिरिक्त स्किल सीखने की आवश्यकता है।

एक बार जब आप इन सभी कारकों पर विचार करके अपने लिए जॉब निर्धारित कर लेते हैं, तो आपके लिए उस विशेष जॉब पर फोकस करना सरल हो जाता है। हालांकि यदि आपको तत्काल आपके मुख्य कौशल के मुताबिक नौकरी नहीं मिल पा रही है, तो आप किसी अन्य सहायक कौशल पर आधारित कोई लघु अवधि के जॉब भी विदेश में ढूंढ सकते हैं । जैसे यदि आपको हिन्दी की अच्छी जानकारी है तो बाहर देशों में आप लोगों को हिन्दी सिखाने का जॉब भी ढूंढ सकते हैं।

किस देश में नौकरी करना चाहते हैं का निर्णय लें

वर्तमान में इस वैश्वीकरण के दौर में लगभग सभी देशों में अंतराष्ट्रीय उम्मीदवारों के लिए नौकरी उपलब्ध रहती हैं। इसलिए एक बार जब आप यह निर्धारित कर लेते हैं की आपको किस प्रकार की नौकरी विदेश में चाहिए, तो उसके बाद उस देश के बारे में निर्णय लें जहाँ आप रहने और नौकरी करने में रूचि रखते हैं।

अलग अलग देश की अपनी संस्कृति अपना कामकाजी वातावरण और नियम, कानून होते हैं। इसलिए जिस भी देश के बारे में आप विचार करें उसके बारे में पूरी जानकारी अवश्य जुटा लें। ताकि भविष्य में आप अपने लिए गए निर्णय पर पछतावा न करें।

अपनी रुचिकर जॉब खोजें

एक बार जब आपको पता चल जाता है की आपको कौन सी नौकरी करनी है और कहाँ करनी है। तो उसके बाद उस देश में निकलने वाली भर्तियो पर आपकी नजर होनी चाहिए। अब सवाल यह उठता है की आप अपने द्वारा चयनित देश में अपनी रुचिकर जॉब ढूँढेंगे कैसे? यहाँ पर हम विदेश में जॉब ढूँढ़ने के कुछ तरीके बता रहे हैं।

विदेश में जॉब ढूँढने के तरीके

विदेशी मीडिया के माध्यम से

आज का युग वैश्वीकरण के साथ साथ इन्टरनेट का युग है। इन्टरनेट के माध्यम से आप किसी भी देश की मीडिया तक पहुँच सकते हैं। इसलिए जिस देश को आपने चयन किया है उसकी मीडिया जैसे मीडिया वेबसाइट, लेख इत्यादि पर नजर बनाए रखें । क्योंकि जिस देश में भर्तियाँ निकलती हैं कंपनियाँ अक्सर उसके विज्ञापन वहाँ की प्रसिद्ध मीडिया चैनलों के माध्यम से देती हैं। ताकि उन्हें योग्य और पात्र उम्मीदवार मिल सकें।

सोशल मीडिया और नेटवर्किंग के माध्यम से  

यदि आपका कोई जानकार विदेश में जॉब के लिए गया हुआ है और आप भी उसी देश में नौकरी करना जाना चाहते हैं। तो आप उसे व्यक्तिगत तौर पर फ़ोन कॉल करके अपनी इच्छा प्रकट कर सकते हैं, और उसे वहाँ पर उसके लायक कोई भी जॉब निकलने पर सूचित करने को कह सकते हैं।

इसके अलावा आप विदेश में जॉब ढूँढने के लिए सोशल मीडिया का भी सहारा ले सकते हैं या तो आप खुद सोशल मीडिया पर यह पोस्ट कर सकते हैं की आप विदेश में जॉब करने के लिए रुचिकर हैं।

या जो पहले से ऐसी पोस्ट सोशल मीडिया पर पब्लिश हैं, उन पर टिपण्णी करके भी अपनी इच्छा प्रकट कर सकते हैं। लेकिन ऐसा करते समय काफी सावधान रहने की जरुरत है क्योंकि विदेश में जॉब दिलाने के नाम पर लोगों के साथ धोखाधड़ी भी होती रहती है।

रोजगार मेलों के माध्यम से

भारत में भी बहुत सारे रोजगार मेले ऐसे लगते हैं जिनमें अंतराष्ट्रीय नियोक्ता भी शामिल होते हैं। आम तौर पर इस तरह के रोजगार मेले केंद्र सरकार, राज्य सरकार या किसी एनजीओ इत्यादि द्वारा आयोजित कराए जाते हैं। लेकिन रोजगार मेलों में शामिल होने से पहले उनकी प्रमाणिकता जान लेना आवश्यक है।

आम तौर पर रोजगार मेलों में जॉब चाहने वालों से किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है, लेकिन यदि शुल्क लिया जाता है तो फिर उसकी प्रमाणिकता की जांच अच्छी तरह से होनी चाहिए। आम तौर पर विदेश में जॉब पाने को लालायित लोग छोटी छोटी असमान्य बातों पर ध्यान देना ही भूल जाते हैं। जो बाद में धोखाधड़ी के तौर पर उनके सामने आती है।

ऑनलाइन जॉब साईट के माध्यम से

जिस तरह से भारत में कई जॉब वेबसाइट लोगों को नौकरी दिलाने में सहायक हैं। उसी तरह से विदेश में जॉब दिलाने के लिए भी कई ऑनलाइन जॉब साईट उपलब्ध हैं। लेकिन इसमें भी जॉब वेबसाइट की प्रमाणिकता चेक करना अति आवश्यक हो जाता है।

हो सके तो आप किसी ऐसी जॉब वेबसाइट में नौकरी ढूंढें जो उस देश में लोकप्रिय हो जहाँ आप जॉब करना चाहते हैं। इसके अलावा आप चाहें तो इंटरनेशनल जॉब कंसल्टेंसी के माध्यम से भी विदेश में जॉब ढूँढने में सफल हो सकते हैं।

कंपनी के करियर पेज के माध्यम से  

आज के समय में हर कंपनी की ऑनलाइन प्रजेंस है इसलिए कंपनी चाहे छोटी हो या बड़ी सभी की अपनी वेबसाइट मौजूद है। ऐसे में यदि आप किसी विशेष कंपनी में विदेश में जॉब करना चाहते हैं तो आप उस कंपनी की ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं। यहाँ पर लगभग हर कंपनी का अपना एक करियर पेज बना हुआ होता है जिसमें वे कंपनी में निकली भर्तियों की डिटेल्स पोस्ट करते रहते हैं ।  

कंपनी ट्रान्सफर के माध्यम से

यदि आप भारत में ही किसी मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते हैं जिसकी विदेशों में भी कई शाखाएं मौजूद हैं। तो कुछ कंपनियाँ ऐसी होती हैं जो अंतराष्ट्रीय ट्रान्सफर भी कराती हैं। यदि आप सच में किसी ऐसी कंपनी में काम करते हैं लेकिन अब उसी कंपनी के साथ विदेश में जॉब करना चाहते हैं, तो इस बारे में आप अपने मेनेजर या बॉस से बात कर सकते हैं।

वीजा या वर्क परमिट के लिए अप्लाई करें

यद्यपि कई देश ऐसे भी हैं जहाँ भारत से जाने वाले लोगों के लिए Visa on Arrival की सुविधा भी मौजूद हैं। लेकिन जब आप विदेश में जॉब करने के उद्देश्य से जाते हैं तो आपको एक लम्बे समय के लिए वहाँ रहने की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए जरुरी हो जाता है की विदेश जाने से पहले वीजा या वर्क परमिट के लिए आवेदन जरुर करें।

कुछ मामले ऐसे भी होते हैं जहाँ कंपनियाँ आपको इन सब प्रक्रियाओं में मदद करती हैं और वर्क परमिट या वीजा का प्रबंध खुद ही कर देती हैं। लेकिन अधिकतर मामलों में विदेश में जॉब करने के इच्छुक उम्म्मीद्वार को ही वीजा या वर्क परमिट का प्रबंध करना होता है। आप जिस भी देश में जाना चाहते हैं उनके दूतावास की वेबसाइट पर जाकर वहाँ पर लागू श्रम नियमों के बारे में जानकारी अवश्य जुटा लें।

विदेश में जॉब पाने के लिए ध्यान देने योग्य बातें

कई कारणों से विदेश में जॉब पाने का निर्णय प्रभावित हो सकता है। यदि आप इसके लिए पहले से तैयार नहीं होंगे तो हो सकता है की आपको अपनी विदेशी नौकरी बीच में से ही छोडनी पड़ जाय।

इसलिए इससे पहले की आप किसी अन्य देश में नौकरी की तलाश करें नीचे दिए गए कुछ कारकों पर पूर्ण रूप से विचार करके ही अपना निर्णय लें।

अलग अलग भाषा के लिए तैयार रहें  

यद्यपि अधिकतर देशों में अंग्रेजी ऑफिसियल भाषा के तौर पर अपनाई जाती है। लेकिन विदेश में कुछ ऐसी विशेष नौकरियाँ भी हो सकती हैं जिनके लिए आपको वहाँ की स्थानीय भाषा सीखने की आवश्यकता भी हो सकती है।

इसलिए यदि आप विदेश में जॉब करना चाहते हैं तो इस बात को सुनिश्चित कर लें की उस नौकरी विशेष के लिए जो भाषा आनी चाहिए वह आपको अच्छे ढंग से आती है ।

नए तरीके से इंटरव्यू के लिए तैयार रहें  

आप अपने देश भारत से विदेश में जॉब करने के लिए आवेदन करते हैं तो हो सकता है की कंपनी के प्रतिनिधि आपका साक्षात्कार करने विशेष रूप से भारत न आएँ। बल्कि वे विडियो चैट, टेलीफोन इत्यादि के माध्यम से ही आपका इंटरव्यू लें। इसलिए कैमरे के सामने बोलने की आदत को विकसित करें ताकि आप विडियो चैट इत्यादि के माध्यम से अपना अच्छा इंटरव्यू दे पाने में सक्षम हो सकें।

अलग टाइम जोन के लिए तैयार रहें

आप इंडिया में हैं और कंपनी आपको कहती है की दोपहर 2:00 बजे आपका इंटरव्यू है। जब तक उनसे आप यह स्पष्ट नहीं करेंगे की वे किस टाइम जोन की बात कर रहे हैं तब तक आप संशय में रहेंगे। इसके अलावा जब आप विदेश में जॉब करेंगे तब भी आपको अलग टाइम जोन में अपने आपको ढालना होगा।

छुट्टियों में भिन्नता

यह जरुरी नहीं है की विदेश में जॉब करने के दौरान आपको विभिन्न त्यौहारों पर छुट्टी मिल जाय। क्योंकि अलग अलग देशों में उसकी संस्कृति, परम्परा, मान्यता इत्यादि के हिसाब से अलग अलग छुट्टियाँ निर्धारित होती हैं। इसलिए आपको जिस देश में आप जॉब कर रहे होते हैं उसी के अनुसार ही छुट्टियों की योजना बनानी होती है।

सांस्कृतिक और राजनैतिक बदलाव के लिए तैयार रहें     

विदेश में जॉब करना कई भारतीय युवाओं का सपना होता है लेकिन इस सपने को पूरा करने के लिए कई बदलाव और त्याग भी करने पड़ते हैं। जब अप बाहर देशों में काम करने का फैसला लेते हैं तो इसका सीधा और स्पष्ट का मतलब होता है की आपको उस देश की सांस्कृतिक रीती रिवाजों और शिष्टाचार के लिए भी तैयार रहना होगा।

ध्यान रहे जिस कंपनी में आप काम कर रहे होते हैं उसके काम करने के घंटे और अन्य नीतियाँ भी अलग अलग हो सकती हैं ।

विदेश में जॉब करने के फायदे

अधिकतर लोग सोचते हैं की विदेशों में अधिक वेतन मिल जाता है इसलिए वहाँ पर जॉब करना फायदेमंद है। लेकिन विदेश में जॉब करने के इसके अलावा भी कई फायदे होते हैं, जो आपके पेशेवर जीवन में सदा आपके साथ चलते रहते हैं इनमें से कुछ प्रमुख फायदे इस प्रकार से हैं।

अलग सांस्कृतिक अनुभव प्राप्त होता है

अलग अलग देशों में काम करके आपको अलग अलग सांस्कृतिक अनुभवों की प्राप्ति होती है जो आपके अन्दर सांस्कृतिक जागरूकता को पैदा करने में सहायक होता है। विदेश में जॉब करने से आपको विदेशी बाज़ारों की अच्छी जानकारी प्राप्त होती है।

जैसा की हम सब जानते हैं की हर देश में व्यवसाय एक ही तरीके से संचालित नहीं होता है इसलिए विदेशों में काम करने से आप विभिन्न काम के वातावरण में काम करने में भी सक्षम हो पाते हैं।

आपके रिज्यूमे को मजबूत बनाता है 

विदेश में जॉब करते वक्त आप अपने कौशल और ज्ञान में वृद्धि करते हैं तो दूसरी तरफ आपको काम करने का नया अनुभव भी प्राप्त होता है। बहुत सारे नियोक्ता ऐसे उम्मीदवारों की तलाश में रहते हैं जिन्हें अलग अलग देशों में काम करने का अनुभव प्राप्त हो। विदेशी नौकरी में आप नई भाषा सीखने के अलावा अन्य योग्यताएं भी सीखते हैं । बाद में आप इन सब कौशल और योग्यताओं को अपने रिज्यूमे में जोड़ सकते हैं, जो आपके रिज्यूमे को मजबूती प्रदान करते हैं।

अकेले काम करने की स्वतंत्रता

चूँकि विदेश में जॉब करने के दौरान आपको अकेले ही रहना पड़ता है, इससे आपको अपने फैसले खुद लेने पड़ते हैं। इन्हीं फैसलों के चलते आपके अन्दर आत्मविश्वास में बढ़ोत्तरी होती है जो आपको आत्मनिर्भर बनाने में सहायक होती है।

जब आपको लगता है की आपके द्वारा लिए गए निर्णय आपके जीवन के लिए सही साबित हो रहे हैं तो आप ऐसे ही और नए निर्णय लेने के लिए स्वतंत्र होते हैं जो आपके व्यक्तिगत और पेशेवर जीवन को विकसित करने में सहायक होते हैं।

अनुकूलन क्षमता में बढ़ोत्तरी

विदेशों में अलग अलग कंपनियाँ अलग अलग ढंग से काम करती हैं, इसलिए जब आप विदेश में जॉब करते हैं तो आपको किसी भी प्रकार की कंपनी में जॉब करने में कोई कठिनाई नहीं होती है। क्योंकि आप हर प्रकार के काम के वातावरण के लिए तैयार रहते हैं। आप में नई परिस्थितियों के हिसाब से ढलने की क्षमता विकसित हो जाती है।        

यह भी पढ़ें