Advantages and Disadvantage of home based business. गृह आधारित बिजनेस के फायदे एवं नुकसान.

Home based business यानिकी गृह आधारित व्यापार पर वार्तालाप करना इसलिए जरुरी हो जाता है क्योंकि वर्तमान में ऐसे कई बड़े बड़े उद्यम हैं जिनकी शुरुआत home based business के तौर पर ही हुई थी । वर्तमान परिदृश्य की बात करें तो इन्टरनेट के चलन से गृह आधारित बिजनेस करना और भी आसान हो गया है यही कारण है की इस तरह के ये बिजनेस भारत में भी हजारों लाखों लोगों के कमाई का स्रोत बने हुए हैं। यही कारण है की आज हम हमारे इस लेख में गृह आधरित बिजनेस से होने वाले फायदों एवं नुकसान का जिक्र करने वाले हैं ।

1.व्यक्तिगत आज़ादी

व्यक्तिगत आज़ादी से अभिप्राय उस स्वतंत्रता से है जो व्यक्ति गृह आधारित बिजनेस के दौरान करता है। यदि व्यक्ति का कहीं बाहर कार्यालय होता है तो उसे अपने कपड़े, जूते इत्यादि हमेशा तैयार रखने पड़ते हैं और एक निश्चित समय पर कार्यालय पहुँचना होता है। जबकि गृह आधारित बिजनेस के लिए यह सब जरुरी नहीं है उद्यमी चाहे तो जरुरत पड़ने पर उन्हीं कपड़ों या जूतों में भी काम कर सकता है जो उसने घर में पहले से पहन रखे हों। कहने का स्पष्ट सा आशय यह है की घर से काम करने के दौरान उद्यमी किसी बॉस या मालिक के नीचे काम नहीं कर रहा होता है, किसी प्रकार का ड्रेस कोड निर्धारित नहीं होता है, कोई कार्य शेड्यूल भी नहीं होता है, पैंतरेबाजी या राजनीती चलाने के लिए कोई कार्यालय भी नहीं होता है। उद्यमी को केवल व्यक्तिगत नियम, अनुशाशन एवं समय प्रबंधन की आवश्यकता होती है।     

2. कम लागत में बिजनेस का संचालन

गृह आधारित बिजनेस बेहद कम लागत से शुरू किये जा सकते हैं क्योंकि इसमें उद्यमी को न तो कार्यालय का किराया देना होता है। नहीं अतिरिक्त बिजली, टेलीफोन, पानी के बिलों का भुगतान करना होता है। इसके अलावा चाय, खाना इत्यादि के लिए भी कोई अतिरिक्त भुगतान की आवश्यकता नहीं होती है। इन लागतों में कमी या बचत के कारण उद्यमी अपने प्रतिस्पर्धियों की तुलना में कम मूल्य का निर्धारण कर सकता है ताकि उसका उत्पाद या सेवा प्रतिस्पर्धियों की तुलना में अधिक बिके।    

3. बिजनेस आईडिया को टेस्ट करने की आज़ादी

एक विश्वसनीय आंकडें के मुताबिक 50% से अधिक नए बिजनेस असफलता के द्वार पर पहुँच जाते हैं इसलिए यदि उद्यमी को कार्यालय के किराये, सेटअप इत्यादि में पैसा खर्च करना पड़ता है तो उसे बिजनेस असफल होने पर काफी नुकसान होना पड़ सकता है। यही कारण है की गृह आधारित बिजनेस शुरू करने पर उद्यमी को काफी सारे खर्चे बचाकर बिजनेस करने की अनुमति मिलती है। इसलिए कहा जा सकता है की गृह आधारित बिजनेस उद्यमी को उसके दिमाग में चल रहे बिजनेस आईडिया को टेस्ट करने या आजमाने की स्वंत्रता प्रदान करता है।   

4. आयकर इत्यादि करों में लाभ

घर एवं कार्यालय एक ही छत के नीचे होने के और भी फायदे हैं चूँकि उद्यमी इस तरह से अपने कई तरह के खर्चों में कटौती तो कर ही सकता है साथ में कई मामलों में आयकर एवं अन्य करों में लाभ भी प्राप्त कर सकता है। कहने का अभिप्राय यह है आयकर इत्यादि करों में लाभ प्राप्त करने के लिए उद्यमी चाहे तो घर के खर्चों को बिजनेस के खर्चों के तौर पर घटा सकता है और आयकर इत्यादि में लाभ प्राप्त कर सकता है।  

5. परिवार एवं दोस्तों के लिए समय

कार्यालय घर से दूर होने की स्थिति में उद्यमी को कुछ समय यात्रा करने के लिए भी निकालना होता है इसके अलावा उद्यमी अपने परिवार के सदस्यों को भी पर्याप्त समय देने में विफल होता है। लेकिन गृह आधारित बिजनेस यानिकी Home based business शुरू करने से उसका यात्रा पर लगने वाला समय तो बचता ही है साथ में वह काम न होने की स्थिति में वह समय अपने परिवार या दोस्तों को दे सकता है। विशेष रूप से ऐसे उद्यमी जिनके बच्चे स्कूल जाने वाले हैं और घर में उनके अलावा उनकी देख रेख के लिए अन्य कोई नहीं है तो उनके लिए गृह आधारित बिजनेस शुरू करना बेहद फायदेमंद होता है।  

6. जोखिम में कमी

Home based business का अगला फायदा जोखिम में कमी का होना है चूँकि गृह आधारित बिजनेस शुरू करने के लिए अन्य बिजनेस की तुलना में कम लागत की आवश्यकता होती है। कहने का आशय यह है की उद्यमी को इस तरह का बिजनेस शुरू करने के लिए कम पूँजी खर्च करनी पड़ती है जो उद्यमी के जोखिम को कम करता है।  

7. मानसिक तनाव में कमी

चूँकि उद्यमी को इस तरह के बिजनेस के दौरान परिवार एवं दोस्तों के लिए भी पर्याप्त समय मिल जाता है। इसलिए वह परिवार एवं दोस्तों के प्रति निश्चिन्त रहता है की कम से कम वह अपने व्यवसायिक दायित्वों के साथ अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वहन करने में भी समर्थ है।

गृह आधारित बिजनेस के नुकसान

उपर्युक्त फायदों के अलावा Home based business के कई नुकसान भी हैं जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • गृह आधारित बिजनेस में उद्यमी के लिए अपनी व्यक्तिगत एवं व्यवसायिक जीवन को अलग कर पाना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। और उद्यमी के काम के दौरान घरेलू व्यवधान एवं रुकावटें पैदा हो सकती हैं।
  • चूँकि उद्यमी को घर से काम करना पड़ता है इसलिए अन्य व्यवसायों एवं लोगों से संपर्क में कमी हो सकती है।
  • उद्यमी को लम्बे समय तक काम करने की आदत हो सकती है।
  • Home based business में उद्यमी घर से अकेले कार्य कर रहा होता है इसलिए दिन प्रतिदिन सामाजिक संबंधों से उसका अलगाव हो सकता है और उद्यमी को अकेलापन महसूस हो सकता है।

उपर्युक्त विश्लेषण से स्पष्ट है की home based business के कुछ फायदे हैं तो कुछ नुकसान भी हैं लेकिन फायदों की तुलना में नुकसान बेहद क्षीण हैं। इसलिए लोगों को शुरूआती दौर में गृह आधारित बिजनेस शुरू करना पसंद है।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *