Bitcoin Basic information in Hindi – बिटकॉइन की आधारभूत जानकारी .

Bitcoin Basic information in Hindi – बिटकॉइन की आधारभूत जानकारी .

अक्सर लोगों द्वारा बिटकॉइन के बारे में यही प्रश्न पूछा जाता रहा है की आखिर Bitcoin है क्या? तो हम अपने आदरणीय पाठक गणों को बता दें की बिटकॉइन सबसे पुरानी अर्थात जिसकी शुरुआत अन्य से पहले हुई एक क्रिप्टो करेंसी या डिजिटल करेंसी है | हालांकि इस प्रश्न का थोड़ा सा विस्तृत सा जवाब हम नीचे देने की कोशिश करेंगे लेकिन इस सवाल के अलावा भी लोगों के अंतर्मन में ढेरों सवाल जैसे इसकी शुरुआत कब हुई, किसके द्वारा हुई Bitcoin नामक यह नेटवर्क कैसे कार्य करता है? क्या वास्तव में लोग इस तरह की डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल करते हैं? आने वाले समय में यह कहाँ तक पहुचं सकता है? क्या Bitcoin नामक करेंसी को अन्य करेंसी की तरह छू सकते हैं, क्या यह करेंसी अवैध गतिविधियों को प्रोत्साहित करने में सहायक हैं???? क्या  Bitcoin का लेन देन क़ानूनी रूप से वैध है इत्यादि इत्यादि बहुत सारे प्रश्न आते होंगे | इसलिए आज का हमारा यह लेख इन्हीं सब सवालों के जवाब देने की कोशिश करेगा |

bitcoin-information-in-hindi

बिटकॉइन क्या है (What is bitcoin in Hindi):

Bitcoin की यदि हम बात करें तो यह एक ऐसी नई भुगतान प्रणाली है जो आम सहमती नेटवर्क पर आधारित है इसे हम Crypto Currency, डिजिटल करेंसी या फिर इन्टरनेट करेंसी भी कह सकते हैं कहने का आशय यह है की जैसे हम अन्य मुद्रा को अपने घर या बटुए में भंडारित करके रख सकते हैं इसे हम ऐसा नहीं कर सकते लेकिन इसका हम केवल आभास कर सकते हैं | यह एक विकेंद्रीकृत करेंसी होती है जिस पर किसी भी सरकार या अथॉरिटी का नियमतिकरण नहीं हैं | यह करेंसी Peer to peer पर आधारित अपने उपयोगकर्ताओं द्वारा ही संचालित है | जहाँ तक दुसरे प्रश्न Bitcoin नामक इस करेंसी की शुरूआत का सवाल है कहा यह जाता है की सर्वप्रथम Crypto Currency की अवधारणा का वर्णन 1998 में Wei Dai नामक व्यक्ति द्वारा किया गया था | लेकिन Bitcoin नामक इस Crypto currency की शुरुआत करने का श्रेय Satoshi Nakamoto को जाता है जिन्होंने इसकी शुरुआत सन 2009 में की थी लेकिन 2010 में उन्होंने इसे छोड़ भी दिया था उसके बाद इसकी कमान कई अन्य डेवलपर्स ने अपने कंधो पर ली और उसके बाद यह समुदाय विश्व में तेजी से बढ़ता गया |

बिटकॉइन कैसे काम करता है और इसे कौन नियंत्रित करता है ?

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की Bitcoin विकेंद्रीकृत तौर पर काम करता है, कहने का आशय यह है की इसका कोई Owner नहीं है यह तकनीक दुनिया भर में फैले Bitcoin Users द्वारा ही नियंत्रित होती है | इसको आसान भाषा में समझने के लिए हम कह सकते हैं की जिस तरह से वर्तमान में चालित Email Technology का कोई Owner नहीं है ठीक उसी प्रकार इस तकनीक का भी कोई मालिक नहीं है हालांकि डेवलपर्स इसे और बेहतर बनाने के लिए इसे संसोधित करने में क्रियाशील हैं | सामान्य भाषा में Bitcoin एक सॉफ्टवेर होता है जिसका उपयोग कोई भी व्यक्ति स्वतंत्र रूप से कर सकता है | इसमें खास बात यह है की यह पीयर टू पीयर प्रणाली होने के कारण एक दूसरे के अनुकूल बनना अति आवश्यक होता है इसलिए Bitcoin के सभी Users को एक ही नियम पर चलने वाले सॉफ्टवेर का इस्तेमाल करना पड़ता है | कहने का आशय यह है की यह तभी ढंग से कम करता है जब इसके सभी उपयोगकर्ताओं में पूर्ण सहमती विद्यमान हो | अगर एक यूजर की नज़र से Bitcoin को परिभाषित करेंगे तो हम पाएंगे की उस यूजर की नज़र में यह एक एप्लीकेशन, कंप्यूटर प्रोग्राम या सॉफ्टवेर से अधिक कुछ नहीं है क्योंकि इसके अंतर्गत उन्हें Individual Bitcoin Wallet प्राप्त होता है | यदि हम इसकी कार्यप्रणाली पर एक नज़र डालेंगे तो हम पाएंगे की Behind the scene बिटकॉइन का नेटवर्क एक पब्लिक बही खाता शेयर कर रहा होता है, इसी खाते में सभी लेन देन हो रहे होते हैं जो Bitcoin Users को कंप्यूटर के माध्यम से हर एक लेन देन की वैधता की पुष्टी करने की छूट देते हैं | इस तरह से प्रत्येक ट्रांजेकसन की प्रमाणिकता डिजिटल हस्ताक्षर द्वारा सुरक्षित होती है | इस प्रक्रिया में Bitcoin Users का अपने द्वारा की जाने वाली गतिविधि अर्थात पैसे भेजने इत्यादि पर पूरा नियंत्रण होता है | बिटकॉइन की माइनिंग के लिए एक विशेष hardware की Computing Ability का इस्तेमाल किया जाता है |

Bitcoin Mining Kya hai

Bitcoin Mining से हमारा आशय ऐसी गतिविधि करने से है जिसमे कंप्यूटिंग क्षमता की लेन देन की प्रक्रिया, नेटवर्क की सुरक्षा एवं अन्य क्रियाकलाप जिसे इस प्रणाली में उपयोग में लाया जाता है पर खर्च किया जाता है | Bitcoin Mining एक डेटा सेण्टर की तरह कार्य करती है चूँकि यह पूरी तरह से विकेंद्रीकरण पर आधारित व्यवस्था है इसलिए अधिकतर देशों में इसकी माइनिंग की जाती है लेकिन किसी का भी इस नेटवर्क पर नियंत्रण नहीं होता है | जहाँ तक Bitcoin Miners बनने का सवाल है इसे एक बिज़नेस Opportunity भी कहा जा सकता है अर्थात एक विशेष हार्डवेयर के साथ सॉफ्टवेर चालित करके कोई भी व्यक्ति Bitcoin Miners बन सकता है कहने का आशय यह है की यह माइनिंग सॉफ्टवेर Peer to peer network के माध्यम से ट्रांजेकसन को रिकॉर्ड करता है और इसकी पुष्टि करने हेतु आवश्यक कार्य भी करता है जिसके बदले Bitcoin Miners कुछ शुल्क लेकर अपनी कमाई कर सकते हैं |

बिटकॉइन के फायदे (Advantage of Bitcoin):

जहाँ तक बिटकॉइन नामक इस डिजिटल करेंसी के फायदों की बात है इनमे कुछ मुख्य फायदों की लिस्ट निम्नवत है |

  • Bitcoin के माध्यम से दुनिया में किसी भी जगह अर्थात दुनिया के किसी भी कोने में कितने भी पैसे भेजने की स्वतन्त्रता है इसमें यह बिलकुल नहीं होता है की आज बैंक बंद है तो पैसा भेजने वाला भेज नहीं सकता और लेने वाला ले नहीं सकता इसलिए कहा जा सकता है की Bitcoin users को भुगतान किन स्वतन्त्रता प्राप्त है |
  • यद्यपि साधारण परिस्थितियों में Bitcoin से Payment करने पर किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं लगता है और यदि कुछ विशेष परिस्थतियों में शुल्क लगता भी है तो वह बेहद कम यानिकी नाममात्र होता है | इसलिए क्रेडिट कार्ड या अन्य अन्तराष्ट्रीय भुगतान चेनलों के मुकाबले यदि फीस ली भी जाती है तो वह बहुत कम होती है |
  • अन्य भुगतान की तुलना में इसमें व्यापारियों को कम जोखिम होता है क्योंकि इसके अंतर्गत होने वाले सभी लेन देन सुरक्षित एवं बदलाव योग्य नहीं होते | और इस प्रणाली में ग्राहकों की व्यक्तिगत जानकारी शामिल नहीं होती है जो धोखधडी इत्यादि से बचाने में सहायक है |
  • Bitcoin नामक यह पेमेंट प्रणाली उपयोगकर्ताओं को उनकी Identity theft के खिलाफ बहुत ही उच्च सुरक्षा प्रदान करता है क्योंकि इसके भुगतान करने के लिए किसी प्रकार की व्यक्तिगत जानकारी देने की आवश्यकता नहीं होती है |
  • चूँकि इस प्रणाली पर किसी संगठन या व्यक्ति का नियंत्रण नहीं है कहने का आशय यह है की Bitcoin के प्रोटोकॉल पर किसी व्यक्ति या संगठन द्वारा हेरफेर या नियंत्रण नहीं किया जा सकता | इसलिए इस प्रणाली को निष्पक्ष एवं पारदर्शी कहा जा सकता है |

बिटकॉइन की त्रुटियाँ (Disadvantage of Bitcoin):

Bitcoin से जुड़ी कुछ प्रमुख त्रुटियाँ इस प्रकार से हैं |

  • अभी भी इस डिजिटल करेंसी को बहुत कम लोग जानते हैं और उससे भी कम लोग इसे विभिन्न कार्यों को निष्पादित करने के लिए स्वीकार करते हैं | हालांकि इसकी विशेषताओं एवं लाभों के मद्देनज़र कुछ बड़ी बड़ी कंपनियों द्वारा तक इसे इस्तेमाल किया जा रहा है लेकिन अभी इनकी लिस्ट बहुत छोटी है | कहने का आशय यह है की अभी मनुष्य अपनी रोजमर्रा की जरुरत का सामान इस प्रकार की क्रिप्टो करेंसी द्वारा नहीं ले सकता है |
  • Bitcoin नामक यह करेंसी नई होने के साथ साथ रोमांच से भी भरी हुई है इसलिए इसमें हमेशा अस्थिरता बनी रहती है | इसका अंदाजा शायद कोई नहीं लगा सकता की आने वाले समय में इस तरह की करेंसी का क्या हश्र होगा | इसलिए इसमें आने वाले समय में भी अस्थिरता बने रहने की संभावना है |
  • Bitcoin नामक इस प्रणाली को आम जनता के उपयोग के लिए सरल बनाने हेतु जोरों शोरों से काम चालू हैं इसलिए इसे हम एक विकास शील करेंसी तो कह सकते हैं | लेकिन भविष्य में इसका विकास होगा या यह लुप्त हो जाएगी अभी यह कहना मुश्किल है |

क्रिप्टो करेंसी की अन्य खामियों के लिए पढ़ें |

बिटकॉइन को कैसे प्राप्त करें (How to get BitCoin):

वर्तमान में यदि एक बिटकॉइन की तुलना हम भारतीय रूपये से करें तो एक bitcoin की कीमत लगभग 397857 रूपये है जो की घटती बढती रहती है | जिस प्रकार 100 पैसे से मिलकर 1 रूपये बनता है ठीक उसी प्रकार लगभग 10 करोड़ Satoshi से मिलकर 1 bitcoin बनता है कहने का आशय यह है की Bitcoin को इसके छोटे रूप Satoshi में भी व्यय एवं कमाया जा सकता है | Bitcoin प्राप्त करने के कुछ मुख्य तरीके इस प्रकार से हैं |

  • अपने पास उपलब्ध वस्तु या सेवा को बेचकर भुगतान के रूप में बिटकॉइन प्राप्त करना |
  • Bitcoin Exchange से बिट कॉइन खरीदकर भी प्राप्त किये जा सकते हैं |
  • किसी नजदीकी व्यक्ति के साथ बिटकॉइन एक्सचेंज करके भी बिट कॉइन प्राप्त किये जा सकते हैं |
  • बिट कॉइन माइनिंग करके भी बिट कॉइन कमाए जा सकते हैं |

क्या बिटकॉइन के साथ पैसे कमाए जा सकते हैं (Can we earn Money with Bitcoin Hindi):

किसी भी व्यक्ति को Bitcoin या अन्य कोई नई उभरती तकनीक के माध्यम से जल्दबाजी में अमीर बनने की चाहत नहीं रखनी चाहिए | ऐसी कोई भी तकनीक, कंपनी इत्यादि जो आधारभूत आर्थिक नियमों का पालन नहीं करते उनसे हमेशा सावधान रहना चाहिए | जहाँ तक Bitcoin का सवाल है यह भुगतान क्षेत्र या लेन देन के क्षेत्र में एक नई तकनीक है जिसमे व्यवसाय अर्थात व्यापार के अवसर विद्यमान तो हैं लेकिन यह सब जोखिमों से परिपूर्ण हैं | हालांकि यदि बिटकॉइन की पिछले वर्षों को देखते हुए इसकी प्रगति का आकलन करेंगे तो हम पाएंगे की यह बेहद तीव्र गति से विकसित हो रहा है, लेकिन इस बात का कोई साक्ष्य मौजूद नहीं है की यह आगे भी ऐसे ही प्रगति के पथ पर बढ़ता रहेगा | बिटकॉइन के माध्यम से पैसे बनाने के जितने भी विकल्प जैसे माइनिंग, Bitcoin को संग्रहित करके रखना, या कारोबार शुरू करना हैं इन सबमे पहले से प्रतिस्पर्धा है एवं लाभ ही होगा यह भी तय नहीं है | यह व्यक्ति व्यक्ति पर निर्भर करता है की वह इस प्रोजेक्ट से जुड़ी लागत एवं जोखिमों का मूल्यांकन किस तरह से करेगा | Bitcoin के साथ पैसे बनाना या न बनाना भी इन्ही सब बातों पर निर्भर करता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: