Business failure से हमारा तात्पर्य बिज़नेस में असफलता मिलने से है, एक उद्यमी जो अपना व्यापार शुरू करने की सोच रहा हो उसके लिए business failure के reasons को जानना बेहद जरुरी है, ताकि जो गलती अन्य उद्यमियों द्वारा की जाती है उसके द्वारा न की जाय | एक सांख्यिकी के अनुसार लगभग 50% business पहले साल में ही fail हो जाते हैं और 95% business अपने कार्यकाल के पांच वर्षों के अन्दर Fail हो जाते हैं |

कहा जाता है की मनुष्य को हमेशा अपनी गलतियों से सीख लेनी चाहिए ताकि जीवन में उसके द्वारा वह गलती न दुहराई जाय | लेकिन Business के मामले में उद्यमी को दुसरे उद्यमियों की गलतियों से भी सीख लेनी चाहिए और जानना चाहिए की आखिर उनके Business failure के पीछे कौन से Reason जिम्मेदार थे | तो आइये जानते हैं की ऐसे कौन से कारण है जिनकी बदौलत उद्यमी को अपने ऑफिस के बाहर बोर्ड लटकाना पड़ता है की ”Sorry यह ऑफिस अब बंद हो चूका है |

reasons-for Business failure in-hindi

1. सिर्फ पैसा कमाना ही बिजनेस का उद्देश्य होना

Business Failure का एक मुख्य कारण यह भी है की एक बड़ा तबका बिज़नेस सिर्फ इसलिए Start करना चाहता है क्योंकि वह उससे पैसे की Kamai करना चाहता है | पैसे की कमाई करना business start करने के लिए reason होना चाहिए लेकिन सिर्फ पैसे कमाना बिज़नेस स्टार्ट करने का कारण नहीं होना चाहिए | क्योंकि यदि पैसे कमाना ही सिर्फ business का लक्ष्य रह जायेगा तो हो सकता है की पैसे कमाने के वशीभूत होकर उद्यमी द्वारा कुछ ऐसे निर्णय ले लिए जाएँ, जिनसे उसके ग्राहक नाराज हो जाएँ और वह उसका उत्पाद ख़रीदे ही नहीं |

उदाहरणार्थ: माना उद्यमी का कोई उत्पाद Business start करने के तीन चार महीनों में चल निकलता है, और उद्यमी पैसे कमाने के वशीभूत होकर उसकी कीमत को बढ़ा देता है तो हो सकता है की ग्राहक उसके Product को बढ़ी हुई कीमत में ख़रीदें ही नहीं , और एक बार उन्हें बाज़ार में उद्यमी के Product का विकल्प कम कीमत पर मिल गया तो बाद में यदि उद्यमी उस Product की कीमत गिरा भी देगा, तब भी ग्राहकों को अपने Product की ओर खींचना उद्यमी के लिए एक चुनौती बनी रहेगी, जिससे business failure के chances बन सकते हैं |

2. बिजनेस के बजाय परिवार को ज्यादा समय देना

India में अधिकतर लोगों की सोच होती है की वे अपना Business इसलिए भी Start करना चाहते हैं क्योंकि वे सोचते हैं वे अपना काम करके अपनी Family को अधिक समय दे पाएंगे | और जो उद्यमी इसको अमल में लाते हैं वे business failure का शिकार हो जाते हैं | हाँ यह बिलकुल सत्य है की जब उद्यमी कोई अपना काम कर रहा होता है तो उस पर boss नामक व्यक्ति का नियंत्रण नहीं होता, बल्कि वह अपना बॉस खुद होता है |

लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल नहीं होता है की वह घर पर बैठा रहे और उसका business profit कमाता रहेगा | अगर उद्यमी ऐसा करता है तो उसे business failure का मुहं देखना पड़ेगा | इन सबसे बचने के लिए उद्यमी को चाहिए की वह अपने खुद पर नियंत्रण के लिए अपने जेहन में दिशा निर्देश जारी करे और उन्हीं का अनुसरण करे |

3. खराब प्रबंधन business failure का मुख्य कारण है :

Poor Management यानिकी कमजोर प्रबंधन भी Business failure का मुख्य कारण है | बहुत सारे आंकड़ों में पाया गया की New business start कर रहे उद्यमियों में Finance, Selling, Purchasing, production, Employee’s hiring इत्यादि प्रबंधन के विषयों की निपुणता नहीं होती है | जिससे वे अपने बिज़नेस के लिए दक्ष या अनुभवी लोगों को नियुक्त कर पाने में विफल रहते हैं |

क्योंकि नए Business owner  के पास Budget problem होने की वजह से और नई कंपनी होने की वजह से अनुभवी लोग कम ही आवेदन करते हैं, और मजबूरन उद्यमी को अपना काम चलाने के लिए Fresher या कम दक्षता वाले लोगों को नियुक्त करना पड़ता है और कुछ उद्यमी तो तब तक यह defined करने में अक्षम नज़र आते हैं की कौन से विभाग की क्या भूमिका है जब तक की वे कोई गलती न कर दें |

इसलिए उद्यमी को शिक्षित होने के साथ साथ विभागों की भूमिका की भी जानकारी होना बेहद जरुरी है, ताकि हर विभाग अपनी अच्छी Performance दे पाए | Management को business के नियमित क्रियाकलापों के प्रति हमेशा सतर्क रहना चाहिए और सभी तत्वों को नियंत्रण में रखना चाहिए, Management की उदासीनता या लापरवाही business failure की वजह बन सकती है | एक अच्छा प्रबंधकर्ता एक अच्छा लीडर भी होता है जो सहकर्मियों के लिए काम का माहौल तैयार करके उत्पादकता को प्रोत्साहित करने का काम करता है |

4. ऑपरेटिंग कैपिटल का पर्याप्त न होना :

Insufficient operating Capital अर्थात बिज़नेस चलाने के लिए वित्त की कमी यह Business Failure का एक सामान्य कारण है | इसमें उद्यमी अपने Business के लिए केवल दो और तीन महीनों का ही Operating Capital लेकर चलता है और जब तीन चार महीनों में परिणाम नहीं आ पाते तो वित्त के अभाव में उद्यमी को अपना Business बंद करना पड़ता है | इसका एक कारण और हो सकता है की बिज़नेस Plan करते वक्त बिक्री से होने वाली कमाई से अवास्तविक अपेक्षाएं रखना |

इसलिए एक उद्यमी के लिए बेहद जरुरी हो जाता है की बिज़नेस प्लान करते वक्त वह केवल औए केवल Start up cost का Plan न करके बिज़नेस को ज़माने में लगने वाले व्यय का भी Plan करे | इसमें उद्यमी को ध्यान रखना  चाहिए की बहुत सारे बिज़नेस को रफ़्तार पकड़ने में एक साल से दो साल का समय लग सकता है | इसलिए उद्यमी को एक साल से दो साल तक के व्यय का प्रावधान लेकर Business start करना चाहिए | जिससे वह business failure होने से अपने व्यापार को बचा सके |

5. अच्छी लोकेशन पर बिजनेस का न होना भी Business Failure का कारण हो सकता है

ऐसी Business location जहाँ उद्यमी के प्रोडक्ट को खरीदने के लिए ग्राहक ही उपलब्ध नहीं हैं | या ऐसी लोकेशन जहाँ पहले से ही उस सर्विस या प्रोडक्ट को बेचने वालों की भरमार है इसके अलवा और भी बहुत सारी बातें हैं जिनका ध्यान उद्यमी को बिज़नेस लोकेशन का चयन करते वक्त रखना होता है, ताकि business failure का सामना न करना पड़े |

क्योकि अच्छी लोकेशन का चयन न करना उद्यमी के Business के लिए विनाशकारी साबित हो सकता है | इनमे मुख्य रूप से ग्राहक किस क्षेत्र में उपलब्ध हैं, सरकार द्वारा दिया जाने वाला प्रोत्साहन, उस क्षेत्र की आधारभूत सुविधाएँ जैसे सड़क, बिजली, पानी, कर्मचारियों का आसानी से उपलब्ध होना, पर्यावरण एवं सुरक्षा के आधार पर महफूज क्षेत्र इत्यादि बातों का ध्यान विशेष तौर पर रखा जाना चाहिए |

6. बिजनेस में क्षमता से अधिक खर्चा कर लेना

कभी कभी क्या होता है की उद्यमी बिना धैर्य रखे बहुत कम समय में अपने बिज़नेस को आगे बढाने के चक्कर में अपनी क्षमता से अधिक खर्चा कर देता है और जब उसके बावजूद उसका बिज़नेस मनमुताबिक परिणाम लाने में विफल होता है तो उद्यमी को बिज़नेस बंद करने के अलावा और कोई दूसरा रास्ता नज़र नहीं आता |

Business failure से बचने के लिए उद्यमी को चाहिए की वह अपनी क्षमतानुसार अर्थात अपनी कमाई का ही कुछ निश्चित हिस्सा बिज़नेस को बढाने में खर्च करे | और business expansion के बारे में तब तक सोचना बेवकूफी है जब तक उद्यमी के पास एक अच्छा customer base तैयार नहीं हो जाता |

7. मार्केटिंग प्रयासों में कमी होना

Marketing Efforts में कमी भी business failure की वजह हो सकती है | India में शुरूआती दौर में बिज़नेस स्टार्ट कर रहे उद्यमी मार्केटिंग में आने वाले खर्चे को कम आंक के चलते हैं क्योकि Marketing यह तो निश्चित करती है की उद्यमी के उत्पाद/सेवा के बारे में कितने लोगों को पता चलेगा, लेकिन यह कतई निश्चित नहीं करती है की उस अमुक उत्पाद की विक्री कितनी होगी | शायद यही reason होगा की उद्यमी को लगता है, की Marketing के बारे में तब सोचेंगे जब कमाने लगेंगे, जबकि यह गलत अवधारणा है |

उद्यमी को अपने आप पर और अपने  उत्पाद पर विश्वास होना चाहिए और हर महीने/साल के आधार पर Marketing हेतु अलग से बजट का प्रावधान किया जाना चाहिए | उद्यमी का लक्ष्य अपने उत्पाद या सेवा को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाने का होना चाहिए, उत्पाद को खरीदना या न खरीदना यह ग्राहक पर छोड़ना चाहिए | इस business failure से बचने और अपने उत्पाद या सेवा को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाने के लिए उद्यमी विभिन्न मार्केटिंग Techniques का सहारा ले सकता है |

8. उत्पाद या सेवा लोगों की किसी समस्या का समाधान न कर पा रही हो

यदि उद्यमी द्वारा उत्पादित उत्पाद (Product) या दी जाने वाली सेवा (Service) लोगों की किसी समस्या को हल करने में नाकाम है, तो यह भी business failure का एक reason हो सकता है | क्योंकि उद्यमी की उत्पाद या सेवा तभी बिकेगी जब लोगों को उसकी आवश्यकता होगी, और आवश्यकता तभी होगी जब समस्या होगी |

इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह किसी ऐसे Product या Service का चयन अपने business के लिए करे, जो अधिकतर या किसी खास वर्ग के लोगों की Problems को Solve करने का सामर्थ्य रखती हो | इसके अलावा इस प्रतिस्पर्धात्मक बाज़ार में उद्यमी के सेवा/उत्पाद का खड़ा न हो पाना भी Business failure का reason हो सकता है | इस reason से बचने का तरीका कोई नया आईडिया लेके business करने से है, क्योकि जो सेवा/उत्पाद बाज़ार में पहले से उपलब्ध है उसमे तो प्रतिस्पर्धा मिलेगी ही मिलेगी |

3 Comments

  1. Avatar for यशवंत tank यशवंत tank
  2. Avatar for Vikas Gupta Vikas Gupta
  3. Avatar for गजेन्द्र गुप्ता गजेन्द्र गुप्ता

Leave a Reply

Your email address will not be published