दुनिया में हर रोज सैकड़ो प्रोडक्ट नए लांच होते हैं इन उत्पादों के बारे में लोगों को बताने की प्रक्रिया ही Business Promotion कहलाती है । इसे एक उदाहरण के माध्यम से और सरलता से समझा जा सकता है मान लीजिये किसी कम्पनी ने एक नया लैपटॉप लांच किया है और कंपनी को उसकी गुणवत्ता, विशेषताओं पर पूरा भरोसा है की वह लोगों को पसंद आएगा।

लेकिन लोगों को पता कैसे चलेगा की कोई नया लैपटॉप कंपनी ने लांच किया है जी हाँ कंपनी इसके लिए Business Promotion का सहारा लेगी। और उस लैपटॉप को विभिन्न माध्यमों से प्रमोट करेगी ताकि लोग उस लैपटॉप के बारे में जानकर उसे खरीद सकें। एक व्यवसाय में प्रमोशन कोई भी ऐसा संचार है जो उत्पादों या सेवाओं को खरीदने के लिए लोगों के निर्णयों को प्रभावित करने की कोशिश करता है।

व्यवसायिक संगठन अपने उत्पाद या सेवाओं का प्रमोशन करने के लिए सबसे पहले अपने टारगेट कस्टमर की पहचान करते हैं और उसके बाद उन तक सन्देश पहुँचाने के लिए अनेकों तरीके खोजकर अपने उत्पाद या सेवा को प्रचारित करते हैं। उद्यमी ने भले ही कितना अच्छा प्रोडक्ट तैयार क्यों न किया हो, लेकिन जब तक वह उसे बेचने के लिए Business Promotion नहीं करेगा तब तक उस प्रोडक्ट के लिए ग्राहक मिलना आसान नहीं होता है।

इसलिए कहा जा सकता है की किसी भी प्रोडक्ट या सेवा की बिक्री के लिए प्रमोशन बहुत जरुरी होता है। इसी बात को ध्यान में रखकर आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से इस बारे में विस्तार से जानने का प्रयास करेंगे।

Business Promotion kya hai

बिजनेस प्रमोशन क्या है (What is Business Promotion in Hindi): 

साधारण भाषा में कहें तो Business Promotion विक्रेता और खरीदार के बीच संचार का एक प्रकार है इसमें विक्रेता खरीदार को अपने प्रोडक्ट या सर्विस के प्रचार के माध्यम से माल या सेवा को खरीदने के लिए मनाने का प्रयास करता है। प्रमोशन लोगों के बीच किसी उत्पाद या सेवा के बारे में जागरूकता को बढ़ाता है इसके अलावा यह कंपनी की छवि को बेहतर बनाने में भी अहम् योगदान निभाता है।

प्रमोशन के माध्यम से लोगों में प्रोडक्ट या सेवा के बारे में दिलचस्पी और रूचि पैदा होती है जिससे कंपनी को वफादार ग्राहक भी मिल सकते हैं। मार्किट मिक्स के चार प्रमुख P बताये गए हैं जिनमें Price, Product , Promotion और Place शामिल है और प्रमोशन इन्हीं मार्किट मिक्स का मूल तत्वों में से एक है।

हालांकि अक्सर देखने और सुनने को मिलता है की प्रमोशन और एडवरटाइजिंग एक ही है लेकिन यह सत्य नहीं है Business Promotion और Advertising अलग अलग हैं। एडवरटाइजिंग एक विशिष्ट क्रिया है जिसे उद्यमी अपने प्रोडक्ट या सेवा को बढ़ाने के लिए करते हैं यह प्रमोशन का ही एक प्रकार है किन्तु प्रमोशन नहीं है।

प्रमोशन में प्रोडक्ट या सेवा को प्रचारित करने के सभी तरीके शामिल होते हैं प्रोडक्ट की कीमत पर पर एक समयावधि के लिए छूट देना, बस स्टॉप, रेलवे स्टेशन में कुछ दिन के लिए पोस्टर लगवाना इत्यादि प्रमोशन के ही रूप हैं।

प्रमोशन कैसे काम करता है    

प्रचार यानिकी प्रमोशन किसी भी बिजनेस का एक महत्वपूर्ण पहलू होता है, जब तक की कंपनी या व्यवसायिक संगठन Business Promotion का कोई न कोई तरीका, किसी न किसी स्तर पर न अपना ले तब तक उसे ग्राहक मिल पाना लगभग असम्भव है। और इसमें कोई दो राय नहीं की ग्राहकों के बिना कोई भी व्यवसाय कभी भी बंद हो सकता है। इसलिए यह सत्य है की हर व्यवसायिक इकाई को किसी न किसी स्तर के प्रमोशन की आवश्यकता होती है लेकिन हर व्यवसाय को एक ही तरह या एक ही स्तर के प्रमोशन की आवश्यकता नहीं होती है।

कहने का आशय यह ही की अलग अलग व्यवसायों की अपनी अलग अलग प्रचार रणनीति होती है इसलिए कभी भी दो व्यवसायों के लिए एक ही स्तर का प्रचार सही नहीं हो सकता। एक अच्छी लोकेशन यानिकी सड़क के किनारे मौजूद दुकान को केवल एक साइन बोर्ड की आवश्यकता यह बताने के लिए हो सकती है की यहाँ पर दुकान मौजूद है। जबकि कहीं गली के अन्दर मौजूद दुसरे दुकानों को तरह तरह के चिन्ह मुख्य सड़क से लगाने की आवश्यकता होगी।

इसके अलावा नए व्यवसायों को उनके लिए प्रमोशन का कौन सा माध्यम उपयुक्त रहेगा यही पता करने के लिए विभिन्न माध्यमों पर प्रयोग करने की आवश्यकता हो सकती है। पहले से स्थापित व्यवसायिक इकाइयाँ भी अधिक परिणाम देने वाले Business Promotion के माध्यमों का इस्तेमाल करने के अलावा नई रणनीतियों के आधार पर नए नए प्रयोग भी करती रहती हैं। सबसे पहले उद्यमी को एक ऐसा प्रोडक्टया सेवा बनानी होती है जिसकी लोगों को आवश्यकता है उसके बाद उस प्रोडक्ट या सेवा को कौन कौन से लोग इस्तेमाल में ला सकते हैं यह पता करना होता है।

जब व्यवसायिक संगठन टारगेट कस्टमर का पता कर लेते हैं तो उसके बाद टारगेट कस्टमर तक अपने प्रोडक्ट या सेवा के गुणों और फायदों को पहुँचाने के लिए प्रमोशन के प्रकार का चयन करना होता है। प्रमोशन के उस माध्यम के जरिये ही टारगेट कस्टमर को प्रोडक्ट या सेवा के बारे में पता चलता है जिससे उनमें उसे खरीदने की इच्छा जाग्रत होती है।

प्रमोशन के प्रकार (Types of Business Promotion in Hindi)  

वैसे देखा जाय तो आज के इस वैश्वीकरण और इन्टरनेट के इस युग में जब देश विदेश कोई भी खबर या जानकारी सम्पूर्ण विश्व में बड़ी तेजी से फ़ैल जाती है  Business Promotion के एक नहीं बल्कि सैकड़ों तरीके उपलब्ध हैं। इसके अलावा व्यवसायिक संगठन हर रोज अपने उत्पाद या सेवाओं को प्रचारित करने के लिए नई नई रणनीति पर भी काम करते रहते हैं। लेकिन हम यहाँ पर प्रमोशन के केवल कुछ प्रमुख प्रकारों का ही जिक्र करने वाले हैं जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  1. विज्ञापन (Advertising): विज्ञापन का अर्थ टेलीविजन, रेडियो, सोशल मीडिया, अख़बार इत्यादि के माध्यम से अपने प्रोडक्ट, सर्विस या कंपनी का विज्ञापन करने से है। विज्ञापन कम्पनी, उत्पाद या सेवा के बारे में लोगों के बीच जागरूकता फैलाने में मदद करता है। वर्तमान में विभिन्न माध्यमों से विज्ञापन का संचार किया जाता है जिनमें समाचार पत्र, पत्रिकाएं, टेलीविजन, रेडियो, आउटडोर विज्ञापन, प्रत्यक्ष मेल , खोज परिणाम, ब्लॉग, सोशल मीडिया, वेबसाइट या पाठ संदेश इत्यादि शामिल हैं ।  
  2. डायरेक्ट मार्केटिंग – डायरेक्ट मार्केटिंग भी विज्ञापन का ही एक रूप है इसमें व्यवसायिक संगठन अनेक माध्यमों जैसे सेल फोन टेक्स्ट मैसेजिंग, ईमेल, वेबसाइट, ऑनलाइन विज्ञापन, डेटाबेस मार्केटिंग, फ़्लायर, कैटलॉग वितरण, प्रचार पत्र और लक्षित टेलीविज़न, समाचार पत्र और पत्रिकाओं के माध्यम से ग्राहकों से सीधे संवाद करते हैं।    
  3. सेल्स प्रमोशन – Business Promotion का यह प्रकार प्रोडक्ट या सेवा की मांग को बढ़ाने, प्रोत्साहित करने या उत्पाद की उपलब्धता में सुधार करने के लिए पूर्व निर्धारित सिमित समय के लिए मीडिया और गैर मीडिया मार्केटिंग कम्युनिकेशन का इस्तेमाल करता है।
  4. पर्सनल सेलिंग – किसी प्रोडक्ट की सेल उसकी सेलिंग पर निर्भर करती है पर्सनल सेलिंग नामक इस पद्यति में कंपनी अपने एजेंटों को व्यक्तिगत रूप से उत्पादों या सेवाओं को बेचने के लिए भेजती हैं। यहाँ ग्राहकों से फीडबैक तत्काल मिलता है इसलिए यह पद्यति ग्राहकों से व्यापारिक रिश्ते मजबूत और प्रोडक्ट या सेवा के प्रति उनमें विश्वास बढ़ाने में भी सहायक है ।
  5. पब्लिक रिलेशन – Business Promotion की इस पद्यति में कोई व्यक्ति, व्यवसायिक संगठन, सरकारी एजेंसी, गैर सरकारी संगठन, राजनैतिक दल जनता के बीच सूचना का प्रचार प्रसार करते हैं। एक सफल पीआर अभियान वास्तव में संगठन के ब्रांड के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।  

बिजनेस प्रमोशन करने के पीछे उद्देश्य (Objective of Business Promotion in Hindi)

Business Promotion किसी भी व्यवसाय की मार्केटिंग रणनीति का अहम् पहलू है इस प्रतिस्पर्धा वाले माहौल में वर्तमान में उद्यमियों और व्यवसायिक संगठनों द्वारा इसे एक शक्तिशाली हथियार के रूप में इस्तेमाल में लाया जा रहा है। यह लक्ष्यित ग्राहकों के साथ संवाद करने का एक बेहतरीन तरीका है । प्रमोशन करने के पीछे संगठनों के कुछ प्रमुख उद्देश्य निम्नलिखित हैं।

  • प्रमोशन का प्रमुख उद्देश्य बिक्री को बढ़ावा देना है संगठन विभिन्न प्रचार माध्यमों का इस्तेमाल करके उत्पाद या सेवा की मांग को उत्तेजित कर सकता है। इस तरह के ये प्रयास संभावित ग्राहकों को वास्तविक ग्राहकों में तब्दील कर देते हैं। Business Promotion के जरिये जब कंपनी अपने उत्पाद या सेवाओं को लोगों की आवश्यकता से मिलान करके लोगों को समझाती है तो लोग उस उत्पाद या सेवा को खरीदने में रूचि दिखाते हैं।
  • प्रमोशन का उद्देश्य ग्राहकों या उपभोक्ताओं को कंपनी के उत्पादों की विशेषताओं, गुणों, प्रदर्शन, मूल्य और उपलब्धता के बारे में सूचित करना होता है। प्रमोशन उपभोक्ताओं को मौजूदा उत्पाद और सेवाओं में किये गए परिवर्तनों इत्यादि के बारे में सूचित करने का एक बेहतरीन साधन है।
  • प्रमोशन के माध्यम से संगठन अपने ग्राहकों को यह बात मनवाने में कामयाबी हासिल कर सकते हैं की उनके द्वारा ऑफर किया जाने वाला उत्पाद उनके प्रतियोगियों की तुलना में अच्छा है । Business Promotion के जरिये कोई भी कंपनी अपने उत्पाद को अन्य प्रतियोगियों के उत्पाद से अलग बता सकती है।
  • प्रमोशन का इस्तेमाल नए उत्पाद को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से भी किया जाता है एक बड़े और विकेंद्रीकृत बाजार में प्रमोशन नए उत्पाद को बढ़ावा देने के लिए सबसे प्रभावी तरीकों में से एक है। प्रमोशन के माध्यम से कंपनी नए लांच किये गए प्रोडक्ट की उपलब्धताम, विशिष्ट विशेषताओं और उत्पाद की कीमत के बारे में सूचित करती है ।
  • Business Promotion कम्पनी को प्रभावी ढंग से प्रतिस्पर्धा का सामना करने में सक्षम बनाता है। आज हर क्षेत्र में भयंकर प्रतिस्पर्धा व्याप्त है इसलिए बिना प्रचार के बाजार में खड़ा होना या टिक पाना अत्यंत मुश्किल है। प्रतिस्पर्धी बाजार में बने रहना भी प्रमोशन का प्रमुख उद्देश्य है ।
  • विज्ञापन, डायरेक्ट मार्केटिंग, सेल्स प्रमोशन, पर्सनल सेलिंग, पब्लिक रिलेशन इत्यादि प्रचार के सभी प्रकार कम्पनी की इमेज या ब्रांड इमेज बनाने में मददगार साबित होते हैं। प्रभावी प्रमोशन गतिविधियों के चलते कई कम्पनियां लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हुई हैं प्रमोशन के माध्यम से कंपनी दुनिया के किसी भी कोने में ग्राहकों तक पहुँच सकती है।

 यह भी पढ़ें

ब्रांडिंग क्या है इसके महत्व तत्व एवं प्रकार.

विज्ञापन क्या है? इसके प्रकार लाभ एवं तकनीक.

अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग कैसे करें?