कंप्यूटर रिपेयरिंग बिज़नेस कैसे शुरू करें? How to Start Computer Repairing Business in Hindi.

वर्तमान में Computer Repairing Business एक लाभकारी बिज़नेस हो सकता है क्योंकि हर प्रकार का छोटा बड़ा व्यापार करने वाले व्यक्ति के पास कंप्यूटर या लैपटॉप देखा जा सकता है | कहने का अभिप्राय यह है की जहाँ पहले कंप्यूटर का इस्तेमाल सिर्फ बड़े बड़े कॉर्पोरेट एवं कंपनियों तक सिमित था | वर्तमान में हर छोटा बड़ा व्यापारी, दुकानदार इसका प्रयोग करने लगा है | इसलिए बड़ी कंपनियां तो Computer repairing इत्यादि कार्यों के लिए कर्मचारीयों की नियुक्ति करते हैं जो यह सुनिश्चित करते हैं की computer एवं Laptop का कार्य बिना बाधा के निरंतर चलता रहे | लेकिन छोटे व्यापारी इन सब कामों के लिए कर्मचारियों की नियुक्ति करने में आर्थिक रूप से सक्षम नहीं होते ऐसे में वे इस तरह का कार्य किसी Computer repairing business करने वाले व्यक्ति या कंपनी को सौंप देते हैं | ऐसे लोग जो टेक्नोलॉजी से प्यार करते हों और उन्हें कंप्यूटर रिपेयरिंग का कौशल प्राप्त हो, इस तरह का बिज़नेस शुरू कर सकते हैं लेकिन यदि आपको Computer/laptop Repairing का कोई अनुभव नहीं है तो व्यक्ति को इस तरह का व्यवसाय शुरू करने से पहले यह काम सीखना होगा फिर किसी रिपेयरिंग सेण्टर में कार्य करके इसका व्यवहारिक अनुभव प्राप्त करना होगा | कहने का आशय यह है की कोई भी इच्छुक व्यक्ति इस बिज़नेस को शुरू कर सकता है लेकिन उसके लिए व्यक्ति को इस लेख में बताई गई बातों का अनुसरण करना होगा | Computer repairing Business शुरू करने वाले व्यक्ति के आंशिक ग्राहक के तौर पर न सिर्फ छोटे बड़े व्यापारी होंगे बल्कि वे लोग भी होंगे जो घरेलू तौर पर कंप्यूटर या लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं |

computer repairing business

कंप्यूटर रिपेयरिंग बिज़नेस क्या है (What is computer Repairing Business in Hindi):

Computer Repairing नामक इस प्रक्रिया की बात करें तो यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे एक दोषपूर्ण अर्थात समस्याओं से ग्रस्त कंप्यूटर की जांच समस्याओं और दोष को पहचानने एवं उसका निवारण करने के लिए की जाती है और इसी प्रक्रिया के अंतर्गत कंप्यूटर को उस विशेष समस्या से मुक्त कराया जाता है | इसमें कंप्यूटर हार्डवेयर, सॉफ्टवेर, नेटवर्क/इन्टरनेट सभी प्रकार की समस्याओं की मरम्मत करने के लिए अनेक टूल्स एवं टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है | वर्तमान में लोगों के पास न सिर्फ उनके व्यवसायिक प्रतिष्ठान में कंप्यूटर एवं लैपटॉप हैं बल्कि उनके घरों में कंप्यूटर उपलब्ध हैं | यही कारण है की ऐसे लोग जो अपने व्यवसाय या घरेलू इस्तेमाल के लिए कंप्यूटर लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं उन उपकरणों में समस्याएं आने पर वे किसी ऐसी कंपनी या व्यक्ति की तलाश में रहते हैं जो उन्हें ठीक कर सके | इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखकर जब किसी व्यक्ति द्वारा कंप्यूटर/लैपटॉप इत्यादि ठीक करने का काम किया जाता है तो उसके द्वारा किया जाने वाला यह काम Computer Repairing Business कहलाता है | इसी व्यापार को PC repairing भी कहा जाता है |

कंप्यूटर रिपेयरिंग बिज़नेस को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारक :

Computer repairing business को प्रभावित करने वाले कुछ प्रमुख कारक इस प्रकार से हैं |

  • यद्यपि इस तरह के बिज़नेस को कोई भी शुरू कर सकता है लेकिन यदि उद्यमी को सॉफ्टवेर एवं हार्डवेयर का ज्ञान हो तो यह बिज़नेस के अनुकूल हो सकता है | वह इसलिए क्योंकि यदि Computer repairing Business करने वाले व्यक्ति को इन सबका ज्ञान होगा तो वह बिना किसी कर्मचारी की नियुक्ति के भी इस तरह के व्यापार की शुरुआत कर सकता है | अन्यथा उसे किसी अनुभवी व्यक्ति की नियुक्ति करनी होगी |
  • यह व्यापार टेक्नोलॉजी से जुड़ा हुआ व्यापार है इसलिए कंपनियां कंप्यूटर लैपटॉप इत्यादि का निर्माण करने में नए नए कल पुर्जों का उपयोग करते हैं | यही कारण है की उद्यमी को हर अपडेट के साथ अप टू डेट रहने की आवश्यकता होती है | ऐसा न होने पर उद्यमी का बिज़नेस प्रतिकूल तौर पर प्रभावित हो सकता है |
  • यद्यपि Computer Repairing Business शुरू करने के लिए उद्यमी को किसी प्रकार के सर्टिफिकेट की आवश्यकता नहीं होती लेकिन यदि उद्यमी कॉर्पोरेट क्लाइंट को अपनी सर्विस देने की सोच रहा हो तो उसे किसी संस्थान से Computer/Laptop repairing Course करके सर्टिफिकेट अर्जित कर लेना चाहिए | यह सर्टिफिकेट उद्यमी के बिज़नेस को सकरात्मक रूप से प्रभावित करेगा |
  • कंप्यूटर रिपेयरिंग बिज़नेस के दौरान उद्यमी को विभिन्न स्वभाव वाले ग्राहकों का काम करना पड़ सकता है इनमे से कुछ ग्राहक ऐसे भी हो सकते हैं जो आवेश में या गुस्से में उद्यमी को अपना काम जल्दी कराने को बोल सकते हैं | लेकिन उद्यमी को इसका जवाब विनम्रता से ही देना चाहिए क्योंकि ग्राहक खुश होने पर आपके बिज़नेस की मार्केटिंग खुद करा देंगें और अपने सगे, सम्बन्धियों, दोस्तों को भी आपसे काम कराने को बोलेंगे | कहने का अभिप्राय यह है की Computer Repairing Business में उद्यमी का व्यवहार भी बिज़नेस को प्रभावित करता है |

कंप्यूटर रिपेयरिंग बिज़नेस कैसे शुरू करें? (How to Start own Computer Repairing Business in Hindi):

खुद का Computer Repairing Business शुरू करने के लिए व्यक्ति को अनेक प्रक्रियाओं से होकर गुजरना पड़ सकता है | इसलिए आगे इस लेख में हम संक्षिप्त रूप से उन सभी प्रक्रियाओं के बारे में जानने की कोशिश करेंगे |

  1. कंप्यूटर/लैपटॉप रिपेयरिंग का काम सीखें:

Computer repairing business शुरू करने के इच्छुक व्यक्ति को सर्वप्रथम computer/laptop repairing का काम सीखना होगा वर्तमान में बहुत सारे सरकारी एवं निजी संस्थान इस तरह के कोर्स ऑफर करते हैं | कहने का अभिप्राय यह है की यदि व्यक्ति को कंप्यूटर लैपटॉप ठीक करने का काम आता है तब तो ठीक है | लेकिन यदि उसे यह सब काम नहीं आता है तो वह किसी सरकारी या निजी संस्थान से यह सीख सकता है | वर्तमान में भारत में उद्यमिता एवं कौशल को बढ़ावा देने के लिए सरकारी एजेंसी राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम द्वारा भी इस तरह का कोर्स ऑफर किया जा रहा है | NSIC ने Laptop repairing course के लिए शुल्क 8000 रूपये निर्धारित किया है | इस कोर्स को कोई भी दसवीं पास व्यक्ति ज्वाइन कर सकता है और इस प्रकार के कोर्स की शुरुआत NSIC के टेक्निकल सेंटरों में हर महीने होती है | इस कोर्स की अवधि 120 घंटे निर्धारित की गई है | राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम द्वारा ऑफर किये जा रहे कंप्यूटर कोर्सों की और अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक कर सकते हैं |

  1. किसी कंप्यूटर रिपेयरिंग सेण्टर में काम करें.

Computer repairing या Laptop Repairing Course करने के बाद भी व्यक्ति को तुरंत अपना बिज़नेस नहीं करना चाहिए बल्कि किसी कंप्यूटर ठीक करने की दुकान या सेण्टर में काम करना शुरू कर देना चाहिए | इससे व्यक्ति को इस व्यवसाय सम्बन्धी व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त हो पायेगा और कंप्यूटर को ठीक करने के इस्तेमाल में लाये जाने वाले कल पुर्जों की सप्लाई का पता चल पायेगा | इन सबके अलावा प्रतिस्पर्धा को मात देने के लिए कीमतों में कितनी उछाल या गिरावट करनी चाहिए यह भी पता चल पायेगा | इसलिए Computer Repairing Course पूर्ण कर लेने के बाद व्यक्ति को इसकी व्यवहारिक जानकारी प्राप्त करने के लिए जो करना पड़े करना चाहिए | ताकि वह अपने बिज़नेस की सफल होने की संभावनाओं को बढ़ा सके |

  1. बिज़नेस लोकेशन का चुनाव करें:

एक ऐसी लोकेशन जहाँ छोटे छोटे उद्यम स्थापित हों Computer Repairing Business के लिए उपयुक्त हो सकती है | या ऐसी लोकेशन जो आवासीय क्षेत्र एवं व्यवसायिक क्षेत्र से बराबर की दूरी में स्थित हो भी इसके लिए उपयुक्त हो सकती है | क्योंकि जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं बड़ी बड़ी कंपनियों में इस तरह का काम करने के लिए IT Department होता है | लेकिन छोटे उद्यम इनका खर्चा वहन कर पाने में अक्षम होते हैं इसलिए वे यह काम Computer Repairing Service Provider को देते हैं | इसके अलावा घरों में इस्तेमाल में लाये जाने वाले लैपटॉप एवं कंप्यूटर भी ख़राब होने की स्थिति में ऐसी ही दुकानों में ठीक होने के लिए आते हैं | जहाँ तक जगह का सवाल है इस बिज़नेस को शुरू करने के लिए उद्यमी को 100-150 Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है |

  1. बिज़नेस रजिस्ट्रेशन एवं लाइसेंस:

बेहद छोटे स्तर पर Computer Repairing Business शुरू करने के लिए उद्यमी को अनिवार्य रूप से किसी प्रकार के लाइसेंस एवं पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होती है | लेकिन यदि उद्यमी का सालाना टर्नओवर दी गई छूट से अधिक हो जाता है तो उद्यमी को जीएसटी पंजीकरण कराने की आवश्यकता हो सकती है | इसके अलावा यदि उद्यमी चाहता है की वह छोटी बड़ी कंपनियों एवं कारोबारियों को भी अपनी सर्विस दे तो उद्यमी को अपने बिज़नेस को Proprietorship Ownership के अंतर्गत रजिस्टर करा लेना चाहिए | क्योंकि आम तौर पर बिज़नेस इकाइयाँ किसी पंजीकृत इकाई के साथ ही कारोबार करना पसंद करती हैं | आप अपने बिज़नेस के लिए कोई ऐसा नाम सोच सकते हैं जो पहले रजिस्टर न हुआ हो अन्यथा आपका बिज़नेस का नाम सम्बंधित अथॉरिटी द्वारा स्वीकृत नहीं किया जायेगा | जानिए भारत में खुद की कंपनी कैसे रजिस्टर करें?

  1. कौन कौन सी सर्विस देंगे इसका निर्णय लें :

Computer repairing या Laptop Repairing के अंतर्गत उद्यमी अपने ग्राहकों को विभिन्न तरह की सर्विस ऑफर कर सकता है | इसमें कंप्यूटर रिपेयर तो है ही है साथ में सॉफ्टवेर सपोर्ट, प्रशिक्षण, नेटवर्किंग, सॉफ्टवेर अपग्रेड करने की सुविधा, एंटी वायरस इत्यादि इंस्टाल करने की सर्विस, बैकअप सर्विस एवं हार्डवेयर भी सप्लाई कर सकता है | इसलिए उद्यमी को यह निर्णय पहले ही लेना चाहिए की वह अपने ग्राहकों को कौन कौन सी सर्विस देना चाहता है ताकि वह इन सब कार्यों को निष्पादित करने के लिए उपकरणों एवं कल पुर्जों की खरीदारी कर सके |

  1. उपकरण एवं कल पुर्जे खरीदें:

अब उद्यमी को अपना Computer repairing Business शुरू करने के लिए कंप्यूटर में लगने वाले कल पुर्जे एवं टूल्स खरीद लेने चाहिए | चूँकि व्यक्ति पहले भी उस क्षेत्र में किसी कंप्यूटर रिपेयरिंग सेण्टर में काम कर चूका है इसलिए उसे कल पुर्जे सप्लायर की पूरी जानकारी होनी चाहिए क्योंकि कल पुर्जों की उचित दामों पर खरीदारी उद्यमी की कमाई बढाने में सहायक होगी | और उद्यमी को ऐसा सप्लायर चुनना चाहिए जो जरुरत पड़ने पर कल पुर्जों की सप्लाई जल्दी कर सके | क्योंकि हर एक कल पुर्जा दुकान में रखना संभव न हो तो उद्यमी जरुरत पड़ने पर उसे आसानी से सप्लायर से मंगा सके |

  1. मार्केटिंग है जरुरी:

हो सकता है की आप अपने काम अर्थात Computer Repairing में माहिर हों लेकिन फिर भी आपको अपनी दुकान में बैठे इस बात का इंतजार नहीं करना चाहिए की कोई ग्राहक अपने आप आपकी दुकान का दरवाजा खटखटायेगा | बल्कि उद्यमी को अपने बिज़नेस को लोगों के बीच पहचान दिलाने के लिए भरसक प्रयत्न करना चाहिए | इसके लिए उद्यमी विभिन्न मार्केटिंग तकनीक का सहारा ले सकता है | इन सबके अलावा उद्यमी उस क्षेत्र में स्थित छोटे छोटे बिज़नेस स्थापना का भ्रमण कर सकते हैं | और छोटे बिज़नेस के स्वामियों के साथ मीटिंग कर उन्हें अपनी सर्विस से अवगत करा सकते हैं | Computer Repairing Business में भी कमाई ग्राहकों की संख्या पर ही निर्भर करती है इसलिए ग्राहक बढ़ाते जाइए और कमाते जाइए |

वर्तमान में कंप्यूटर एवं लैपटॉप के बढ़ते चलन को देखते हुए कहा जा सकता है की Computer Repairing Business कमाई का एक अच्छा स्रोत बन सकता है | लेकिन बढ़ते इन्टरनेट ने इस बिज़नेस को थोड़ा बहुत नुकसान पहुँचाने की भी कोशिश की है | वह इसलिए क्योंकि आज जिसके पास भी कंप्यूटर या लैपटॉप है उनके पास इन्टरनेट की भी सुविधा है और जब भी उन्हें लैपटॉप या कंप्यूटर में किसी समस्या का आभास होता है वे इन्टरनेट पर सर्च करके उसका समाधान ढूंढ लेते हैं | जिससे Computer Repairing Center में सिर्फ वे लोग ही आते हैं जिन्हें उस समस्या का इन्टरनेट पर हल नहीं मिलता है |

यह भी पढ़ें:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

2 thoughts on “कंप्यूटर रिपेयरिंग बिज़नेस कैसे शुरू करें? How to Start Computer Repairing Business in Hindi.

  1. Sir mujhe pashu aahar banane ka business Karna h uska pura detail bataiye
    Pashu aahaar me jese
    Khali kapasya
    Kattel feed

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *