डीजे का व्यापार कैसे शुरू करें How to start DJ Business in Hindi.

केवल संगीतप्रेमी लोग ही DJ business को सफलतापूर्वक चलाने में सक्षम हो पाते हैं कहने का आशय यह है की यह व्यापार उन लोगों के लिए बिलकुल नहीं है जिन्हें संगीत से सिरदर्द होता हो | देखा गया है की सामान्य व्यक्तियों के मुकाबले उत्कृष्ट व्यक्तित्व के धनी एवं संगीतप्रेमी व्यक्ति DJ business में अधिक सफल होते हैं | हालांकि इसमें कोई दो राय नहीं की इस प्रकार के यह व्यापार युवाओं में खासे प्रचलित होते हैं इसलिए अधिकतर युवा इस तरह के व्यापारों को शुरू करने में ज्यादा रूचि दिखाते हैं | लेकिन इस बिज़नेस को सिर्फ वही लोग सफलतापूर्वक चला सकते हैं जो संगीत की धुनों का आनंद लेते हों, और यह जानते हों की किस समय किस प्रकार के संगीत से लोग अधिक खुश होंगे | इसलिए यदि आपमें बताये गए उपर्युक्त गुण हैं और आप कमाई का एक स्थायी स्रोत चाहते हैं तो यह DJ business आपके लिए है | इससे पहले की हम डीजे बिज़नेस स्टार्ट करने के स्टेप बाई स्टेप प्रक्रिया के बारे में जानें सबसे पहले यह जान लेते हैं की यह है क्या?

DJ business kaise shuru kare

DJ Business क्या है?

वर्तमान में चाहे शहर हो या गाँव हर जगह शादी, ब्याह एवं अन्य आयोजनों पर डांस एवं मनोरंजन करने के उद्देश्य से डीजे लगाया जाता है | यद्यपि DJ का फुल फॉर्म Disc Jockey यानिकी एक ऐसा आदमी जो किसी पार्टी, क्लब या अन्य आयोजन पर पहले से रिकॉर्ड किया हुआ म्यूजिक दर्शकों या श्रोतागणों के अनुरोध पर प्ले करता है | लेकिन आम तौर पर DJ से अभिप्राय उस पूरी यांत्रिक प्रक्रिया (Head phone, mike, DJ Mixing, DJ Sound System,Laptop, dj dance floorइत्यादि सभी कुछ शामिल है) से लगाया जाता है जिसकी मदद से पहले से रिकार्डेड गाने उच्च ध्वनि के साथ बजाये जाते हैं | आपने अपने जीवन में अब तक बहुत बार DJ में डांस किया होगा और यह तभी संभव हो पाया होगा जब आप किसी पार्टी, शादी समारोह या अन्य किसी आयोजन में गए होंगे | कहने का आशय यह है की DJ business लोगों की खुशी से जुड़ा बिज़नेस है इसलिए खुशी के मौके पर डांस करने के उद्देश्य से ही लोगों द्वारा डीजे बुलाया जाता है | लोगों के खुशी के मौकों जैसे शादी, सालगिरह, जन्मदिन एवं अन्य आयोजनों को ध्यान में रखकर किया जाने वाला बिज़नेस ही DJ business कहलाता है |

डीजे बिज़नेस की मांग (Demand of DJ business ):

इसमें कोई दो राय नहीं की लोगों के रहन सहन एवं शौक में तेजी से बदलाव होते जा रहे हैं, इन्हीं बदलावों के कारण बहुत सारे ऐसे उत्पाद या सर्विस हैं जिनकी डिमांड में 6-7 वर्षों के बीच तिगुनी चौगुनी से भी अधिक की वृद्धि देखी गई है | सर्विस बिज़नेस की लिस्ट में ऐसा ही व्यापार है यह DJ business | जहां आज से कुछ साल पहले DJ सिर्फ शहरों तक ही सिमित था वहीँ वर्तमान में यह देश के हर कोने में फैल चुका है इसलिए वर्तमान में कोई फर्क नहीं पड़ता की शादी कराने वाले परिवार की आर्थिक स्थिति क्या है? क्योंकि आपको शहर से लेकर गाँव तक हर शादी में DJ की धुनें अवश्य सुनाई देंगी | कहने का अभिप्राय यह है की शादी जैसे बड़े आयोजन में DJ न होने से सब कुछ खाली खाली सा लगता है इसलिए शादी में DJ मंगाना लोगों की सहज प्रवृत्ति बन गई है | शादी के अलावा सालगिरह, जन्मदिन एवं अन्य खुशी के मौकों पर भी डीजे मंगाए जाते हैं | इसलिए वर्तमान में DJ business का क्षेत्र संकुचित न होकर फैला हुआ है इस बिज़नेस को स्थानीय मार्केट को ध्यान में रखकर कोई भी व्यक्ति कहीं भी शुरू कर सकता है |

डीजे बिज़नेस कैसे शुरू करें (How to start DJ business in Hindi):

हालांकि अक्सर लोग यह समझ लेते हैं की उन्होंने DJ system खरीद लिया तो वे उसे ऑपरेट करना भी सीख ही जायेंगे | लेकिन DJ business करने वाले व्यक्ति को इसकी कोई विशेषज्ञता या अनुभव हासिल न हो तो उसे अनेकों चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है | इसलिए जो सबसे पहली चीज DJ business start करने के लिए चाहिए होती है वह होती है सही विशेषज्ञता एवं अनुभव |

  1. विशेषज्ञता एवं अनुभव ग्रहण करें (Get Expertise):

DJ business start करने वाले उद्यमी के पास उचित विशेषज्ञता एवं अनुभव का होना बेहद जरुरी है | इसे प्राप्त करने के लिए उद्यमी को चाहिए की वह किसी पहले से स्थापित डीजे के साथ सहायक के तौर पर कार्य करे या फिर अपने किसी नजदीकी की पार्टी में भी उद्यमी डीजे का रोल निभा सकता है और उस वक्त होने वाली परेशानी को महसूस कर उसमे सुधार कर सकता है |

  1. बिज़नेस की योजना बनायें (Make Business plan for your DJ business) :

इसमें बिज़नेस को शुरू करने एवं सफल बनाने में काम आने वाली योजनाओं का उल्लेख होना नितांत आवश्यक है | मुख्य तौर पर उद्यमी को अपने DJ Business की प्लानिंग करते वक्त मार्केटिंग और वित्त का विशेष ध्यान रखना पड़ेगा | इसमें इस बात का उल्लेख करें की आप अपने बिज़नेस की मार्केटिंग कैसे करेंगे? और उन मार्केटिंग टेकनीक पर आप कितना खर्च करेंगे, वित्त की व्यवस्था कहाँ से करेंगे, उस क्षेत्र विशेष में आपके टारगेट ग्राहक कौन होंगे, शुरुआत में आप कितने लोगों को काम पर रख के यह व्यापार करेंगे इत्यादि | एक प्रभावी बिज़नेस प्लान कैसे बनायें के लिए यह पढ़ें |

  1. आवश्यक उपकरण (Necessary Equipment):

DJ business start करने वाले उद्यमी को अपने बिज़नेस के लिए विभिन्न उपकरणों की आवश्यकता होती है | इनमे मुख्य रूप से Dj Turtable, CD Player या लैपटॉप, चैनेल मिक्सर, डीजे मिक्सर, साउंड सिस्टम, डीजे लाइट, हैडफ़ोन, DJ Dance floor, माइक्रोफोन, म्यूजिक tune इत्यादि शामिल हैं | इंडिया में DJ equipment Supply करने वाले अनेकों विक्रेता हर स्थानीय बाजार में उपलब्ध होते हैं उद्यमी को चाहिये की वह पहले तीन चार विक्रेताओं से उनकी कीमत पूछकर एवं उनका मूल्यांकन करके ही यह फैसला ले की उसे अपने DJ business के लिए उपकरण कहाँ से खरीदने हैं | जहाँ तक इस बिज़नेस को शुरू करने में आने वाले खर्चे की बात है इसे कम से कम 2 लाख के निवेश के साथ आसानी से शुरू किया जा सकता है |

  1. बिज़नेस का पंजीकरण (Registration Of DJ Business ):

हालांकि यह उद्यमी को निर्णय लेना होता है की वह अपने बिज़नेस को एक कंपनी के तौर पर चलाना चाहता है या फिर एक व्यक्तिगत व्यक्ति के तौर पर शुरुआत में व्यक्तिगत व्यक्ति के तौर पर ही बिज़नेस को चलाना फायदेमंद हो सकता है | इसके लिए उद्यमी को स्थानीय प्राधिकरण (Local Authority) से लाइसेंस एवं परमिशन की आवश्यकता हो सकती है | उद्यमी चाहे तो अपने व्यापार में प्रयुक्त होने वाले उपकरणों का बीमा भी करा सकता है जिसमें उपकरणों के खो जाने, चोरी हो जाने की स्थिति भी कवर होनी जरुरी है |

  1. किराया निर्धारित करें (Decide Charges):

DJ business में ग्राहक कितने पैसे देंगे यह इस बात पर निर्भर करता है की डीजे सर्विस किस लोकेशन पर देनी है, आयोजन किस प्रकार का है, डीजे दिन में चाहिये रात्रि में, कौन कौन से उपकरणों की आवश्यकता है इत्यादि | इसलिए उद्यमी को अपने बिज़नेस के लिए अलग अलग स्थितियों के आधार पर किराया निर्धारित करना होगा | कहने का आशय यह है की DJ Price घंटों, दिनों, दूरी, प्रतिस्पर्धा इत्यादि के आधार पर तय किये जा सकते हैं |

  1. अपने डीजे बिज़नेस की मार्केटिंग करें:

बिज़नेस की मार्केटिंग किसी भी बिज़नेस की सफलता की चाभी होता है क्योंकि अक्सर लोग उसी वस्तु या सेवा को खरीदना पसंद करते हैं जिसे वे जानते हैं पहचानते हैं | इसलिए अपने DJ Business की जान पहचान बढ़ाने के लिए उद्यमी विभिन्न मार्केटिंग टेकनिक का सहारा ले सकता है | इनके अलावा इस बिज़नेस के लिए कुछ अतिरिक्त मार्केटिंग टिप्स इस प्रकार से हैं |

  • अपने एरिया में स्थित टेंट हाउस बिज़नेस करने वालों के साथ टाई अप कर सकते हैं क्योंकि वर्तमान में कोई भी आयोजन हो टेंट तो उसमे होता ही है | इसलिए कभी कभी आयोजनकर्ता सभी कामों को अलग अलग न देकर टेंट वाले से ही सभी इंतजाम जैसे कैटरिंग, डीजे इत्यादि का करने को कहते हैं ऐसे में अगर DJ business करने वाले उद्यमी का टेंट हाउस से टाई अप रहेगा तो वह उसी को बुलाएगा |
  • उपर्युक्त प्रक्रिया एरिया में स्थित कैटरिंग बिज़नेस करने वाले के साथ भी दोहराई जा सकती है |
  • अपने एरिया में स्थित वेडिंग प्लानर एवं फोटोग्राफर से बात करके भी आप अपने बिज़नेस के लिए ग्राहक बढ़ा सकते हैं |
  • इन सबके अलावा किसी डिजिटल मार्केटिंग कंपनी से सम्पर्क करके उस एरिया विशेष में आप अपना Adword Campaign चला सकते हैं |

सालाना अनुमानित कमाई (Approximate Earning):

DJ business से साल में कितनी कमाई होगी वह इस बात पर निर्भर करेगा की उद्यमी को पूरे साल में कितने आर्डर मिलेंगे | चूँकि इंडिया एक युवा देश है इसलिए यहाँ हर साल हर क्षेत्र में शादीयाँ होती रहती हैं | शादी के अलावा मनुष्य के जीवन में और भी खुशी के अनेकों मौके आते हैं और इन मौकों को यादगार बनाने के लिए लोग पार्टी देना पसंद करते हैं जिसमे DJ अनिवार्य रूप से होता है | लोकेशन के हिसाब से DJ business करने वाले उद्यमी 8000 से 16000 तक किराया लेते हैं | लेकिन माना उद्यमी ने प्रति रात्रि का किराया 8500 निर्धारित किया है | और यदि उद्यमी को पूरे साल में सिर्फ 90 दिनों के लिए भी बुकिंग मिलती है तो इस हिसाब से उसकी कमाई 8500×90=765000 हुई | लेकिन यह केवल कमाई है, लाभ नहीं लाभ अर्थात प्रॉफिट निकालने के लिए उद्यमी को मैनपावर कास्ट, ट्रांसपोर्टेशन कास्ट एवं अन्य खर्चे घटाने होंगे |

यह भी पढ़ें:

फोटोग्राफी बिज़नेस कैसे शुरू करें?

वेडिंग प्लानिंग का व्यापार कैसे शुरू करें?

टेंट का बिज़नेस कैसे शुरू करें?

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *