Education Loan Tips, Eligibility, Benefits and Process to Apply. शिक्षा ऋण की जानकारी।

Education Loan पर बात करना इसलिए बेहद जरुरी हो जाता है क्योंकि शिक्षा एवं कमाई का बड़ा घनिष्ठ सम्बन्ध है । और वह भी क्वालिटी अर्थात गुणवत्तायुक्त शिक्षा तो यह भी तय कर देती है की आने वाले समय में व्यक्ति किस तरह से अपनी कमाई कर पाने में समर्थ होगा। हालांकि हम यहाँ पर यह बिलकुल नहीं कह रहे हैं की अनपढ़, कम पढ़े लिखे या जिन्हें गुणवत्तायुक्त शिक्षा न मिली हो वे कमाई नहीं कर पाते हैं। हाँ हम इतना जरुर कह रहे हैं की एक गुणवत्तायुक्त शिक्षा पाए हुए व्यक्ति के पास कमाई करने के अनेकों अवसर विद्यमान होते हैं। यही कारण है की बैंकों द्वारा क्वालिटी शिक्षा प्राप्त करने के लिए लोगों को तरह तरह के Education Loan ऑफर किये जाते हैं। लेकिन लोगों के मन में हमेशा शिक्षा ऋण से सम्बन्धी अनेकों सवाल जैसे यह होता क्या है? और इसे प्राप्त करने की क्या प्रक्रिया है? इत्यादि उठते रहते हैं। और वे अपनी इसी जिज्ञासा को शांत करने के लिए इन्टरनेट पर What is Education Loan( शिक्षा ऋण क्या है) How to get Education Loan (शिक्षा ऋण कैसे प्राप्त करें) इत्यादि सर्च करते रहते हैं। इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से इस विषय पर पूरी जानकारी देने की कोशिश कर रहे हैं।

Education-loan in hindi

शिक्षा ऋण क्या है (What is Education Loan in Hindi):  

Education Loan को समझना बहुत ही सरल है अर्थात जैसा की नाम से ही स्पष्ट है की इसे हिंदी में शिक्षा ऋण कहा जाता है। अर्थात देश विदेश में उच्च शिक्षण संस्थानों से उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए लिया जाने वाला ऋण ही एजुकेशन लोन या शिक्षा ऋण कहलाता है। इस तरह के यह ऋण अलग अलग प्रकार के हो सकते हैं और इन पर वसूले जाने वाला ब्याज भी बैंकों के आधार पर अलग अलग हो सकता है। साधारण शब्दों में कहने का अभिप्राय यह है की जब कोई व्यक्ति अपने या अपने बच्चों, भाई, बहिन या परिवार के किसी अन्य सदस्य को किसी उच्च शिक्षण संस्थान से शिक्षा दिलाना चाहता है। तो उसे पैसों की आवश्यकता हो सकती है लोगों की इसी आवश्यकता को ध्यान में रखकर लगभग सभी बैंकों एवं अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा Education Loan डिजाईन किये गए हैं। यानिकी किसी भी प्रकार की शिक्षा प्राप्त करने के लिए लिया जाने वाला ऋण ही शिक्षा ऋण कहलाता है।

लोगों को शिक्षा ऋण की आवश्यकता क्यों होती है (Need of Education Loan):  

जैसा की हम सबको विदित है की वर्तमान में शिक्षा बड़ी महंगी हो गई है और बीतते वक्त के साथ यह और भी अधिक महंगी होती जा रही है। शिक्षण संस्थानों को केवल और केवल लाभ प्राप्ति करने के लिए चलाया जा रहा है ऐसे में क्वालिटी एवं व्यवसायिक शिक्षा पाना आम आदमी की पहुँच से दूर होता जा रहा है। लेकिन जैसा की हम सबको विदित है की किसी भी बच्चे के आने वाले जीवन की कल्पना उसके द्वारा प्राप्त शिक्षा के आधार पर की जा सकती है। कहने का आशय यह है की बढती प्रतिस्पर्धा के साथ सफल जीवन के लिए गुणवत्तायुक्त शिक्षा बेहद जरुरी हो गई है। लेकिन प्रतिष्ठित संस्थानों में अध्यन करने की लागत बहुत ज्यादा बढ़ गई है। इन्हीं सब बातों को ध्यान में रखते हुए बच्चों के अभिभावक या माता पिता जो अपने बच्चों को अच्छी संभावित शिक्षा देना चाहते हैं। वे अपने पैसों को म्यूच्यूअल फण्ड, फिक्स्ड डिपाजिट, यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान इत्यादि में लम्बी अवधि के लिए निवेश करते हैं। लेकिन इन सबके बावजूद भी लोगों के पास अपने बच्चों की पढाई के लिए फण्ड की कमी हो सकती है । और अपने इसी फण्ड की कमी को पूरा करने के लिए लोगों को Education Loan की आवश्यकता हो सकती है। एक आंकड़े के मुताबिक भारत में प्रति वर्ष शिक्षा की लागत में 15% की वृद्धि हो जाती है यही कारण है की उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए लोगों को Education Loan अर्थात शिक्षा ऋण की आवश्यकता होती है।

शिक्षा ऋण के फायदे (Benefits of Education Loan):

यद्यपि शिक्षा ऋण या Education Loan का जो सबसे बड़ा फायदा है वह यह है की यह ऐसे लोगों को अपने बच्चों को उच्च शिक्षा प्राप्त करवाने में मदद करता है जिनके पास उनके बच्चों की उच्च शिक्षा के लिए एक साथ पैसे जुटाना मुश्किल होता है। लेकिन इसके अलावा भी Education Loan के अन्य कई फायदे हैं जिनकी लिस्ट निम्नवत है।

  • इस प्रकार का यह ऋण वैश्विक स्तर पर उपलब्ध है ऐसा कोई भी उम्मीदवार जो अध्यन करने की इच्छा रखता हो शिक्षा ऋण के लिए आवेदन कर सकता है।
  • बैंकों या वित्तीय संस्थानों द्वारा Education Loan हर प्रकार के शैक्षणिक पाठ्यक्रमों को आगे बढाने या पूरा करने के लिए प्रदान किये जाते हैं। इनमें स्नातक, स्नातकोत्तर, व्यावसायिक पाठ्यक्रम और अन्य सर्टिफिकेट कोर्स भी शामिल हैं।    
  • शिक्षा ऋण के तौर पर बैंकों या वित्तीय संस्थानों द्वारा 10 से 15 लाख रूपये तक जारी किये जा सकते हैं। और यदि आवेदनकर्ता विदेश में शिक्षा प्राप्त करना चाहता हो तो उसे 20-30 लाख रूपये तक जारी किये जा सकते हैं।
  • शिक्षा ऋण निर्धारण में परिवार की वार्षिक आय एवं आवेदनकर्ता द्वारा किया जाने वाला कोर्स निर्णायक भूमिका अदा करते हैं।
  • आम तौर पर वित्तीय संस्थानों एवं बैंकों द्वारा महिला छात्रों को Education Loan पर छूट एवं कम ब्याज की पेशकश की जाती है। ताकि उच्च शिक्षा प्राप्त महिलाओं की संख्या में वृद्धि हो ।
  • शिक्षा ऋण से समबन्धित सरकार द्वारा प्रायोजित सब्सिडी योजनायें जैसे सेंट्रल स्कीम टू प्रोवाइड इंटरेस्ट सब्सिडी इत्यादि आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों से ताल्लुक रखने वाले छात्रों को उच्च शिक्षा ग्रहण करने में मदद करते हैं।
  • आवेदक को Education Loan के तौर पर ली गई धनराशी को तुरंत चुकाने की आवश्यकता नहीं होती है बल्कि कोर्स पूरा होने के बाद भी इस तरह के लोन के पुनर्भुगतान को 5-7 साल अवधि  तक बढाया जा सकता है।
  • आम तौर पर चार लाख रूपये से कम का शिक्षा ऋण लेने पर सुरक्षा या गारंटर की आवश्यकता नहीं होती है ।

शिक्षा ऋण के लिए पात्रता (Education Loan Eligibility):

यद्यपि भारत में शिक्षा ऋण या Education Loan लगभग हर तरह का बैंक एवं वित्तीय संस्थान चाहे वह सार्वजनिक क्षेत्र का हो या निजी क्षेत्र का द्वारा ऑफर किये जाते रहे हैं। लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है की बैंक बिना कुछ पूछताछ या योग्यता के किसी को भी Education Loan ग्रांट कर देगा। हालांकि अलग अलग बैंकों के शिक्षा ऋण पात्रता सम्बन्धी नियम अलग अलग हो सकते हैं। लेकिन कुछ प्रमुख पात्रता नियमों की लिस्ट निम्नवत है।

  • आवेदक का भारतीय होना बेहद जरुरी है।
  • आवेदक का किसी एंट्रेंस एग्जाम या अन्य किसी क्वालिफिकेशन प्रक्रिया द्वारा भारत के या विदेश में स्थित किसी मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान में किसी कोर्स को करने के लिए प्रवेश सुनिश्चित हो गया हो ।
  • यदि आवेदक अनिवासी भारतीय अर्थात एनआरआई है तो उसके पास भारत सरकार द्वारा जारी वैध पासपोर्ट होना चाहिए।
  • आवेदक ने उन्हीं कोर्स का चयन किया हो जिनके लिए बैंक ऋण मिलता हो, आम तौर पर बैंकों द्वारा स्नातक, स्नातकोत्तर, डिप्लोमा कार्यक्रम, तकनीकी पाठ्यक्रम, प्रबंधन पाठ्यक्रम और अन्य व्यावसायिक पाठ्यक्रमों की पढाई के लिए Education Loan दिया जाता है। हालांकि विदेश जाकर पढाई करने वालों के लिए शैक्षणिक संस्थान के आधार पर शिक्षा ऋण का निर्णय लिया जा सकता है।
  • भारत में लागू नियमों के अनुसार आवेदक को कोलैटरल/ सिक्यूरिटी के तौर पर वित्तीय संस्थान या बैंक को कुछ न कुछ अवश्य देना होगा या रखना होगा।  

शिक्षा ऋण के लिए आवश्यक दस्तावेज (Documents Required for Education Loan):

Education Loan के लिए आवेदन करते समय ऋण देने वाला बैंक या वित्तीय संस्थान अनेकों दस्तावेज माँग सकता है। आम तौर पर ऐसे दस्तावेज जो छात्र की स्थिति, उसके परिवार की कमाई यानिकी आय, पहचान प्रमाण, पता प्रमाण साबित करते हों, दस्तावेज शिक्षा ऋण के लिए आवेदन करते समय मांगे जाते हैं। यहाँ पर हम कुछ ऐसे ही दस्तावेजों की एक आधारभूत लिस्ट पेश कर रहे हैं जो Education Loan लेते समय ऋणदाता द्वारा मांगे जा सकते हैं।

  • बैंक या वित्तीय संस्थान द्वारा निर्धारित किया हुआ सम्पूर्ण लोन फॉर्म।
  • सेल्फ अटेस्ट किया हुआ उम्र प्रमाण पत्र।
  • पहचान एवं पता प्रमाण पत्र ।
  • आवेदक, गारंटर इत्यादि की पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ।
  • प्राप्त उच्चतम शिक्षा योग्यता (डिग्री/पोस्ट ग्रेजुएशन) इत्यादि की कॉपी।
  • परिवार या आवेदक की आय का प्रमाण के तौर पर गारंटर/माता पिता द्वारा भरा गया इनकम टैक्स रिटर्न की प्रति।
  • आवेदक/गारंटर/ माता पिता के बैंक खाते की छह महीने की बैंक स्टेटमेंट।
  • जमानत या सिक्यूरिटी के तौर पर प्रदान की जाने वाली सम्पति का विवरण।
  • यदि आवेदनकर्ता विदेश में अध्यन के लिए जा रहा है तो उसे पासपोर्ट, वीजा, किराये में आने वाली लागत जैसे दस्तावेज पेश करने की आवश्यकता हो सकती है।

शिक्षा ऋण हेतु आवेदन से पहले सुझाव (Important tips before applying for education loan)

अक्सर होता क्या है की जब मनुष्य को पैसों की आवश्यकता होती है और वह भी तब जब किसी को अपने प्रियजनों की पढाई के लिए पैसों की आवश्यकता होती है। तो वे जल्दबाजी में किसी भी वित्तीय संस्थान से Education Loan ले सकते हैं। लेकिन सुरक्षा की दृष्टी से शिक्षा ऋण के लिए आवेदन करने से पहले विभिन्न बातों का ध्यान रखना बेहद जरुरी हो जाता है। जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  • Education Loan लेने से पहले अपने परिवार की वित्तीय क्षमताओं अर्थात आय एवं देनदारियों का बारीकी से अध्यन करना बेहद जरुरी होता है। और इन बातों पर विचार करने के बाद ही शिक्षा ऋण का विकल्प चुनना बेहतर होता है। ताकि आवेदक या आवेदक के माता पिता का नाम डिफाल्टर की लिस्ट में शामिल न हो। कहने का अभिप्राय यह है की जब आपको लगता है की आप Education Loan को निर्धारित समय में चुकता कर पाएंगे तभी इसके लिए आवेदन करें।
  • Education Loan यानिकी शिक्षा ऋण एक निवेश की तरह है इसलिए इसमें कम ब्याज दर यहाँ तक की 0.5% कम ब्याज दर भी काफी मायने रखती है। और इसके अलावा यदि उधारकर्ता को ऋण चुकाने की एक लम्बी अवधि मिल जाती है तो यह भी अच्छा रहता है। इसलिए, यह बहुत आवश्यक हो जाता है कि आप Education Loan के लिए सबसे अनुकूल बैंक चुनने से पहले विभिन्न बैंकों में आवेदन करने की शर्तों का सावधानीपूर्वक अध्ययन करें और उन्हें अच्छी तरह  समझ लें।   
  • जब आप शिक्षा ऋण के लिए बैंक का चुनाव कर लेते हैं तो यह सुनिश्चित अवश्य कर लें की आपने शिक्षा ऋण आवेदन पत्र में उल्लेखित सभी नियमों एवं शर्तों को पढ़ लिया है। क्योंकि इनमें कुछ छुपी हुई लागतें भी हो सकती हैं।
  • Education Loan के लिए आपको एक ऐसे बैंक का चुनाव करना चाहिए जो अप्रत्याशित परिस्थितियों में विलम्ब यानिकी देरी से पुनर्भुगतान करने की सुविधा प्राप्त करता हो। अर्थात जिसमें ऋण पुनर्भुगतान कार्यकाल को बढाया जा सके।
  • ऐसे छात्र जो आर्थिक रूप से कमजोर सामाजिक वर्ग से हों उन्हें सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से Education Loan के लिए अप्लाई करना चाहिए क्योंकि सरकार द्वारा नियंत्रित बैंक ऐसे छात्रों को ब्याज सब्सिडी के तौर पर कुछ लाभ प्रदान करते हैं।
  • चूँकि शिक्षा ऋण के तौर पर स्वीकृत राशि आवेदनकर्ता के पास न आकर सीधे उस संस्थान में चली जाती है जहाँ आवेदनकर्ता अध्यन करता है। इसलिए अपने Education Loan Cover के बारे में वित्तीय संस्थान से अवश्य पूछें।       

शिक्षा ऋण के लिए कैसे आवेदन करें (How to apply for Education Loan in India):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की भारत में लगभग हर बैंक चाहे वह पब्लिक  सेक्टर का हो, या फिर प्राइवेट सेक्टर का Education Loan की पेशकश करता है। और आप जिस विशेष बैंक से शिक्षा ऋण के लिए अप्लाई करना चाहते हैं आप उसकी वेबसाइट के माध्यम से उसके द्वारा पेश किये जाने वाले Education Loan पर और अधिक जानकारी ले सकते हैं। आप चाहें तो किसी ऐसी वेबसाइट जो शिक्षा ऋण की तुलना करके आपको परिणाम दिखा सके की सहायता भी ले सकते हैं । ऐसी ही एक प्रचलित वेबसाइट बैंक बाजार है जिसके माध्यम से भी आप अप्लाई कर सकते हैं। इसका फायदा यह होगा की आप केवल एक वेबसाइट के माध्यम से विभिन्न वित्तीय संस्थानों एवं बैंकों द्वारा पेश किये जाने वाले Education Loan की तुलना कर सकते हैं और अपने फायदों, हितों को ध्यान में रखकर शिक्षा ऋण के लिए बैंक या वित्तीय संस्थान का चयन कर सकते हैं। आप चाहें तो चयन किये गए बैंक की ऑफिसियल वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन भी आवेदन कर सकते हैं। या फिर उस बैंक की नजदीकी शाखा में जाकर भी आवेदन कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *