गिफ्ट की दुकान कैसे खोलें? How to start Gift Shop Business In India in Hindi.

वर्तमान में Gift Shop Business भारतवर्ष में भी उद्यमियों की कमाई करने वाले व्यापार की लिस्ट में शामिल हो गया है | हालांकि अन्य देशों जैसे ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, कनाडा, ब्रिटेन इत्यादि में गिफ्ट की दुकान का यह व्यापार काफी समय से प्रचलित रहा है इसलिए यहाँ के लोग इस तरह का बिज़नेस करके पहले से अपनी कमाई कर रहे हैं | वैश्विक स्तर पर यदि हम Gift Shop Business की बात करें तो बीते दशक में वैश्विक स्तर पर इसमें उल्लेखनीय वृद्धि देखी गई है | क्योंकि वर्तमान में एक दूसरे को हर छोटे बड़े मौके पर उपहार देना एक चलन सा बन गया है और इसके अलावा इस क्षेत्र में कार्यरत उद्यमियों द्वारा अपने ग्राहकों को नियमित तौर पर नए नए गिफ्ट डिजाईन करके पेश किये जाते हैं | Gift Shop Business दो तरीकों एक तो गिफ्ट आइटम्स को ज्यों का त्यों खरीदकर बेचने का और दूसरा Personalized Gifting अर्थात जिसमे मग, फोटो फ्रेम, की चेन, टेबल टॉप, दीवार घड़ी, टी शर्ट इत्यादि गिफ्ट आइटम्स में किसी कंपनी या व्यक्ति का नाम, लोगो, फोटो इत्यादि लगाया जाता है | वर्तमान में विभिन्न कंपनिया एवं संस्थान विभिन्न अवसरों पर अपने कर्मचारियों को उपहार प्रदान करते हैं | इसलिए उद्यमी के ग्राहक के तौर पर Corporate एवं व्यक्तिगत व्यक्ति दोनों हो सकते हैं | हालांकि छोटे शहरों में व्यक्तिगत व्यक्तियों के द्वारा इस्तेमाल में लाये जाने वाले आइटम ही ज्यादा बिकेंगे क्योंकि Corporate Gift items बिकने की संभावना ऐसे शहरों या लोकेशन पर अधिक होगी जहाँ कंपनियों के कार्यालय इत्यादि अधिक संख्या में स्थापित हों | मग प्रिंटिंग व्यापार एवं टी शर्ट प्रिंटिंग व्यापार भी Customized Gift Shop से सम्बंधित ही व्यापार हैं |

Gift Shop business

गिफ्ट की दुकान क्या होती है (What is Gift Shop Business in Hindi):

जैसा की नाम से ही स्पष्ट है अनाज की दुकान का आशय उस जगह विशेष से लगाया जाता है जहाँ अनाज जैसे आटा, चावल इत्यादि मिलता हो, कपड़े की दुकान से आशय उस जगह विशेष से लगाया जाता है जहाँ से कपड़ा खरीद सकते हैं | ठीक इसी प्रकार जहाँ से गिफ्ट आइटम खरीद सकते हैं उस स्थान विशेष को गिफ्ट की दुकान या Gift Shop कहा जाता है | यद्यपि गिफ्ट शॉप कई प्रकार जैसे Personalized Gift Shop, Corporate Gift Shop, Sports Gift Shop, Artisan gift shops इत्यादि हो सकती है | लेकिन इंडिया में इस तरह का Gift Shop Business करने वाले उद्यमी शुरुआत में Birth Day Gift Item, Wedding Gift Item, Anniversary Gift Item एवं अन्य व्यक्तिगत आयोजनों में दिए जाने वाले गिफ्ट आइटम से शुरू करते हैं और जब उनका बिज़नेस ठीक ढंग से चलने लगता है तब वे व्यापार को विस्तारित करने की दृष्टी से कॉर्पोरेट गिफ्टिंग की ओर अग्रसित होते हैं | हालांकि बड़े शहरों में कुछ उद्यमी सीधे कॉर्पोरेट गिफ्टिंग से भी शुरू करते हैं |

गिफ्ट आइटम बिकने की संभावना (The possibility of selling gift items):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में भी बता चुके हैं की वर्तमान में हर व्यक्तिगत आयोजन जैसे जन्मदिन, सालगिरह, शादी इत्यादि में गिफ्ट देने का एक चलन सा हो गया है | इसलिए हर क्षेत्र अर्थात देश के हर कोने में प्रतिदिन इन सब आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए Gift Shop की आवश्यकता होती है | एक तरफ जहाँ लोगों को व्यक्तिगत उद्देश्यों की पूर्ति के लिए गिफ्ट आइटम की आवश्यकता होती है वहीँ वर्तमान में हर छोटी बड़ी कंपनी अपने कर्मचारियों के जन्मदिन, होली, दीवाली, माता पिता बनने पर एवं अन्य अवसरों पर उन्हें उपहार प्रदान करती है | इसलिए एक तरफ जहाँ लोगों को व्यक्तिगत तौर पर Gift items की आवश्यकता होती है, वहीँ दूसरी तरफ व्यवसायिक तौर पर भी इनकी आवश्यकता होती है जिसकी Corporate Gifting के माध्यम से पूर्ति की जाती है | इसलिए ऐसे शहर जहाँ कंपनियां एवं उद्योग स्थापित नहीं है वहां Gift Shop में Corporate Gift Items नहीं बल्कि व्यक्तिगत तौर पर उपयोग में लाये जाने वाले गिफ्ट आइटम के बिकने की संभावनाएं अधिक होंगी |

गिफ्ट की दुकान का व्यापार कैसे शुरू करें (How to start Gift Shop Business in India In Hindi):

हालांकि इंडिया में बहुत सारी Gift Shop ऐसी भी मिल जाएँगी जो ज्यादा बढ़िया कमाई न कर रही हों लेकिन इसका मतलब यह बिलकुल नहीं है की Gift Shop Business एक Profitable business नहीं है | बल्कि जो उद्यमी इस तरह के बिज़नेस से कमा नहीं पा रहे हैं उनकी योजना में कुछ त्रुटि हो सकती है न की बिज़नेस में | तो आइये जानते हैं कैसे कोई व्यक्ति अपना Gift Shop business शुरू कर सकता है |

  1. व्यापार की योजना बनायें:

Gift Shop Business शुरू करने से पहले अपने व्यापार की अच्छे ढंग से योजना बना लें, बिज़नेस प्लान बनाने के लिए उद्यमी चाहे तो इस क्षेत्र में अनुभवी लोगों की मदद ले सकता है | क्योंकि यह बिज़नेस प्लान न सिर्फ व्यापार को शुरू करने में मददगार साबित होगा बल्कि समय समय पर उद्यमी को इसमें उल्लेखित बातों का अनुसरण पूरे व्यापार काल के दौरान करना होगा ताकि उसका बिज़नेस इस बिज़नेस प्लान में उल्लेखित लक्ष्यों तक पहुँचने में सफल हो पाए | एक बिज़नेस प्लान व्यापार से जुड़े अनेकों दस्तावेज का समावेश होता है | इसमें अनुमानित लागत एवं कमाई के लिए प्रोजेक्ट रिपोर्ट, मार्केटिंग प्लान इत्यादि भी शामिल है | चूँकि एक Gift Shop के अनेकों स्वरूप जैसे कार्ड और गिफ्ट शॉप, आर्टीशियन गिफ्ट शॉप, एथिनिक गिफ्ट शॉप, पर्सनलाइज्ड गिफ्ट शॉप इत्यादि हो सकते हैं इसलिए उद्यमी को तय करना होता है की वह किस प्रकार की Gift Shop खोलकर बिज़नेस करना चाहता है | वैसे उद्यमी चाहे तो हर स्वरूप से जुड़े थोड़े थोड़े गिफ्ट आइटम को अपनी दुकान का हिस्सा बना सकता है और बाद में जिसकी अधिक बिक्री ओ उन्हीं आइटम को अपनी दुकान का हिस्सा बना सकता है | कहने का आशय यह है की Gift Shop की विशिष्टता के आधार पर ही बिज़नेस प्लान बनाया जाना चाहिए |

  1. लोकेशन का चुनाव करें?

Gift Shop Business के लिए लोकेशन का चुनाव बड़ी ध्यान से करना चाहिए क्योंकि इस व्यापार की सफलता पर इसका बहुत ज्यादा असर पड़ सकता है | इसलिए उद्यमी को सबसे पहले ऐसी लोकेशन को तबज्जो देनी चाहिए जहाँ टूरिस्ट काफी अधिक आते हों, या फिर उद्यमी को किसी मेट्रोपोलिटन शहर का चुनाव करके वहां अपना Gift Shop Business शुरू करना चाहिए | यदि आपको ऐसी जगह अपनी दुकान के लिए नहीं मिल पा रही हो जहाँ टूरिस्ट ज्यादा आते हैं तो आप किसी ऐसी लोकेशन का चुनाव कर सकते हैं जहाँ दिन भर भीड़ एवं बहुत ज्यादा ट्रैफिक रहता हो | आप चाहे किसी लोकेशन का चुनाव करें लेकिन एक बात का ध्यान अवश्य रखना होगा की आपके गिफ्ट आइटम इस तरह से निर्मित हों, जो कीमत के आधार पर वहां के स्थानीय लोगों के बजट में आसानी से आ जाय अर्थात गिफ्ट आइटम इतने महंगे न हों की स्थानीय लोग उन्हें खरीद ही न पायें | इसलिए अपना Gift Shop Business शुरू कर रहे उद्यमी को चाहिए की या तो वह कीमत के आधार पर लोकेशन का चयन करे या फिर लोकेशन के आधार पर गिफ्ट आइटम की कीमत का | गिफ्ट की दुकान के लिए दुकान चयन करते समय निम्न बातों का ध्यान अवश्य रखें |

  • कोशिस करें की जो दुकान आप अपनी Gift Shop के लिए ढूँढ रहे हैं वह तीन साइड से ओपन हो | यदि तीन साइड से ओपन दुकान न मिले तो दो साइड से दुकान ओपन होनी ही चाहिए |
  • दूकान की दो या तीन साइड की दीवारें शीशे से निर्मित होनी चाहिए ताकि लोग काफी दूर से अंदर लगे सामान को देखकर अंदाज़ा लगा सकें की वह एक Gift Shop है |
  • यदि आप किसी माल में इस तरह का बिज़नेस करने के लिए दुकान ढूंढ रहे हैं तो कोशिस करें की आपकी दूकान मुख्य प्रवेश द्वार से दिखाई दे |
  • माल में दूकान का चयन करते समय कोशिश करें की आपकी दुकान ग्राउंड फ्लोर पर उपलब्ध हो यदि ऐसा संभव नहीं है, तो अन्य फ्लोर में दूकान लिफ्ट, या सीढ़ियों के सामने होनी चाहिए |
  1. वित्त का प्रबंध (Finance Arrangement):

    चूँकि उद्यमी ने अपने Gift Shop Business के लिए पहले से ही एक प्रभावी बिज़नेस प्लान बना लिया है इसलिए अब उसे उसके बिज़नेस पर आने वाली अनुमानित लागत का अनुमान हो गया होगा | इसलिए अब उद्यमी को चाहिए की वह अपने इस व्यापार के लिए वित्त की व्यवस्था करे | वित्त की व्यवस्था के लिए उद्यमी चाहे तो निम्न तरीकों को अपना सकता है |

  • उद्यमी चाहे तो किसी परिवारिक मित्र या अपने दोस्त से ऋण ले सकता है |
  • किसी वाणज्यिक बैंक से लोन के लिए अप्लाई कर सकता है |
  • किसी एंजेल इन्वेस्टर से वित्त का प्रबंध कर सकता है |
  • क्राउड फंडिंग के माध्यम से व्यापार के लिए पैसे जुटा सकता है |
  1. Gift Shop के लिए लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन:

हालांकि छोटे स्तर पर Gift Shop Business शुरू करने के लिए किसी प्रकार का लाइसेंस एवं पंजीकरण अनिवार्य नहीं है लेकिन फिर भी राज्यीय एवं स्थानीय नियमों के बारे में पता करके यदि कुछ जरुरी हो तो करवा लेना चाहिये | कहने का आशय यह है की गिफ्ट की दुकान बिना किसी पंजीकरण के भी चलाई जा सकती है लेकिन इससे उद्यमी केवल व्यक्तिगत व्यक्तियों को ही अपना ग्राहक बना पायेगा किसी कंपनी को नहीं | क्योंकि अक्सर कंपनियां ऐसे विक्रेता से सामान खरीदना पसंद करते है जो पंजीकृत हो | इसलिए यदि उद्यमी कॉर्पोरेट ग्राहकों को भी लक्ष्य करके यह व्यापार शुरू कर रहा है तो उसे अपने बिज़नेस को शॉप्स एंड एस्टाब्लिश्मेंट एक्ट के तहत पंजीकृत करा लेना चाहिए | और उसके बाद अपने बिज़नेस के नाम से पैन कार्ड बनाकर बैंक में एक चालू खाता खोल लेना चाहिए | और जीएसटी पंजीकरण के लिए भी अप्लाई कर देना चाहिए |

उपर्युक्त सभी प्रक्रियाओं को पूर्ण करने के बाद उद्यमी चयनित दूकान में फर्नीचर इत्यादि का काम संपन्न करके सप्लायर का चुनाव करके उससे गिफ्ट आइटम खरीद सकता है | और अपना Gift Shop Business शुरू कर सकता है |

Gift  Shop Business शुरू करने में कितना खर्चा आ सकता है?

एक आकर्षक एवं अच्छी Gift shop खोलने के लिए आपको 4-5 लाख रूपये की आवश्यकता हो सकती है | यदि उद्यमी अपने गिफ्ट आइटम को ऑफलाइन के अलावा ऑनलाइन भी बेचना चाहता हो तो उसे और अधिक बजट की आवश्यकता हो सकती है | लेकिन ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों प्लेटफार्म पर उत्पाद बेचने से कमाई भी ज्यादा हो सकती है तो आइये जानते हैं Gift Shop Business को शुरू करने में आने वाले अनुमानित खर्चे के बारे में |

  • दुकान का किराया शहर एवं लोकेशन के आधार पर अंतरित हो सकता है लेकिन यहाँ पर हम इसे 18000 प्रति महीने मान के चलते हैं |
  • दूकान के अन्दर फर्नीचर इत्यादि का काम : 70000 रूपये
  • कंप्यूटर/ प्रिंटर/ सॉफ्टवेर इत्यादि पर आने वाला खर्चा : 55000 रूपये
  • लाइसेंस इत्यादि में आने वाला खर्चा : 18000 रूपये
  • शुरू में गिफ्ट आइटम खरीदने में आने वाला खर्चा : 150000 रूपये
  • दुकान खोलने एवं मार्केटिंग का खर्चा : 52000 रूपये
  • इन्वेंटरी का बीमा : 13000 रूपये
  • नकदी की आवश्यकता : 50000 रूपये

Gift Shop की मार्केटिंग:

किसी भी बिज़नेस का मार्केटिंग एक अहम पहलू होता है क्योंकि मार्केटिंग ही ऐसा पहलू है जो लोगों को उत्पाद या सेवा से अवगत कराता है उसके बाद ही लोग उस उत्पाद या सेवा को खरीदते हैं | अपने Gift Shop Business की मार्केटिंग के लिए उद्यमी निम्न कदम उठा सकता है |

  • उद्यमी को कॉर्पोरेट गिफ्टिंग के लिए कंपनियों से संपर्क करना चाहिए |
  • कॉलेज जाने वाले छात्रों के बीच अपने उत्पादों की मार्केटिंग कराएँ |
  • अपने गिफ्ट आइटम को ऑनलाइन बेचने के लिए एवं इनकी मार्केटिंग के लिए आप अपना Google adword Campaign बना सकते हैं |
  • ऐसे ग्राहकों को छूट दें जो आपके पास नए ग्राहक लेके आते हैं या आपकी दुकान के बारे में नए ग्राहकों को बताते हैं |
  • अपने उत्पादों को ऑनलाइन बेचने के लिए प्रचलित ई कॉमर्स वेबसाइट पर पोस्ट करें |

उद्यमी चाहे तो अपने Gift Shop Business की मार्केटिंग के लिए इन मार्केटिंग तकनीक का भी इस्तेमाल कर सकता है और अपने बिज़नेस से सफलतापूर्वक कमाई कर सकता है |

यह भी पढ़ें:

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *