आदरणीय पाठकगण, यदि आप किसी Company, Firm, Factory या अन्य कोई संस्थान जो India में वैधानिक रूप से स्थापित है | में कार्यरत हैं, तो आपको ग्रेच्युटी की information अवश्य होनी चाहिए | और यदि कही कार्यरत नहीं भी हैं, तो General Knowledge के लिए ही सही Information तो होनी ही चाहिए |

वैसे ग्रेच्युटी का शाब्दिक अर्थ Hindi में ऐच्छिक दान से लगाया जा सकता है | जो किसी नियोक्ता जिसके पास 10 से अधिक कर्मचारी काम करने वाले हैं, के द्वारा अपने कर्मचारियों को उनकी लम्बी Service के बदले दिया जाता है | चूँकि Gratuity employer द्वारा Paise के रूप में दी जाती है | इसलिए ग्रेच्युटी को हम अपनी Kamai का हिस्सा मान सकते हैं |

ग्रेच्युटी क्या है? (What is Gratuity in Hindi)

ग्रेच्युटी किसी नियोक्ता अर्थात employer द्वारा अपने किसी कर्मचारी को उसकी सेवा के बदले एकमुश्त दी जाने वाली एक राशि है | और यह राशि नियोक्ता द्वारा कर्मचारी के Retirement या Job छोड़ने पर दी जाती है | Gratuity कितनी दी जाएगी और किस आधार पर दी जाएगी यह सब Gratuity Act 1972 के अंतर्गत पहले से निर्धारित है |

और समय समय पर इस Act में संशोधन होते रहते हैं | इसलिए Gratuity को आप defined benefit कह सकते हैं | और आप Retirement होने से पहले या Job छोड़ने से पहले ही ग्रेच्युटी का आकलन कर सकते हैं | आपको ग्रेच्युटी कितनी मिलेगी, वह केवल अंतिम आहरित वेतन (Last drawn Salary) और आपके द्वारा उस establishment को दी गई सेवा की अवधि पर निर्भर करती है | Gratuity Act 1972 सरकारी, गैर सरकारी, निजी सभी Establishments पर लागू होता है |

ग्रेच्युटी के नियम (Gratuity rules in Hindi) :

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं | लगभग सभी नियोक्ता Gratuity Act 1972 के अंतर्गत अपने कर्मचारियों को ग्रेच्युटी देने के लिए बाध्य हैं | लेकिन इसके लिए कुछ rules हैं, जिनकी Information हम एक एक करके नीचे दे रहे हैं |

5 साल की लगातार सर्विस होनी चाहिए

किसी भी कर्मचारी अर्थात Employee को ग्रेच्युटी का लाभ लेने के लिए 5 साल तक निरंतर काम करना आवश्यक है | कर्मचारी के Job छोड़ने या Retirement के समय 6 महीने से अधिक अवधि को एक साल के रूप में गिना जायेगा |

उदाहरण: यदि कोई कर्मचारी 4 साल 8 महीने या फिर 7 महीने काम करता है | तो वह कर्मचारी ग्रेच्युटी के लिए eligible माना जायेगा |

लगातार या निरंतर Service से हमारा अभिप्राय उस सेवा अवधि से है | जिस अवधि में   आपकी वजह से Establishment का कोई कार्य बाधित न हुआ हो | लम्बी अवधि तक छुट्टी पर रहना, चाहे वह छुट्टी किसी बीमारी की वजह से हो, या फिर किसी दुर्घटना की वजह से को भी Interruption में सम्मिलित किया गया है | हालाँकि धरना, काम बंदी, हड़ताल को बाधित (interruption) अवधि से दूर रखा गया है | कोई भी बाधा जो किसी employee से सम्बंधित न हो, को बाधित अवधि से दूर ही रखा गया है |

ग्रेच्युटी  की जानकारी

मृत्यु या विकलांगता पर रियायत :

जैसा की आप सबको विदित है | death का Hindi में meaning मृत्यु और disablement का विकलांगता अर्थात असमर्थता से होता है | यदि किसी कर्मचारी की मृत्यु या विकलांगता किसी establishment में कार्यरत रहने के दौरान होती है | तो इस स्थिति में 5 साल पूरा करने वाला rule निष्क्रिय हो जायेगा | और व्यक्ति की Gratuity Nominee या फिर कानूनी उत्तराधिकारी को दी जाएगी |

नियोक्ता चाहे तो बढ़ा के ग्रेच्युटी दे सकता है :

जो सूत्र अर्थात Formula ग्रेच्युटी के लिए निर्धारित है | यदि नियोक्ता चाहे तो अपने कर्मचारी को उस सूत्र से बढ़ के ग्रेच्युटी दे सकता है | लेकिन निर्धारित सूत्र की गणना से कम नहीं दे सकता | लेकिन बढ़ी हुई Gratuity taxable होगी |

ग्रेच्युटी नियम तभी लागू होगा जब स्थापना में 10 से अधिक कर्मचारी हों.

जी हाँ यदि किसी फैक्ट्री या establishment में 10 से कम कर्मचारी काम करने वाले हों | तो यह जरुरी नहीं की, वह establishment अपने employees को ग्रेच्युटी का लाभ दे | क्योकि Gratuity rule सिर्फ उन establishment पर लागू होता है, जिनमे 10 से अधिक employees काम कर रहे हों |

स्थापना को नुकसान पहुँचाने वाले की ग्रेच्युटी जब्त की जा सकती है

यदि कोई कर्मचारी Company को इरादतन क्षति पहुँचाने की कोशिश करता है | या क्षति पहुंचाता है तो इस स्थिति में कंपनी को पूरा अधिकार है की वह कर्मचारी की ग्रेच्युटी को जब्त करे | और नुकसान की भरपाई ग्रेच्युटी के पैसो से करे | इसके अलावा Company को पूरा अधिकार है की वह उस कर्मचारी की सेवा तत्काल समाप्त करे |

Extra Rule of gratuity:

निर्धारित सूत्र के हिसाब से दी जाने वाली ग्रेच्युटी पूरी तरह से Tax free होती है | Employee द्वारा Gratuity amount को लेकर Court Case नहीं किया जा सकता | जबकि कर्मचारी के खिलाफ civil या criminal court में case डाला जा सकता है |

Gratuity Amount par tax me riyayat:

1000000 (दस लाख) से कम ग्रेच्युटी amount पूरी तरह से tax free है | पहले यह रियायत की सीमा केवल 3.5 लाख थी | और 10 लाख से अधिक Gratuity amount पर tax देय होगा |

ग्रेच्युटी की गणना (Gratuity Calculation Formula in Hindi):

ग्रेच्युटी की payment calculation formula के अनुसार किसी भी कर्मचारी को एक साल में उसकी 15 दिन की salary gratuity के रूप में दी जाती है | लेकिन यह केवल Basic Salary + DA पर आधारित होती है | इस Formule के हिसाब से महीने में 26 दिनों को ही considered किया जायेगा | यह Formula निम्न दो घटकों पर निर्भर करता है |

1. वेतन (Salary)

Salary से हमारा आशय वेतन से है | ग्रेच्युटी से सम्बन्धित Salary में Basic Salary और DA सम्मिलित है | जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं, Gratuity अंतिम आहरित वेतन के हिसाब से ही देय होगी | यदि कोई कर्मचारी जो दैनिक मजदूरी पर काम करने वाला होगा, उसकी अंतिम तीन महीने में Kamai की गई दैनिक मजदूरी का औसत निकाल के, उस औसत को एक दिन की salary के रूप में माना जायेगा |

2. सेवा अवधि (Service Tenure)

सेवा अवधि से हमारा आशय Service tenure से है | जिसका साधारण शब्दों में अर्थ किसी कंपनी में किये गए काम के समय से लगा सकते हैं |  Gratuity के लिए यह समय सीमा 5 वर्ष लगातार सेवा देना निर्धारित की गई है | हालांकि Retirement या Job छोड़ने के समय 6 महीने से अधिक समय को एक वर्ष में गिना जायेगा |
Formula:

ग्रेच्युटी = अंतिम आहरित वेतन × 15/26 × कंपनी में बिताया गया समय |

वेतन = अंतिम आहरित वेतन (Basic Salary +DA)

महीना = 26 दिनों का एक महीना |

15 दिन का वेतन = अंतिम आहरित वेतन × 15/26 |

उदहारण: यदि कोई कर्मचारी जिसकी Basic Salary 13500 और DA (Dearness Allowance) 1000 रूपये है | और उसने किसी कंपनी में पांच साल काम किया है | इस स्तिथि में उसका ग्रेच्युटी amount इस तरह से Calculate किया जा सकता है |

Gratuity= 13500 +1000 ×15/26 × 5

Gratuity= 8365.38×5 = 41826.92

तो जैसा की उपर्युक्त उदहारण से स्पष्ट है | एक कर्मचारी जिसका अंतिम आहरित वेतन 13500 और DA 1000 रूपये प्रति माह है, को पांच साल लगातार काम करने पर 41826.92 gratuity amount का लाभ मिलेगा | इस प्रकार आप अपनी gratuity भी calculate कर सकते हैं |

यह भी पढ़ें :-