अगरबत्ती बनाना | Agarbatti Making.

अगरबत्ती बनाना | Agarbatti Making.

इंडिया में अगरबत्ती बनाने का बिज़नेस अभी कुछ ही गिने चुने राज्यों जैसे कर्नाटक, महाराष्ट्र, चेन्नई में अधिकतर तौर पर किया जाता है | Agarbatti Making  बिज़नेस एक पारम्परिक व्यवसाय है | इसलिए इस business में अभी भी कुटीर उद्योगों का योगदान सर्वोपरी है |

अगरबत्ती क्या है |

मूल रूप से अगरबत्ती एक छड़ी होती है | जिसमे कुछ सुगन्धित मिश्रण का लेप लगा हुआ होता है | और इसका उपयोग अधिकांशतः नित्य प्रतिदिन के पूजा पाठ क्रिया में किया जाता है | एक अगरबत्ती 15 मिनट से 2 घंटे तक जलने का सामर्थ्य रखती है | लेकिन यह सब निर्भर करता है, अगरबत्ती की गुणवत्ता और आकार पर |

Business Scope:

इसमें कोई दो राय नहीं हैं की, भारतवर्ष एक कृषि प्रधान देश होने के साथ साथ धर्म-प्रधान देश भी है | | अगरबत्ती पूजा पाठ की सामग्री में एक ऐसी वस्तु है, जिसका उपयोग अधिकांशत: हर धर्म को मानने वाला व्यक्ति करता है | अगर हम अपने देश की बात करें, तो दूकानदार अपनी दुकान का श्रीगणेश, पुजारी पूजा करते वक़्त, पंडित पाठ इत्यादि करते वक़्त, कामकाजी लोग काम पर निकलने से पहले नहाने के बाद अगरबत्ती का उपयोग करते हैं | और जहाँ जहाँ भारतीय प्रवासी रहते हैं, उन देशो में भी अगरबत्ती को उपयोग में लाया जाता है | इसके अलावा विदेशो जैसे लंदन, मलेशिया, नेपाल, भूटान, वर्मा, मारीशस, श्रीलंका इत्यादि देशो में भी अगरबत्ती का उपयोग किया जाता है | इसलिए Agarbatti Making का बिज़नेस निरंतर चलने वाला व्यवसाय है | क्योकि इसकी मांग सिर्फ हमारे ही देश में नहीं, अपितु विदेशों में भी बराबर बनी रहती है | यही कारण है की, कोई भी व्यक्ति इस business में अपना लघु उद्योग, कुटीर उद्योग/ गृह उद्योग आदि स्थापित करके अपनी Kamai कर सकता है |

Agarbatti  Making ke liye Material:

यहाँ पर हम जो Agarbatti Making के लिए Material का उल्लेख कर रहे हैं | इसमें हम एक किलो मिश्रण को केंद्र बिंदु मान के चल रहे हैं | अर्थात हम यह बताने की कोशिश कर रहे हैं, की यदि हमें एक किलो मिश्रण तैयार करना होगा तो हमें कौन कौन से material की कितनी मात्रा लेनी होगी |
Agarbatti-and-incense stick-

  • छड़ियाँ – आवश्यकतानुसार
  • अगर की लकड़ी – 200 gm
  • चन्दन की लकड़ी – 300 gm
  • खस की जड़ –  50gm
  • कपूर कचरी की जड़ – 50 gm
  • देवदार और Marjoram की पत्तियां – 50 gm
  • गुलाब और clove flower – 50gm
  • इलायची और जावित्री के बीज – >50gm
  • लोबान, शिलाजीत                –  200gm
  • लकड़ी का कोयला, और रंग – 50 gm

उपर्युक्त सामग्री के आलावा बड़े पैमाने पर अगरबत्ती का प्रोडक्शन करने के लिए निम्नलिखित सामग्री का भी उपयोग किया जाता है |

  • चारकोल पाउडर
  • जीगत पाउडर (Gigatu)
  • वाइट चिप्स पाउडर
  • कुप्पम डस्ट
  • DEP (DI Ethyl Phthalate)

अगरबत्ती कैसे बनायें (How to make):

Step1:

ऊपर उल्लेखित Material को दी हुई मात्रा के हिसाब से, पूर्ण रूप से अच्छी तरह मिलाकर इसका मिश्रण तैयार किया जाता है |

Step 2:उसके बाद इस मिश्रण में से पानी की मात्रा को कम करने के लिए छान लिया जाता है |

Step 3: मिश्रण से पानी की मात्रा कम होने के बाद मिश्रण का जो अवशेष शेष बचता है | उसको अच्छी तरह गूँथ लिया जाता है, ताकि वह एक लस लसादार मिश्रण बनकर Sticks में आसानी से चिपक सके |

Step 4: इस मिश्रण को किसी साफ़ ढलान वाले स्टूल पर फैला दिया जाता है |

Step 5: Sticks को इस मिश्रण के साथ हल्का हल्का रगड़ दिया जाता है | और जब यह मिश्रण Sticks पर चढ़ जाता है | तो इन्हें सूखने के लिए छोड़ दिया जाता है |
उपर्युक्त agarbatti making विधि से आपको idea हो गया होगा, की अगरबत्ती किस तरह से बनायीं जाती है | और जो इस विधि में सामग्री दी गई है यह जरुरी नहीं है की अगरबत्ती बनाने में सिर्फ इसी सामग्री का उपयोग होता है | चूँकि अगरबत्ती का उद्देश्य सुगंध फैलाना होता है | इसलिए कोई भी व्यक्ति Agarbatti Making Process में अन्य सुगन्धित ingredients का भी उपयोग कर सकता है |

 

Comments

  1. By mahendra singh

    Reply

  2. By ashok n wagh

    Reply

  3. By Rahul Yadav

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: