Marketing Assistance Scheme For MSME In Hindi.

Marketing Assistance scheme के अंतर्गत नेशनल स्माल इंडस्ट्रीज कारपोरेशन द्वारा लघु उद्योगों को अपने उत्पाद की Marketing करने में सहायता प्रदान की जाएगी | भारतवर्ष में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों का क्षेत्र अत्यधिक व्यावसायिक और गतिशील क्षेत्र है | लेकिन वैश्विक Market में तेजी से हो रहे आर्थिक परिदृश्य में बदलावों के कारण, भारत के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों (MSME) के लिए जहाँ एक तरफ अवसर पैदा हुए हैं, वही दूसरी तरफ उनके सामने चुनौतियाँ भी उभर कर आयी हैं | बड़े उद्योगों के मुकाबले लघु उद्योगों के पास सामरिक उपकरण (strategic tools) की भारी कमी है | इन tools में से एक tool है, Marketing  जो वर्तमान में कुटीर, लघु एवं मध्यम उद्योगों की सबसे बड़ी समस्या है | इन्ही सब समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, इनके निदान हेतु भारत सरकार ने Marketing Assistance scheme की शुरुआत की है |
Marketing Assistance scheme for-msme

Marketing Assistance scheme kya hai:

यह एक स्कीम अर्थात Yojana है | जिसकी शुरुआत भारत सरकार द्वारा सूक्ष्म, मध्यम एवं लघु उद्योगों को Marketing  में आने वाली समस्याओं के निदान हेतु की गई है |

मार्केटिंग असिस्टेंट स्कीम के उद्देश्य :

इस scheme के कुछ व्यापक उद्देश्य निम्नलिखित हैं |

  • सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों की Marketing और प्रतिस्पर्धा करने की क्षमता को बढ़ाना |
  • इनकी दक्षता को प्रदर्शित करके कमजोरी और मजबूती का आकलन करना ताकि कोई भी उद्योग अपनी कमजोरियों को जानकर उन्हें दूर कर सके |
  • लघु उद्योगों को मौजूदा Market परिदृश्य, उनकी गतिविधि और बदलाव के कारण उनके business पर क्या प्रभाव पड़ेगा | इस स्तिथि से समय समय पर अवगत कराना |
  • MSME के द्वारा उत्पादित Products और services की Marketing के लिए सुविधाएँ प्रदान करना |
  • बड़े संस्थागत खरीदारों के साथ वार्तालाप हेतु लघु उद्योगों को मंच प्रदान करना |
  • सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमियों में Marketing skill को समृद्ध बनाना |
  • सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों द्वारा MSME एवं उसके उत्पादों का प्रचार प्रसार करना |

Marketing Support under scheme:

इस स्कीम के अतर्गत NSIC द्वारा Marketing Support दिया जायेगा | जिससे सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों के उत्पाद या सेवा की Market ability और प्रतिस्पर्धा को बढाया जा सके |

NSIC द्वारा विदेशों में आयोजित International Technology Exhibition और trade fairs में सहभागिता प्रदान करना |

सहायता का स्तर :

विदेशों में Technology exhibition आयोजित करने पर |
आइटम सहायता का स्तर
किराये की जगह (बना बनाया )सामान्य वर्ग
सूक्ष्म उद्योगवास्तविक खर्चे की 75% सहायता |
लघु उद्योग60%
मध्यम उद्योग25%
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
सूक्ष्म उद्योग95%
लघु उद्योग85%
मध्यम उद्योग50%
मालभाड़ा (जो सामान exhibition हेतु ले जाया गया)वास्तविक, लेकिन अधिक से अधिक 25000 लैटिन अमेरिकी देशों के लिए यह सीमा 37500 है |
विमान का किराया |सामान्य वर्ग
सूक्ष्म उद्योगEconomy class  return किराया 85% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
लघु उद्योगEconomy class  return किराया 75% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
मध्यम उद्योगEconomy class  return किराया 25% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
सूक्ष्म उद्योगEconomy class  return किराया 95% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
लघु उद्योगEconomy class  return किराया 85% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
मध्यम उद्योगEconomy class  return किराया 50% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
सब तत्वों को मिला के अधिक से अधिक वित्तीय सहायता | सामान्य वर्ग
लैटिन अमेरिका अन्य देश
सूक्ष्म उद्योगRs. 2.40 लाख2 लाख
लघु उद्योगRs. 2.10 लाख1.75 लाख
मध्यम उद्योगRs. 1.25 लाख1 लाख
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
 लैटिन अमेरिका अन्य देश
सूक्ष्म उद्योगRs. 2.70 लाख2.25 लाख
लघु उद्योगRs. 2.40 लाख2 लाख
मध्यम उद्योगRs. 1.60 लाख1.25 लाख
विज्ञापन, प्रचार और Theme Pavilion 20% Subsidy जो अधिक से अधिक 20 लाख होगी |

 

विदेशों में आयोजित Trade fairs:

विदेशों में Trade fairs  पर |
आइटम सहायता का स्तर
किराये की जगह (बना बनाया )सामान्य वर्ग
सूक्ष्म उद्योगवास्तविक खर्चे की 75% सहायता |
लघु उद्योग60%
मध्यम उद्योग25%
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
सूक्ष्म उद्योग95%
लघु उद्योग85%
मध्यम उद्योग50%
मालभाड़ा (जो सामान exhibition हेतु ले जाया गया)वास्तविक, लेकिन अधिक से अधिक 20000 लैटिन अमेरिकी देशों के लिए यह सीमा 30000 है |
विमान का किराया |सामान्य वर्ग
सूक्ष्म उद्योगEconomy class  return किराया 85% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
लघु उद्योगEconomy class  return किराया 75% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
मध्यम उद्योगEconomy class  return किराया 25% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
सूक्ष्म उद्योगEconomy class  return किराया 95% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
लघु उद्योगEconomy class  return किराया 85% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
मध्यम उद्योगEconomy class  return किराया 50% सहायता | (एक इकाई से केवल एक व्यक्ति)
सब तत्वों को मिला के अधिक से अधिक वित्तीय सहायता | सामान्य वर्ग
लैटिन अमेरिका अन्य देश
सूक्ष्म उद्योगRs. 2.25 लाख2 लाख
लघु उद्योगRs. 2 लाख1.75 लाख
मध्यम उद्योगRs. 1.50 लाख1.25 लाख
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
 लैटिन अमेरिका अन्य देश
सूक्ष्म उद्योगRs. 2.50 लाख2.25 लाख
लघु उद्योगRs. 2.25 लाख1.75 लाख
मध्यम उद्योगRs. 1.75 लाख1.50 लाख
विज्ञापन, प्रचार और Theme Pavilion 20% Subsidy जो अधिक से अधिक 5 लाख होगी |

 

Domestic exhibition:

इंडिया में exhibition करने के लिए NSIC द्वारा subsidies rate पर जगह उपलब्ध करायी जायेगी | जो subsidy निम्न बिन्दुओं पर आधारित होगी |

सामान्य वर्ग
सूक्ष्म उद्योग75%
लघु उद्योग60%
मध्यम उद्योग25%
उत्तर पूर्वी राज्य/महिलाएं/अनुसूचित जाति/ जनजाति
सूक्ष्म उद्योग95%
लघु उद्योग85%
मध्यम उद्योग50%

अन्य संस्थाओं द्वारा आयोजित Exhibition :

जो संस्थाएं MSME development की दिशा में काम कर रही होंगी | यदि उनके द्वारा कोई exhibition आयोजित की जाती है | तो Marketing assistance scheme के तहत उनको support दिया जायेगा | जिसके लिए निम्न शर्तो का प्रावधान किया गया है |

संगठन पिछले तीन सालो से सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्योगों के विकास हेतु काम कर रहा हो |

इवेंट का आयोजन कम से कम 5000 sq feet जगह में आयोजित किया जाना चाहिए और इस इवेंट में कम से कम 50 MSME की हिस्सेदारी हो |

आयोजक कर्ता को पूरे इवेंट का ब्लू प्रिंट का Layout बनाकर आवेदन करते समय देना होगा |

आयोजक कर्ता NSIC को 100 sq feet का एक स्टाल देगा | ताकि NSIC सरकार द्वारा लघु उद्योगों के लिए  चालित अन्य Schemes के बारे में उद्यमियों को अवगत करा सके |

इवेंट का नाम NSIC द्वारा निर्धारित किया जायेगा | NSIC और MSME मंत्रालय का नाम सभी होर्डिंग्स, बैनर इत्यादि में डिस्प्ले किया जायेगा |

इस केटेगरी में Marketing Assistance Scheme के तहत निम्न तरह से सहायता दी जाएगी |

A Class City: यदि इवेंट A class शहर में होता है तो अधिकतम सपोर्ट पांच लाख रूपये तक का दिया जायेगा |

B Class City: यदि इवेंट B  class शहर में होता है तो अधिकतम सपोर्ट 3 लाख रूपये तक का दिया जायेगा |

C Class City: यदि इवेंट C class शहर में होता है तो अधिकतम सपोर्ट 2 लाख रूपये तक का दिया जायेगा |

ग्रामीण इलाका :  यदि इवेंट ग्रामीण इलाके में होता है तो अधिकतम सपोर्ट 1 लाख रूपये तक का दिया जायेगा |

 

NSIC द्वारा आयोजित Techmart Exhibition:

इंडिया इंटरनेशनल ट्रेड फेयर (IITF) के दौरान NSIC द्वारा हर साल नवम्बर महीने में Trade exhibition आयोजित की जाती है | यह एक अंतराष्ट्रीय exhibition होती है | जिसमे इंडिया में उत्पादित सर्वोत्तम उत्पादों, तकनीकियों, सेवाओं का प्रदर्शन किया जाता है | सामान्य वर्ग से जुड़ी इकाइयों के लिए किसी प्रकार की कोई सब्सिडी का प्रावधान इस कार्यक्रम के लिए नहीं है | जबकि विशेष वर्ग के लिए जगह के किराये पर निम्न प्रकार से subsidy का प्रावधान किया गया है |

सूक्ष्म उद्योग95%
लघु उद्योग85%
मध्यम उद्योग50%

 

Buyer seller meets:

Buyer seller meets में भी सामान्य वर्ग से जुड़े उद्यमियों के लिए किसी प्रकार की कोई subsidy का प्रावधान नहीं है | Buyer seller meets कार्यक्रम का लक्ष्य Vendor Development एवं खरीदारों की bulk में खरीदने की क्षमता को जांचना परखना है | इस कार्यक्रम के दौरान विशेष केटेगरी को जगह के किराये पर निम्न तरह से Subsidy उपलब्ध करायी जाएगी |

सूक्ष्म उद्योग95%
लघु उद्योग85%
मध्यम उद्योग50%

 

हालाँकि Marketing Assistance scheme के अंतर्गत buyer seller meets  के लिए दिया जाने वाला support विभिन्न कारकों जैसे जगह का किराया, इंटीरियर डेकोरेशन, विज्ञापन, प्रिंटिंग मटेरियल, परिवहन इत्यादि पर निर्भर करेगा, जो अधिक से अधिक निम्नलिखित होगा |

यदि यह प्रोग्राम A class cities में होता है तो दी जाने वाली सहायता 80000रूपये से अधिक नहीं होगी |

B Class cities में 48000 |

C Class cities में 32000 |

ग्रामीण इलाके में 16000 से अधिक नहीं होगी |

अन्य सहायता :

Marketing Assistance scheme के तहत निम्न गतिविधियाँ NSIC द्वारा शुरू की जा सकती हैं |

  • MSME के उत्पादों को प्रोत्साहित करने के लिए window और होर्डिंग में MSME के प्रोडक्ट दिखाना और प्रदर्शन केन्द्रों का विकास करना |
  • प्रोडक्ट सम्बन्धी जानकारी के लिए किताबों का प्रकाशन, Brochure printing, उत्पाद विशिष्ट कैटलॉग, सीडी, और लघु फिल्मो का निर्माण |
  • MSME के प्रोडक्ट की मार्केटिंग के लिए वेबसाइट और पोर्टल का निर्माण |
  • निर्माण/suppliers और एक्सपोर्ट सम्बन्धी डायरेक्टरी तैयार करना और उसमे सुधार करना |
  • Success stories को documented करना |
  • अंतराष्ट्रीय और घरेलु बाज़ार की नवीनता का आकलन करना, और उनके लिए अध्यन सामग्री तैयार करना |
  • अंतराष्ट्रीय प्रतिनिधिमंडलों और नेटवर्किंग इवेंट्स की होस्टिंग करना |

किसी व्यक्ति और इकाई के लिए उपर्युक्त गतिविधि करने पर अधिक से अधिक सहायता रूपये 5 लाख तक की होगी |

Marketing Assistance Scheme Eligibility Criteria:

Domestic and international exhibition में सहभागिता के लिए आवेदनकर्ता को निम्न शर्तों पर खरा उतरना जरुरी है |

  • इकाई भारत वर्ष में सूक्ष्म, लघु या मध्यम उद्योग में पंजीकृत होनी चाहिए |
  • वित्तीय सहायता विशेष जरुरत जैसे बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन, प्रशिक्षण हेतु ऐड और उपकरण खरीदना, ऑफिस उपकरण इत्यादि पर निर्भर करेगी |

अन्य उद्योग एवं संस्थाओं के लिए निम्न शर्तें लागू होंगी |

  • कोई भी संगठन/ उद्योग एसोसिएशन/संस्था पिछले तीन सालों से MSME के विकास हेतु काम कर रही हो | और इवेंट आयोजित करने की उसमे पूर्ण रूप से क्षमता हो |
  • इवेंट कम से कम 5000 sq feet जगह में आयोजित किया जाना जरुरी है | और इस इवेंट में 50 MSME की हिस्सेदारी होना भी अनिवार्य है |
  • आयोजक कर्ता NSIC को 100 sq feet जगह स्टाल लगाने के लिए देगा |

Apply Karne ka procedure:

उद्यमी जो International exhibition में हिस्सेदारी चाहते हैं | निम्नलिखित प्रक्रिया करके apply कर सकते हैं |

  • विधिवत आवेदन फॉर्म भरकर |
  • वैध Entrepreneur Memorandum part II की प्रतिलिपि |
  • यदि आवेदन करता विशेष केटेगरी से है तो Category Certificate चाहिए होगा |
  • Audited Balance sheet या Income tax return की पिछले दो साल की प्रतिलिपि |
  • कंपनी प्रोफाइल की प्रतिलिपि |
  • 100 रूपये के गैर न्यायिक स्टाम्प पेपर पर अंडरटेकिंग |
  • यदि आवेदनकर्ता Technology exhibition में हिस्सेदारी करना चाहता है , तो NSIC के साथ एक अग्रीमेंट साइन करना होगा |

Marketing assistance scheme के तहत Domestic exhibition में participate करने के लिए निम्न शर्तों का प्रावधान है |

  • आवेदन फॉर्म |
  • उद्यमी Memorandum |
  • विशेष केटेगरी के लिए केटेगरी प्रमाण पत्र |
  • कंपनी प्रोफाइल की कॉपी |
  • पहली बार भागीदारी पर अंडरटेकिंग |
  • केटेगरी के मुताबिक NSIC ltd के नाम से डिमांड ड्राफ्ट |

Marketing Assistance scheme के अंतर्गत marketing में सहायता प्राप्त करने हेतु आवेदन NSIC की किसी भी नजदीकी ब्रांच में जमा किया जा सकता है |

यह भी पढ़ें :

महिला कोयर योजना की पूरी जानकारी

दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल्य योजना की जानकारी

भारतीय डाक की फ्रैंचाइज़ी स्कीम की जानकारी

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

3 thoughts on “Marketing Assistance Scheme For MSME In Hindi.

  1. Sir mai sainetary pads ke business ke liye row material aur sasti machine kahan se uplabdh ho sakti hai , ye business mai Agra UP m karna chahta ho o
    Aur ye kam mai Samaj b Desh ke liye karna chahta ho
    Krapya sahi jankari Uplabdh karai

  2. me ak pichra warg se hu jo ki kai war form bharne ke bad bhi nahi mila indra awash yojna ka labh aap se anurodh hai ki mujhe indra awash yojna ka labh milna chahi ye plz plz sir Hellp me My name is shrilal yadav Home town Bisfi dih tol po bisfi dist madhubani bihar pin847222. my co no 9466882439.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *