Marriage and family counselling business पारिवारिक या जीवनसाथी से होने वाले मतभेदों के कारण दुखी लोगों को उनके रिश्ते को बचाए रखने में मार्गदर्शन देता है | यदि किसी आदमी/औरत की शादी अर्थात Marriage किसी सही person से हो जाती है तो Marriage किसी भी मनुष्य प्राणी के लिए एक अच्छा अनुभव हो सकती है | बीते समय में कुछ Marriages success हुई हैं, तो कुछ couples अपनी Marriage को बचाने में नाकामयाब भी हुए हैं |

चूँकि शादी एक ऐसा पवित्र बंधन है, जिसमे जीवनसाथी बने जोड़े एक दूसरे का साथ हर सुख दुःख में निभाने की एक दूसरे पर अपेक्षा रखते हैं | इसलिए चाहे शादी सही Person से हुई हो या गलत से मतभेद के अवसर हमेशा विद्यमान रहते हैं | इन्ही मतभेदों के कारण बहुत बार शादी टूटने की कगार पर पहुँच जाती है |

लेकिन जिन औरत/आदमी को अपने जीवनसाथी से प्यार हो उनके मन में यह सवाल बार बार जन्म लेते हैं की कहीं मैं गलत तो नहीं? बस इन्हीं सब बातों का जवाब पाने के लिए ऐसे Person Marriage and family counselling की तलाश में रहते हैं | जो उन्हें इस दुःख से निकलने या इसका सामना करने में दिमागी रूप से परिपक्व बना सके |

Marriage and Family Counselling क्या है:

Marriage and Family Counselling Business से हमारा आशय पारिवारिक मतभेदों से आहत किसी Person को परामर्श के माध्यम से दिमागी रूप से इस तरह तैयार करना है, ताकि वह पारिवारिक सदस्यों के साथ अपने संबंधो को मजबूत एवं मधुर बना सके | Marriage and family counseling के माध्यम से आहत व्यक्ति अपने जीवनसाथी या परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अपने रिश्ते मधुर बना सकता है, या फिर कोई अलग सा रास्ता इख़्तियार कर सकता है |

चूँकि इस business में client को मानसिक रूप से इस कदर प्रभावित करना पड़ता है ताकि वह यह निर्णय लेने में सक्षम हो की वह इस रिश्ते को मजबूत और मधुर बनाये या फिर अलग रहे, इसलिए इसको एक मनोचिकित्सा संबंधी business भी कह सकते हैं |

मैरिज और फैमिली काउंसलिंग बिजनेस कैसे शुरू करें :

Marriage life में disturbance के बहुत सारे कारण हो सकते हैं, लेकिन जीवनसाथी या किसी परिवार के सदस्य का नशे के आगोश में जैसे शराब, ड्रग में समा जाना और अवैध रिश्ते इसके मुख्य कारण हैं | इसलिए Marriage and Family Counselling Business start करने के लिए counseling therapy को सीखना अति आवश्यक है |

ताकि यह बिज़नेस करने वाला व्यक्ति सिर्फ प्रभावी बातें करना नहीं जाने अपितु वह बातें भी जाने जिन बातों का मनुष्य पर असर भी हो, counseling business एक प्रकार बातों पर आधारित ही business होता है | Marriage and family  counselors द्वारा दिए गए परामर्श किसी व्यक्ति को उसके पारिवारिक एवं वैवाहिक जीवन में आई समस्या से लड़ने का रास्ता एवं सामर्थ्य प्रदान करते हैं |  

इसलिए किसी भी व्यक्ति जो इस बिज़नेस को अपनी Kamai का साधन बनाना चाहते हैं उनके लिए जरुरी हो जाता है की वह Marriage and family counseling की बारीकियां सीखे |

1. सबसे पहले अपनी रूचि चेक कीजिये

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं, की यह Business पीड़ित व्यक्तियों को परामर्श देने पर आधारित बिज़नेस है, इसलिए इसमें ग्राहक को संतुष्ट करने के लिए बहुत अच्छी तरह समझाना पड़ सकता है | और कोई भी व्यक्ति किसी काम या बात को किसी दूसरे को अच्छी तरह तब समझा पायेगा जब उसको उसकी जानकारी होने के साथ साथ उसमे रूचि भी हो | इसलिए Marriage and family counselling business start करने वाले व्यक्ति को चाहिए की वह इस बिज़नेस के प्रति अपनी रूचि का निरीक्षण करे |

2. लोकेशन चयन के लिए रिसर्च करें

यह तो तय है की Marriage and family counselling business ग्रामीण इलाकों में फिलहाल तो नहीं हो सकती, वह इसलिए क्योंकि ग्रामीण इलाकों में न तो इतनी आमदनी होती है और न ही लोगों में इस प्रकार की जागरूकता है | इसलिए Marriage and family counselling business अभी कुछ चुनिन्दा शहरों में ही किया जाना लाभकारी हो सकता है | शहर का चुनाव करने के बाद भी उद्यमी को चाहिए की वह किसी विशेष Location जिसमें उसकी Target customers निवासित हों का चुनाव करे |

3. काउंसलिंग में सर्टिफिकेट/ डिप्लोमा/डिग्री प्राप्त करें

मनोविज्ञान व्यक्ति के आन्तरिक व्यवहार को समझने में मदद करता है, इसलिए यदि यह बिज़नेस करने वाले व्यक्ति ने Psychology में कोई Degree/Diploma/Course किया हो तो अच्छे result आने की संभावना अधिक होती है, और उस व्यक्ति को Marriage and family counselling course करने हेतु admission भी आसानी से मिल जाता है |

 हालांकि Marriage and family counseling में Career बनाने के लिए कॉलेज टाइम से ही तैयारी करनी पड़ती है | 10+2 के बाद व्यक्ति को मनोविज्ञान जैसे विषय को अपने अध्यन में शामिल करना पड़ता है | Graduation मनोविज्ञान, Social work विषयों से Complete करके व्यक्ति Counselling से Post Graduation कर सकता है, और  Marriage and family counseling में Specialty के लिए  कोई Certificate/Diploma  course कर सकता है | India में बहुत सारे Institute counselling में Course offer कर रहे हैं |

4. काउंसलिंग के लिए अपने कौशल को बढ़ाएं

उपर्युक्त दिए गए course करने पर व्यक्ति counseling हेतु License लेने के लिए enable तो हो जाता है | लेकिन लोग तो उस पर तभी विश्वास करेंगे जब उनको पूर्ण रूप से संतुष्टि मिलेगी, और उद्यमी अपने ग्राहकों को पूर्ण रूप से संतुष्टि अपनी Degree/Certificate/diploma की बदौलत नहीं, बल्कि अपने Skills के बलबूते देने में कामयाब हो पायेगा | Marriage and family counseling business करने वाला व्यक्ति शारीरिक एवं भावनात्मक उर्जा से ओतप्रोत होना चाहिए |

ताकि वह अपने ग्राहकों की समस्या को गंभीरता के साथ समझ सके, इसके अलावा इस business की Important कड़ी effective communication, अवलोकन, स्पष्टीकरण, प्रतिबिम्ब, सुनने की क्षमता, पूछताछ का कौशल इत्यादि हैं | जहाँ effective communication से आशय ग्राहक के दिलोदिमाग पर असर करने वाली वार्तालाप से है, वही अवलोकन का समस्या को आंकने की क्षमता से है, और इस business में ग्राहकों की गोपनीयता का विशेष ध्यान रखा जाना आवश्यक है ताकि लोग बेझिझक कोई भी बात बता सकें |

उपर्युक्त बातों से स्पष्ट है की Marriage and family counselling business start करने वाले व्यक्ति को course के बावजूद अपने skills को बढाने की जरुरत पड़ सकती है | इन सब Skills को Increase करने के लिए व्यक्ति चाहे तो किसी उपदेशक की मदद ले सकता है |

5. अपना ऑफिस बनायें और शुरू करें

यदि उद्यमी ने उपयुक्त Course और अपने अन्दर Skills पैदा कर लिए हों तो Marriage and family counselling business start करने के लिए अब अगला स्टेप ऑफिस स्थापित करने का है |

जिसमे उद्यमी को Reception और एक Counselling room तैयार करना होगा | ग्राहकों के बैठने के लिए सोफे, कुर्सी और Reception और Counselling room हेतु भी Furniture खरीदना पड़ेगा | इसके अलावा उद्यमी को कम से कम एक व्यक्ति काम पर रखना पड़ेगा जिसका काम counsler की उपस्थति या अनुपस्थिति में Reception संभालना और Appointment fix करना होगा | Marriage and family Counselling business कौशल पर आधारित बिजनेस है |

इसका अभिप्राय यह है की, काउंसलर अपनी बातों और राय से जितने अधिक लोगों को प्रभावित करने में कामयाब होगा | उसका व्यवसाय भविष्य में उतनी ही तरक्की करता जाएगा |

 यह भी पढ़ें

Leave a Reply

Your email address will not be published