Mineral Water बिजनेस कैसे शुरू करें | 7 आसान कदमों में |

स्थानीय क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए Packaged Mineral water plant business start करना लाभकारी हो सकता है, क्योंकि बड़ी ब्रांड जैसे Bisleri, Kingfisher, Aquafina, Kinley इत्यादि के साथ प्रतिस्पर्धा करने के वशीभूत हो सकता है, की उद्यमी अपनी क्षमता से कुछ ज्यादा खर्चा कर बैठे | इसलिए इससे बचने का एक ही तरीका है की अपने Business को Starting में Local area में ही शुरू किया जाय और जब अच्छी Kamai होने लगे तब कमाई का कुछ हिस्सा Business को विस्तृत करने में लगाया जाय |

ग्राहकों की आवश्यकता के अनुरूप उद्यमी को चाहिए की वह water की 1,2, 10,20 Ltrs के आधार पर Packaging करे और अपने उत्पाद को उस क्षेत्र में स्थित होटल, बस स्टैंड, Provisional store, हॉस्पिटल्स इत्यादि में बेचे | इससे पहले की हम बात करें की  Packaged Mineral water plant business कैसे Start करें आइये समझने की कोशिश करते हैं की आखिर Mineral water है क्या |

mineral water business
Mineral Water bottle in a Trader Shop

मिनरल वाटर क्या है (What is Mineral Water) :

Mineral water किसी अशुद्ध पानी को Purify करके बनाया गया शुद्ध पानी है | Water अर्थात पानी की बात करें, तो यह बताना आवश्यक लगता है की पानी प्रकृत्ति प्रदत्त दो अनमोल तत्वों ऑक्सीजन एवं हाइड्रोजन का समावेश है, जो संसार में सभी जीवधारियों के जिन्दा रहने के लिए बेहद जरुरी है |इसलिए पीने के पानी को हमेशा अवांछनीय अशुद्धियों से दूर रखना चाहिए |

Untreated sources जैसे Boreholes, spring से आने वाला पानी स्वास्थ्य की दृष्टि से शुद्ध नहीं होता है | यही कारण है की मनुष्य के लिए जरुरी हो जाता है की पहले वह Water को Purify करे और उसके बाद उसे पीने के प्रयोग में लाये |  

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं Mineral water पानी का शुद्ध रूप होता है इसमें इसके नाम के अनुरूप आवश्यक मात्रा में Minerals जैसे Barium, Iron, Manganese इत्यादि विद्यमान रहते हैं, जिन्हें मनुष्य शरीर द्वारा अवशोषित किया जाता है  |  ये Minerals या तो पानी में पहले से विद्यमान रहते हैं और या फिर इन्हें पानी में Mineral Salt  इत्यादि का सम्मिश्रण कर प्राप्त किया जा सकता है |

व्यापारिक संभावनाएं (Business Scope In Mineral Water) :

दुर्भाग्यवश India में पीने का पानी हर जगह शुद्ध नहीं है, इसलिए इसे पीना स्वास्थ्य की दृष्टि से सुरक्षित भी नहीं है | अक्सर होता क्या है की कुछ नुकसानदेह Chemicals भूमि की सतह पर पाए जाते हैं, और जो बाद में पानी में मिल जाते हैं, इन Chemicals में रोगाणुकारक सूक्ष्मजीवी विद्यमान रहते हैं | और यदि इस प्रकार के पानी को पीया जाता है तो मनुष्य को बहुत सारे पानी जनित रोग होने का खतरा रहता है |

यही कारण है की लोगों का अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता बढ़ने के कारण लोग अब Mineral water अर्थात Packaged drinking water का इस्तेमाल करने लगे हैं | Mineral water की Demand वैसे तो बारह महीने बनी रहती है लेकिन सर्दियों के मुकाबले गर्मियों में लोग पानी अधिक पीते हैं इसलिए इसकी Demand भी अधिक होती है | यद्यपि लोगों की Demand पूर्ति हेतु, कुछ कंपनियों ने Mineral water business में प्रवेश अवश्य किया है लेकिन इसके बावजूद इस Business में Supply एवं Demand में Gap देखा जा सकता है |

क्योंकि Packaged drinking water को हर जगह ऑफिस, रेलवे स्टेशन, घरों, दुकानों, इत्यादि सभी जगह स्वीकार किया जाता है, यही कारण है की सिर्फ कुछ कंपनियां मांग को पूरी कर पाने में असमर्थ हैं | इसलिए यह कहा जा सकता है की Packaged drinking water plant start करना किसी भी उद्यमी के लिए Profitable साबित हो सकता है |

मिनरल वाटर बिजनेस कैसे शुरू करें? How to start a Purified Mineral water Business:

यद्यपि India में Purified Mineral water Plant लगाना आसान नहीं है, क्योंकि इस Business में अच्छे खासे निवेश की आवश्यकता होती है, और इस Business को Start करने से पहले उद्यमी को एक बात यह भी अवश्य ध्यान में रख लेनी चाहिए की यह Business ग्रामीण इलाकों के मुकाबले Metro cities में अधिक चलेगा |

हालाँकि यदि हम 1 लीटर या इससे छोटे पैकेजिंग की बात करें तो यह Mineral water plant business कहीं से भी यहाँ तक की ग्रामीण इलाकों से भी आसानी से चलाया जा सकता है क्योंकि आजकल ग्रामीण इलाकों में भी लोग Purified Mineral water को उपयोग में लाने लगे है, लेकिन यदि बात बड़ी बोतल 20, 25 लीटर की हो तो व्यक्ति को कोई शहर ही चुनना चाहिए |

1. Mineral Water Business के लिए रिसर्च करें

Mineral water Plant business start करने से पहले Area wise Market Research बेहद जरुरी है, इसमें व्यक्ति को अपने स्थानीय बाज़ार के आधार पर अपने आंशिक ग्राहकों की एक लिस्ट बनाकर उनसे होने वाली कमाई का एक अंदाज़ा लेना चाहिए, और यह भी पता लगाना चाहिए की स्थानीय बाज़ार में किस प्रकार की Packaging में अधिक पानी बिकता है |

इसके अलावा उस Packaged drinking water को पीने वाले लोग अर्थात अंतिम ग्राहक कौन से हैं, और अभी वर्तमान में जो पानी बाज़ार में उपलब्ध है उसकी कीमत क्या है हालांकि पीने के पानी के मामले में लोग कीमत के बजाय उसकी गुणवत्ता पर अधिक ध्यान देते हैं , इसलिए उद्यमी को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए |

बहुत सारे लोग रेलगाड़ियों और बसों में जो पानी खरीद रहे होते हैं किसी अनजान से ब्रांड का नाम सुनकर संकोच में पड़ जाते हैं की कहीं यह पानी Purified है भी या नहीं, इसलिए उद्यमी को अपने ब्रांड को एक विश्वसनीय ब्रांड बनाने के लिए क्या करना होगा इस बारे में भी विचार अवश्य होना चाहिए |

2. व्यापार की योजना बनाएँ

उपर्युक्त बातों पर रिसर्च करके उद्यमी को अपने Purified mineral water plant business के लिए एक प्रभावी बिज़नेस प्लान की आवश्यकता होगी, जिसमे उद्यमी अपने स्थानीय बाज़ार को लक्ष्य में रखते हुए अपने बिज़नेस के भविष्य के लिए लक्ष्यों एवं दिशानिर्देशों को लिखित रूप में तय करेगा | एक प्रभावी बिज़नेस प्लान में वित्त से लेकर मार्केटिंग, प्रोडक्शन, employee hiring, Management सभी की गतिविधियों का उल्लेख होना चाहिए ताकि समय के साथ उनमे फेरबदल या बदलाव किये जा सकें |

3. लोकेशन का चुनाव करें

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की यह बिज़नेस तभी लाभकारी होगा जब उद्यमी इस Business को अपने आंशिक ग्राहकों का जायजा लेकर लोकेशन का चुनाव करे, अर्थात उद्यमी को कम से कम इतना पता होना चाहिए की उसके क्षेत्र में Packaged drinking water की कितनी और कौन से प्रकार के Packaged drinking water की कितनी खपत होती है उसी आधार पर वह लोकेशन का चयन कर पायेगा |

ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरों में यह बिज़नेस चलाना अधिक लाभकारी सिद्ध होगा क्योंकि ग्रामीण इलाकों से शहरों की तरफ supply करने पर Transportation Cost बढ़ सकती है, और अकेले ग्रामीण इलाकों में होने वाले Consumption के आधार पर बिज़नेस चलाना मुश्किल हो सकता है | इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह अपने बिज़नेस के लिए लोकेशन का चुनाव सोच समझकर करे |

4. लाइसेंस एवं पंजीकरण कराएँ

India में packaged drinking water Plant business के लिए भारतीय मानक bureau (BIS) द्वारा जारी ISI License अनिवार्य है, जिसको लेने के लिए आवेदनकर्ता से कुछ फीस ली जाती है | इसलिए Mineral water plant business करने वाले उद्यमी को BIS से ISI (Indian Standard Institution) License लेना पड़ेगा | इसके अलावा उद्यमी को अपने बिज़नेस का Tax Registration एवं विभिन्न Business Entities में से किसी एक का चयन करके अपने Business को Register भी कराना पड़ेगा |

5. बोतल सप्लाई करने वाले का चुनाव करें

इस Mineral water plant business में ध्यान देने वाली बात यह है की उद्यमी सिर्फ पानी को Purified करके उसे Market में बेचेगा, और इसलिए उद्यमी को पानी Packaging हेतु भिन्न भिन्न Types के Bottles की आवश्यकता होगी यही कारण है की उद्यमी का अब अगला कदम Bottles suppliers को ढूंढकर अपने Business के लिए उसका चयन करना होना चाहिए |

इसमें उद्यमी को एक ऐसा (Vendor) बोतल सप्लाई करने वाला चयन करना चाहिए जिसके पास सभी प्रकार की बोतल उपलब्ध हों |इसके अलावा उद्यमी चाहे तो किसी ऐसे बोतल सप्लायर का चुनाव कर सकता है जो International bottled water association का सदस्य हो |

6. मशीनरी और उपकरण खरीदें

Mineral water Plant business start करने के लिए उद्यमी का अगला कदम अपने बिज़नेस के लिए आवश्यक मशीनरी और उपकरणों की खरीदारी का होना चाहिए | इस प्रक्रिया को करने में उद्यमी लगभग 5-7 Vendors से Quotation मंगवाकर और उनकी Terms and condition की विवेचना कर और अंत में कीमत, वारंटी इत्यादि की तुलना कर Vendor Select कर सकता है | वैसे एक Mineral water plant के लिए निम्नलिखित मशीनरी एवं उपकरणों की आवश्यकता हो सकती है |

  • जनरेटर
  • स्टोरेज टैंक
  • पानी भरने वाली मशीन
  • Reverse Osmosis (RO) Plant 2000 Ltrs एवं फिल्टर्स |
  • लेबोरेटरी टेस्टिंग एवं गुणवत्ता नियंत्रित करने वाले उपकरण |
  • Conveyors, sealers and bottle loaders
  • Water sterilizers and dispensers
  • पानी को ट्रांसपोर्ट करने के लिए टेम्पो, ट्रक |

7. कर्मचारियों को नियुक्त करें

अगर कोई व्यक्ति Mineral water plant business के बारे में यह सोचता है की वह अकेला ही यह बिज़नेस चला देगा तो यह उसकी बहुत बड़ी ग़लतफ़हमी है | यह बिज़नेस start करने के लिए उद्यमी को Driver, Helper, Production Manager, Production Helper इत्यादि की आवश्यकता होगी ही होगी |

इसलिए अब अगला कदम Employee Hiring का होना चाहिए, व्यक्ति को चाहिए की सर्वप्रथम वह काम पर रखे जाने वाले Employee की JD (Job Description) तैयार करे और उसे किसी Consultant या अपनी जान पहचान के लोगों को दे ताकि Interview के लिए उसके पास उस JD से सम्बंधित लोग ही आयें |

यह भी पढ़ें :-

Leave a Comment