Paper pins making business के बारे में जानने से पहले यह जाने लें की पेपर पिन से हमारा अभिप्राय आलपिन से है इनका उपयोग सामान्य तौर पर निजी एवं सरकारी कार्यालयों में किसी दस्तावेज के साथ अन्य दस्तावेज संग्लग्न करने के लिए किया जाता है | यद्यपि वर्तमान में एक दस्तावेज के पीछे अन्य दस्तावेज संग्लग्न करने की प्रक्रिया को स्टेपलर पिन, Paper Clips, Binding Clips इत्यादि लगाकर भी अंजाम दिया जा सकता है | जिनके बारे में हम आने वाले समय में वार्तालाप करेंगे, यह सत्य हम सबको स्वीकार करना पड़ेगा की इस ब्रह्मांड में जो भी व्यवसायिक वस्तु विद्यमान है वह इसलिए है क्योंकि लोगों को उसकी आवश्यकता है और वह बाज़ार में तब तक विद्यमान रहेगी जब तक उसकी उपयोगिता बनी रहेगी | इसलिए भले ही बाज़ार में पेपर पिन के विकल्प मौजूद हों लेकिन आज भी लोग जब संग्लग्न करने के उद्देश्य से रखे दस्तावेजों की मात्रा कम होती है तो लोग अक्सर Paper Pins का ही उपयोग करते हैं | क्योंकि Stapler Pins  के मुकाबले पेपर पिन को दस्तावेज को बिना नुकसान पहुचाएं हुए दस्तावेज से आसानी से अलग किया जा सकता है |

Paper pins making Business

Paper Pins Making Business Kya Hai:

साधारण एवं सरल शब्दों में कहें तो Paper Pins Making business से हमारा तात्पर्य आलपिन बनाने के काम अर्थात धंधे से है | पेपर पिन एक ऐसी वास्तु है जिसका उपयोग अधिकतर तौर पर ऑफिस, स्कूल, अन्य औद्योगिक इकाइयों एवं घरों में भी किया जाता है | Paper Pins आकार में एक तरफ से नुकीली और इसके दूसरी तरफ Round head बनाया हुआ होता है | इन पर इन्हें जंग रोधी बनाने के लिए एक विशेष प्रकार की प्लेट या कलई चढ़ाई जाती है | पेपर पिन को इतना मजबूत बनाया जाता है की वे उपयोग में लाते समय मुड़ें नहीं | और बाज़ार में इन्हें बेचकर कमाई करने के लिए Paper Pins को 25, 50, 100grams इत्यादि में पैकिंग की जाती है | जब किसी उद्यमी द्वारा अपनी कमाई करने हेतु पेपर पिन का निर्माण करके उन्हें बाज़ार में बेचा जाता है तो उस उद्यमी द्वारा किया जाने वाला व्यापार Paper Pins Making business कहलाता है |

Market Potential in Paper Pins Making:

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में बता चुके हैं की वर्तमान में Paper Pins के विकल्प बाज़ार में उपलब्ध हैं चूँकि यह अन्य विकल्पों जैसे Stapler Pins की तुलना में दस्तावेजों से अलग करने में आसान और Gem Clips की तुलना में दस्तावेजों पर ज्यादा पकड़ रखती है इसलिए लोगों द्वारा पेपर पिन का उपयोग किया जाता है | बाज़ार में इनकी मांग नए कार्यालयों, उद्योगों के निर्माण पर निर्भर करती है कहने का आशय यह है की जितनी वृद्धि कार्यालयों एवं अन्य व्यवसायिक संस्थानों में होगी पेपर पिन की Demand में भी वृद्धि के आसार लगाये जा सकते हैं | हालांकि पहले के मुकाबले वर्तमान में अधिकतर प्रक्रियाएं डिजिटल अर्थात ऑनलाइन होने के कारण पेपर पिन के उपयोग में थोड़ी बहुत कमी अवश्य आई होगी | लेकिन आज भी अनेक Forms, applications इत्यादि के साथ अन्य Supportive documents संग्लग्न करने के लिए पेपर पिन का उपयोग किया जाता है |

Required Machinery and Raw Materials:

Paper Pins Making Business में मुख्य रूप प्रयुक्त होने वाला Raw Material Mild Steel Wire अर्थात 20-22 गेज़ की स्टील तार है | इसमें यदि उद्यमी महीने के लगभग 325 किलोग्राम पेपर पिन का उत्पादन करना चाह रहा हो तो उसे लगभग 345 किलोग्राम की आवश्यकता होगी क्योंकि बाकी तार Wastage में चली जाएगी | जहाँ तक मशीनरी का सवाल है इस बिज़नेस को स्टार्ट करने के लिए Automatic Paper Pins Making Machine आती है | जिसकी पेपर पिन बनाने की प्रति मिनट क्षमता लगभग 300-450 Paper pins होती हैं |

  • Automatic Paper Pins Making Machine
  • Nickel Plating Unit
  • Various Hand Tools

Manufacturing Process of Paper Pins:

Automatic Paper pin Making Machine को चलाना बेहद आसान प्रक्रिया है, इस मशीन को चलाने का प्रशिक्षण मशीन बेचने वाले विक्रताओं द्वारा भी दिया जाता है | चूँकि इसको चलाने अर्थात इससे काम लेने की प्रक्रिया बेहद ही सहज है इसलिए एक साधारण आदमी भी इस मशीन को आसानी से चला सकता है | चूँकि यह मशीन पूर्ण रूप से आटोमेटिक होती है इसलिए स्टील के  तार का बण्डल मशीन के नज़दीक रखे हुए Reel Stand पर फिट कर लिया जाता है | Reel Stand पर कच्चा माल अर्थात तार चढ़ा लेने के बाद Automatic Paper pin Making Machine की मोटर को स्टार्ट कर लिया जाता है | उसके बाद मशीन स्वतः ही आवश्यकतानुसार तार लेकर उस तार को आलपिन के रूप में परिवर्तित करके मशीन के दूसरी तरफ गिराती जाती है | बाद में इन Paper Pins को गत्ते या प्लास्टिक के छोटे छोटे डिब्बों में डालकर तौलकर पैकेजिंग करके मार्किट में बेचकर कमाई की जाती है |

यह भी पढ़ें 

One Response

  1. Avatar for pramod kharkwal pramod kharkwal
    February 25, 2017

Leave a Reply

Your email address will not be published

error: