Plant Nursery Business । प्लांट नर्सरी व्यापार कैसे शुरू करें.

Plant Nursery Business से आशय पौधों की नर्सरी यानिकी विभिन्न प्रकार के पौधे उगाकर उन्हें बेचकर कमाई करने से है । वर्तमान में लोग अपने घर कार्यालयों के आँगन में विभिन्न पौधे रखने का स्थान अवश्य बनाते हैं जिससे वातावरण खुशनुमा एवं स्वच्छ बना रहता है। एक Plant Nursery में तरह तरह के पौधे स्थानीय, इम्पोर्टेड एवं विदेशी इत्यादि मिलते हैं। इनमें से बहुत सारे पौधे ऐसे होते हैं जिन्हें घरों या कार्यालयों के अन्दर गमलों में भी अच्छी तरह उगाया जा सकता है। और कुछ पौधों को छत में तो कुछ पौधों के पेड़ काफी लम्बे एवं बड़े हो सकते हैं इसलिए इन्हें बड़ी एवं खुली जगह पर ही उगाया जा सकता है। वर्तमान में हर छोटे बड़े घर एवं कार्यालय में आपको गमले देखने को मिल जायेंगे और इन गमलों में अनेकों देशी विदेशी नस्ल के पौधे भी उगते हुए देखे जा सकते हैं। यह तो इस बिज़नेस का एक छोटा सा रूप है कहने का आशय यह है की एक Plant Nursery Business शुरू करने वाले उद्यमी के बड़े ग्राहक रिटेल में कुछ दस, पांच पौंधे खरीदने वाले ग्राहक नहीं होते हैं। बल्कि वह अपने पौधों को नए स्थापित हो रहे पार्कों, बगीचों, कृषि फसलों, जंगलों इत्यादि के लिए बड़ी मात्रा में बेच सकता है। समय समय पर अनेकों सरकारी एवं गैर सरकारी प्रोजेक्ट ऐसे निकलते रहते हैं जिनमे बड़ी मात्रा में पेड़ पौधों की आवश्यकता होती है ऐसे में वे पेड़ पौधों को खरीदने के लिए Plant Nursery का रुख करते हैं ।

plant nursery business in hindi

प्लांट नर्सरी बिज़नेस क्या है (What Is plant Nursery Business in Hindi):

हालांकि Plant Nursery Business का शाब्दिक अर्थ किसी स्थल पर पौधे उगाकर उनको बेचकर अपनी कमाई करने से है। कहने का आशय यह है की एक प्लांट नर्सरी कृषि का एक ऐसा भाग है जहाँ पौधों को प्रचारित, पोषित एवं बड़ा किया जाता है। और इन पौधों को घरों के बगीचों या व्यवसायिक उपयोग के लिए बेच दिया जाता है जहाँ से आसानी से बड़े हो सकें। एक Plant Nursery में उगाये गए पौधों को रिटेल नर्सरी, या थोक भाव में पौधे बेचने वाले नर्सरी को बेचा जा सकता है। इस तरह का प्लांट अपने ग्राहकों को विभिन्न प्रकार के देशी विदेशी पौधों को खरीदने की फैसिलिटी प्रदान करवाता है। यही कारण है की एक Plant Nursery Business करने वाले उद्यमी के ग्राहक के तौर पर घरों में काम करने वाले माली, बागबानी करने वाले व्यक्ति, या फिर कोई व्यवसायिक किसान हो सकते हैं। एक प्लांट नर्सरी में वे सभी प्रकार के पौधे उपलब्ध होने चाहिए जिन्हें बाहर के वातावरण के अलावा, घरों के अन्दर गमलों में भी आसानी से उगाया जा सके। इसके अलावा एक Plant Nursery में वे सभी प्रकार की वस्तुएं एवं उपकरण होते हैं जो इस बिज़नेस में आवश्यक रूप से चाहिए होते हैं इनमें पौधों के बीज एवं उनके प्रकार, मिटटी मिश्रण, खाद, कीटनाशक, बागबानी में काम आने वाला केमिकल, गार्डन टूल इत्यादि की आवश्यकता होती है। इसके अलावा उद्यमी किसी ग्राहक द्वारा पौधों के बारे में पूछे जाने वाले प्रश्नों का जवाब देने में भी समर्थ होना चाहिए। कुल मिलाकर विभिन्न प्रकार के पौधों को उगाकर उनको बेचकर कमाई करना ही Plant Nursery Business कहलाता है।

प्लांट नर्सरी बिज़नेस कैसे शुरू करें (How to Start Plant Nursery Business in India):

अपना देश भारतवर्ष कृषि प्रधान देश है इसलिए यहाँ Plant Nursery Business शुरू करना इतनी टेढ़ी खीर नहीं है यही कारण है की इस बिज़नेस को स्टार्ट करने की प्रक्रिया के बारे में हम स्टेप बाई स्टेप न बात करके संक्षिप्त रूप से समझने की कोशिश करेंगे और बाकी लेख में हम इस बिज़नेस में प्रयुक्त होने वाली तकनिकी जानकारी पर प्रकाश डालने की कोशिश करेंगे। Plant Nursery Business भारतवर्ष के किसी भी कोने से शुरू किया जा सकता है यानिकी जहाँ आप रहते हैं आप इसे वहां से भी शुरू कर सकते हैं लेकिन इस बिज़नेस को शुरू करने के लिए जमीन होना अति आवश्यक है जहाँ आप पौधों को उगा सकें। उद्यमी चाहे तो नर्सरी बिज़नेस को अपने घर के पिछवाड़े से भी शुरू कर सकता है, लेकिन खुले में इस तरह का व्यापार शुरू करने के लिए ग्रीनहाउस की स्थापना करनी होगी। इस बिज़नेस को शुरू करने वाले व्यक्ति के पास यह स्पष्ट आईडिया होना चाहिए की किस प्रकार की प्रजाति के पौधों को वह अपनी नर्सरी में विकसित करेगा। आम तौर पर शहरी इलाकों में नर्सरी का बिज़नेस करने वाले लोग फूलों के पौधे, सजावटी पौधे, सब्जी के पौधे, अलंकारिक पौधे इत्यादि उगाना पसंद करते हैं क्योंकि उन इलाकों में इस प्रकार के पौधों की मांग अधिक होती है। इसलिए उद्यमी को इस तरह का व्यापार शुरू करने से पहले मार्केट की डिमांड को पहचानना होगा की उस मार्केट में किस प्रकार के पौधों की मांग अधिक हो सकती है। Plant Nursery Business के लिए लोकेशन का चयन करते वक्त उस लोकेशन पर लगने वाली लागत इत्यादि का ध्यान रखें अपनी जमीन हो तो उद्यमी इस बिज़नेस को थोड़ी कम लागत के साथ भी शुरू कर सकता है इसके अलावा उद्यमी को राज्य के कृषि विभाग इत्यादि से ऐसी योजनाओं के बारे में पता कर लेना चाहिए जो इस तरह के व्यापारों को प्रोत्साहित करने के लिए डिजाईन की गई हों। यदि आपके घर के पिछवाड़े में ही पर्याप्त जगह है तो शुरूआती दौर में आप अपना Plant Nursery Business यही से शुरू कर सकते हैं। नर्सरी ऐसी जगह पर उपलब्ध होनी चाहिए जिससे उसे ग्राहक आसानी से मिल सकें अर्थात किसी शहर या नगर के नज़दीक होनी चाहिए और नर्सरी तक यातायात की उचित सुविधा भी उपलब्ध होनी चाहिए।

प्लांट नर्सरी के लिए आधारभूत आवश्यकताएं:

Plant Nursery Business के लिए जमीन की आवश्यकता तो मुख्य रूप से होती ही होती है इसके अलावा बहुत सारे अन्य आधारभूत आवश्यकताएं भी होती हैं जिनका वर्णन हम इस लेख में नीचे करने वाले हैं।

पौधों के हिसाब से मिश्रित मिटटी की आवश्यकता:

बीज एवं पौधों के सफल अंकुरण के लिए पौधों के हिसाब से मिश्रित मिटटी तैयार करने की आवश्यकता होती है। अंकुरण पौधों की उत्पति के लिए बेहद जरुरी होता है और बीज को पोषण मिटटी से ही मिलता है जिससे अंकुरण होता है। इसलिए बीज के आधार पर मिश्रित मिटटी की तैयारी पहले ही कर लेनी चाहिए। एक Plant Nursery में मिश्रित मिटटी तैयार करने के लिए बालू, लाल एवं काली मिटटी, स्पैगनम काई,पीट की काई, vermiculite, कम्पोस्ट खाद, बुरादा, खेतो की खाद इत्यादि उपयुक्त मात्रा में हमेशा चाहिए होती है। इस व्यापार में मिटटी बेहद महत्वपूर्ण तत्व होता है इसलिए यह सस्ते दामों में उपलब्ध होना बेहद जरुरी है।

प्लांट नर्सरी के लिए आवश्यक केमिकल एवं खाद:

बीज एवं पौधों को अनेकों बीमारियों एवं समस्याओं से बचाने के लिए Plant Nursery Business कर रहे उद्यमी को अनेकों केमिकल, कीटनाशक, कवकनाशक, तृणमारक एवं खाद इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है। संक्रमण से बचाने के लिए भी उद्यमी को विशेष प्रबंध करने होंगे पौधों का अच्छे ढंग से विकास के लिए जैविक खाद एवं रासायनिक खाद का संतुलित उपयोग होना चाहिए।

आवश्यक मशीनरी एवं उपकरण:

Plant Nursery Business को कम लागत में कम समय में तेज गति से सफलतापूर्वक चलाने के लिए उपयुक्त प्रकार की मशीनरी एवं उपकरणों की नितांत आवश्यकता होती है। नर्सरी के दैनिक एवं नियमित कार्य जैसे पॉट भरना, कंटेनर भरना, ट्रांसपोर्टिंग, पौधों को पानी देने इत्यादि के लिए वाहन के अलावा अनेकों आटोमेटिक उपकरणों की आवश्यकता होती है। जो कर्मचारियों की कार्यक्षमता को बढ़ाने में मदद करते हैं।

नर्सरी के लिए कर्मचारियों की आवश्यकता:

नर्सरी में काम करने के लिए मजदूरों की नितांत आवश्यकता होती है क्योंकि Plant Nursery Business में अनेक क्रियाकलापों जैसे कंटाई, छंटाई, निराई, गुड़ाई, सिंचाई, कीटनाशक का इस्तेमाल करना, पौधारोपण इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए एक नर्सरी में अनुभवी एवं कौशल से युक्त मजदूरों की आवश्यकता होती है। उद्यमी चाहे तो अपने बजट के हिसाब से इन्हें फुल टाइम या पार्ट टाइम के आधार पर काम पर रख सकता है।

नर्सरी व्यापार के प्रकार (Types of Plant  Nursery Business in Hindi):

हालांकि नर्सरी में बीजों के माध्यम से अनेक प्रकार के पौधे जैसे फूलों की बागबानी के लिए, सब्जी की बागबानी के लिए, सजावटी पौधों की बागबानी के लिए पौधे कम से कम रखरखाव, कीमत एवं देखरेख के साथ उगाये जा सकते हैं। Plant Nursery Business कहीं से भी किया जाय यह एक लाभकारी बिज़नेस हो सकता है क्योंकि लोग घरों की बागबानी एवं सार्वजनिक बागबानी के लिए पौधों की हमेशा मांग करते रहते हैं। नर्सरी नामक इस व्यवसाय को अनेकों भागों में विभाजित किया जा सकता है जिनका संक्षिप्त वर्णन कुछ इस प्रकार से है।

फूटकर प्लांट नर्सरी (Retails Plant Nursery):

इस तरह की यह नर्सरी अपनी कमाई करने के लिए पौधों को व्यक्तिगत व्यक्तियों को अधिक बेचते हैं जो अपने घरों या कार्यालय के अन्दर या बाहरी लोकेशन पर पौधारोपण करना चाहते हैं। इस तरह की नर्सरी में एक सिमित एकड़ में पौधों का उत्पादन किया जाता है। कभी कभी इस प्रकार की नर्सरी किसी बड़ी नर्सरी से पौधे खरीदकर भी रिटेल में इन्हें बेच देते हैं।

लैंडस्केप प्लांट नर्सरी:

इस प्रकार की नर्सरी को बागबानी का अच्छा अनुभव होता है इस प्रकार की नर्सरी अपने ग्राहकों को बागबानी से सम्बंधित सर्विसेज मुहैया कराती हैं। इस प्रकार की नर्सरी घर से बाहर बागबानी की जिम्मेदारियां लेती हैं। ये अपने प्लांट में खुद ही पौधों को ग्राहकों की आवश्यकतानुसार उत्पादित करते हैं।

कमर्शियल प्लांट नर्सरी :

इस प्रकार का यह Plant Nursery Business करने के लिए उद्यमी को बेहद अधिक निवेश की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि इस तरह की नर्सरी में बड़े पैमाने पर पौधों का उत्पादन किया जाता है। क्योंकि इस तरह की ये नर्सरी अपने उत्पाद की व्यवसायिक किसानों, सरकारी प्रोजेक्ट में लगने वाले पेड़ पौधों इत्यादि को प्रदान करते हैं। इसके अलावा छोटी नर्सरीयों को भी ये अपने उत्पाद सस्ती एवं उचित दरों में बेचने का काम करते हैं।

इन तीनों प्रकार की नर्सरी के अलावा एक प्रकार की नर्सरी और होती है जिसमे ग्राहकों को पौधे न बेचकर बीज बेचा जाता है इसे मेल आर्डर नर्सरी कहते हैं।

प्लांट नर्सरी बिज़नेस के लिए आवश्यक कौशल (Skills Required to Start Plant Nursery Business)

  • उद्यमी को पौधों के बारे में जानकारी होना अति आवश्यक है की उन्हें समुचित विकास के लिए कब किस चीज की आवश्यकता होती है।
  • चूँकि अलग अलग पौधों को अलग अलग जलवायु, सिंचाई, निराई, गुड़ाई, खाद इत्यादि की आवश्यकता हो सकती है। इसलिए उद्यमी चाहे तो किसी प्रशिक्षण संस्थान से पहले इसकी ट्रेनिंग ले सकता है। या फिर किसी अनुभवी माली इत्यादि को नियुक्त कर सकता है।
  • उद्यमी के पास पौधों को विकसित करने में सहायक प्रक्रियाएं जैसे खाद, सिंचाई, कटाई, तापमान नियंत्रण इत्यादि के लिए सभी  प्रकार के आवश्यक उपकरण खरीदने की क्षमता होनी चाहिए।
  • कीटनाशक एवं पौधों पर लगने वाले रोगों की जानकारी एवं कीटनाशक के इस्तेमाल की जानकारी भी होनी चाहिए।
  • Plant Nursery Business शुरू करने के लिए मैकेनिकल स्किल जैसे सिंचाई की विधि, प्लंबिंग, ग्रीनहाउस वेंटिलेशन, और मिटटी को मिश्रित करने की जानकारी भी होनी चाहिए।
  • इसके अलावा उद्यमी में मार्केटिंग स्किल, एडमिनिस्ट्रेटिव स्किल इत्यादि की भी आवश्यकता होती है।
  • Plant Nursery Business शुरू करने के लिए जमीन के अलावा भी काफी बड़े निवेश की आवश्यकता होती है इसलिए उद्यमी को आर्थिक रूप से मजबूत होना भी आवश्यक है।

दैनिक तौर पर ध्यान देने योग्य बातें:

  • बीज कटाई के समय किसी भी पौधे के बीज तभी निकाले जाने चाहिए जब वह पूर्ण रूप से परिपक्व हो गए हों और वह भी उन्हें बिना किसी तरह का नुकसान पहुंचाए ऐसा करना बेहद जरुरी है।
  • अंकुरण ट्रे या सीडबेड पर बीज की बोवाई की प्रक्रिया शाम को या सुबह सुबह जल्दी करनी चाहिए।
  • युवा पौधों को कंटेनर या पालीबैग में रोपित कर लेना चाहिए और इनकी मार्केटिंग तभी की जाय जब पौधा तरोताजा एवं खिला हुआ हो।
  • मौसमी प्रचार के लिए वयस्क पौधों का रखरखाव बेहद जरुरी हो जाता है।
  • Plant Nursery Business में प्रशिक्षित एवं अनुभवी मजदूरों का होना बेहद जरुरी है यह इस व्यापार एवं प्लांट के विकास में सहायक सिद्ध होते हैं।
  • समय से खाद, केमिकल, कीटनाशक, पानी इत्यादि का इस्तेमाल उत्पादकता लागत को कम करने में सहायक होता है।
  • पौधों की प्रजाति के आधार पर उनकी बोवाई, रोपाई, निराई, गुड़ाई, सिंचाई सभी क्रियाओं का पहले से समय सुनिश्चित करना ठीक रहता है।

ध्यान रहे Plant Nursery Business ऐसा बिज़नेस बिलकुल नहीं है की सुबह खोला तो शाम को चल गया बल्कि इस व्यापार से एक सुनिश्चित आय अर्थात कमाई  प्राप्त करने में उद्यमी को वर्षों यहाँ तक की दशकों तक का समय लग सकता है।

अन्य पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

One thought on “Plant Nursery Business । प्लांट नर्सरी व्यापार कैसे शुरू करें.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *