Potato Chips Making Business

Potato Chips Making Business

Potato Chips Making business से हमारा आशय आलू के चिप्स बनाने के बिज़नेस से है | यद्यपि इससे पहले भी हम केले के चिप्स बनाने के व्यवसाय के बारे में जानकारी मुहैया करा चुके हैं लेकिन चूँकि Potato chips यानिकी आलू से निर्मित चिप्स अपने स्वाद एवं उपयोगिता की बदौलत बेहद प्रचलित हैं | इसलिए आज हम हमारे इस लेख के माध्यम से Potato Chips making business के बारे में जानने की कोशिश करेंगे | जहाँ तक आलू से निर्मित चिप्स की बात है, यह व्यापक रूप से उपयोग में लायी जाने वाली एक खाद्य वस्तु है इसका अधिकतर तौर पर उपयोग स्नैक्स के तौर पर किया जाता है | इसके अलावा इस खाद्य वस्तु का उपयोग अर्थात आलू के चिप्स का उपयोग लोगों द्वारा वर्ष के लगभग हर महीने में किया जाता है इसलिए Potato chips making business को मौसमी बिज़नेस कहना बिलकुल गलत होगा |

Potato-Chips

Potato Chips Making Business Kya hai:

हालांकि इस लेख के शुरूआती वाक्य में हम इसका अर्थ स्पष्ट कर चुके हैं लेकिन इसको थोडा विस्तारित तौर पर समझने के लिए हमें यह समझना होगा की आलू सब्जियों में एक ऐसी सब्जी है जिसकी उपलब्धता वर्ष भर हर क्षेत्र में आसानी से बनी रहती है | कहने का आशय यह है की जिस प्रकार से आलू सब्जियों में विख्यात है ठीक उसी प्रकार स्नैक्स आइटम में आलू के चिप्स भी सर्वाधिक लोकप्रिय हैं हाँ यह एक अलग विषय है की कुछ लोगों द्वारा अपने खाने के लिए घर पर ही आलू के चिप्स तैयार कर लिए जाते हैं लेकिन इसके बावजूद Potato Chips अन्य चिप्स की तुलना में सर्वाधिक मात्रा में बाजारों में बिकते आये हैं या यूँ कहें इनकी उपलब्धता एवं मांग बाज़ारों में हमेशा विद्यमान रहती है तो अतिश्योक्ति नहीं होगी | बाज़ार में उपलब्ध Potato Chips की मांग के मद्देनज़र जब किसी उद्यमी द्वारा व्यवसायिक तौर पर अर्थात अपनी कमाई करने हेतु इन्हें बनाने का काम किया जाता है तो हम कह सकते हैं की वह व्यक्ति Potato Chips Making Business में संलिप्त है |

Market Potential in Potato Chips Making:

वर्तमान में आप कही भी चले जाइये चाहे वह सड़क किनारे उपलब्ध कोई किरयाना स्टोर या डिपार्टमेंटल स्टोर हो या फिर किसी शोपिंग माल में उपलब्ध स्टोर एवं सुपर मार्किट या फिर कोई जलपान समबन्धी अन्य आउटलेट लगभग सभी जगह Potato chips का देखा जाना स्वभाविक है | इस प्रकार के स्नैक्स आइटम की बिक्री में बीते कुछ वर्षों से काफी इजाफा हुआ है शायद इसका मुख्य कारण वर्तमान में लोगों की चलती फिरती जीवनशैली का होना है | कहने का आशय यह है की समय व्यतीत होने के साथ साथ यातायात सुविधाओं में वृद्धि एवं विकास के चलते लोगों का एक शहर से दूसरे शहर आना जाना बढ़ गया है, जिसके चलते Potato Chips जैसे स्नैक्स आइटम की बिक्री भी बढ़ी है | इसलिए इस तरह के आइटम डिपार्ट मेंटल स्टोर एवं सुपर मार्किट को छोड़कर अधिकतर तौर पर रेलवे स्टेशनों, बस स्टेशनों, एअरपोर्ट इत्यादि में भी बिकते हुए देखे जा सकते हैं | कहने का आशय यह है की मनुष्य के जीवनस्तर में हो रहे दिनों दिन सुधार एवं साधनों की उपलब्धता के कारण शहरों की एक दुसरे से घटती दूरी और लोगों का घर से बाहर निकलने की आदत इस Potato Making Business के लिए अवसर पैदा करने में मदद करते हैं |

आवश्यक मशीनरी एवं उपकरण:

जैसा की हम सबको विदित है की Potato chips making business में प्रयुक्त होने वाला मुख्य कच्चा माल आलू है और यह लगभग देश के हर एक क्षेत्र में वर्ष भर पाया जाता है, आलू के अलावा Potato Making business में कच्चे माल के तौर पर खाद्य तेल, नमक, मिर्च मसाले एवं कुछ अन्य संरक्षक पदार्थो का उपयोग किया जाता है | इस बिज़नेस में प्रयुक्त होने वाले मशीनरी एवं उपकरणों की लिस्ट निम्नवत है |

  • आलू धोने एवं छिलने की मशीन (Potato washing and peeling machine)
  • आलू के फांक करने की मशीन (Potato Slicing Machine)
  • Dewatering machine
  • Batch fryer
  • मसाला कोटिंग मशीन (Spice coating machine)
  • Sealing machine with inert gas flushing unit
  • Stainless steel working tools
  • Weighing scales, dispensers and fillers
  • प्लास्टिक की ट्रे
  • प्रयोगशाला के लिए उपकरण

Potato Chips Making business में प्रयुक्त होने वाले कुछ प्रमुख कच्चे माल की लिस्ट इस प्रकार से है |

  • कच्चे आलू
  • खाद्य तेल
  • नमक एवं विभिन्न प्रकार के मसाले
  • पैकेजिंग सामग्री

Potato Chips Making Process in Hindi:

Potato Chips making process में सर्वप्रथम आलू की छंटनी की जाती है अर्थात गले सड़े आलू एवं हरे आलू को अलग कर लिया जाता है | उसके बाद अच्छे आलू अर्थात छंटनी किये गए आलू को आलू धोने एवं छिलके निकालने वाली मशीन की मदद से धोया और छिलके निकाले जाते हैं | उसके बाद इन छिलके निकाले हुए आलूओं को Potato Slicing Machine की मदद से काट लिया जाता है अर्थात इनकी फांके तैयार की जाती हैं जिनकी मोटाई 1 मिलीमीटर से 1.5 मिलीमीटर होती है | काटने के तुरंत बाद इन टुकड़ों को एक बाल्टी में कुछ सेकंड के लिए bisulphite solution के साथ  blanched किया जाता है | उसके बाद इन टुकड़ों से पानी की मात्रा को कम करने के लिए dewatering machine का उपयोग किया जाता है | जब पानी की मात्रा हट जाती है तो इन टुकड़ों को Batch Fryer की ओर फ्राई करने के लिए अग्रसित किया जाता है | इन आलू के फांको को मध्य ताप यानिकी लगभग 180°C में लगभग दो मिनटों यानिकी गोल्डन ब्राउन होने तक फ्राई किया जाता है उसके बाद इन्हें मसाला कोटिंग मशीन की ओर अग्रसित किया जाता है | उसके बाद इन Potato Chips को 25,50,100 ग्राम की अलग अलग पैकेजिंग में पैक कर लिया जाता है | चूँकि यह खाद्य पदार्थ से जुड़ा हुआ बिज़नेस है इसलिए इसके लिए FSSAI लाइसेंस की आवश्यकता हो सकती है |

Comments

  1. By bablu bharti

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: