भारत एक विकासशील देश है, जिसकी अर्थव्यवस्था में समय समय पर उतार चढ़ाव आता रहता है। रोजगार सृजन में यहाँ सरकारी नौकरी का भी अहम् योगदान है। यद्यपि निजी क्षेत्रों में भी लोग नौकरी करना पसंद करते तो हैं, लेकिन वहां पर नौकरी में अस्थिरता बनी रहती है। इसलिए यह कहना कठिन हो जाता है की, जैसी नौकरी आज चल रही है, भविष्य में भी वैसी ही चलती रहेगी।

दूसरी तरफ सरकारी नौकरी की यदि हम बात करें तो, इसमें स्थिरता और स्थायित्व बना रहता है। और इसमें कोई भी व्यक्ति एक बार लग जाय, तो वह लम्बे समय तक नौकरी पर बना रहता है। जिससे उसका जीवन आसान एवं सुरक्षित हो जाता है। यही कारण है की आज के अधिकतर भारतीय युवा सरकारी नौकरी को अधिक प्राथमिकता देते हैं।

लेकिन सरकारी नौकरी पाना एक बेहद लम्बी प्रक्रिया है, जिसकी तैयारी किसी व्यक्ति को उसके विद्यार्थी जीवन से ही करनी पड़ती है। हालांकि कुछ पद ऐसे होते हैं, जिनमें अकस्मात भी किसी उम्मीदवार का चयन हो सकता है। लेकिन यदि इच्छुक व्यक्ति एक प्रभावशाली और अच्छे वेतन वाले पद पर विराजमान होकर सरकारी नौकरी करना चाहता है, तो उसे उसकी तैयारी उसके विद्यार्थी जीवन से ही करनी होगी।

जहाँ 70-80 के दशक में सरकारी नौकरी पाना इतना प्रतिस्पर्धात्मक नहीं था। वह शायद इसलिए क्योंकि उस समय सरकारी कर्मचारियों का वेतन निजी क्षेत्र में काम करने वाले कर्मचारियों की तुलना में काफी कम था। इसलिए सार्वजनिक क्षेत्र में नौकरी पाने के लिए लोग कम ही प्रयासरत थे। लेकिन आज वेतन के अलावा विभिन्न पदों पर आसीन सरकारी कर्मचारियों को बहुत सारी सुविधाएँ आवास से लेकर बच्चों की स्कूल फीस इत्यादि तक मुफ्त में मिलती हैं।

शायद यही कारण है की आज सार्वजनिक क्षेत्र की नौकरियों में बहुत ज्यादा प्रतिस्पर्धा बढ़ गई है। जॉब में स्थायित्व के अलावा बढती बेरोजगारी भी इसका एक कारण हो सकती है। क्योंकि आये दिन हम सुनते रहते हैं की, दस रिक्त पदों की भर्ती के लिए हजारों हज़ार लोगों ने आवेदन किया हुआ होता है। इससे पहले की हम सरकारी नौकरी कैसे पाएँ पर बात करें। आइये जानते हैं की, इस तरह की यह नौकरी होती क्या है।

सरकारी नौकरी पाने के तरीके
सरकारी नौकरी पाने के तरीके

विषय लिस्ट

सरकारी नौकरी क्या है

सरकारी नौकरी को समझने से पहले हमे सरकार को समझना होगा। भारत में दो तरह की सरकारें, विद्यमान हैं। केंद्र सरकार और राज्य सरकार, भारतीय संविधान में केंद्र सरकार को राज्य सरकारों से अधिक अधिकार दिए गए हैं। इसलिए केंद्र सरकार द्वारा चलायी गई योजनाएँ, बनाये गए नियम इत्यादि सम्पूर्ण भारतवर्ष में लागू होते हैं।

जबकि राज्य सरकार अपने राज्य के लिए कोई विशिष्ट योजना, निति  एवं नियम कानून बना सकती है। यही कारण है की, समय समय पर राज्य एवं केंद्र सरकार विभिन्न विभागों में भर्ती निकालकर कर्मचारियों, अधिकारीयों इत्यादि को नियुक्त करते रहते हैं।

जब किसी व्यक्ति को राज्य या केंद्र सरकार अपने किसी सरकारी विभाग में किसी विशेष कार्यवाही या भूमिका के लिए किसी विशेष पद पर नियुक्त करती है। तो उस व्यक्ति द्वारा की जाने वाली नौकरी को ही सरकारी नौकरी कहते हैं। यानिकी इस नौकरी में व्यक्ति सरकार के पक्ष में उसके प्रतिनिधि के तौर पर कार्य कर रहा होता है।

सरकारी नौकरी करने के फायदे

सरकारी नौकरी पाने के लिए लोग यूँ ही उत्सुक और इच्छुक नहीं होते। इसके कई फायदे हैं, जिनकी लिस्ट कुछ इस प्रकार से है।

  1. अधिकतर सरकारी नौकरियों में वेतन अच्छा होता है, इसके अलावा एक सरकारी कर्मचारी को यात्रा भत्ता, महंगाई भत्ता, किराया भत्ता एवं अन्य भी बहुत सारे भत्ते प्राप्त होते है। इन्हीं सब भत्तों के कारण सकल वेतन एक अच्छे अमाउंट में परिवर्तित हो जाता है। स्किल आधारित जॉब पर यह सत्य पूरी तरह लागू होता है। उदाहरण के लिए – एक सरकारी संगठन में कार्यरत ड्राईवर एक प्राइवेट सेक्टर में काम करने वाले ड्राईवर की तुलना में अधिक वेतन पाता है।
  2. सरकारी नौकरी में ऐसा बेहद कम होता है, जब किसी कर्मचारी को उसकी परफोर्मेंस के आधार पर निकाल दिया जाता है। जबकि प्राइवेट सेक्टर में कार्यरत कर्मचारियों को रोज अपने आपको साबित करना होता है। इसके बावजूद उनकी नौकरी कभी भी जा सकती है। इसलिए Govt Job में जॉब सिक्यूरिटी ज्यादा होती है।
  3. सरकारी कर्मचारी अपने काम की प्रकृति के आधार पर बहुत अच्छे भत्तों और बोनस का आनंद लेते हैं।
  4. सरकारी कर्मचारियों को प्राइवेट कर्मचारियों की तुलना में रिटायरमेंट बेनिफिट ज्यादा मिलते हैं। इनमें पीएफ, ग्रेच्युटी, सैलरी एरिएर इत्यादि शामिल हैं। जो उनके जीवन को रिटायरमेंट के बाद भी खुशनुमा बनाते हैं।
  5. वर्तमान में अच्छी मेडिकल फैसिलिटी तक पहुँच होना हर किसी की बात नहीं है, अधिकतर सरकारी कर्मचारियों को उनके और उनके परिवारवालों के लिए मेडिकल कवर की सुविधा प्राप्त होती है।
  6. पुलिस, सेना, ड्राईवर, रेलवे इत्यादि कुछ विभागों को छोड़कर अधिकतर विभागों के काम करने के घंटे निश्चित होते हैं। इसलिए इनमें कार्यरत कर्मचारियों के काम करने के घंटे भी निश्चित होते हैं।
  7. सरकारी नौकरी में कुछ विभागों को छोड़कर अधिकतर विभागों की साल में अनेकों छुट्टियाँ होती हैं, जिससे सरकारी कर्मचारी अपनी व्यवसायिक और निजी जिन्दगी में बैलेंस बना पाते हैं।                       

भारत में कौन सी सरकारी नौकरी सबसे अच्छी हैं और क्यों

हालांकि इस प्रश्न का जवाब देना इतना आसान नहीं है, लेकिन इसके बावजूद हम यहाँ पर कुछ ऐसी टॉप और सरकारी नौकरी का जिक्र करेंगे। जिनको पाने के लिए लोग अपने विद्यार्थी जीवन से ही कड़ी मेहनत करना शुरू कर देते हैं। और इसके बाद भी सफलता कुछ के हाथ ही लगती है।

1. भारतीय विदेश सेवा (IFS):

भारतीय विदेश सेवा में अधिकारीयों का चयन सिविल सेवा परीक्षाओं के माध्यम से किया जाता है, जिनका आयोजन यूपीएससी करता है। इस सरकारी नौकरी के कई लाभ हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख लाभों की लिस्ट निम्न है।

  • इस नौकरी में शुरूआती वेतन ही महीने का 60-70 हज़ार रूपये होता है।
  • इन्हें दुनिया के बेहतरीन शहर में रहने की सुविधा मुहैया करायी जाती है।
  • इनके बच्चों को अंतराष्ट्रीय स्कूलों में मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाती है।
  • मुफ्त मेडिकल सुविधा प्रदान की जाती हैं।
  • ऑफिस से ही लक्ज़री कार दी जाती है।      

2. भारतीय प्रशासनिक सेवा और भारतीय पुलिस सेवा (IAS and IPS)

भारतीय प्रशासनिक सेवा और भारतीय पुलिस सेवा भारत में सबसे अधिक मांग वाली सरकारी नौकरी है। इन नौकरियों के भी कई लाभ हैं, जिनकी लिस्ट इस प्रकार से है।

  • दैनिक भत्तों के साथ शुरूआती वेतन 50-60 हज़ार प्रति महिना।
  • जब डीएम के तौर पर पोस्टिंग होती है, तो सरकार की तरफ से एक बड़ा सा बंगला प्रदान किया जाता है।
  • इनके लिए विशेष सिक्यूरिटी का प्रबंध भी सरकार की तरफ से होता है।
  • कहीं भी जाने के लिए कार्यालय का वाहन इस्तेमाल में लाया जा सकता है।      

3. रक्षा सेवाएँ

इस तरह की सरकारी नौकरी के लिए उम्मीदवारों को कई तरह की परीक्षाओं जैसे NDA, CDS, AFCAT, इत्यादि के माध्यम से चयनित किया जाता है, ये परीक्षाएं भी यूपीएससी द्वारा ही आयोजित कराये जाते हैं । इस तरह की जॉब में भत्ते एवं वेतन सेवा और लोकेशन के आधार पर अंतरित भी हो सकते हैं।

  • लेफ्टिनेंट के पद पर प्रवेश स्तर पर ही महीने का वेतन 50-60 हज़ार रूपये हो सकता है।
  • रखरखाव भत्ते दिए जाते हैं।
  • ट्रांसपोर्ट भत्ते दिए जाते हैं।
  • बच्चों को मुफ्त में शिक्षा।
  • रिटायरमेंट के बाद पेंशन।

4. रक्षा अनुसन्धान और विकास संगठन एवं भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन में वैज्ञानिक और इंजिनियर (DRDO/ISRO)

इंजीनियरिंग के उम्मीदवार जिन्हें अनुसन्धान और विकास में रूचि हो, वे इन सरकारी नौकरी के लिए आसानी से आवेदन कर सकते हैं। इस तरह के संगठन में काम करके आप सिर्फ वेतन ही नहीं, बल्कि सम्मान भी कमाते हो।  

  • प्रवेश स्तर पर बेसिक सैलरी 55000 से 60000 रूपये प्रति महिना और महंगाई भत्ता अलग हो सकता है ।
  • आवास का प्रबंध। 
  • ट्रांसपोर्ट भत्ता। 
  • मुफ्त में भोजन।

5. भारतीय रिज़र्व बैंक में ग्रेड बी ऑफिसर 

भारतीय रिज़र्व बैंक बैंकिंग क्षेत्र में सबसे अधिक ताकतवर बैंक है। और कोई भी उम्मीदवार जो आरबीआई में सरकारी नौकरी के लिए इच्छुक है, वह ग्रेड बी पद के लिए आवेदन कर सकता है। हालांकि योग्य उम्मीदवारों को आरबीआई परीक्षा को पास करने की आवश्यकता होती है। ग्रेड बी ऑफिसर नियुक्त होने के बाद भविष्य में पदोन्नति हो सकती है। और यहाँ तक की व्यक्ति को डिप्टी गवर्नर स्तर तक पदोन्नत किया जा सकता है।

  • आरबीआई ग्रेड बी ऑफिसर की प्रति वर्ष अनुमानित सैलरी 18 लाख है।
  • ऑफिसर को किसी पॉश इलाके में 3 BHK फ्लैट दिया जा सकता है।
  • बच्चों की शिक्षा का भत्ता।
  • दो साल में एक बार टूर के लिए एक लाख रूपये भत्ता।

सरकारी नौकरी कैसे पाएँ? (How to Get Government Job In India)    

सरकारी नौकरी प्राप्त करना एक लम्बी प्रक्रिया है और वर्तमान में तो यह बेहद प्रतिस्पर्धात्मक भी है। भारत में वैसे देखा जाय तो रटी वर्ष हजारों सरकारी नौकरियों के लिए भर्तियाँ निकलती रहती हैं। इनमें यूपीएससी, एसएससी, भारतीय रेलवे, यूजीसी, एसबीआई, एलआईसी, रक्षा क्षेत्र इत्यादि रोजगार सृजन में प्रमुख योगदानकर्ता हैं। हालांकि इन सभी संगठनों में सरकारी नौकरी के लिए आवेदन प्रक्रिया पदों के आधार पर अलग अलग होती है। लेकिन आप चाहें तो सरकारी नौकरी पाने के लिए इन आसान तरीकों को अपना सकते हैं।

1. विद्यार्थी जीवन से ही तैयारी करें

यदि आप अभी विद्यार्थी हैं, और भविष्य में सरकारी नौकरी करना चाहते हैं। तो आपको अभी से निर्णय लेना होगा की, वह ऐसा कौन सा सार्वजनिक क्षेत हैं, जिसमें आप सरकारी पद पर नियुक्त होना चाहते हैं। मान लीजिये की आपको DRDO या ISRO में नौकरी करनी है तो, अभी से आपको अपने विषयों का चयन जैसे साइंस, मैथमैटिक्स और अंग्रेजी को अनिवार्य रूप से चुनना होगा। और न सिर्फ विषय चुनना होगा बल्कि इनमें अपनी रूचि को भी जाग्रत करना होगा।

ताकि ये विषय आपको समय समय पर मनोरंजित और उत्साहित करते रहें, और आप लम्बे समय तक भी इन विषयों को बोझ न समझें। सिविल सेवा में सरकारी नौकरी करने के इच्छुक लोगों को भी अपने विद्यार्थी काल से ही, उस दिशा में तैयारी करनी पड़ेगी। तभी वे भविष्य में अपने इस सपने को साकार होते हुए देख सकेंगे।       

2. उस विशेष सरकारी नौकरी के लिए जो योग्यता चाहिए उसे प्राप्त करें

कभी कभी क्या होता है, की हम उस सरकारी नौकरी जिसे हम पाने की इच्छा रखते हैं, के लिए शैक्षणिक तौर पर तो योग्य होते हैं । लेकिन आजकल की भर्तियों में शैक्षणिक योग्यता के अलावा कुछ स्किल आधारित सर्टिफिकेट भी मांगे जाते हैं। मान लीजिये बैंक में कोई पोस्ट निकली है, और उन्होंने शैक्षणिक योग्यता कॉमर्स से ग्रेजुएट निर्धारित की है, और साथ में यह भी लिखा है की जिन उम्मीदवारों के पास कॉमर्स में ग्रेजुएट के अलावा कंप्यूटर कोर्स का सर्टिफिकेट होगा, उन्हें वरीयता दी जाएगी।

तो ऐसे में भले ही आपको कंप्यूटर चलाना आता हो, और आपकी टाइपिंग स्पीड भी ठीक हो, लेकिन यदि आपके पास किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से कंप्यूटर कोर्स का कोई सर्टिफिकेट नहीं होगा। तो इस स्थिति में आपको सरकारी नौकरी मिलने के चांस काफी हद तक कम हो जाएंगे। इससे बचने का एक ही तरीका है की, आप वो हर योग्यता प्रमाणिक तौर पर प्राप्त करें, जो आपको आपके द्वारा चुने गए क्षेत्र में सरकारी नौकरी पाने के लिए चाहिए।  

3. अपनी रूचि एवं योग्यता के मुताबिक सरकारी नौकरी ढूंढें

अब आपके पास सरकारी नौकरी पाने के लिए योग्यता एवं प्रमाणिक प्रमाण पत्र सब कुछ विद्यमान हैं। और जहाँ तक रूचि की बात है, यह तो आपको पहले से पता होगी। अब आपको अपनी रूचि एवं योग्यता के मुताबिक सरकारी नौकरी ढूंढनी होगी। इसके लिए आप उस विभाग की अधिकारिक वेबसाइट या फिर नियमित तौर पर अख़बार पढना शुरू कर सकते हैं।

क्योंकि किसी भी सरकारी नौकरी के विज्ञापन को उस एरिया के स्थानीय अख़बार में छापना आवश्यक होता है। इसके अलावा जिस विभाग में भर्तियाँ होने वाली होती हैं, वह विभाग अपनी ऑफिसियल वेबसाइट पर भी उसका विज्ञापन प्रकाशित करते हैं। आप चाहें तो इन्टरनेट पर सर्च करके भी अपनी रूचि एवं योग्यता के मुताबिक सरकारी नौकरी ढूंढ सकते हैं।       

4. नौकरी के लिए आवेदन करें

जब आप सरकारी नौकरी का विज्ञापन देखकर यह पता लगा लेते हैं की वह जॉब आपकी योग्यता और रूचि के मुताबिक है या नहीं। तो उसके बाद अगला कदम या तो अन्य जॉब ढूँढने का होता है, या फिर यदि आप उस जॉब के लिए पात्रता रखते हैं, तो उसके लिए आवेदन करने का होता है। हालाँकि प्रत्येक सरकारी नौकरी के लिए एक सी ही आवेदन प्रक्रिया नहीं होती है।

लेकिन वर्तमान में आवेदन की अधिकतर प्रक्रियाएं ऑनलाइन होती हैं, इसलिए कोई भी पात्र एवं इच्छुक व्यक्ति सरकारी नौकरी के लिए ऑनलाइन भी आसानी से आवेदन कर सकता है। अधिकतर नौकरी के लिए आवेदन करते समय आवेदन शुल्क जमा करना पड़ता है, जो पद और आरक्षण श्रेणी के अनुसार अलग अलग होता है।     

5. पाठ्यक्रम और परीक्षा पद्यति के आधार पर तैयारी करें

अब जिस सरकारी नौकरी के लिए जिस पोर्टल से आपने आवेदन किया हो, उसी पोर्टल पर आपको उस परीक्षा से सम्बंधित सिलेबस और एग्जाम पैटर्न मिल जाएगा। इस दस्तावेज को अपने मोबाइल या कंप्यूटर में डाउनलोड कर लें, हो सके तो इसका किसी साइबर कैफे इत्यादि में जाकर प्रिंट आउट निकलवा लें। क्योंकि इसी दस्तावेज को आधार मानकर आपने उस विशेष सरकारी नौकरी के लिए आयोजित परीक्षा को पास करना है।

यह दस्तावेज आपके लिए एक मार्ग प्रशस्त करेगा, की आगे आपको उस परीक्षा को पास करने के लिए क्या क्या पढना होगा, और किस तरह के प्रश्न उस परीक्षा में आएँगे। आवेदन से लेकर परीक्षा के बीच लगभग डेढ़ या दो महीने का या फिर इससे भी अधिक समय मिलता है। यदि आप चाहते हैं की सरकारी नौकरी आपको मिल ही जाय, तो इस अवधि को आपने 100% सही उपयोग में लाना है। यानिकी आपने सिलेबस और एग्जाम पैटर्न के हिसाब से तैयारी करनी है।    

6. परीक्षा में शामिल हों

यकीन मानिये यदि आपने सरकारी नौकरी पाने के लिएसिलेबस और एग्जाम पैटर्न के हिसाब से तैयारी की होगी, तो आपके आत्मविश्वास को पंख लग गए होंगे। और आप परीक्षा में शामिल होने के लिए बैचैन हो रहे होंगे। किसी भी प्रकार की सरकारी नौकरी के लिए लिखित परीक्षा तो अनिवार्य रूप से होती है, हाँ ऐसा हो सकता है की कई पदों पर भर्ती करने के लिए मौखिक परीक्षा या इंटरव्यू का प्रावधान न हो।

लेकिन आम तौर यदि व्यक्ति को सरकारी नौकरी अच्छे पद के लिए चाहिए, तो उसकी चयन की प्रक्रिया भी थोड़ी जटिल हो सकती है । उसमें लिखित परीक्षा के बाद भी इंटरव्यू के राउंड हो सकते हैं। कहने का आशय यह है की, किसी परीक्षा में इंटरव्यू होता है, तो किसी परीक्षा में इंटरव्यू के नाम पर डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन इत्यादि प्रक्रियाएं होती हैं । लेकिन यह सब लिखित परीक्षा में पास होने के बाद होता है।       

7. परिणाम चेक करें  

जब सरकारी नौकरी पाने के इच्छुक उम्मीदवार द्वारा सभी परीक्षाएं पूर्ण कर ली जाती हैं, तो उसके बाद उसे फाइनल मेरिट लिस्ट के लियुए इंतजार करना पड़ता है। चूँकि वर्तमान में किसी भी नौकरी के लिए बहुत ज्यादा लोगों ने अप्लाई किया हुआ होता है, इसलिए फाइनल मेरिट लिस्ट तय करने में एक लम्बा वक्त लग सकता है। उम्मीदवार अपने परीक्षा के परिणाम को परीक्षा आयोजित करने वाली अथॉरिटी की ऑफिसियल वेबसाइट के माध्यम से चेक कर सकता है।

यदि उम्मीदवार का नाम फाइनल मेरिट लिस्ट में आ जाता है तो यह निश्चित है की उसे सरकारी नौकरी मिल जाएगी। यह भारत में गवर्नमेंट जॉब पाने की एक सामान्य प्रक्रिया है, उम्मीदवार चाहे तो इस विषय पर औ अधिक जानकारी के लिए सम्बंधित सरकारी ऑफिसियल वेबसाइट में विजिट कर सकता है। 

  प्रश्नोत्तर (FAQ)

  1. Q.  सरकारी नौकरी कैसे मिलेगी?

    Ans. अपने कौशल, अनुभव और शैक्षणिक योग्यता के मुताबिक रिक्तियाँ निकलने पर फॉर्म भरें, तैयारी     करें, परीक्षा में शामिल हों और परिणाम देखें।  

  2. Q. सरकारी नौकरी की तैयारी कैसे करें?

    Ans.  जिस सरकारी नौकरी के लिए आपने आवेदन किया हो, उस नियोक्ता या एजेंसी की वेबसाइट पर जाएँ। और वहाँ से उस विशेष रिक्तियों सम्बन्धी सिलेबस डाउनलोड करें। और उसी के अनुसार पढ़ाई सामग्री खरीदें, और तैयारी करें।

  3. Q . अपने लिए उपयुक्त नौकरी कैसे ढूंढें?

    Ans.  खुद के लिए उपयुक्त नौकरी ढूँढने के लिए आपको सबसे पहले अपने कौशल, शिक्षा और अनुभव के बारे में जानना होगा। और इन्हीं को आधार मानकर उपयुक्त नौकरी ढूंढनी होगी।

  4. Q. सरकारी नौकरियों में घोर प्रतिस्पर्धा क्यों है?

    Ans.  सरकारी नौकरी में लोग सुरक्षा की भावना का एहसास करते हैं। अर्थात इन नौकरियों में स्थायित्व होता है, और एक बार नौकरी लग जाने पर यह आपके साथ रिटायर्ड होने तक बनी रहती है। वर्तमान में वेतन अच्छा होना भी घोर प्रतिस्पर्धा का एक कारण हो सकता है। 

यह भी पढ़ें  

error: