मोज़े बनाने का बिजनेस. Socks Manufacturing Business.

Socks Manufacturing पर बात करना इसलिए भी जरुरी हो जाता है, क्योंकि सॉक्स या मोज़े पैरों में पहने जाने वाले कपड़े के एक प्रमुख उत्पाद हैं । और इसे अक्सर पैरों की अँगुलियों को दहकते हुए टखने एवं पाँव के निचले हिस्से तक पहना जाता है। आम तौर पर देखा जाय तो किसी भी प्रकार का बूट एवं जूते मोज़े के ऊपर ही पहने जाते हैं । प्राचीन समय की यदि हम बात करें तो मोजों या पैरों के जुराबों का निर्माण चमड़े या विभिन्न जानवरों के उलझे हुए बालों को कच्चे माल के तौर पर इस्तेमाल में लाकर किया जाता था। लेकिन सोलहवीं शताब्दी के उत्तरार्ध में पहली बार मशीन से बनाये हुए मोज़े का उत्पादन किया गया था। अट्ठाहरवीं शताब्दी तक हाथ से बुनाई एवं मशीन से बुनाई वाली दोनों विधियों एवं तरीकों का इस्तेमाल मोज़े बनाने के लिए किया जाता था। लेकिन अट्ठाहरवीं शताब्दी के बाद Socks Manufacturing प्रमुख रूप से मशीनों से होने लगी । मोज़े की एक प्रमुख भूमिका पैर में जूते पहनने से उत्पन्न होने वाले पसीने को सोखने का होता है। जानकारी के मुताबिक शरीर के विभिन्न हिस्सों में से पैर पसीना पैदा करने वाला एक प्रमुख अंग है शरीर का यह अंग प्रतिदिन 0.25 US Pints पसीने का उत्पादन कर सकता है। इसलिए पैरों में मोज़े के इस्तेमाल के कारण मोज़े इस पसीने को अवशोषित करने में सहायक होते हैं और पसीने को ऐसे क्षेत्र में ले जाते हैं जहाँ हवा पसीने को वाष्पित कर देती है। इसके अलावा ठंडे वातावरण में ऊन से निर्मित मोज़े पैरों को इन्सुलेट करते हैं और शीतदंश के जोखिम से पैरों को बचाते हैं । यही कारण है की इन्हें हर प्रकार के जूतों चाहे वे फॉर्मल शूज हों, या फिर कैजुअल सबके साथ पहना जाता है । इससे स्पष्ट होता है की मोजों द्वारा एक नहीं बल्कि अनेकों व्यवहारिक ज़िम्मेदारियाँ निभाई जाती हैं इसलिए इनकी फंक्शनल वैल्यू तो है ही, इसके अलावा इन्हें फैशन आइटम के तौर पर भी इस्तेमाल में लाया जाता है इसलिए ये बाजार में असंख्य रंगों एवं पैटर्न में उपलब्ध हैं। और एक व्यक्ति के पास केवल एक जोड़े ही मोज़े पर्याप्त नहीं होते बल्कि ये ड्रेस, एवं पहनावे के आधार पर एक व्यक्ति के पास कई जोड़े मोज़े हो सकते हैं । इसलिए Socks Manufacturing Business शुरू करना किसी भी इच्छुक व्यक्ति के लिए एक लाभकारी व्यवसाय हो सकता है।

Socks Manufacturing Business in Hindi

मोज़े की मार्किट का विश्लेषण

जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की हमारा देश भारतवर्ष जनसँख्या की दृष्टी से विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है। इसलिए यहाँ लगभग हर उत्पाद एवं सेवा के लिए एक बहुत बड़ी मार्किट है कहने का आशय यह यह है की भारत अपने आप में हर उत्पाद एवं सर्विस के लिए एक बहुत बड़ा बाजार है। इसलिए Socks Manufacturing Business कर रहे उद्यमी को भी यह बात समझनी होगी की मोजा एक ऐसा उत्पाद है जिसकी आवश्यकता हर उम्र के बच्चे, बूढ़े, युवा, स्त्री, पुरुष सबको है इसलिए इस उत्पाद को बेचना बहुत बड़ा मुश्किल काम बिलकुल भी नहीं है। वैश्विक मोज़े बाजार की यदि हम बात करें तो 2018 तक यह 42.2 बिलियन अमरीकी डालर का आँका गया था जो बढ़ते समय के साथ बढ़ता जा रहा है। विभिन्न कार्यालयों में काम करने वाले वाइट कालर प्रोफेशनल के बीच औपचारिक पोशाक की बढती उपयोगिता के चलते भी मोज़े की मांग में काफी तीव्र वृद्धि देखी गई है।  

मोज़े का निर्माण बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Socks Manufacturing Business):

Socks Manufacturing बिजनेस शुरू करना वर्तमान में बेहद ही आसान प्रक्रिया है वह इसलिए क्योंकि मोज़े का निर्माण करने के लिए बाजार में मैन्युअल से लेकर आटोमेटिक मशीनें उपलब्ध हैं। इसलिए किसी भी व्यवसाय को शुरू करने में सबसे बड़ी जटिलता उसमें अपनाई जाने वाली तकनीकी प्रक्रिया होती है। और इस बात से हम सभी अच्छी तरह से अवगत हैं की जब मशीन इस काम के लिए इस्तेमाल में नहीं लायी जाती थी तब मोजों को हाथों से ही बुना जाता था । इसलिए इस उत्पाद का निर्माण प्रक्रिया को जानने एवं समझने में कोई तकनिकी जटिलता भी नहीं है। यदि आप भी जानना चाहते हैं की कोई इस तरह के इस व्यवसाय को कैसे शुरू कर सकता है तो आगे स्टेप बाई स्टेप हम इसी के बारे में बताने का प्रयत्न कर रहे हैं।

1. जमीन एवं बिल्डिंग का प्रबंध

उद्यमी चाहे कोई भी व्यवसाय शुरू कर रहा हो उसे एक ऐसे स्थान या जगह की आवश्यकता अवश्य होती है जहाँ से वह अपने व्यवसाय को संचालित कर सके। इसलिए Socks Manufacturing Business शुरू करने के लिए भी उद्यमी को जमीन या बिल्डिंग की आवश्यकता होती है। यह जरुरी नहीं है की उद्यमी अपनी इस तरह की यह इकाई किसी भीड़ भाड़ या व्यस्त इलाके में ही लगाये, बल्कि उद्यमी को एक एरिया विशेष में मुख्य बाजार के 4-5 किलोमीटर के अंतर्गत कहीं भी ऐसी जगह जो सस्ते दामों में उपलब्ध हो, पर इस तरह की इकाई को स्थापित करने की योजना बनानी चाहिए। चूँकि इस परिसर में उद्यमी की केवल निर्माण स्थल ही नहीं अपितु, इन्वेंटरी स्टोर, बिजली उपयोगिताओं के लिए जगह और एक छोटा सा ऑफिस स्थापित करने की भी आवश्यकता हो सकती है। इसलिए उद्यमी को लगभग  700-800 Square Feet जगह की आवश्यकता हो सकती है। उद्यमी के पास यदि कोई गैर कृषि योग्य भूमि है तो वह वहां पर इस तरह की इकाई स्थापित कर सकता है और यदि ऐसा नहीं है तो उद्यमी कोई जमीन या बिल्डिंग किराये या लीज पर ले सकता है।       

2. वित्त का प्रबंध (Arrangement of Fund for Socks Manufacturing)

Socks Manufacturing Business शुरू करने में लगभग कितना खर्चा आएगा वह इस बात पर निर्भर करता है की उद्यमी इस तरह के इस व्यवसाय को किस साइज़ में शुरू करना चाहता है। अर्थात यदि उद्यमी बड़े स्तर पर इस तरह का यह व्यवसाय शुरू करना चाहता है तो उसे इस व्यवसाय को शुरू करने में अधिक पैसे खर्च करने की आवश्यकता हो सकती है। जबकि छोटे पैमाने पर इस तरह का व्यवसाय शुरू करने में कम लागत आ सकती है। इसलिए यदि लागत कम है तो उद्यमी अपने व्यवसाय के लिए वित्त का प्रबंध अपनी व्यक्तिगत बचत या सरकारी योजना के तहत ऋण लेकर कर सकता है। और यदि परियोजना की लागत अधिक है तो उद्यमी औपचारिक ऋण स्रोतों जैसे बैंक एवं वित्तीय संस्थानों से ऋण, सरकारी योजना के तहत ऋण इत्यादि के माध्यम से वित्त का प्रबंध कर सकता है।     

3. आवश्यक लाइसेंस एवं रजिस्ट्रेशन

Socks Manufacturing Business को उद्यमी सर्वप्रथम प्रोप्राइटरशिप के तहत रजिस्टर करा सकता है यह इसलिए क्योंकि इस एंटिटी के तहत रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया बेहद सरल है और उद्यमी बहुत सारी औपचारिकताओं को पूर्ण करने से बच जाता है। यह रजिस्ट्रेशन पूर्ण रूप से ऑनलाइन भी कराया जा सकता है। इसके अलावा उद्यमी को इनवॉइस जनरेट करने के लिए जीएसटी रजिस्ट्रेशन की भी आवश्यकता हो सकती है। स्थानीय प्राधिकरण से ट्रेड लाइसेंस या फैक्ट्री लाइसेंस के अलावा उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन और एमएसएमई डाटा बैंक रजिस्ट्रेशन करने की भी आवश्यकता हो सकती है। यदि उद्यमी स्वयं का ब्रांड स्थापित करके मोज़े बेचना चाहता हो तो उसे ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन की भी आवश्यकता हो सकती है।    

4. मशीनरी एवं कच्चा माल (Machinery for Socks Manufacturing):

Socks Manufacturing process में इस्तेमाल में लायी जाने वाली मशीनों का इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के कच्चे माल से मोज़े बनाने के लिए किया जाता है। इन मशीनों की मदद से रोलिंग, कटिंग, सिलाई और पैकिंग का काम आसानी से किया जा सकता है। इस व्यवसाय में इस्तेमाल में लायी जाने वाली प्रमुख मशीनरी की लिस्ट इस प्रकार से है।

  • पॉलिस्टर ब्लेंडर
  • पॉलिस्टर टेक्स्टूराइजर
  • लाइक्रा यार्म
  • डीओपी डाईड  

कच्चे माल की लिस्ट इस प्रकार से है

  • पालीप्रोपीलीन
  • ब्लेंडेड यार्न
  • कॉटन  
  • पैकेजिंग सामग्री  

5. मोज़े बनाने की निर्माण प्रक्रिया     

Socks Manufacturing Process में सबसे पहलेपालीप्रोपीलीन के रोल को रोलर में डाला जाता है और इसका इनपुट मशीन में डालना होता है। उसके बाद इस मशीन को स्टार्ट करना होता है उसके बाद मशीन अपने आप ही निर्माण प्रक्रिया की अगली प्रक्रिया पूर्ण कर लेती है। और जब जुराब का निर्माण अच्छे ढंग से हो चूका होता है तो फिर इनका निरीक्षण किया जाता है और निरीक्षण में पास होने बाद ही इन्हें पैकेजिंग के लिए भेजा जाता है। और फिर इन्हें पैक करके बाजार में बेचने के लिए भेज दिया जाता है।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |

One thought on “मोज़े बनाने का बिजनेस. Socks Manufacturing Business.

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *