Toy Store यानिकी खिलौनों की दुकान यह एक ऐसा बिजनेस है जिसके उपभोक्ता बच्चे होते हैं। जी हाँ दोस्तों खिलौनों का नाम सुनते ही शायद आप अपने बचपन के सुनहरे पलों को याद करने लग गए होंगे। मनुष्य की पसंद, नापसंद उसकी उम्र एवं स्थिति के आधार पर बदलती जाती है, इसलिए एक बच्चे के मुख पर ख़ुशी लाने के लिए खिलौने से अच्छा गिफ्ट शायद ही कुछ हो सकता है। और जैसा की हम सब लोग अच्छी तरह से जानते हैं की कोई भी माता पिता अपने बच्चों की हर छोटी बड़ी मांग पूरी करने एवं उन्हें खुश रखने के लिए प्रयत्नशील रहते हैं। इसलिए एक बच्चा जब किसी तरह के खिलौनों की मांग करता है तो माता पिता को उसकी यह छोटी सी इच्छा पूर्ण करनी ही होती है। जिसके चलते उनके कदम स्वत: ही Toy Store यानिकी खिलौनों की दुकान की तरफ चल पड़ते हैं। जैसा की हम सब जानते हैं की जब भी बच्चे किसी नए खिलौने को देखते हैं तो वे कैसे चहक उठते हैं और उनके मासूम से चेहरे पर मुस्कान बिखर जाती है। इसलिए लोग बच्चों के जन्मदिन इत्यादि मौकों पर भी उन्हें खिलौने गिफ्ट के तौर पर देना बेहद पसंद करते हैं। बच्चों को खुश रखने एवं उनके होंठों पर मुस्कान बिखेरने का यह सस्ता एवं प्रभावी तरीका है, इसलिए हर आय वर्ग के लोग अपने बच्चों के लिए खिलौने खरीदना पसंद करते हैं। कहने का आशय यह है की इनका इस्तेमाल बच्चे खेलने के लिए करते हैं तो इनकी कीमत भी कोई बहुत अधिक नहीं होती की कोई निम्न आय वर्ग का व्यक्ति इन्हें खरीद ही न सके। बल्कि ये हर प्रकार के लोगों के बजट में आसानी से आ जाते हैं जिससे किसी भी आय वर्ग के लोग इन्हें खरीद सकते हैं। इन्हीं सब कारणों के चलते Toy Store की मांग हर स्थानीय बाजार में देखी जा सकती है।

Toy Store Business plan hindi

खिलौनों की दुकान क्या है (What is Toy Store in Hindi):

खिलौनों की दुकान यानिकी Toy Store से अभिप्राय बाजार में उपलब्ध एक ऐसे स्थान या दुकान से है जहाँ से लोग बच्चों के खेल खेलने की सामग्री खरीद सकें। वैसे देखा जाय तो बच्चों के खेलने की सामग्री को ही खिलौने कहा जाता है इनमें डॉल, टेडी बियर, मॉडल कार इत्यादि शामिल हैं। इसलिए संक्षेप में एक ऐसी दुकान जो ऐसी सामग्री बेचती है जिसके साथ बच्चे खेलते हैं उसे ही खिलौनों की दुकान कहा जा सकता है।

खिलौनों के बिकने की संभावना

इसमें कोई दो राय नहीं की जब उद्यमी कोई भी बिजनेस शुरू करने की सोचता है तो उसमें कुछ न कुछ मात्रा में निवेश करने की आवश्यकता तो होती ही है। और सिर्फ निवेश ही नहीं उद्यमी को और भी अनेकों प्रयास एवं समय खर्च करने की आवश्यकता होती है। इसलिए Toy Store Open करने के लिए भी उद्यमी को पैसे, समय एवं प्रयास सभी कुछ खर्च करने की आवश्यकता होती है। यही कारण है की इस तरह का बिजनेस शुरू करने से पहले अनेक बातों के साथ साथ उद्यमी के अंतर्मन में यह विचार आना भी स्वाभाविक है की उसकी दुकान चलेगी या नहीं, या फिर उसके खिलौने बिकेंगे या नहीं। हालांकि यह सब लोकेशन, लोगों की पसंद नापसंद इत्यादि पर निर्भर करता है। लेकिन आज जिस परिदृश्य में मनुष्य रह रहा है यहाँ पर दिखावे का महत्व बहुत अधिक बढ़ गया है यहाँ लोग एक दुसरे के देखे दिखाए भेड़ चाल का अनुसरण करने लगे हैं। यही कारण है की आज अनेक मौकों पर लगभग सभी आय वर्ग के लोगों द्वारा बच्चों को खिलौने गिफ्ट के तौर पर प्रदान किये जाने लगे हैं। इसलिए वर्तमान परिवेश में एक खिलौनों की दुकान या Toy Store की महत्वता बहुत अधिक बढ़ गई है। ये सब तो चल ही रहा है लेकिन इस बात से भी कतई इंकार नहीं किया जा सकता है की खिलौने बच्चों के जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। क्योंकि खिलौने बच्चों के बौद्धिक, दैहिक, अभिव्यंजक और सार्वजनिक विकास को बढ़ावा देने में सहायता करते हैं। इन सबके अलावा खिलौने बच्चों की कल्पना, भावनाओं एवं प्रेरणा के मूल आधार के तौर पर भी सामने आते हैं। खिलौनों के साथ खेलने से बच्चे ज्ञान की प्राप्ति बेहद शीघ्रता से करते हैं प्ले स्कूल इसके प्रमुख उदाहरण हैं। खिलौनों के माध्यम से बच्चों में ध्यान आकर्षित करने की क्षमता में सुधार होता है और उनमें सोचने एवं समस्या का हल ढूँढने की प्रवृत्ति जाग्रत होती है। यही कारण है की अनेकों अनुसन्धान में यह बात सामने आ चुकी है की यदि मनुष्य को अपनी पूरी क्षमता तक पहुँचना है तो उसे बचपन में खिलौनों के साथ खेलना अनिवार्य है। यही कारण है की हर माता पिता की कोशिश बचपन में अपने बच्चों को हर तरह के खिलौने प्रदान करने की होती है और उन्हें इसके लिए Toy Store तक जाने की भी आवश्यकता होती है।

खिलौने की दुकान कैसे शुरू करें (How to Start Toy Store in India in Hindi)

छोटे स्तर पर खिलौनों की दुकान या Toy Store Business शुरू करने के लिए कोई अनिवार्य लाइसेंस एवं पंजीकरण की आवश्यकता नहीं होती है। इसलिए कहा जा सकता है की इस तरह व्यापार शुरू करने का इच्छुक व्यक्ति एक अच्छी सी लोकेशन का चुनाव करके इस बिजनेस को आसानी से शुरू कर सकता है। लेकिन यदि उद्यमी अपने बिजनेस की सफलता सुनिश्चित करना चाहता है और इसके जोखिम  को कम करना चाहता है तो उसे निम्न कदमों का अनुसरण करते हुए अपने व्यापार की शुरुआत करने की आवश्यकता हो सकती है।    

1. प्रतिस्पर्धा एवं खिलौना उद्योग पर रिसर्च करें

खिलौना उद्योग की बात करें तो यह एक ऐसा औद्योगिक क्षेत्र है जिसमें समय के साथ परिवर्तन होता रहता है अर्थात यह बेहद तीव्र गति से बदलता हुआ औद्योगिक क्षेत्र है। वह इसलिए क्योंकि यह इंडस्ट्री प्रत्येक दिन नए डिजाईन के साथ नए नए खिलौनों को लाती रहती है। यही कारण है की कुछ खिलौने ऐसे होते हैं की उनका चलन इतना बढ़ जाता है की वे फैशन में आ जाते हैं। और यह किस डिजाईन एवं किस आकार प्रकार का खिलौना होगा, इसे कोई नहीं जानता। इसलिए खिलौनों के चयन करने में Toy Store Business शुरू कर रहे उद्यमी को काफी सावधानी अपनाने की आवश्यकता होती है। इसके लिए उद्यमी को इस बात की रिसर्च करने की आवश्यकता होती है की किस उम्र के बच्चे कौन से खिलौने पसंद कर रहे हैं। इस रिसर्च को पूर्ण करने का सबसे बेहतरीन तरीका तो यही है की इच्छुक व्यक्ति कुछ महीने किसी नजदीकी Toy Store में काम करे, और यह पता करने की कोशिश करे की किस प्रकार के खिलौनों की बिक्री एवं माँग अधिक हो रही है। इससे उस व्यक्ति को केवल खिलौनों के मांग का ही अनुभव प्राप्त नहीं होगा बल्कि उसे मार्केटिंग, फाइनेंसिंग और मैनेजमेंट के बारे में भी जानकारी प्राप्त होगी। इसके अलावा यदि उद्यमी को अपनी प्रतिस्पर्धियों की कमजोरी एवं मजबूती के बारे में पता नहीं है तब भी वह बिजनेस में सफल शायद ही हो सकता है। इसलिए इस तरह का बिजनेस शुरू करने वाले उद्यमी को उस एरिया विशेष में अपने प्रतिस्पर्धियों के बारे में जानकारी प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए इसके लिए उद्यमी चाहे तो सीधे उनसे पूछ सकता है या फिर उन दुकानों में कुछ दिनों, महीनों काम करके भी देख सकता है।        

2. सही खिलौनों का चुनाव करें (Choose right toy for your Toy Store)

जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की बाजार में एक नहीं बल्कि लाखों खिलौने होते हैं इसलिए हर खिलौने को तो Toy Store Business करने वाला उद्यमी अपनी दुकान का हिस्सा नहीं बना सकता। इसलिए उद्यमी को सिर्फ उन्ही खिलौनों की एक लिस्ट तैयार करनी होगी जिन्हें खरीदने के लिए बच्चे लालायित रहते हों। और यदि संभव हो तो उद्यमी को इस बात का पता करने की भी कोशिश करनी चाहिए की वे खिलौने अन्य दुकानों में भी उपलब्ध हैं या फिर नहीं। यदि वे खिलौने अन्य दुकानों में उपलब्ध नहीं हैं तो आप उन प्रोडक्ट को खरीदकर उन्हें अपनी दुकान का हिस्सा बनाकर उन्हें बेच सकते हैं जिन्हें इनकी आवश्यकता है। कहने का आशय यह है की उद्यमी चाहे तो कुछ ऐसे खिलौनों को अपनी दुकान का हिस्सा बना सकता है जिन्हें अन्य दुकान वाले किसी कारणवश अपनी दुकान में नहीं रख पाते हैं। इनमें कुछ ऐसे खिलौने होते हैं जिन्हें बेचने एवं खरीदने आयात एवं निर्यात सम्बन्धी नियम सख्त होते हैं। जिसके कारण अन्य दुकान वाले इन्हें अपनी दुकान का हिस्सा नहीं बनाते हैं। इसलिए उद्यमी को अपने Toy Store के लिए सही खिलौनों का चयन करना अत्यंत आवश्यक है।        

3. लोकेशन का चुनाव करें

किसी भी बिजनेस की सफलता के लिए एक अच्छी लोकेशन बेहद महत्वपूर्ण होती है।इसलिए Toy Store Business के लिए भी यह बेहद महत्वपूर्ण है । इसमें एक अच्छी लोकेशन से अभिप्राय एक ऐसी जगह से है जहाँ पर आने जाने वाले लोगों का ताँता लगा रहता हो और वहां से आवासीय कॉलोनी अधिक दूरी पर न हो। वह इसलिए क्योंकि आवासीय कॉलोनी में ही बच्चे भी रहते होंगे हालांकि उद्यमी को इस बात का विश्लेषण करना होगा की उस एरिया में स्थित बच्चों की संख्या उसके व्यापार की सफलता के लिए उपयुक्त है या नहीं। अर्थात एक ऐसी आवासीय कॉलोनी एवं स्थानीय बाजार जहाँ बच्चों की संख्या कम हो वहां पर Toy Store Business को सफलतापूर्वक चलाना एक बड़ी चुनौती हो सकती है। इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह किसी अच्छी लोकेशन का चुनाव करने के बाद ही वहां पर दुकान इत्यादि किराये पर ले, और दुकान किराये पर लेते वक्त रेंट एग्रीमेंट अवश्य बना ले ताकि उस दस्तावेज को बिजनेस के पता प्रमाण के तौर पर इस्तेमाल में लाया जा सके।    

4. इंटीरियर का काम कराएँ (Interior Work in Toy Store)

चूँकि इस तरह के बिजनेस में उद्यमी के मुख्य ग्राहक के तौर पर बच्चे रहने वाले हैं इसलिए कुछ बच्चों के माता पिता अकेले तो कुछ के उन्हें साथ लेकर खिलौने खरीदने आ सकते हैं। इसलिए उद्यमी को अपनी दुकान का इंटीरियर का काम कराते वक्त काफी सावधान रहने की आवश्यकता होती है अर्थात उसे किसी नुकीले, या तेज फर्नीचर इत्यादि को अपनी दुकान का हिस्सा नहीं बनाना चाहिए। और बच्चों की सुरक्षा का पूर्ण ध्यान रखते हुए ही इंटीरियर का काम कराना चाहिए। एक Toy Store की दीवारों में अनेकों रैक एवं अलमारियाँ होती हैं जिनमें बाद में खिलौने रखे जाते हैं। ये अलमारियां एवं रैक स्टील इत्यादि से भी निर्मित होते हैं लेकिन उद्यमी को लकड़ी से ही इनका निर्माण करना चाहिए। इसके अलावा उद्यमी को एक बिलिंग डेस्क की भी आवश्यकता होती है जहाँ पर उद्यमी अपना कंप्यूटर और बिलिंग मशीन रख सके। ग्राहकों के बैठने के लिए कुर्सी या सोफे का प्रबंध, नए और आने वाले उत्पादों को डिस्प्ले करने के लिए एक दो टेलीविजन की भी आवश्यकता हो सकती है। इसके अलावा गर्मियों में एयर कंडीशनर भी जरुरी है और सुरक्षा के लिए उद्यमी को CCTV कैमरे भी इनस्टॉल करने की आवश्यकता होती है।        

5. सप्लायर का चुनाव करें

अपने Toy Store Business के लिए सप्लायर का चुनाव करते समय उद्यमी को अनेकों बातों का ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। जैसा की हम सब अच्छी तरह से जानते हैं की बाजार में सैकड़ों प्रकार के खिलौने पाए जाते हैं। और उद्यमी के लिए इन सबको अपनी दुकान का हिस्सा बनाना लगभग असम्भव है। इसलिए उद्यमी को उस एरिया में निवासित लोगों की पसंद, आय, बच्चों की संख्या के आधार पर ही खिलौनों का चयन करना होता है। सप्लायर ऐसा होना चाहिए जो आवश्यकता पड़ने पर तीव्र डिलीवरी करने के लिए तत्पर हो। क्योंकि यदि कोई खिलौना जो आपके ग्राहक मांगते हैं और वह आपके पास नहीं हैं तो आप उन्हें इस बात की सांत्वना दे सकते हैं की उनके द्वारा मांगे जाने वाला खिलौना कल या परसों तक आ जायेगा। इसके अलावा उद्यमी चाहे तो सप्लायर का चुनाव करने के लिए विभिन्न सप्लायर से कोटेशन मँगा सकता है और उनका तुलनात्मक विश्लेषण करने के पश्चात् ही किसी अच्छे सप्लायर का चयन कर सकता है।        

6. मार्केटिंग करें  (Promote your Toy Store Business):

मार्केटिंग किसी भी बिजनेस को सफलतापूर्वक संचालित करने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है अर्थात यह किसी भी बिजनेस का एक महत्वपूर्ण अवयव है। इसलिए Toy Store Business करने वाले उद्यमी के लिए भी इसकी महत्वता बेहद अधिक हो जाती है। किसी भी नई दुकान के लिए जब तक उसे इस बात की जानकारी न हो की उसके पास कितने ग्राहक आने वाले हैं और उन्हें क्या क्या चाहिए हो सकता है। तब तक बेहतर यही होता है की उद्यमी कम स्टॉक के साथ ही बिजनेस शुरू करे। और जब दुकान अच्छे ढंग से चलने लग जाय, तो अपने स्टोर को ग्राहकों की मांग के अनुरूप वस्तुओं से भर दे। उद्यमी अपने Toy Store Business की मार्केटिंग के लिए निम्नलिखित टिप्स का अनुसरण कर सकता है।

  • दुकान की शानदार ओपनिंग कराएँ ताकि स्थानीय लोगों के बीच इसकी चर्चा हो। और हर बिलिंग पर अपने ग्राहकों को कुछ न कुछ गिफ्ट देने की योजना बनायें।
  • जो उत्पाद या वस्तुएं आपकी दुकान में न हों, उनका आर्डर ले लें और उन्हें मुफ्त में ग्राहकों के घरों में डिलीवरी करने की व्यवस्था करें।
  • नए ग्राहकों के लिए डिस्काउंट निर्धारित करें।
  • नए उत्पाद पर विशेष कॉम्बो डील प्रदान करने की कोशिश करें।
  • अपनी वेबसाइट बनायें और अपने खिलौनों को ऑनलाइन बेचें, ध्यान रहे इस प्रक्रिया में डिलीवरी और पैकिंग मुफ्त में प्रदान करनी होगी।  

यह भी पढ़ें

error: