ट्रेवल एजेंसी कैसे शुरू करें | Travel Agency Start karne ke 12 Steps.

Travel agency start करने की चाह रखने वाले व्यक्तियों को हम पहले भी बता चुके हैं, की Tour and travel India में बहुत बड़ी Industry है | इस क्षेत्र से जहाँ India में लाखों लोगों को रोजगार मिलता है | वहीँ संयुक्त राष्ट्र के विश्व पर्यटन संगठन के एक आंकड़े के मुताबिक Tour and travel industry पूरे विश्व में कुल नौकरियों के 6-7% नौकरियों को जन्म देती है | GDP में contribution के आधार पर India की tour and travel industry 184 देशों की लिस्ट में बारहवां स्थान रखती है |

India की ओर विश्व के बदलते नजरिये और भारतवासियों के जीवन स्तर में हो रहे सुधारों को देखते हुए यह कहा जा सकता है की India में Tour and travel agency का Business 8% प्रति वर्ष के हिसाब से Growth कर सकता है, यही कारण है की इस Business में नए नए उद्यमियों के लिए भी अवसर विद्यमान हैं | इन्ही सब बातों के मद्देनज़र आज हम बात करेंगे की कोई व्यक्ति अपनी Tour and travel agency कैसे Start कर सकता है |

Travel agency start karne-ke-important-steps
Travel Agency Start karne ke Steps

1. कहाँ से शुरू करें का निर्णय लें

Travel agency नामक यह business एक ऐसा बिज़नेस है जिसे व्यक्ति चाहे तो अपने home से भी start कर सकता है | इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह पहले यह decide कर ले की आखिर वह यह business करना कहाँ से चाहता है | जहाँ घर से यह बिज़नेस स्टार्ट करने के लिए उद्यमी को Internet connection, Laptop or computer और एक टेलीफोन की आवश्यकता होती है वहीँ उद्यमी ऑफिस का किराया, अतिरिक्त बिजली पानी इत्यादि खर्चों से भी बच जाता है |

एक व्यक्तिगत Travel agent बनने के लिए उद्यमी को चाहिए की वह किसी बड़ी Travel agency से Tie up करके commission base पर अपनी kamai कर सकता है | इसमें उद्यमी को किसी Travel agency से जुड़कर उसके Products बेचने होंगे, उद्यमी जितने अधिक प्रोडक्ट बेचेगा उसकी कमाई भी उतनी ही अधिक होगी, यह क्रिया करते वक्त उद्यमी को चाहिए की जो जो ग्राहक उसके माध्यम से  उस Travel agency से जुड़ रहे हैं उनकी लिस्ट तैयार करे |

क्योंकि यह लिस्ट उद्यमी के काम तब भी आ सकती है जब वह भविष्य में कभी खुद की Travel agency start करने की सोचेगा | इसके अलावा यदि उद्यमी को लगता है की वह अपना खुद का ऑफिस बनाकर Travel agency start करना चाहता है, तो हम उसके बारे में नीचे step by step बता रहे हैं |

2. Travel agency start करने में आने वाले खर्चे का आकलन करें

उद्यमी चाहे कहीं से भी अपने Home से, या फिर ऑफिस स्थापित करके travel agency start करे | यह business शुरू करने में कुछ न कुछ Investment तो अवश्य लगानी पड़ेगी | इसलिए उद्यमी को चाहिए की वह अपने निर्णय के मुताबिक Travel agency start करने में लगने वाले Investment का विश्लेषण करे ताकि वह उसका प्रबंध करने में कामयाब हो पाए |

Start up cost को जानना किसी भी travel agency start करने वाले उद्यमी के लिए बेहद महत्वपूर्ण है जहाँ घर से start करने के लिए उसे Internet, Computer एवं Telephone चाहिए होगा वहीँ अपना ऑफिस स्थापित करने के लिए ऑफिस का किराया, ऑफिस के लिए फर्नीचर, बिजली, पीने का पानी ऑफिस Attendant इत्यादि की आवश्यकता होगी |

3. फ्रैंचाइज़ी लेने पर विचार करें

Travel agency start करने के इच्छुक उद्यमी के पास सिर्फ घर से या खुद की एजेंसी खोलने का option नहीं होता अपितु उद्यमी यदि चाहे तो किसी प्रसिद्ध Travel agency की Franchise लेकर यह business start कर सकता है |

इसमें उद्यमी को बहुत कम जिम्मेदारियों का निर्वहन करके अच्छी Kamai हो सकती है क्योंकि इसमें उद्यमी को travel agency द्वारा बनायीं गई मार्किट में अपनी शाख का फायदा मिलता है | जब कोई travel agency किसी उद्यमी को Franchise देने के लिए सहमती बनाती है तो उसे प्रशिक्षण और Products भी प्रदान करती है |

4. अपने दायित्वों को जानें :

Travel agency start कहीं से भी हो रही हो, लेकिन एक उद्यमी को इसमें सफलता प्राप्त करने के लिए चाहिए की उसे अपनी duties अर्थात दायित्वों का पूर्ण ज्ञान होना चाहिए | ताकि एक बार आने वाला ग्राहक बार बार उसी के पास आये | इसमें उद्यमी को क्रूज की टिकट, हवाई जहाज की टिकट, रेल टिकट, होटल बुकिंग प्रक्रिया का पूर्ण ज्ञान होना अति आवश्यक है |

इसके अलावा समय समय पर इस बिज़नेस में सम्मिलित होने वाली सेवाओं के साथ अपने आपको Up to date रखना भी उद्यमी की duty है | एक travel agency start करने वाले व्यक्ति को चाहिए की वह passport, visa इत्यादि लेने की प्रक्रिया को पूर्ण रूप से समझे ताकि वह इन्हें लेने में अपने ग्राहकों की मदद कर पाय |  ग्राहकों के लिए होटल से एअरपोर्ट और एअरपोर्ट से होटल तक का Transportation, Conference, business meetings, event planning, जन्मदिन की पार्टी और शादी इत्यादि में Travel related गतिविधियों का प्रबंध करना |

5. अपनी टारगेट मार्किट को जानें

Travel agency start करने वाले उद्यमी को चाहिए की वह अपने Business के लिए target market को जाने जिससे उद्यमी उसी के आधार पर अपनी business strategies develop कर सके | Travel business की Market को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है | प्रथम मार्किट की श्रेणी में जहाँ व्यक्तिगत व्यक्ति शामिल हैं वही दूसरी मार्किट में कंपनियां, संस्थाएं शामिल हैं |

हालांकि दुनिया में किसी विशेष श्रेणी को Target करने वाली Travel agencies भी हैं जो अधिकतर सिर्फ एक जैसी श्रेणी को ही ध्यान में रखकर अपना business चला रहे होते हैं | उदाहरणार्थ: जैसे इस प्रकार की कुछ travel agencies education के लिए बाहर जाने वाले students को target करके उन्हें Traveling, Admission, student visa, रहन सहन, Job Placement में तक मदद करते हैं | इसी प्रकार कोई Travel agency business travel, तो कोई Vacation इत्यादि को Target करके चलते हैं |

कुछ बड़ी बड़ी कंपनियों में क्या होता है की उनके पास एक विभाग होता है जो केवल और केवल कंपनी Staffs की Travel सम्बन्धी जरूरतों को पूरा करने के लिए होता है | इस विभाग का काम Staffs के लिए टिकट, होटल बुकिंग, Travel Insurance इत्यादि की व्यवस्था करना होता है | लेकिन इसके अलावा जो कंपनियां इस अलग से विभाग का खर्चा वहन करने में सक्षम नहीं है वे यह काम Outsourced करवाती हैं | इसलिए Travel agency start करने वाला उद्यमी ऐसी कंपनियों को भी Target कर सकता है |

6. Travel Agency Start करने के लिए बिजनेस प्लान तैयार करें :

बिज़नेस प्लान के बिना बिज़नेस करना ठीक उसी तरह है जिस तरह एक राह चलता व्यक्ति चलता तो जाता है, लेकिन उसे पता नहीं रहता है की उसको जाना कहाँ है | अर्थात उसकी मजिल कहाँ है या फिर उसको पहुंचना कहाँ है |

जी हाँ दोस्तों बिना बिज़नेस के लक्ष्य निर्धारित किये उद्यमी के लिए यह पता करना मुश्किल होता है की एक निश्चित समयावधि में उसका बिज़नेस कहाँ पहुंचा है | इसलिए समय समय पर अपने बिज़नेस के मूल्यांकन हेतु उद्यमी को चाहिए की वह अपने बिज़नेस के लिए एक प्रभावी बिज़नेस प्लान तैयार करे |

7. अपनी ट्रेवल एजेंसी को रजिस्टर करें

एक Travel agency start करने वाले उद्यमी के पास अपने बिज़नेस को पंजीकृत कराने के लिए अनेकों Business entities विद्यमान हैं इसलिए उद्यमी किसी एक का चयन करके अपने बिज़नेस को उसके अंतर्गत register करवा सकता है | India में अधिकतर उद्यमियों द्वारा अपना travel agency business प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के अंतर्गत पंजीकृत करवाया जाता है |

हालाँकि उद्यमी चाहे तो Limited liability Partnership (LLP) और One Person Company (OPC) के अंतर्गत भी अपने बिज़नेस को Register करवा सकता है, एक Limited liability Partnership का सालाना Turnover जब तक 40 लाख से ऊपर का न हो जाय, तब तक ऑडिट कराने की आवश्यकता नहीं होती |

जहाँ प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को चलाने के लिए उद्यमी को अनेकों Compliance का अनुसरण करना पड़ता है वही One person company के अंतर्गत रजिस्टर कराने में उद्यमी को compliance की दृष्टि से कुछ राहत मिल सकती है | इसके अलावा उद्यमी को चाहिए की वह Service tax registration भी करे, यदि उद्यमी का सालाना turnover 10 लाख से कम है तो उद्यमी tax exemption हेतु claim कर सकता है | इसके अलावा India में Travel products पर लगने वाला service tax service के आधार पर अंतरित हो सकता है |

8. ऑफिस के लिए जगह और उपकरणों का प्रबंध करें

Travel agency start करने वाला उद्यमी चाहे यह business home से start कर रहा हो या फिर कहीं अलग से space लेके ऑफिस बनवा के, दोनों स्थिति में उद्यमी को कुछ जरुरी equipments जैसे मोबाइल फ़ोन, लैंडलाइन फ़ोन, Internet connection, Desktop Computer, Laptop, Printer इत्यादि खरीदने होंगे |

और यदि यह Travel agency start उद्यमी अपने घर से कर रहा हो, तो उद्यमी को इन equipments को व्यवस्थित ढंग से रखने के लिए और इनसे आराम पूर्वक कार्य लेने हेतु घर में उपयुक्त space चाहिए होगा | और यदि उद्यमी अलग से ऑफिस स्थापित करके Travel agency start करना चाहता है तो उसे starting में कुछ office furniture और कम से कम एक office attendant तो रखना ही होगा |

9. ट्रेवल एजेंसी के नाम से बैंक खाता खोलें

अब चूँकि उद्यमी ने अपने व्यापार का पंजीकरण एवं ऑफिस बना दिया है इसलिए अब अगला स्टेप कंपनी के PAN Card एवं Bank Account खोलने का है | इसमें उद्यमी चाहे तो दो प्रकार के खाते एक चालू खाता जिसमे ग्राहकों द्वारा Online transaction के माध्यम से भी पैसे जमा कराये जा सकते हैं | और दूसरा Saving account जिसमे उद्यमी महीने के अंत या शुरुआत में सारे खर्चों के बाद बची गई पूँजी को उस बचत खाते में emergency के लिए जमा कर सकता है |

10. अन्य कंपनी से टाई अप करें :

उद्यमी को चाहिए की वह अन्य Travel companies से बातचीत करे और जाने की वह किस प्रकार के Travel Package offer कर रहे हैं, और उनके साथ बिज़नेस करके उद्यमी कितना कमीशन कमा सकता है | जितने अधिक Travel companies के साथ उद्यमी का Tie up होगा, उतनी अधिक Kamai के अवसर पैदा होंगे, और उद्यमी को ग्राहकों को option देने में भी आसानी होगी |

11. सरकार से एप्रूव्ड और IATA agent बनें

हालांकि India में Travel agency को Government से approved कराना जरुरी नहीं है | लेकिन फिर भी ग्राहक का नजरिया Government approved travel agent के प्रति विश्वासप्रद रहता है | क्योंकि लोगों को पता रहता है की Government द्वारा किसी agency को तभी Approve किया जायेगा जब वह सरकार द्वारा निर्धारित Industry के तय मानको के आधार पर खरी उतरेगी |

Government approved agency के लिए उद्यमी को विभिन्न बातों Capital Investment, रोजगारित कर्मचारी, बनाये गए ऑफिस का एरिया इत्यादि डिटेल्स पर्यटन मंत्रालय से form भरते वक्त साझा करनी पड़ती हैं, इन्ही के आधार पर समबन्धित विभाग स्वीकृति और अस्वीकृति तय करते हैं | इसके अलावा उद्यमी चाहे तो The International Air Transport Association (IATA) की सदस्यता ग्रहण करने हेतु आवेदन कर सकता है | इसका सदस्य बनने से उद्यमी के बिज़नेस को अंतराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त हो जाएगी |

12. विज्ञापन करें और अपनी सेवा को बेचें

Travel agency start करने वाले उद्यमी को एक बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की सिर्फ फैंसी ऑफिस बना लेना, और Business Registration करवा लेना इस बिज़नेस को करने के मुख्य काम नहीं हैं |

अपितु जो क्रिया एक Travel agency के लिए सबसे अहम् है वह है Advertising, Marketing जिससे उद्यमी को अधिक से अधिक ग्राहक मिलने में आसानी हो | Travel agency start करने वाला उद्यमी Newspapers, Magazine, Search Engine, Marketing leads purchase, proposals sending इत्यादि के माध्यम से अपनी Business Marketing कर सकता है |

यह भी पढ़ें:-

Leave a Comment