टायर पॉलिश निर्माण बिजनेस. Tyre Polish Manufacturing Business.

Tyre Polish Manufacturing की यदि हम बात करें तो टायर पॉलिश की आवश्यकता टायरों को चिकनी एवं चमकदार सतह प्रदान करने के लिए होती है । कहने का आशय यह है की पॉलिशिंग का काम किसी भी वस्तु की सतह को चिकनी एवं चमकदार बनाने के लिए किया जाता है। पॉलिश को जिस वस्तु की पॉलिशिंग करनी हो उस पर रगड़कर, छिड़ककर या फिर रासायनिक क्रिया का उपयोग करके उसकी सतह पर एक बेहद महत्वपूर्ण स्पेक्युलर परावर्तन के साथ छोड़ दिया जाता है। कुछ सामग्रियों जैसे धातु, शीशा, काला या पारदर्शी पत्थर इत्यादि में पॉलिशिंग डिफ्यूज रिफ्लेक्शन को कम करने में सक्षम होती है। जब एक बिना पॉलिश वाली सतह को हजारों बार मैग्नीफाईड किया जाता है तो यह आम तौर पर घाटियों एवं पहाड़ों की तरह दिखता है। बार बार घर्षण से सतह पर दिखने वाले उन पहाड़ों को सपाट किया जाता है और यह प्रक्रिया तब तक जारी रखी जाती है, जब तक उस सतह पर दिखने वाले पहाड़ सपाट या फिर बेहद छोटे न हो गए हों । Tyre Polish का इस्तेमाल भी टायर की खुरदरी पहाड़युक्त सतह को सपाट, चिकनी एवं आकर्षक बनाने के लिए किया जाता है। हालांकि अधिकतर वस्तुओं में पॉलिशिंग से पहले अपघर्षण की प्रक्रिया को अंजाम दिया जाता है।

Tyre polish Manufacturing in Hindi

टायर पॉलिश निर्माण क्या है (What is Tyre Polish Manufacturing):

जैसा की हम उपर्युक्त वाक्य में पहले भी बता चुके हैं की Tyre Polish का इस्तेमाल इनकी सतह को चिकनी एवं चमकदार बनाने के लिए किया जाता है । और जहाँ तक टायर पॉलिश का सवाल है इसका निर्माण विभिन्न रसायनों को इस्तेमाल में लाकर किया जाता है। सड़कों पर दौड़ने वाले हर प्रकार के वाहनों में विभिन्न प्रकार के टायर लगे होते हैं, और प्रत्येक टायर में पॉलिश की होती है। इसलिए इसकी मांग घरेलू एवं अंतराष्ट्रीय बाज़ारों में भी पर्याप्त है। इसी मांग को ध्यान में रखकर जब किसी उद्यमी द्वारा टायर पॉलिश बनाने का काम किया जाता है तो उसके द्वारा किया जाने वाला यही बिजनेस Tyre Polish Manufacturing कहलाता है।

टायर पर टायर पॉलिश क्यों की जाती है  

जब वाहन का टायर चिकना नहीं होता है और इसमें टेक्सचर होते हैं और यदि इसे कठोर डिटर्जेंट के साथ धोया जाय और फिर इसे ढंग से सुखाया नहीं जाता है तो इसमें छोटे छोटे स्क्रेच भी हो सकते हैं। धुलाई के बाद टायर में Tyre Polish का इस्तेमाल करने से घर्षण, छोटी छोटी खरोंच एवं चिकनी खामियां दूर होती हैं जहाँ मोम सुरक्षा की परत को नीचे गिराता है वहीँ पॉलिश इस सामग्री को हटाकर साफ़ सुथरा टायर प्रकट करने में मदद करता है। टायर की सतह जितनी चिकनी होगी उसकी सतह उतनी ही चमकदार भी होगी। टायर पॉलिश इस्तेमाल करने का विशिष्ट कारण टायर के सीबम से टायर को बिना कोई नुकसान पहुंचाएं अवांछित सामग्री को हटाना है।

Tyre Polish का मार्किट विश्लेषण

ICRA रेटिंग एजेंसी के पुराने के एक नोट के अनुसार भारत में टायर उद्योग अगले पांच सालों में प्रति वर्ष 7-9 प्रतिशत की दर से आगे बढेगा। इसका मुख्य कारण घरेलू ऑटोमेटिव उद्योग के लिए अनुकूल दृष्टिकोण शामिल है। ICRA ने इस रिपोर्ट में इन पांच सालों की अवधि के दौरान उद्योग को लगभग 20,000 करोड़ रुपये के पूंजीगत व्यय का भी अनुमान लगाया है। इसके अलावा, घरेलू टायर उद्योग का मार्जिन, जिसमें सितंबर तिमाही में साल-दर-साल 120 बीपीएस की गिरावट आई,  लेकिन चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में क्रूड की कीमतों में गिरावट और प्राकृतिक रबर की स्थिर कीमतों के कारण इसमें सुधार की उम्मीद जताई गई है । हमारे देश भारत में टायर उद्योग की बढ़ती मांग के साथ एवं लंबे समय तक टायर के रखरखाव के कारण लगातार Tyre Polish  की मांग भी बढती जा रही है।

टायर पॉलिश निर्माण बिजनेस कैसे शुरू करें (How to Start Tyre Polish Manufacturing Business):  

Tyre Polish Manufacturing business शुरू करने के लिए उद्यमी को सर्वप्रथम जहाँ वह यह बिजनेस शुरू करना चाहता हो, में इस बात का पता करने की आवश्यकता होती है की वह उस एरिया में अपने उत्पाद को कहाँ बेचेगा। क्योंकि यह एक बीटूबी बिजनेस है इसलिए इसमें उद्यमी के ग्राहक के तौर पर टायर बनाने वाली कम्पनियां, टायर की दुकानें, ऑटोमेटिव वर्कशॉप इत्यादि रहने वाली हैं। तो आइये जानते हैं की कैसे कोई व्यक्ति खुद का टायर पॉलिश निर्माण का बिजनेस शुरू कर सकता है।

1. स्थानीय बाजार का आकलन

जैसा की हम पहले भी बता चुके हैं की Tyre Polish Manufacturing Business में उद्यमी के ग्राहक के तौर पर वे उद्यमी रहने वाले हैं, जो टायर में पॉलिश का काम करते हैं। इसमें टायर विनिर्माण कम्पनियों के अलावा ऑटोमेटिव वर्कशॉप इत्यादि शामिल हैं। इसलिए जिस भी एरिया में उद्यमी यह व्यवसाय शुरू करना चाह रहा हो, उस एरिया में इनकी संख्या का आकलन अवश्य कर ले और इस तरह की मांग का भी जायजा अवश्य ले ले। शुरूआती दौर में उद्यमी को स्थानीय बाजार से ही शुरू करके अपने व्यवसाय को आगे विस्तृत करना होगा। क्योंकि एकदम से उद्यमी अपने व्यापार को पूरे देश के बाज़ारों में बेचने में सफल नहीं हो पायेगा इसलिए उद्यमी को स्थानीय बाजार से ही इसकी शुरुआत करनी होगी। और इस स्तर पर इस व्यवसाय से सम्बंधित अनेकों प्रकार की जानकारी प्राप्त करके निर्णय लेना होगा।      

2. जगह का प्रबंध (Land & Building for Tyre Polish Manufacturing):

Tyre Polish Manufacturing Business शुरू करने के लिए 600 Square Feet जगह उपयुक्त रहेगी इसमें उद्यमी को मशीन संचालन की जगह के अलावा, भण्डारण गृह, ऑफिस इत्यादि की भी आवश्यकता होगी। इसके अलावा उद्यमी किसी स्थानीय बाजार में या उसके 10-20 किलोमीटर के रेडियस जहाँ पर सड़कें, बिजली, पानी इत्यादि की उचित व्यवस्था हो जगह या दुकान किराये पर ले सकता है। अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए उद्यमी को एक व्यवसायिक पते की भी आवश्यकता होती है इसलिए किराये पर ली हुई जमीन या बिल्डिंग का रेंट एग्रीमेंट अवश्य बनवा लें, ताकि इसका इस्तेमाल पता प्रमाण के तौर पर किया जा सके।   

3. लाइसेंस एवं पंजीकरण

उद्यमी को अपने व्यवसाय को रजिस्ट्रार ऑफ़ कम्पनीज में रजिस्टर कराने की आवश्यकता होती है उद्यमी चाहे तो प्रोप्राइटरशिप या वन पर्सन कंपनी के तहत अपने व्यवसाय को रजिस्टर करा सकता है। यह इसलिए क्योंकि इस एंटिटी के तहत रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया आसानी से पूर्ण की जा सकती है, और बहुत सारी औपचारिकतायें करने की भी आवश्यकता नहीं होती है। इसके अलावा Tyre Polish का निर्माण करने के लिए उद्यमी को फैक्ट्री अधिनियम के तहत भी रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो सकती है और स्थानीय प्राधिकरण से ट्रेड लाइसेंस, जीएसटी रजिस्ट्रेशन, उद्योग आधार रजिस्ट्रेशन, पोल्यूशन कण्ट्रोल सर्टिफिकेट, फायर डिपार्टमेंट से नों ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट, व्यवसाय के नाम से चालू बैंक खाता इत्यादि की भी आवश्यकता हो सकती है।    

4. मशीनरी उपकरण एवं कच्चा माल

Tyre Polish Manufacturing में मशीनरी के तौर पर डबल हॉट ब्लेंडर मशीन एवं फिलर और पैकेजिंग मशीन का इस्तेमाल किया जाता है। जहाँ तक कच्चे माल का सवाल है प्रमुख कच्चे माल की लिस्ट में ग्लिसरीन, डीमिनरलाइज्ड वाटर और ग्लूकोज सिरप शामिल है। मशीनरी एवं कच्चे माल के अलावा उद्यमी को 3-4 कर्मचारियों को नियुक्त करने की भी आवश्यकता हो सकती है, इनमें एक कुशल कर्मचारी एवं अन्य सभी अकुशल कर्मचारियों की आवश्यकता हो सकती है। मशीनरी एवं उपकरणों की संक्षिप्त लिस्ट इस प्रकार से है।

  • डबल हॉट ब्लेंडर मशीन
  • फिलर और पैकेजिंग मशीन
  • ग्लिसरीन
  • डीमिनरलाइज्ड वाटर
  • ग्लूकोज सिरप

उद्यमी को मशीनरी, उपकरणों एवं कच्चे माल की खरीदारी से पहले विभिन्न सप्लायर से कोटेशन मंगानी चाहिए और फिर प्राप्त कोटेशन का तुलनात्मक रूप से विश्लेषण करके सही एवं सस्ती कोटेशन का चुनाव करके आर्डर प्लेस करना चाहिए।

5. टायर पॉलिश का निर्माण (Start Manufacturing of Tyre Polish)     

Tyre Polish Manufacturing Process में सबसे पहले आवश्यक मात्रा में अर्थात ब्लेंडर की क्षमता के मुताबिक ग्लिसरीन ले लिया जाता है, और फिर इसे ब्लेंडर में डाला जाता है। उसके बाद ब्लेंडर को गरम करके इसके तापमान को बढाया जाता है। इसी गरम करने की प्रक्रिया के दौरान इसमें डीमिनरलाइज्ड वाटर और ग्लूकोज सिरप को भी शामिल किया जाता है। फिर इसे नमी को स्थिर रखने के लिए लगभग एक घंटे के लिए ज्यों का त्यों छोड़ दिया जाता है। उसके बाद इसे एक एल्युमीनियम की रॉड से हिलाया जाता है ताकि यह Tyre Polish ब्लेंडर पर चिपके नहीं। उसके बाद उत्पादित उत्पाद की पैकेजिंग करके बाज़ारों में बेचने के लिए भेज दिया जाता है।

यह भी पढ़ें

About Author:

मित्रवर, मेरा नाम महेंद्र रावत है | मेरा मानना है की ग्रामीण क्षेत्रो में निवासित जनता में अभी भी जानकारी का अभाव है | इसलिए मेरे इस ब्लॉग का उद्देश्य बिज़नेस, लघु उद्योग, छोटे मोटे कांम धंधे, सरकारी योजनाओं, बैंकिंग, कैरियर और अन्य कमाई के स्रोतों के बारे में, लोगो को अवगत कराने से है | ताकि कोई भी युवा अपने घर से रोजगार के लिए बाहर कदम रखने से पहले, एक बार अपने गृह क्षेत्र में संभावनाए अवश्य तलाशे |